सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मसीह के न्याय के अनुभव की गवाहियाँ

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

88. एक आध्यात्मिक पुनर्जन्म

याँग झेंग हीलोंगजियाँग प्रांत

मैं एक गरीब ग्रामीण परिवार में पैदा हुआ था जो अपनी सोच में पिछड़ा हुआ था। मैं छोटी उम्र से ही घमंडी था और हैसियत की मेरी इच्छा विशेष रूप से प्रबल थी। समय के साथ, सामाजिक प्रभाव और पारंपरिक शिक्षा के माध्यम से, मैंने जीवित रहने के लिए शैतान के सभी प्रकार के नियमों को अपने हृदय में धारण कर लिया था। सभी प्रकार के भ्रमों ने ख्याति और हैसियत की मेरी इच्छा को विकसित कर दिया था, जैसे कि अपने दो हाथों से एक खूबसूरत मातृभूमि का निर्माण करना, प्रसिद्धि तुम्हें अमर बना देगी, लोगों को चेहरे की वैसे ही आवश्यकता होती है एक पेड़ को अपनी छाल की आवश्यकता होती है, आगे बढ़ना और शीर्ष पर रहना, पारिवारिक प्रतिष्ठा, आदि। ये धीरे-धीरे मेरी जिंदगी बन गए और मुझे दृढ़ता से विश्वास करवा दिया कि जब तक हम इस संसार में जी रहे हैं, तब तक हमें दूसरों के द्वारा ऊँचा देखे जाने के लिए कार्य करना है। चाहे हम किसी भी भीड़ के साथ हों, हमारे पास हैसियत अवश्य होनी चाहिए, हमें एक सबसे उत्कृष्ट होना चाहिए। केवल इस तरह से जीने के माध्यम से ही हममें सत्यनिष्ठा और गरिमा हो सकती है। केवल इस तरह से जीवन जीने का ही मूल्य है। अपने सपने को सफल बनाने के लिए, मैंने प्राथमिक विद्यालय में बहुत मेहनत से अध्ययन किया; तूफान और बीमारी के बदौलत, मैंने कभी भी कक्षा नहीं चूकी। दिन-प्रति-दिन, मैं अंततः इस तरह से माध्यमिक विद्यालय में पहुँच गया। जब मैंने देखा कि मैं अपने सपने के काफी नज़दीक पहुँच रहा था, तो मैंने धीमा पड़ने का साहस नहीं किया। मैं बार-बार अपने आप से कहता था कि मुझे डटे रहना है, कि मुझे अपने शिक्षकों और सहपाठियों के सामने अच्छी तरह से पेश होना है। हालाँकि, तभी, कुछ अप्रत्याशित घटित हुआ। हमारे प्रमुख शिक्षक और स्कूल के प्रधानाचार्य के बारे में एक कलंकवार्ता हुई, जो कोहराम का कारण बन गयी थी। सभी शिक्षक और छात्र इसके बारे में जानते थे। एक दिन कक्षा में, उस शिक्षिका ने हमसे पूछा कि क्या हमने इसके बारे में सुना है और अन्य सभी विद्यार्थियों ने कहा "नहीं"। केवल मैं ही एक ऐसा था जिसने ईमानदारी से उत्तर दिया था कि "मैंने सुना है"। उस समय से, वह शिक्षिका मुझे अपने बगल में एक काँटे के रूप में देखती थी और मेरे लिए चीजों को मुश्किल बनाने और मुझ पर कड़ी कार्यवाही करने के लिए प्रायः बहाने ढूँढती। मेरे सहपाठियों ने मुझसे अपनी दूरी रखनी शुरू कर दी और मुझे अलग करना शुरू कर दिया। वे मेरा मजाक उड़ाते और मुझे अपमानित करते थे। अंततः, मैं उस तरह की पीड़ा को अब और बर्दाश्त करने में समर्थ नहीं था और मैंने विद्यालय छोड़ दिया। इस तरह से आगे बढ़ने और शीर्ष पर होने का मेरा सपना कुचल दिया गया था। अपने चेहरे को धरती की ओर और फिर आकाश की ओर करके भविष्य के दिनों के बारे में सोचकर, मैं एक अकथनीय उदासी और अवसाद महसूस करता था। मैं सोचता था: क्या ऐसा हो सकता है कि मेरा जीवन इतने साधारण ढंग से बीत जाएगा? कोई हैसियत नहीं, कोई प्रतिष्ठा नहीं, कोई भविष्य नहीं। इस तरह जीने का क्या मतलब है? वास्तव में मैं उस समय उस तथ्य को स्वीकार करने का इच्छुक नहीं था, किन्तु मैं अपनी परिस्थितियों को बदलने में असहाय था। बस जैसे ही मैं इस पीड़ा और निराशा में जी रहा था जिसमें से मैं अपने आप को निकालने में समर्थ नहीं था, तभी सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने मुझे बचा लिया और मेरे हृदय में उस आशा को फिर से जला दिया था जो बुझ गई थी। तब से मैंने एक पूरी तरह से नया जीवन शुरू किया।

यह मार्च 1999 था, और एक भाग्यशाली अवसर से मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के सुसमाचार को सुना। मुझे पता चला था कि देहधारी परमेश्वर पृथ्वी पर आ गया है और वह स्वयं मानव जाति से बात कर रहा है और शैतान के अधिकार क्षेत्र से बचाने के लिए, हमें पीड़ा में होने, पतित होने के हमारे जीवन को छोड़ने, एक नए स्वर्ग और पृथ्वी में रहने की अनुमति देने के लिए मानवजाति की अगुआई कर रहा है। और अपने भाईयों और बहनों से धैर्यवान और श्रमसाध्य संगति से, मैंने कई सच्चाइयों को सुना जिन्हें मैंने पहले कभी नहीं सुना था, जैसे कि: परमेश्वर की छः-हजार-वर्षीय प्रबंधन योजना, परमेश्वर के देह बनने का रहस्य, कि भ्रष्ट लोगों को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की आवश्यकता है, प्राणियों को किस प्रकार की समझ धारण करनी चाहिए, समस्त सृष्टि के प्रभु की आराधना कैसे करें, अपनी उचित मानवता कैसे जीएँ, वास्तव में मानव जीवन क्या है...। मैं इन सत्यों द्वारा गहराई तक आकर्षित किया जा रहा था और उन्होंने मुझे दृढ़ता से विश्वास दिलाया था कि यह सच्चे परमेश्वर का कार्य है। उस दिन मेरे भाईयों और बहनों ने भी जीवन अनुभव का एक गीत गाया, "कड़ुवे अतीत और वर्तमान की मिठास को सोचते हुए, मैं परमेश्वर से और भी अधिक प्रेम करता हूँ": "हे व्यावहारिक परमेश्वर! मैं तुझसे प्रार्थना करता हूँ कि मेरी कहानी को सुन। जब मैं अतीत के बारे में सोचता हूँ तो मैं रोता हूँ; मेरा हृदय अंधकारमय और प्रकाश से रहित था; मेरा जीवन आशा से रहित था, मैं अपने जीवन की पीड़ाओं की बात नहीं कर सकता था, मैं केवल लाचारी में दिन गुज़ार सकता था। यह मेरे हृदय में दुःख का कारण क्यों नहीं बन सकता था? हे व्यावहारिक परमेश्वर! मेरी बात सुन, अतीत के बारे में सोच कर, मेरा हृदय पीड़ा में है। यह दानव शैतान था जो मुझे नुकसान पहुँचा रहा था, मुझे भ्रष्ट और पतित बना रहा था। तेरे वचनों ने मुझे रोशन कर दिया है और अंधकार से बाहर निकलने में मेरा मार्गदर्शन किया है। हे सच्चे परमेश्वर! हे सच्चे परमेश्वर! मैं अपने हृदय से भीतर से तुझे प्रेम करता हूँ।" इसने प्रकाश की एक किरण की तरह मेरी आत्मा को प्रकाशित कर दिया जो लंबे समय से अंधकार में थी, और मैं रोने के अलावा और कुछ नहीं कर सकता था। ऐसा प्रतीत होता था कि दमन, अन्याय और उदासी के कई वर्षों से अचानक छुटकारा मिल गया हो। मेरा हृदय बहुत हल्का महसूस करता था। इस उत्तेजना के अलावा, लाखों लोगों के बीच में से मुझे चुनने, मेरी थकी हुई, उदास आत्मा को एक जोशीला स्वर्ग प्राप्त करने की अनुमति देने के लिए मैं परमेश्वर के प्रति और भी अधिक आभारी था। तब से मेरा जीवन मौलिक रूप से बदल गया। मैं अब और उदास और खिन्न नहीं था, बल्कि मैंने मैं अब और निराश नहीं था, किन्तु मैंने अपना पूरा मन परमेश्वर के वचन को पढ़ने, सभाओं में जाने, और सत्य पर संगति करने में लगा दिया। हर दिन भरपूर और सुखद था। बाद में मुझे परमेश्वर द्वारा ऊपर उठाया गया और मैंने सुसमाचार का उपदेश देने का कर्तव्य करना शुरू कर दिया। क्योंकि मैं काफी उत्साही और सकारात्मक था और साथ ही यह तथ्य था कि मुझमें एक निश्चित क्षमता थी, इसलिए कुछ समयावधि के बाद मेरा कार्य वास्तव में परिणाम दे रहा था। मुझे अपने ईसाई धर्मप्रचारक दल के अगुआ की प्रशंसा मिली, और कलीसिया के भाई और बहनें भी मुझे आदर से देखते थे। वे हमेशा उन चीजों के बारे में पूछने के लिए आते जो सुसमाचार का उपदेश देने के बारे में उन्हें समझ में नहीं आती थीं। इसे महसूस किए बिना मैंने थोड़ा आत्म-संतुष्ट होना शुरू कर दिया, और मैं सोचता था: मैंने इतने जल्दी कलीसिया में ख्याति और हैसियत प्राप्त कर ली है जिसकी मैंने इतने वर्षों तक दुनिया में आशा की थी। मेरे "नायक" पक्ष को अंततः इसका स्थान मिल गया है! मेरी उपलब्धियों को देखकर मुझे बहुत संतुष्टि महसूस होती थी और मैं अपने कर्तव्य को पूरा करने के लिए और भी कड़ी मेहनत करता था। इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता था कि मुझे कितनी बड़ी कठिनाई का सामना करना पड़ा, मैं इस पर विजय पाने के लिए पूरी कोशिश करता। इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता था कलीसिया ने मेरे करने के लिए क्या व्यवस्था की, मैं स्वेच्छा से आज्ञापालन करता था और इसे पूरा करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करता था। कभी-कभी कलीसिया का अगुआ मुझसे निपटता था और मेरे पहलुओं की काँट-छाँट करता था क्योंकि मैंने अपना कर्तव्य अच्छी तरह से नहीं किया था। इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता था कि मैं कितना परेशान था, सतह पर मैं अपने लिए बहाने नहीं बनाता। हालाँकि इस समयावधि के दौरान मैंने काफी कष्ट उठाया था, किन्तु जब तक मेरे भाईयों और बहनों के बीच मेरी हैसियत थी, और मुझे उनके द्वारा आदर से देखा जाता था, तो मुझे महसूस होता था कि इस कीमत का भुगतान करना इसके योग्य है। किन्तु परमेश्वर लोगों के हर अंग में देख सकता है। मानवीय जीवन और मूल्यों पर मेरे ग़लत दृष्टिकोणों को रूपान्तरित करने के लिए, परमेश्वर में मेरे विश्वास में और मेरे कर्तव्य करने में अशुद्धताओं को शुद्ध करने के लिए, परमेश्वर ने मुझ पर न्याय और ताड़ना और साथ ही परीक्षणों और शुद्धिकरणों को कार्यान्वित किया था।

सन 2003 की बात है, जब मुझे अपने ईसाई धर्म प्रचारक दल के अगुआ के रूप में कार्य करने के लिए पदोन्नत किया गया था। मेरी हैसियत में इस पदोन्नति के साथ-साथ मेरे कार्य का दायरा भी बढ़ाया गया था, और मुझे स्वयं में और भी अधिक प्रसन्नता महसूस हुई थी: स्वर्ण हर कहीं चमकता है। मैं अपना कार्य अच्छी तरह से करने और लगातार उन्नति करने के लिए दृढ़ संकल्प हूँ ताकि ताकि मेरे भाई-बहन ईर्ष्या करेंगे और मेरी और अधिक प्रशंसा करेंगे। यह बहुत अद्भुत होगा! जब मैं वहाँ पहुँचा जहाँ मुझे अपना कर्तव्य करना था, तो अगुवा ने इस बात पर विचार किया कि मैंने अभी-अभी इस प्रकार के कार्य को हाथ में लिया है और मुझमें अनुभव और कार्य-प्रणाली दोनों का अभाव है, इसलिए आसपास के इलाकों से कई अन्य ईसाई धर्म प्रचारक दल के अगुआओं को एक साथ इकट्ठा किया ताकि हम एक दूसरे से सीख सकें। किन्तु संगति के दौरान, मैंने देखा कि वे सभी मेरी अपेक्षा अधिक उम्र के थे और वे सब कम क्षमता वाले थे। परमेश्वर के वचनों पर संगति के समय उन्होंने उतना स्पष्ट रूप से संवाद नहीं किया जितना मैंने किया था। मेरे पास अहंकारी होने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था और मैं उनके बारे में बिल्कुल भी कुछ नहीं सोचता था। मैं महसूस करता था कि मैं अपनी ताक़त पर भरोसा करके निश्चित रूप से अच्छा काम करने में समर्थ हो जाऊँगा। सभा के बाद मैं तुरंत प्रत्येक दल के पास उनके कार्य की समझ प्राप्त करने के लिए जाता था। जब मुझे उनके कार्य में कुछ त्रुटियाँ और चूकें पता चली और यह पता चला कि दल के कुछ सदस्य सुसमाचार का उपदेश देने और परमेश्वर के लिए गवाही देने में असमर्थ हैं, तो मैं चिंतित और नाराज दोनों हो गया था। मैं अपने भाईयों और बहनों को डाँटने के अलावा और कुछ नहीं कर सकता था: "क्या अपने कर्तव्य को इस तरह से पूरा करना वास्तव में परमेश्वर की इच्छा के अनुरूप हो सकता है? आप कोई कीमत नहीं चुकाना चाहते हैं, किन्तु आप परमेश्वर द्वारा बचाया जाना चाहते हैं। क्या इस तरह के व्यक्ति में कोई समझ है? ..." और कभी-कभी संगति के दौरान, हर एक को यह बताते हुए कि मैंने कैसे ईसाई धर्म प्रचारक कार्य में भाग लिया था, उन सभी परिणामों के बारे में बताते हुए जो मुझे प्राप्त हुए थे, मैं इतराता था। जब मैं अपने भाईयों और बहनों के चेहरों पर ईर्ष्या देखता तो मैं बहुत आत्मसन्तुष्ट होता था और मुझे लगता था कि मैं दूसरों की अपेक्षा में अधिक ज़िम्मेदार हूँ। समय के साथ, मेरे भाई-बहन मेरे साथ हमेशा किसी भी मुद्दे पर चर्चा करते और परमेश्वर से प्रार्थना करने या उस पर भरोसा करने पर अब और ध्यान केंद्रित नहीं करते। और न केवल मुझे डर नहीं लगता था, बल्कि मुझे इसमें मज़ा आता था। अंत में, मैंने पवित्र आत्मा के कार्य को धारण करना पूरी तरह से गँवा दिया और मैं वास्तव में अब और कार्य नहीं कर सकता था। 2004 की शुरुआत में कलीसिया ने मुझे मेरे कर्तव्यों से निकाल दिया और आध्यात्मिक चिंतन के लिए मुझे घर वापस भिजवा दिया। इस परिणाम का सामना करके, ऐसा लगा था मानो कि मैं बहुत जल्दी एक अथाह गड्ढे में गिर गया था। मेरा संपूर्ण शरीर हताशा की तीव्र भावना से निस्तेज और कमज़ोर हो गया था, और मैं यह सोचने के अलावा और कुछ नहीं कर सकता था कि: जब मैंने पहली बार अपना कर्तव्य करना शुरू किया था तो यह बहुत अद्भुत था। और अब, इस तरह के अपमान में वापस जाना, मैं अपने परिवार और अपने गृहनगर में भाईयों और बहनों का सामना कैसे कर सकता हूँ? वे मेरे बारे में क्या सोचेंगे? क्या वे मेरा मजाक बनाएँगे, मुझे तुच्छ समझेंगे? जैसे ही मैं अन्य लोगों के मन में अपनी छवि और हैसियत को खोने के बारे में सोचता, तो मुझे ऐसा महसूस होता था जैसे कि जैसे मैं टुकड़े-टुकड़े होने ही वाला हूँ। मैं नकारात्मकता में रह रहा था जिससे मैं स्वयं नहीं निकल सकता था और मैं यहाँ तक कि परमेश्वर के वचनों को पढ़ना भी जारी नहीं रख सकता था। इस पीड़ा के बीच में, मैं परमेश्वर से प्रार्थना नहीं कर सका था: "हे परमेश्वर! मैं अब बहुत कमज़ोर हो गया हूँ और मेरी आत्मा अंधकार में है क्योंकि मैं इस तथ्य को स्वीकार करने में असमर्थ हूँ कि मुझे बदल दिया गया है। मैं कलीसिया की व्यवस्थाओं का पालन करने का भी अनिच्छुक हूँ किन्तु मैं जानता हूँ कि तू जो कुछ भी करता है वह अच्छा होता है और तेरी उदार इच्छा से युक्त होता है। मैं तेरे द्वारा प्रबुद्ध किए जाने और तेरी इच्छा को समझने का इच्छुक हूँ।" प्रार्थना करने के बाद, परमेश्वर के ये वचन मेरे लिए प्रबुद्धता लाए: "तुम लोगों के प्रयास में, तुम लोगों की बहुत सी व्यक्तिगत अवधारणाएँ, आशाएँ और भविष्य होते हैं। वर्तमान कार्य तुम लोगों की हैसियत की अभिलाषा और तुम्हारी अनावश्यक अभिलाषाओं से निपटने के लिए है। आशाएँ, हैसियत की[क] अभिलाषा, और अवधारणाएँ सभी शैतानी स्वभाव के उत्कृष्ट निरूपण हैं। … यद्यपि आज तुम लोग इस चरण तक पहुँच गए हो, तब भी तुम लोगों ने हैसियत को जाने नहीं दिया है, बल्कि तुम लोग हमेशा इस बारे में पूछताछ करने और इस पर ध्यान देने के लिए संघर्ष करते रहते हो, एक गहरे डर के साथ कि एक दिन तुम लोगों की हैसियत खो जाएगी और तुम लोगों का नाम बर्बाद हो जाएगा। … अब तुम लोग अनुयायी हो, और तुम लोगों को कार्य के इस स्तर की कुछ समझ है। हालाँकि, तुम लोगों ने अभी तक हैसियत के लिए अपनी अभिलाषा की उपेक्षा नहीं की है। जब तुम लोगों की हैसियत उच्च होती है तो तुम लोग अच्छी तरह से प्रयास करते हो, किन्तु जब तुम्हारी हैसियत निम्न होती है तो तुम लोग अब और प्रयास नहीं करते हो । हैसियत के आशीष हमेशा तुम्हारे मन में होते हैं। ऐसा क्यों है कि अधिकांश लोग नकारात्मकता से बाहर नहीं आ सकते हैं? क्या यह हमेशा निराशाजनक संभावनाओं के कारण नहीं है?" ("वचन देह में प्रकट होता है से आगे जारी" से "तुम लोग एक विषमता होने के इच्छुक क्यों नहीं हो?" से)। परमेश्वर के वचनों में प्रकट किए गए न्याय ने मुझे एक कच्ची जागृति दी, और मुझे समझाया कि उस समय परमेश्वर का कार्य मेरी हैसियत की अभिलाषा से निपटना था, मुझसे जीवन के उचित रास्ते पर कदम रखवाना था। जब से मैंने अपना कर्तव्य शुरू करना शुरू किया था, उस समय के बारे में सोचते हुए, मैं उस समय के दौरान बहुत सकारात्मक था जब मेरे पास हैसियत थी। मैं बेहद आत्मविश्वासी था और कष्ट या कठिनाइयों से नहीं डरता था। जब मेरा सामना किसी ऐसे से होता था जो मुझसे निपटता या मेरे पहलुओं की काँट-छाँट करता था तो मैं इसका विरोध नहीं करता था। किन्तु तब, जब मुझे जाने दिया गया था और घर लौटना पड़ा था उसके बाद मैं अपनी नकारात्मकता से वापस आ सका था। मैंने देखा था कि बाहर से ऐसा प्रतीत होता था कि मैं अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूँ और परमेश्वर की इच्छा को पूरा कर रहा हूँ, किन्तु वास्तविकता में मैं स्वयं चीजों का प्रबंधन करते हुए अपना कर्तव्य पूरा करने का झंडा लहरा रहा था। यह पूरी तरह से अपनी स्वयं की अभिलाषाओं को पूरा करने के लिए परमेश्वर का उपयोग करना था जो कई वर्षों से छुपी हुई थीं—आगे होना और उच्च देखाई देना। और यह सत्य का अनुसरण करने के लिए नहीं था और यह परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए एक प्राणी के कर्तव्य को पूरा करने के लिए तो और भी कम था। जब मैं अपना कर्तव्य पूरा कर रहा था और मैं अपने भाईयों और बहनों की अपर्याप्तता को देखता था, तो मैं न केवल प्रेम से उनकी सहायता नहीं करता था, बल्कि मैं उन्हें डाँटने के लिए अपनी हैसियत पर भरोसा करता था। मैं जानबूझ कर स्वयं को ऊँचा उठाता था, स्वयं के लिए एक गवाह के रूप में खड़ा होता था, और मैं हर एक के लिए चिंतित होता था कि मेरा आदर करे और मेरी प्रशंसा करे। शुरुआत से लेकर अंत तक, अपने विचारों और कार्यकलापों में मेरा केवल एक ही लक्ष्य था—क्या यह हैसियत के लिए परमेश्वर के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए नहीं था? मानवजाति परमेश्वर द्वारा सृजित की गई थी, इसलिए हमें आराधना करनी चाहिए और उसका आदर करना चाहिए। हमारे हृदय में केवल परमेश्वर की ही हैसियत होनी चाहिए, किन्तु मैं एक गंदा और भ्रष्ट, नीच व्यक्ति था जो परमेश्वर के साथ हैसियत के लिए प्रतिस्पर्धा करना चाहता था। क्या यह बहुत अहंकारी होना नहीं है? क्या यह अपमानजनक और परमेश्वर के विपरीत नहीं है? क्या यह व्यवहार परमेश्वर के स्वभाव का एक गंभीर अपमान नहीं है? जब मैं इसके बारे में सोचता था, मैं अपने स्वयं के अहंकारी स्वभाव से डरने के अलावा और कुछ नहीं कर सकता था। यह पता चला था कि मैं पहले से ही परमेश्वर के दण्ड के अधीन होने की उस ख़तरनाक परिस्थिति में था! परमेश्वर का स्वभाव धार्मिक और पवित्र है और मानवजाति के अपमानों को बर्दाश्त नहीं करता है। वह, इस विद्रोही बच्चे, मुझे, निर्दयतापूर्वक उसके कार्य को अस्तव्यस्त करने और गड़बड़ा देने की अनुमति देना कैसे बर्दाश्त कर सकता था? केवल तभी मुझे एहसास हुआ था कि मुझे छोड़ दिया जाना परमेश्वर की महान सहिष्णुता और महान प्रेम था। अन्यथा, मैंने उस हद तक अधिक और बड़ी दुष्टता कर दी होती कि वह मुझे क्षमा करने में असमर्थ होता। तब बहुत देर हो जाती। मैं इस बारे में जितना अधिक सोचता था मैं उतना ही अधिक डर जाता था, और उतना ही अधिक मुझे महसूस होता था कि मैं परमेश्वर के प्रति कृतज्ञ हूँ। मैं उसके सामने दण्डवत होने और यह प्रार्थना करने के अलावा और कुछ नहीं कर सकता था: "हे परमेश्वर! मेरी प्रकृति बहुत अहंकारी, बहुत सतही है। मैंने अपना कर्तव्य करते हुए सत्य का अनुसरण नहीं किया है, और मैंने तेरे प्रेम को चुकाने के बारे में विचार नहीं किया है। मैं प्रतिष्ठा और हैसियत के लिए इधर-उधर भागने में व्यस्त था, और मैंने कलीसिया में आगे बढ़ने का अपना संकल्प लिया था, तो मैं इस तरह के इरादे के साथ अपना कर्तव्य पूरा करने के दौरान ठोकर खा और गिर कैसे नहीं सकता था? यदि समय पर तेरा न्याय और ताड़ना, और तेरा व्यवहार और काँट-छाँट मुझ पर नहीं आए होते, तो मैं निश्चित रूप से मसीह के दुश्मन के मार्ग पर चलना जारी रखता। अंत में मैंने उद्धार के लिए अपने अवसर को बर्बाद कर दिया होता। हे परमेश्वर! मेरे लिए तेरी दया और तेरे उद्धार के लिए मैं धन्यवाद देता हूँ। आज के दिन से आगे, शीघ्र ही अपने भ्रष्ट स्वभाव में परिवर्तन लाने के लिए, मैं अपनी महत्वाकांक्षी अभिलाषाओं को छोड़ने और सत्य का अनुसरण करने, और तेरे न्याय और तेरी ताड़ना को और अधिक स्वीकार करने के लिए तैयार हूँ।" परमेश्वर की प्रबुद्धता और मार्गदर्शन ने मुझे मेरी नकारात्मकता से बाहर निकलने में मेरी अगुआई की और मुझे मेरे अहंकारी स्वभाव और परमेश्वर का विरोध करने के सार की कुछ पहचान प्राप्त करने की अनुमति दी। मुझे परमेश्वर के धार्मिक स्वभाव के बारे में भी कुछ समझ प्राप्त हुई, और मुझे अपने हृदय में एक महान मुक्ति महसूस हुई। मैं ऐसे किसी भी परिवेश में जो परमेश्वर ने मेरे लिए स्थापित किया है, सत्य को खोजना, और उसकी इच्छा को और अधिक गहराई से समझना जारी रखने की इच्छुक हूँ।

उसके बाद अपनी खोजों में, मैंने परमेश्वर के वचनों को देखा जिनमें कहा गया है: "मैं प्रत्येक व्यक्ति की मंज़िल आयु, वरिष्ठता, पीड़ा की मात्रा, और सबसे कम, दुर्दशा के अंश जिसे वे आमंत्रित करते हैं के आधार पर नहीं, बल्कि इस बात के अनुसार तय करता हूँ कि वे सत्य को धारण करते हैं या नहीं। इसे छोड़कर अन्य कोई विकल्प नहीं है। तुम्हें यह अवश्य समझना चाहिए कि वे सब जो परमेश्वर की इच्छा का अनुसरण नहीं करते हैं दण्डित किए जाएँगे। यह एक अडिग तथ्य है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "अपने लक्ष्य की तैयारी में तुम्हें पर्याप्त भले काम करने चाहिये" से)। "परमेश्वर के एक प्राणी के रूप में, मनुष्य को परमेश्वर के एक प्राणी के अपने कर्तव्य को निभाने की कोशिश करनी चाहिए, और अन्य चुनाव किए बिना परमेश्वर से प्रेम करने की कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि परमेश्वर मनुष्य के प्रेम के योग्य है। ऐसे लोग जो परमेश्वर से प्रेम करने की कोशिश करते हैं उन्हें कोई व्यक्तिगत लाभ या उस चीज़ की खोज नहीं करनी चाहिए जिसकी वे व्यक्तिगत रूप से अभिलाषा करते हैं; यह अनुसरण का सबसे सही माध्यम है" ("वचन देह में प्रकट होता है से आगे जारी" से "सफलता या असफलता उस पथ पर निर्भर होती है जिस पर मनुष्य चलता है" से)। परमेश्वर के वचनों ने लोगों को पहले से ही पूर्णतः स्पष्टता पूर्वक और समझ में आने लायक ढंग से बता दिया था कि उसकी इच्छा और अपेक्षाएँ क्या हैं ताकि मानवजाति अनुसरण का एक उचित तरीका समझ सके और समझ सके कि ग़लत मार्ग क्या है। उस समय मैं प्रतिष्ठा और हैसियत को हर चीज़ से ऊपर रखता था, किन्तु वास्तविकता में, परमेश्वर यह नहीं देखता है कि किसी की हैसियत कितनी उच्च है, और उनकी वरिष्ठता किस प्रकार की है, या परमेश्वर में अपने विश्वास के लिए उन्होंने कितना कष्ट झेला है। वह इस बात को देखता था कि उन्होंने सत्य का अनुसरण किया है या नहीं और उन्हें परमेश्वर की वास्तविक समझ है या नहीं। जिनके पास सत्य है, किन्तु कोई उच्च हैसियत नहीं है वे भी उसकी प्रशंसा प्राप्त कर सकते हैं, किन्तु जिनके पास सत्य नहीं है और उच्च हैसियत है वे ऐसे लोग हैं जिन्हें परमेश्वर घृणा और अस्वीकार करता है। यह परमेश्वर का धार्मिकता और पवित्रता का स्वभाव है। हैसियत किसी व्यक्ति के भाग्य का निर्धारण नहीं कर सकती है, न ही यह किसी व्यक्ति के परमेश्वर पर विश्वास में उसके उद्धार की प्रतीक है। यह किसी व्यक्ति को परमेश्वर द्वारा सिद्ध बनाए जाने का विशेष रूप से कोई चिह्न नहीं है। किन्तु मैंने अपने मूल्य को मापने के लिए हमेशा अपनी हैसियत का उपयोग किया था और मेरी सबसे बड़ी खुशी दूसरों के द्वारा आदर और प्रशंसा किया जाना रही थी। क्या यह पूरी तरह से परमेश्वर की अपेक्षाओं के प्रतिकूल नहीं था? क्या इस तरह से परमेश्वर में विश्वास करना पूरी तरह से व्यर्थ नहीं था? मैं परमेश्वर द्वारा न केवल बचाए जाने में असमर्थ होता, बल्कि अंत में अपने बुरे तरीकों के कारण मैंने परमेश्वर के दण्ड को झेला होता। उस समय, परमेश्वर ने मुझे जो सौंपा था वह था मुझे सत्य में प्रवेश करने की अनुमति देना, स्वभाव में परिवर्तन की खोज करने, परमेश्वर की आज्ञा का अनुसरण करने और परमेश्वर से प्रेम करने में समर्थ होना, और अंत में उसके द्वारा बचाया और सिद्ध बनाया जाना। केवल यही सही मार्ग था। इस सब को समझने के बाद, मेरा हृदय परमेश्वर के प्रति कृतज्ञता से भर गया था। उसके न्याय और उसकी ताड़ना का धन्यवाद जिसने मुझे प्रतिष्ठा और हैसियत का पीछा करने के खतरे और परिणामों को अंततः स्पष्ट रूप से देखने की अनुमति देते हुए, मुझे गलत मार्ग में से वापस खींच लिया था और मुझे प्रबुद्ध किया था ताकि मैं उनकी इच्छा को समझ सकूँ। केवल तभी मैं समय पर जागने और वापस लौटने में समर्थ हुआ था। उस अनुभव के माध्यम से मेरी समझ में कुछ सच्चाइयाँ और साथ ही परमेश्वर की उदारता समझ में आई, और मेरी मनःस्थिति एक बार फिर से ठीक हुई। मैंने अपने कर्तव्य को फिर से पूरा करने में लगा दिया।

सन 2004 की जुलाई में मैं पहाड़ों में एक दूरदराज के क्षेत्र में गया और वहाँ सुसमाचार के कार्य पर एक भाई के साथ सहयोग किया। जब मैंने उस कार्य को शुरू किया, तो मैंने अपनी पिछली असफलता को सबक के रूप में ध्यान में रखा। मैंने बार-बार अपने आप को प्रतिष्ठा या हैसियत का अनुसरण नहीं करने बल्कि एक सृष्जन के रूप में ईमानदारी से अपना कर्तव्य पूरा करने की याद दिलायी, इसलिए जब कोई ऐसे मुद्दे होते थे, जो मेरी समझ में नहीं आते थे या जिन पर मैं स्पष्ट नहीं होता था, तो मैं अपने आप को अलग रखकर संगति करने, इस पर चर्चा करने और इसे हल करने के लिए सक्रिय रूप से अपने भाई को खोजता था। किन्तु जैसे-जैसे मेरे कार्य के अधिक से अधिक परिणाम आने लगे, मेरी अहंकारी प्रकृति ने एक बार फिर अपना सिर उठा लिया और मैंने अपनी छवि और हैसियत पर पुनः ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया। एक बार एक सभा के दौरान, स्थानीय ईसाई धर्म प्रचारक दल के एक सदस्य ने मुझे खुशी से कहा: "आपके यहाँ आने के कारण हमने अधिक विश्वासियों को परिवर्तित कर दिया है। ..." मेरे मुँह से निकला कि यह तो पवित्र आत्मा के कार्य का परिणाम था, किन्तु अपने हृदय में मैं स्वयं से बहुत खुश था। सभा समाप्त होने और अपने मेजबान परिवार के घर मेरे लौट जाने के बाद, मैं अपने बिस्तर पर बैठ गया और अपने मन में उस समय के दौरान अपने कार्य के हर दृश्य को दोहराया। मैं स्वयं को बधाई देने के अलावा और कुछ नहीं कर सकता था, और यह सोच रहा था कि: ऐसा लगता है कि मुझमें इस कार्य की वास्तविक क्षमता है। यदि मैं कड़ी मेहनत करना जारी रखता हूँ, तो मुझे निश्चित रूप से पुनः पदोन्नत किया जा सकता है। तब मैंने अपने आप को पूरी तरह से एक नायक के रूप में देखा, और मेरे हृदय से परमेश्वर की हैसियत पहले ही चली गई थी। उसके बाद अपने कर्तव्य को करते समय, मैंने हैसियत के लिए प्रतिस्पर्धा करनी और अपने सहकर्मियों के साथ पद की तुलना करनी शुरू कर दी। मैंने अपने भाईयों और बहनों के सामने खुल्लम-खुलाला दिखावा करना शुरू कर दिया था, मानो कि हमारे प्रयासों से कोई भी परिणाम मेरे प्रयासों के कारण थे। जैसे ही मैं एक बार में एक कदम करके खाई में वापस फिसल रहा था, तभी परमेश्वर ने मेरी ओर एक बार फिर उद्धार का हाथ बढ़ाया। एक शाम मुझे अचानक एक गंभीर फ्लू हो गया। मेरा तापमान 102 डिग्री तक पहुँच गया और कई दिनों तक दवा लेने के बाद भी मैं ठीक नहीं हो रहा था। मैं एक जलसेक लेने के लिए चिकित्सालय गया, किन्तु मेरी हालत न केवल सुधरी नहीं हुई बल्कि अधिक गंभीर हो गई। मैं किसी भी चीज को, यहाँ तक कि पानी को भी, नहीं निगल सकता था। अंततः, मैं बिस्तर पर पड़ गया था और महसूस करता था मानो कि मैं मृत्यु के कगार पर हूँ। उस बीमारी की यंत्रणा के तहत, मैं अब और नहीं सोचता था कि अगले दिन मेरी किस प्रकार की हैसियत होगी। मैं जल्दी से घुटने के बल बैठ जाता था और परमेश्वर से प्रार्थना करता कि: "हे परमेश्वर! मुझ पर आयी यह बीमारी तेरी उदार इच्छा और साथ ही तेरा धार्मिक स्वभाव है। मैं तुझे ग़लत समझना नहीं चाहता हूँ या तुझ पर दोष लगाना नहीं चाहता हूँ; मैं तुझसे एक बार पुनः मुझे प्रबुद्ध और रोशन करने, मुझे तेरी इच्छा को समझने की अनुमति देने की प्रार्थना करता हूँ ताकि मैं अपनी स्वयं की भ्रष्टता को और अधिक गहराई से समझ सकूँ।" प्रार्थना करने के बाद, मेरा हृदय बहुत अधिक शांत हो जाता था। तभी, परमेश्वर के ये वचन अचानक मुझे मिले: "तुम सबका अभिमानी और घमण्डी स्वभाव तुम्हेंस्वयं के विवेक के खिलाफ, मसीह के खिलाफ विद्रोह और विरोध करने के लिए तैयार हो जाता है, और इसलिए तुम लोगों की कुरूपता को उजागर करने के लिए और तुम्हारे इरादों, विचारों, अत्याधिक अभिलाषाओं और लालच से भरी नज़रों को ज्योति में प्रगट करता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "क्या तुम परमेश्वर के एक सच्चे विश्वासी हो?" से)। परमेश्वर के इन वचनों में से हर एक ने मेरे हृदय को तलवार की तरह छेद दिया; उन्होंने मेरे नश्वर स्थल पर चोट की। हर एक तरह की अहंकार की कुरूपता जो मैंने प्रकट की थी, बहुत स्पष्टता के साथ मेरे मन में आ गई। मेरा हृदय पीड़ा में था और मैं बेहद व्याकुल और शर्मिंदा था। यह तभी हुआ था कि मैंने स्पष्ट रूप से देखा कि यह मेरी स्वयं की अहंकारी प्रकृति थी जो मेरी अंतरात्मा के मूल कार्य को गँवा देने का कारण बनी थी जिसकी वजह से मैं हमेशा ईमानदारी से परमेश्वर का आज्ञापालन और उसकी आराधना करने में समर्थ नहीं होता था। यह हमेशा मेरी महत्वाकांक्षा और अभिलाषा को आश्रय देने का कारण बनती थी, और जैसे ही मुझे कुछ अवसर मिलता, मैं हैसियत के लिए प्रतिस्पर्धा करता, और मैं स्वयं का दिखावा करना और दूसरों को दबाना चाहता था। मैं सिर्फ एक अच्छे व्यवहार वाला व्यक्ति नहीं हो सकता था। यह स्पष्ट था कि मेरे कार्य का कोई भी परिणाम पवित्र आत्मा के कार्य पर निर्भर करता था; यह परमेश्वर का आशीष था। हालाँकि, एक बार पुनः अहंकारी बनते हुए और हैसियत के लिए परमेश्वर के साथ प्रतिस्पर्धा करते हुए, मैं श्रेय के लिए बेशर्मी से परमेश्वर के साथ प्रतिस्पर्धा करता और अपने आप को ऊँचा उठाने के अवसरों को अपने काम में लाता था। मेरी यह अहंकारी प्रकृति निश्चित रूप से परमेश्वर के प्रति मेरे विरोध की मूल थी। यदि मैं इसका समाधान नहीं करता, तो मैं कभी भी परमेश्वर के प्रति आज्ञाकारिता या अपने कर्तव्य को पूरा करने के प्रति निष्ठा प्राप्त नहीं करता।

परमेश्वर के मार्गदर्शन के तहत, मैंने एक बार पुनः उसके वचनों के बारे में विचार किया: "जब कोई यह जानता है कि उसका असली स्वभाव क्या है, कितना कुरूप, कितना घृणित और कितना दयनीय है, तो फिर वह स्वयं पर बहुत गर्व नहीं करता है, उतना बेतहाशा अभिमान नहीं करता है, और स्वयं से उतना प्रसन्न नहीं होता है जैसा वह पहले था। वह महसूस करता है, कि "मुझे अवश्य ईमानदार और सादगीपूर्ण होना चाहिए, और परमेश्वर के कुछ वचनों का पालन करना चाहिए। यदि नहीं, तो मैं इंसान होने के स्तर के बराबर नहीं होऊँगा, और परमेश्वर की उपस्थिति में रहने में शर्मिंदा होऊँगा।" वह वास्तव में स्वयं को नगण्य, वास्तव में महत्वहीन के रूप में देखता है।इस समय उसके लिए सच्चाई का पालन करना आसान है, और वह एक इंसान की तरह अधिक दिखाई देता है" ("वचन देह में प्रकट होता है से आगे जारी" से "स्वयं को जानना मुख्यतः मानव स्वभाव को जानना है" से)। परमेश्वर के वचनों ने मेरे लिए अभ्यास का और प्रवेश करने का मार्ग दिखाया, और दिखाया कि यदि मैं प्रतिष्ठा, हैसियत और अपनी भविष्य की संभावनाओं के बारे में अपने विचारों को पूरी तरह से जाने देना चाहता हूँ, तो मुझे अपनी स्वयं की प्रकृति को जानने में प्रयास लगाने पड़ेंगे। जब मैं सचमुच देख सकता कि मैं कितना नीच, कितना बेकार हूँ, तो मैं कम-महत्वपूर्ण व्यक्ति बनने में समर्थ होता तथा अब और अहंकारी नहीं होता। तब, मैं अपने दोनों पैरों को दृढ़ता से जमीन पर रख कर सत्य का अनुसरण करने में समर्थ होता। वास्तविकता में, परमेश्वर का इस न्याय और ताड़ना को देना, यह झटका और अनुशासन, मेरे लिए मेरे स्वयं के सार और मेरी अंतर्निहित पहचान और हैसियत की सच्ची समझ पाने के लिए है। यह मुझे परमेश्वर के सामने आत्म-ज्ञान पाने, मेरी स्वयं की आत्मा की दरिद्रता, मेरी अपनी तुच्छता को पहचानने अनुमति देने के लिए था। यह मुझे इस बात को जानने की अनुमति देने के लिए था कि मुझे जिस चीज़ की आवश्यकता है, वह सत्य है, परमेश्वर द्वारा उद्धार है, जिससे मैं परमेश्वर के सामने गिर सकता था और एक अच्छे-व्यवहार-वाला व्यक्ति बन सकता था। यह इसलिए था कि मैं परमेश्वर को संतुष्ट करने के अपने कर्तव्य को पूरा कर सकूँ और, उसके हृदय को चोट पहुँचाते हुए, हैसियत का अब और अनुसरण नहीं कर सकूँ। उनके वचनों के मार्गदर्शन के तहत मेरे पास आगे बढ़ने एक मार्ग और साथ ही सत्य का अनुसरण करने का विश्वास था। यद्यपि मैं शैतान के द्वारा गहराई तक भ्रष्ट कर दिया गया था और मेरी अहंकारी प्रकृति गहराई तक समाई हुई थी, फिर भी जब तक मैं परमेश्वर के न्याय और उसकी ताड़ना और उसके परीक्षण और शुद्धिकरण को स्वीकार करने और मानने में, उससे अपनी स्वयं की प्रकृति और सार को पहचानने में, और फिर अथक रूप से सत्य का अनुसरण करने में समर्थ रहता, तब तक मैं निश्चित रूप से प्रतिष्ठा और हैसियत के बंधनों और कष्टों को दूर करने में, और बचाए जाने के मार्ग में प्रवेश करने, सिद्ध बनाए जाने में समर्थ रहता। परमेश्वर की ओर मेरे वापस लौटने के बाद, मैं अपनी बीमारी से दो दिनों के भीतर ठीक हो गया। इसने मुझे और भी अधिक महसूस करवाया कि उसने मुझे अनुशासित करने के लिए उस बीमारी को एक तरीके के रूप में उपयोग किया था। यह जानबूझकर मुझे पीड़ित करने के लिए नहीं था, न ही इसमें कोई दंड था—यह मेरे सुन्न हृदय को जगाने, मुझसे मेरे ग़लत अनुसरणों को यथाशीघ्र छुड़वाने और परमेश्वर पर विश्वास करने के सही मार्ग पर कदम रखवाने के लिए था। मैं परमेश्वर के प्रेम द्वारा गहराई तक प्रेरित और उत्तेजित हो गया था। मैंने परमेश्वर के प्रति ईमानदारी से अपने धन्यवाद और प्रशंसा अर्पित कर दिए।

मेरे बीमारी से ठीक होने के बाद मैंने अपने आप को एक बार फिर से कार्य में लगा दिया। मैंने चुपचाप अपने हृदय में संकल्प लिया था कि जब मेरा सामना किसी ऐसी चीज़ से होगा जिसका प्रतिष्ठा या हैसियत के साथ संबंध हो, तो मैं निश्चित रूप से परमेश्वर के लिए गवाही देता। कई महीनों के बाद, मुझे पता चला था कि एक अन्य ईसाई धर्म प्रचारक दल के अगुआ को बहुत अच्छे परिणाम मिल रहे हैं और उसने परमेश्वर के कुछ चमत्कारिक कार्यों का अनुभव किया है, और उसने अपने कुछ सफल अनुभवों और अभ्यास के अपने मार्ग का सारांश दिया है। हालाँकि, जिस कार्य में मैं भाग ले रहा था वह गिरावट पर था। जब मैंने अपने भाईयों और बहनों के चेहरों पर निराशा देखी, विशेषरूप से जब मैंने एक बहन को यह कहते सुना कि, "अब हम परमेश्वर से इस तरह के महान उद्धार का आनंद लेते हैं किन्तु हम उसके कार्य की गवाही देने में असमर्थ हैं। हम वास्तव में उसके प्रति ऋणी हैं," और हर कोई अपने आप को रोने से रोक नहीं सका था, तो मेरे हृदय में बहुत ज्यादा पीड़ा हुई थी। मैं नहीं जानता था कि कैसे इस दुर्दशा से बाहर निकला जाए, और मैं बार-बार परमेश्वर से प्रार्थना करता था: "हे परमेश्वर! व्यावहारिक कठिनाइयों का सामना करते समय हम सभी कमज़ोर हैं, किन्तु मैं जानता हूँ कि यह तू हमारे आत्मविश्वास की परीक्षा ले रहा है, हमारी भक्ति का परीक्षण कर रहा है। किन्तु मेरी कद-काठी बहुत छोटी है और मैं उस वजन को वास्तव में सहन नहीं कर सकता हूँ। तेरी इच्छा को समझने के लिए मुझे प्रबुद्ध करने की मैं तुझसे प्रार्थना करता हूँ। मैं तेरे मार्गदर्शन के अनुसार कार्य करने को तैयार हूँ।" प्रार्थना करने के बाद, अचानक मुझे एक विचार आया: मुझे वहाँ सह-कार्यकर्ता से संगति में हमारे साथ मिलने के लिए कहना चाहिए ताकि हम उसकी कुछ शक्तियों और अनुभवों को आकर्षित कर सकें। इस तरह से भाई और बहनें भी पवित्र आत्मा की प्रबुद्धता और अगुआई का आनंद लेने में और यह जानने में समर्थ हो जाएँगे कि सुसमाचार के अपने कार्य को कैसे करें। मैं जानता था कि यह विचार पवित्र आत्मा के मार्गदर्शन से आया था, किन्तु मेरे हृदय में अभी भी कुछ आशंकाएँ थी। मैं सोचता था कि: मैं उस भाई की तुलना में हर तरह से अधिक सक्षम हूँ और जब हम सभा में एक साथ होते थे तो मैं हमेशा उसे तुच्छ समझता था, किन्तु अब, उसका प्रदर्शन मेरे प्रदर्शन की अपेक्षा बेहतर है। जब वह मुझे देखता है कि मैं अब हताश और शर्मिंदा दिखाई दे रहा हूँ, तो क्या वह मुझ पर हँसेगा? क्या भाई-बहन मुझे तुच्छ समझेंगे? मेरे चेहरे को बचाने के बारे में क्या होगा? ... मैं बार-बार सोचता रहता था, और मैं अभी भी अपने चेहरे और हैसियत के विचार को नहीं छोड़ सका था, किन्तु जैसे ही मैं मानवजाति को बचाने की परमेश्वर की अत्यावश्यक इच्छा के बारे में सोचता था और कि मेरे भाई और बहनों के पास पवित्र आत्मा का मार्गदर्शन और अगुआई नहीं है, तो मेरे अपने हृदय के भीतर ताड़ना होती थी। जैसे ही से मैं डगमगा रहा था, तभी परमेश्वर से इन वचनों ने मुझे प्रबुद्ध किया: "पवित्र आत्मा न केवल उन खास मनुष्यों में कार्य करता है जो परमेश्वर के द्वारा उपयोग किए जाते हैं, बल्कि कलीसिया में कहीं ज़्यादा कार्य करता है। वह किसी में भी कार्य कर रहा हो सकता है। वह वर्तमान में तुम में कार्य कर सकता है, और जब तुम उसका अनुभव कर लो, तो उसके बाद वह किसी और में कार्य कर सकता है। अनुसरण करने में शीघ्रता करो; जितना अधिक घनिष्ठता से तुम वर्तमान प्रकाश का अनुसरण करते हो, उतना ही अधिक तुम्हारा जीवन परिपक्व हो सकता है और उन्नति कर सकता है। इस बात की परवाह किए बिना कि वह किस ढंग का मनुष्य है, जब तक उसमें पवित्र आत्मा कार्य करता है, अनुसरण करना सुनिश्चित करो। अपने स्वयं के अनुभवों के माध्यम से उसके अनुभवों को लो, और तुम्हें और भी अधिक उच्चतर चीजें प्राप्त होंगी। ऐसा करने से तुम तेजी से प्रगति करोगे। यह मनुष्य के लिए सिद्धता का मार्ग है और ऐसा मार्ग है जिसके माध्यम से जीवन बढ़ता है। सिद्ध बनाए जाने के मार्ग तक पवित्र आत्मा के कार्य के प्रति तुम्हारी आज्ञाकारिता के माध्यम से पहुँचा जाता है। तुम नहीं जानते हो कि तुम्हें सिद्ध बनाने के लिए परमेश्वर किस प्रकार के व्यक्ति के जरिए कार्य करेगा, न ही यह जानते हो कि किस व्यक्ति, घटना, चीज़ के जरिए वह तुम्हें सम्पत्ति में प्रवेश करने और तुम्हें कुछ परिज्ञान प्राप्त करने के योग्य बनाएगा" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "जो सच्चे हृदय से परमेश्वर के आज्ञाकारी हैं वे निश्चित रूप से परमेश्वर के द्वारा ग्रहण किए जाएँगे" से)। परमेश्वर के वचनों से नेतृत्व के तहत मैं उनकी इच्छा को समझता था और पवित्र आत्मा के कार्य में लोगों की अगुआई कैसे करें और उन्हें कैसे सिद्ध बनाएँ इस बारे में मैंने कुछ समझ प्राप्त कर ली थी। मुझे एहसास था कि: परमेश्वर का कार्य और परमेश्वर की बुद्धि अद्भुत और रहस्यमय हैं। मुझे नहीं मालूम कि अपनी इच्छा को समझाने के लिए वह किस प्रकार के व्यक्ति या चीज़ के माध्यम से वह मुझे प्रबुद्ध करेगा और मेरा मार्गदर्शन करेगा, न ही मुझे मालूम है कि किस प्रकार के परिवेश के माध्यम से वह मेरे भ्रष्ट स्वभाव से निपटेगा। मुझे अवश्य पवित्र आत्मा के कार्य का पालन करना सीखना चाहिए, और इस बात की परवाह किए बिना कि किसी की हैसियत कितनी ऊँची या नीची है, उनकी उम्र क्या है, या वे कितने समय से परमेश्वर में विश्वास करते हैं, जब तक कि उनकी संगति सच्ची है, तब तक यह परमेश्वर की वर्तमान इच्छा है, और यह व्यावहारिक मार्ग दिखा सकती है, जो पवित्र आत्मा के कार्य और उसकी प्रबुद्धता से आता है। मुझे अवश्य स्वीकार करना, पालन करना और अभ्यास करना चाहिए—यह मानवीय तर्क है जो मुझे अवश्य धारण करना चाहिए। यदि मैं पवित्र आत्मा के कार्य का पालन नहीं करता हूँ, तो मैं अपने कार्य को अपने स्वयं के घमंड को बनाए रखने के लिए समझौता करने की अनुमति देने का इच्छुक हूँ। मैं अपनी छवि और हैसियत बनाए रखने के लिए अपने भाईयों और बहनों को अंधकार में रहने की अनुमति देने का इच्छुक हूँ। उस हालत में, मैं एक सच्चा दुष्ट सेवक और एक मसीह विरोधी हूँ! जब मुझे एहसास हुआ कि, मैं डर महसूस करने के अलावा और कुछ नहीं कर सकता था और मैंने फिर से ज़िद्दी होने और पवित्र आत्मा की प्रबुद्धता और मार्गदर्शन के विरुद्ध जाने का साहस नहीं किया। मैं अपनी स्वयं की शैतानी प्रकृति को छोड़ने और व्यावहारिक कार्यकलापों के माध्यम से परमेश्वर के हृदय को सुख पहुँचाने का इच्छुक था। इसलिए, मैंने तुरंत उस सह-कार्यकर्ता को फोन किया और आ कर हमारे साथ संवाद करने के लिए कहा। जिस चीज़ ने मुझे शर्मिंदा महसूस करवाया वह थी कि हमारे व्यक्तिगत रूप से मिलने के बाद, उस भाई ने मुझे दूर तक तुच्छ नहीं समझा या वह मुझ पर हँसा नहीं। उसने बहुत ही सच्चाई के साथ संगति में इस बात को साझा किया कि जब पवित्र आत्मा उनके बीच कार्य करता थआ तो वे किस प्रकार मिलजुल कर कार्य करते थे, और जब वे बाधाओं और असफलताओं का सामना करते थे तो वे परमेश्वर पर कैसे भरोसा करते थे और परमेश्वर से प्रार्थना करते थे, उसके बाद उन्होंने परमेश्वर से कौन सी कार्रवाईयों को देखा था, उन्होंने परमेश्वर के बारे में किस प्रकार की सच्ची समझ प्राप्त की थी, और बहुत कुछ। अपने भाई के निश्चिंत और खुशहाल रूप-रंग को देख कर, फिर यह देख कर कि मेरे भाई और बहनें जी लगा कर और चाव के साथ सुनते हुए दिखाई दिए, फिर धीरे-धीरे उनके चेहरे पर प्रकट होती मुस्कुराहट को देख कर, मुझे तीव्र वेदना महसूस हुई थी मानो कि मेरा दिल टूट गया था। हालाँकि, इस बार यह मेरे अपने चेहरे या हैसियत को संतुष्ट करने के लिए नहीं था, बल्कि इसलिए था क्योंकि मेरी ऋणग्रस्तता के कारण मुझे मेरे हृदय में डाँटा गया था। इस वजह से, मैंने एक अच्छे अगुआ द्वारा उठाए गए उत्तरदायित्व और कर्तव्य का ईमानदारी से अनुभव किया था। यदि जिस सड़क को मैं व्यक्तिगत रूप से लूँगा वह सही नहीं होगी, तो यह बहुत से लोगों के जीवन को नुकसान और बर्बाद कर देगी। यह कई लोगों के लिए आध्यात्मिक कष्ट लाएगी। उस हालत में, क्या मैं परमेश्वर का विरोध करने वाला एक मुख्य अपराधी नहीं बन गया हूँ? जब परमेश्वर का कार्य पूरा हो जाता है, तो मुझे उसे कैसे हिसाब देना चाहिए? यह उस समय हुआ कि मैं अंततः सचमुच अपने हृदय के भीतर से स्वयं से घृणा करता था। मुझे नफ़रत होती थी कि अतीत में अपना कर्तव्य करते समय मैं अपने कार्य में ईमानदारी से शामिल नहीं हुआ था, किन्तु केवल प्रतिष्ठा और हैसियत का पीछा करने और हैसियत के आशीष में मस्त रहने की सोचता था। यह न केवल मेरे भाईयों और बहनों के जीवन में प्रवेश के साथ हस्तक्षेप करता था, बल्कि उससे भी अधिक यह परमेश्वर की इच्छा को पूरा करने में हस्तक्षेप करता था। मैंने बार-बार पवित्र आत्मा के कार्य को धारण करना भी गँवा दिया था और अंधकार में गिर गया था। मैंने देखा कि प्रतिष्ठा और हैसियत का अनुसरण करने से अच्छा होने की तुलना में बहुत अधिक नुकसान हुआ था। किन्तु जब मैं अपराध-बोध और पश्चाताप महसूस करता था, तो मुझे छोड़ी सी राहत भी महसूस होती थी। ऐसा इसलिए था क्योंकि, परमेश्वर की अगुआई में, मैंने इस एक बार सत्य को अभ्यास में लाने के लिए अंततः व्यक्तिगत लाभ को छोड़ दिया था। मैंने कुछ ऐसा किया था जो कार्य के लिए, मेरे भाईयों और बहनों के लिए और मेरे स्वयं के लिए लाभदायक था। मैंने व्यावहारिक कार्यकलापों के माध्यम से शैतान को शर्मिंदा किया था और इस बार परमेश्वर के लिए गवाही दी थी।

परमेश्वर के कार्य के अपने अनुभव में और प्रतिष्ठा और हैसियत के अपने अनुसरण की वजह से, मैंने कई बाधाओं और विफलताओं का सामना किया था। मैंने कई चक्करदार मार्ग लिए थे, और इस वजह से निपटने और शुद्ध किए जाने से गुज़रा था। धीरे-धीरे, मैंने हैसियत को बहुत कम महत्वपूर्ण समझा, और जो मैं पहले विश्वास करता था—हैसियत के बिना कोई भविष्य नहीं था और कोई भी आपको आदर से नहीं देखेगा—यह भटका हुआ परिप्रेक्ष्य पलट गया था। मैंने अब 15 वर्षों तक परमेश्वर का अनुसरण किया है। हर बार जब मैं अपने ऊपर परमेश्वर के कार्य के बारे में सोचता हूँ, तो मुझे पर हमेशा एक प्यारी भावना आती है। मैं अपने लिए परमेश्वर के प्रेम और उद्धार को भूलने में कभी भी समर्थ नहीं हूँगा। यदि मेरे जीवन के प्रारंभिक चरणों में मेरे परिवेश की रूपरेखा खीचना और मेरे महत्वाकांक्षी अभिलाषाओं से निपटना परमेश्वर ने नहीं किया होता, तो मैं उस विश्वास को छोड़ने का कैसे इच्छुक होता जिसके अनुसार मैं कई वर्षों से जीवित रहता आ रहा था और जो मेरा जीवन बन गया था? यदि समय पर मेरे ऊपर परमेश्वर द्वारा उद्धार नहीं आया होता, तो मैं अभी भी शैतान के ज़हर और कानूनों के अनुसार जी रहा होता, और ऐसे सपने के वास्ते अपनी जिंदगी को व्यर्थ नष्ट कर रहा होता जिसे कभी भी साकार नहीं किया जा सकता था। और यदि यह परमेश्वर के पुनरावर्ती प्रकाशनों और शुद्धिकरणों के कारण नहीं होता, तो मैं अभी भी गलत मार्ग पर तेजी से आगे बढ़ रहा होता और मुझे कभी भी पता नहीं चलता कि मेरा अपना घमंड कितना गंभीर है और हैसियत के लिए मेरी अभिलाषा कितनी शक्तिशाली है। मैंने विशेष रूप से यह नहीं जाना होता कि मैं परमेश्वर का शत्रु हूँ। यह परमेश्वर का उल्लेखनीय कार्य था जिसने मेरे जीवन में इस सबसे अहम बदलाव को संभव किया, जिसने मेरी उन अशिष्ट धारणाओं को जिनका मैंने इतने वर्षों तक बचाव किया था उन उतार-चढ़ावों के माध्यम से विसर्जित होने, समय के साथ गायब होने की अनुमति दी थी। इसने जीवन के मेरे मिथ्या मूल्यों और परिप्रेक्ष्य को वास्तविक परिवर्तन से गुज़रने की अनुमति दी थी, और इसने मुझे यह समझने की अनुमति दी थी कि केवल सत्य का अनुसरण करना और एक सृजन का कर्तव्य पूरा करना ही एक वास्तविक मानवीय जीवन है, और यह कि केवल शैतान के अंधकारमय प्रभाव को त्यागने और परमेश्वर के वचनों के आधार पर जीवित रहने के माध्यम से ही मैं अर्थपूर्ण और मूल्य वाला जीवन जी सकता हूँ। यह पूरी तरह से परमेश्वर के न्याय और ताड़ना का परिणाम है कि मैं उस समझ और परिवर्तन को प्राप्त करने में समर्थ हूँ जो आज मुझमें है। यद्यपि परमेश्वर के न्याय और ताड़ना ने शुद्धिकरण की पीड़ा से गुजरना मेरे लिए आवश्यक बनाया था, किन्तु मुझे परमेश्वर के व्यावहारिक कार्य, उसके उदार सार, और धार्मिकता और पवित्रता के उसके स्वभाव के बारे में कुछ समझ मिल गई है। अब मैं शैतान के ज़हरों को स्पष्ट रूप से देखने, उनसे घृणा करने और उन्हें दूर करने में समर्थ हूँ जिन्होंने मुझे कई वर्षों तक नुकसान पहुँचाया था, और मैं एक सच्चा मानवीय जीवन प्राप्त करने में समर्थ हूँ। इनमें से किसी को भी व्यर्थ में नहीं सहा गया था। यह सबसे अधिक सार्थक, सबसे अधिक मूल्यवान चीज़ थी। आज से आगे के मार्ग पर, मैं परमेश्वर से आने वाले न्याय और ताड़ना, और परीक्षणों और शुद्धिकरण को अधिक स्वीकार करने का इच्छुक हूँ, ताकि मेरे हर प्रकार के भ्रष्ट स्वभाव को शीघ्र ही शुद्ध किया जा सके, और मैं कोई ऐसा व्यक्ति बन सकूँ जो परमेश्वर की इच्छा के अनुरूप हो।

फुटनोट:

क. मूल पाठ "की इच्छा" को छोड़ देता है।

पिछला:अंततः मैं एक मनुष्य की तरह थोड़ा जीवन व्यतीत करता हूँ

अगला:पश्चाताप के बिना युवावस्था का समय बिता दिया

शायद आपको पसंद आये