सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

बहुत प्यारे हैं परमेश्वर

I

तुम सत्य व्यक्त करते हो, तुम मेरा दिल जीतते हो।

तुम्हारे परीक्षण करते हैं शुद्ध मेरी भ्रष्टता को।

पाती हूँ सत्य मैं तुम्हारे न्याय से।

स्वभाव जानने से तुम्हारी सुंदरता मैं देखती हूँ।

हर तरह से हो तुम, इतने प्यारे, इतने प्यारे

कि स्तुति करने तुम्हारी,

झुक जाती हूँ मैं चरणों में तुम्हारे।

II

बँधा है मेरा दिल तुम्हारे प्रेम-पाश में।

तुम्हें छोड़ मैं जी न पाऊँ इस जग में।

अंधेरों में मुझको राह दिखाते वचन तुम्हारे।

देखती हूँ सत्य हैं, बहुमूल्य हैं सचमुच, वचन तुम्हारे।

हर तरह से हो तुम, इतने प्यारे, इतने प्यारे

कि स्तुति करने तुम्हारी,

झुक जाती हूँ मैं चरणों में तुम्हारे।

III

भीनी-भीनी ख़ुशबू की तरह महकता है प्यार तुम्हारा।

मेरी चाहत है कि हर दिन अनुसरण करूँ तुम्हारा।

मैं छोड़ती हूँ सबकुछ, जीवन और सत्य को पाने के लिये।

शुद्ध हूँ भले ही, तुम्हारे हाथों पूर्ण होना सार्थक है, सार्थक है।

तुम्हारे हाथों बचाया जाना, महानतम आशीष है जीवन का।

भर जाती हूँ मैं आनंद से, प्रेम के ख़्याल से तुम्हारे।

क्योंकि हर तरह से हो तुम, इतने प्यारे, इतने प्यारे,

कि स्तुति करने तुम्हारी,

झुक जाती हूँ मैं चरणों में तुम्हारे।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

पिछला:महिमा-सम्राट सर्वशक्तिमान परमेश्वर सर्वशक्तिमान

अगला:हमारा जीवन व्यर्थ में नहीं है

वचन देह में प्रकट होता है अंतिम दिनों के मसीह के कथन - संकलन मेमने ने पुस्तक को खोला न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है राज्य के सुसमाचार पर सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उत्कृष्ट वचन -संकलन परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) राज्य के सुसमाचार पर उत्कृष्ट प्रश्न और उत्तर (संकलन) मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियां सच्चे मार्ग की खोजबीन पर एक सौ प्रश्न और उत्तर विजेताओं की गवाहियाँ मसीह के न्याय के अनुभव की गवाहियाँ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया