सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

अंतिम दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ 

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

V. अंतिम दिनों में परमेश्वर के न्याय के कार्य और अनुग्रह के युग में उसके छुटकारे के कार्य के बीच रहे अंतर से सम्बंधित सत्य के पहलू पर हर किसी को अवश्य गवाही देनी चाहिए

4. प्रभु ने अनुग्रह के युग में लोगों को जो सौंपा था और परमेश्वर राज्य के युग में जो सौंपता है, इनके बीच क्या अंतर है?

संदर्भ के लिए बाइबल के पद:

"और यरूशलेम से लेकर सब जातियों में मन फिराव का और पापों की क्षमा का प्रचार, उसी के नाम से किया जाएगा" (लूका 24:47)।

"इसलिये तुम जाओ, सब जातियों के लोगों को चेला बनाओ; और उन्हें पिता, और पुत्र, और पवित्र आत्मा के नाम से बपतिस्मा दो, और उन्हें सब बातें जो मैं ने तुम्हें आज्ञा दी है, मानना सिखाओ: और देखो, मैं जगत के अन्त तक सदा तुम्हारे संग हूँ" (मत्ती 28:19-20)।

"जो मुझ से, 'हे प्रभु! हे प्रभु!' कहता है, उनमें से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश न करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है" (मत्ती 7:21)।

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:

जैसे यीशु के कार्य का चरण था: उसने एक नया मार्ग खोला था। जब वह आया तब उसने स्वर्ग के राज्य का सुसमाचार प्रचार किया, एवं कहा कि मनुष्य को पश्चाताप, एवं अंगीकार करना चाहिए। जब यीशु ने अपना कार्य पूरा किया उसके बाद, पतरस एवं पौलुस और दूसरों ने यीशु के कार्य को करना प्रारम्भ किया था। जब यीशु को क्रूस पर चढ़ाया गया और उसे स्वर्ग में उठाया गया उसके बाद, उन्हें क्रूस के मार्ग का प्रचार करने के लिए आत्मा के द्वारा भेजा गया था।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "पद नामों एवं पहचान के सम्बन्ध में" से

जब, अनुग्रह के युग में, परमेश्वर तीसरे स्वर्ग में लौटा, तो समस्त मानव जाति के छुटकारे का परमेश्वर का कार्य वास्तव में पहले से ही अपनी समापन की क्रिया में चला गया था। धरती पर जो कुछ भी शेष रह गया था वह था सलीब जिसे यीशु ने ढोया था, बारीक सन का कपड़ा जिसमें यीशु को लपेटा गया था, और काँटों का मुकुट और लाल रंग का लबादा जो यीशु ने पहना था (ये वे वस्तुएँ थीं जिन्हें यहूदियों ने उसका मज़ाक उड़ाने के लिए उपयोग किया था)। अर्थात्, यीशु के सलीब पर चढ़ने का कार्य एक समय के लिए कोहराम का कारण बना था और फिर शांत हो गया था। तब से, यीशु के शिष्यों ने, कलीसियाओं में चरवाही करते हुए और सींचते हुए, हर कहीं उसके कार्य को आगे बढ़ाना शुरू कर दिया। उनके कार्य की विषय-वस्तु यह थी: सभी लोगों से पश्चाताप करवाना, उनके पापों को स्वीकार करवाना और बपतिस्मा दिलवाना; सभी प्रेरितों ने यीशु के सलीब पर चढ़ने की अंदर की कहानी को और जो वास्तव में हुआ था उसे फैलाया, हर कोई सहायता करने में समर्थ नहीं हो पाने बल्कि अपने पापों को स्वीकार करने के लिए यीशु के सामने गिर गया, और इसके अलावा प्रेरित सभी जगह उन वचनों को जो यीशु ने बोले थे और व्यवस्थाओं और आज्ञाओं को जो उसने स्थापित की थी, फैला रहे थे। उस क्षण से अनुग्रह के युग में कलीसियाओं का निर्माण होना शुरू हुआ।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "कार्य और प्रवेश (6)" से

अतीत में, विशेष सभाओं या बड़ी सभाओं के दौरान जिन्हें विभिन्न स्थानों में आयोजित किया जाता था, रीति व्यवहार के मार्ग के केवल एक पहलु के विषय में ही बोला जाता था। इस प्रकार के रीति व्यवहार ऐसे थे कि उन्हें अनुग्रह के युग के दौरान अभ्यास में लाया जाना था, वे बमुश्किल ही परमेश्वर के ज्ञान से कोई सम्बन्ध रखते थे, क्योंकि अनुग्रह के युग का दर्शन मात्र यीशु के क्रूसारोहण का दर्शन था, और वहाँ कोई अति महान दर्शन नहीं थे। मनुष्य से अपेक्षा की गई थी कि वह क्रूसारोहण के माध्यम से मानवजाति के लिए परमेश्वर के छुटकारे के कार्य से अधिक और कुछ भी न जाने, और इस प्रकार अनुग्रह के युग के दौरान मनुष्य के जानने के लिए अन्य दर्शन नहीं थे। इस रीति से, मनुष्य के पास परमेश्वर का सिर्फ थोड़ा सा ही ज्ञान था, और यीशु के प्रेम एवं करूणा के ज्ञान के अलावा, मनुष्य के लिए अभ्यास में लाने हेतु केवल कुछ साधारण एवं दयनीय चीजें थीं, ऐसी चीज़ें जो आज की अपेक्षा बिलकुल अलग हैं। अतीत में, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि उसकी सभा का रूप कैसा था, मनुष्य परमेश्वर के कार्य के व्यावहारिक ज्ञान के विषय में बात करने में असमर्थ था, और कोई भी स्पष्ट रूप से यह कहने के योग्य तो बिलकुल भी नहीं था कि मनुष्य के लिए प्रवेश करने हेतु रीति व्यवहार का सबसे उचित मार्ग कौन सा था। उसने सहिष्णुता एवं धीरज की एक नींव में मात्र कुछ साधारण विवरणों को जोड़ दिया था; उसके रीति व्यवहार के मूल-तत्व में साधारण तौर पर कोई परिवर्तन नहीं हुआ था, क्योंकि उसी युग के अंतर्गत परमेश्वर ने कोई और नया कार्य नहीं किया था, और जो अपेक्षाएं उसने मनुष्य की थीं वे मात्र सहिष्णुता एवं धीरज थे, या क्रूस उठाना था। ऐसे रीति व्यवहारों के अलावा, यीशु के क्रूसारोहण की तुलना में कोई ऊँचे दर्शन नहीं थे।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर का कार्य एवं मनुष्य का रीति व्यवहार" से

अतीत में, मनुष्य से अपेक्षा की गई थी कि वह व्यवस्था एवं आज्ञाओं का पालन करे, और उससे अपेक्षा की गई थी कि वह धैर्यवान एवं विनम्र हो। आज, मनुष्य से अपेक्षा की जाती है कि वह परमेश्वर के समस्त प्रबंधन का पालन करे और परमेश्वर के सर्वोच्च प्रेम को धारण करे, और अन्ततः उससे अपेक्षा की जाती है कि वह क्लेश के मध्य भी परमेश्वर से प्रेम करे। ये तीन चरण ऐसी अपेक्षाएं हैं जिन्हें परमेश्वर कदम दर कदम अपने सम्पूर्ण प्रबंधन के दौरान मनुष्य से करता है। परमेश्वर के कार्य का प्रत्येक चरण पिछले चरण की तुलना में और अधिक गहरा होता जाता है, और प्रत्येक चरण में मनुष्य से की गई अपेक्षाएं पिछले चरण की तुलना में और अधिक गम्भीर होती हैं, और इस तरह से, परमेश्वर का सम्पूर्ण प्रबंधन धीरे धीरे अपना आकार लेता है। मनुष्य से की गई अपेक्षाएं हमेशा से कहीं अधिक ऊँची हो जाने के कारण ही मनुष्य का स्वभाव परमेश्वर के द्वारा अपेक्षित उन मापदंडों के कहीं अधिक नज़दीक आ जाता है, और केवल तभी सम्पूर्ण मानवजाति धीरे धीरे शैतान के प्रभाव से अलग होती है, जब परमेश्वर का कार्य पूर्ण समाप्ति पर आ जाता है, तब तक सम्पूर्ण मानवजाति को शैतान के प्रभाव से बचा लिया जाता है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर का कार्य एवं मनुष्य का रीति व्यवहार" से

तुम सबको परमेश्वर से कार्यभार प्राप्त करना है। इसका क्या अर्थ है? यह कार्य के अगले क़दम के लिए प्रासंगिक है, जो पूरी सृष्टि में होने वाला एक बड़ा कार्य है। इसलिए अब तुझे अपने जीवन स्वभाव बदलाव लाने की चेष्टा करनी चाहिए ताकि तू भविष्य में उसके कार्य के माध्यम से परमेश्वर के महिमा पाने का एक प्रमाण बन जाए, और उसके भविष्य के कार्यों के लिए एक नमूना बना दिया जाये। आज जो कुछ भी किया जा रहा है वह भविष्य के कार्य के लिए एक नींव है। यह इसलिए है कि तू परमेश्वर द्वारा उपयोग किया जा सके और उसकी गवाही देने में सक्षम बन सके। अगर तेरे परिश्रम का ये ही लक्ष्य है, तो तू पवित्र आत्मा के सानिध्य को प्राप्त कर पायेगा। … तुम लोगों को सिद्ध किए जाने, अपनाए जाने, और उपयोग किए जाने के उद्देश्य से हर संभव कार्य करना चाहिए जिससे सृष्टि की सब चीज को तुम्हारे भीतर परमेश्वर का कार्य प्रकट होता दिखाई दे। सभी चीजों के बीच, तुम उनके स्वामीहो, और उन सबके बीच, तुम परमेश्वर को उसकी गवाही और उसकी महिमा प्राप्त करने दोगे। यह दर्शाता है कि तुम सबसे सौभाग्यशाली पीढ़ी हो।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "जिनके स्वभाव परिवर्तित हो चुके हैं, वो वे लोग हैं जो परमेश्वर के वचनों की वास्तविकता में प्रवेश कर चुके हैं" से

उन सब के पास जो परमेश्वर के लोग हैं जीवन होना चाहिए, उन्हें राज्य के प्रशिक्षण को स्वीकार करना चाहिए और उनके जीवन के स्वभाव में परिवर्तनों का अनुसरण करना चाहिए। यही है वह जो राज्यके लोगों से परमेश्वर की अपेक्षा है।

राज्य के लोगों से परमेश्वर की अपेक्षाएँ निम्नानुसार हैं:

1. उन्हें परमेश्वर के आदेशों को स्वीकार करना चाहिए, जिसका अर्थ है, उन्हें परमेश्वर के आखिरी दिनों केकार्य के दौरान कहे गए सभी वचनों को स्वीकार करना होगा।

2. उन्हें राज्य के प्रशिक्षण में प्रवेश करना चाहिए।

3. उन्हें इसका प्रयास करना चाहिए कि परमेश्वर उनके दिलों को स्पर्श करे। जब तुम्हारा दिल पूरी तरह से परमेश्वर की ओर मुड़ जाता है, और तुम्हारे पास एक सामान्य आध्यात्मिक जीवन होता है, तो तुम स्वतंत्रता के क्षेत्र में रहोगे, जिसका अर्थ है कि तुम परमेश्वर के प्रेम की देखभाल और उसके संरक्षण के तहत जिओगे। केवलजब तुम परमेश्वर की देखभाल और संरक्षण में रहते हो तभी तुम परमेश्वर के होते हो।

4. वे परमेश्वर द्वारा प्राप्त किये जाने चाहिए।

5. उन्हें पृथ्वी पर परमेश्वर की महिमा का एक प्रत्यक्षीकरण बन जाना चाहिए।

ये पाँच बातें तुम सब के लिए मेरे आदेश हैं। मेरे वचन परमेश्वर के लोगों से कहे जाते हैं, और यदि तुम इन आदेशों को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हो, तो मैं तुम्हें मजबूर नहीं करूँगा—लेकिन अगर तुम सचमुच उन्हें स्वीकार करते हो, तो तुम परमेश्वर की इच्छा की पूर्ति करने में सक्षम होगे। आज, तुम सभी परमेश्वर के आदेशों को स्वीकार करना शुरू करो, और राज्य के लोग बनने का और राज्य के लोगों के लिए आवश्यक मानकों को हासिल करने का अनुसरण करो। यह प्रविष्टि का पहला चरण है। यदि तुम पूरी तरह से परमेश्वर की इच्छा पूर्ण करना चाहते हो, तो तुम्हें इन पाँच आदेशों को स्वीकार करना होगा, और यदि तुम उन्हें कर पाने में सक्षम होते हो, तो तुम परमेश्वर के दिल का अनुसरण करोगे, और निश्चित रूप से परमेश्वर तुम्हारा महान उपयोग करेगा। …

…………

तुम्हारा परमेश्वर के शब्दों के न्याय, ताड़ना, प्रहार, और शुद्धिकरण को स्वीकार करने में सक्षम होना, और इसके अलावा, परमेश्वर के आदेशों को स्वीकार कर पाना, समय की शुरुआत में परमेश्वर द्वारा पूर्वनिर्धारित किया गया था, और इस प्रकार जब तुम्हें प्रताड़ित किया जाए तो तुम्हें बहुत व्यथित नहीं होना चाहिए। तुम लोगों में जो कार्य किया गया है, और तुम सब के भीतर जो आशीर्वाद दिए गए हैं उन्हें कोई भी दूर नहीं कर सकता है, और जो सब तुम सभी को दिया गया है वह कोई भी छीन कर नहीं ले जा सकता है। धर्म के लोग तुम सब के साथ तुलना में ठहर नहीं सकते। तुम लोगों के पास बाइबल में महान विशेषज्ञता नहीं हैं, और तुम सब धार्मिक सिद्धांत से लैस नहीं हो, परन्तु चूँकि परमेश्वर ने तुम सभी के भीतर कार्य किया है, तुम लोगों ने सारे युगों में अन्य किसी से भी ज्यादा लाभ पाया है—और इसलिए यह तुम लोगों का सबसे बड़ा आशीर्वाद है। इस वजह से, तुम सभी को परमेश्वर के प्रति और भी अधिक समर्पित होना चाहिए, परमेश्वर के प्रति और भी अधिक निष्ठावान। क्योंकि परमेश्वर तुम्हें उठाता है, तुम्हें अपने प्रयासों को संभालना होगा, और परमेश्वर के आदेशों को स्वीकार करने के लिए अपने कद को तैयार करना होगा। परमेश्वर द्वारा दी गई जगह में तुम्हें दृढ़ खड़ा होना चाहिए, तुम्हें परमेश्वर के लोगों में से एक बनने का अनुसरण करना, राज्य के प्रशिक्षण को स्वीकार करना, परमेश्वर द्वारा विजित होना चाहिए और अंततः परमेश्वर का एक गौरवपूर्ण साक्षी बनना चाहिए। इन संकल्पों में से कितने तुम्हारे पास हैं? यदि तुम्हारे पास ऐसे संकल्प हैं, तो अंततः तुम निश्चित रूप से परमेश्वर द्वारा प्राप्त होगे, और परमेश्वर के लिए एक शानदार गवाह बन जाओगे। तुम्हें यह समझना चाहिए कि प्रमुख आदेश परमेश्वर द्वारा प्राप्त किया जाना है और परमेश्वर के लिए एक शानदार साक्षी बन जाना है। यही परमेश्वर की इच्छा है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर के सबसे नए कार्य को जानो और परमेश्वर के चरण-चिन्हों का अनुसरण करो" से

तुम लोगों को यह जानना चाहिए कि यह केवल मैं नहीं हूँ जो यह सब अपने आप कर रहा हूँ। बल्कि, मैं अपने पिता का प्रतिनिधित्व कर रहा हूँ। इसी बीच, तुम लोगों की भूमिका दृढ़ता से अनुसरण करना, आज्ञापालन करना, बदलना और गवाही देना है। तुम लोगों को जो समझना चाहिए वह है कि तुम लोगों को मुझ पर विश्वास क्यों करना चाहिए। यह सबसे अधिक महत्वपूर्ण प्रश्न जो तुम लोगों में से प्रत्येक को समझना चाहिए। मेरे पिता ने, अपनी महिमा के वास्ते, तुम सब लोगों को उसी क्षण मेरे लिए पूर्वनियत कर दिया था जिस समय उसने इस संसार की सृष्टि की थी। यह मेरे कार्य के वास्ते, और उसकी महिमा के वास्ते के अलावा और कुछ नहीं था, कि उसने तुम लोगों को पूर्वनियत कर दिया। यह मेरे पिता के कारण ही है कि तुम लोग मुझ पर विश्वास करते हो; यह मेरे पिता द्वारा पूर्वनियत करने के कारण ही है कि तुम मेरा अनुसरण करते हो। इसमें से कुछ भी तुम्हारा अपना चुनना नहीं है। यहाँ तक कि अधिक महत्वपूर्ण यह है कि तुम लोग यह समझो कि तुम लोग वे हो जिन्हें मेरे लिए गवाही देने के लिए मेरे पिता ने मुझे प्रदान किया है। क्योंकि उसने तुम लोगों को मुझे प्रदान किया है, इसलिए तुम लोगों को उन तौर-तरीकों का जो मैं तुम लोगों को प्रदान करता हूँ और उन तौर-तरीकों और वचनों का जो मैं तुम लोगों को सिखाता हूँ, पालन करना चाहिए, क्योंकि मेरे तौर-तरीकों का पालन करना तुम लोगों का कर्तव्य है। यह मुझ में तुम्हारे विश्वास का मूल उद्देश्य है। इसलिए मैं तुम लोगों से कहता हूँ, कि तुम मात्र वे लोग हो, जिन्हें मेरे पिता ने मेरे तौर-तरीकों का पालन करने के लिए मुझे प्रदान किया है। हालाँकि, तुम लोग सिर्फ़ मुझ में विश्वास करते हो; तुम लोग मेरे नहीं हो क्योंकि तुम इस्राएली परिवार के नहीं हो बल्कि इसके बजाय एक प्रकार के प्राचीन साँप हो। मैं तुम लोगों से सिर्फ़ मेरी गवाही देने के लिए कह रहा हूँ, परन्तु आज तुम लोगों को मेरे तौर-तरीकों में अवश्य चलना चाहिए। यह सब भविष्य की गवाहियों के लिए है। यदि तुम केवल उन लोगों की तरह प्रकार्य करते हो जो मेरे तौर-तरीकों को सुनते हैं, तो तुम्हारा कोई मूल्य नहीं होगा और तुम्हें मेरे पिता के द्वारा तुम लोगों को मुझे प्रदान करना गँवाया हुआ हो जायेगा। तुम्हें कहते हुए जिस पर मैं जोर दे रहा हूँ वह है: कि "तुम्हें मेरे तौर-तरीकों पर चलना चाहिए।"

"वचन देह में प्रकट होता है" से "जब परमेश्वर की बात आती है, तो तुम्हारी समझ क्या होती है" से

जो कुछ तुम लोगों ने अनुभव किया और देखा है वह पहले के पवित्र लोगों और भविष्यवक्ताओं से बढ़कर है, लेकिन क्या तुम लोग इन पहले के पवित्र लोगों और भविष्यवक्ताओं के वचनों से बढ़कर गवाही प्रदान करने में सक्षम हो? अब जो कुछ मैं ने तुम लोगों को दिया है वह मूसा से बढ़कर है और वह दाऊद से बड़ा है, अतः उसी प्रकार मैं तुम लोगों से कहता हूँ कि तुम सबकी गवाही मूसा से बढ़कर हो और तुम लोगों के वचन दाऊद से बड़े हों। मैंने तुम लोगों को सौ गुना दिया है, अतः उसी प्रकार मैं तुम लोगों से कहता हूँ कि तुम लोग मुझे सौ गुना वापस लौटा दो। तुम लोगों को जानना होगा कि वह मैं ही हूँ जो मानवजाति को जीवन देता है, और तुम लोग ही हो जो मुझ से जीवन प्राप्त करते हो और तुम लोगों को मेरा गवाह बनना होगा। यह तुम लोगों का वह कर्तव्य है, जिसे मैं नीचे तुम लोगों पर भेजता हूं और जिसे तुम लोगों को मेरे लिए निभाना ही होगा। मैंनेने अपनी सारी महिमा तुम लोगों को दे दी है, और वह चुना हुआ जीवन तुम लोगों को दे दिया है जिसे चुने हुए लोगों, अर्थात् इस्राएलियों ने कभी प्राप्त नहीं किया था। पूरे अधिकार से तुम लोगों को मेरे लिए गवाही देनी होगी, और अपनी युवावस्था को मेरे प्रति समर्पित करना होगा और अपना जीवन कुर्बान करना होगा। जिस किसी को मैं अपनी महिमा दूँगा वह मेरा गवाह बनेगा और मेरे लिए अपना जीवन देगा। यह बहुत पहले से ही नियत किया गया है। यह तुम लोगों का सौभाग्य है कि मैं अपनी महिमा तुम लोगों को देता हूँ, और तुम लोगों का कर्तव्य है कि तुम लोग मेरी महिमा की गवाही दो। यदि तुम लोग केवल सौभाग्य प्राप्त करने के लिए मुझ पर विश्वास करते हो, तो मेरे कार्य का ज़्यादा महत्व नहीं रह जाएगा, और तुम लोग अपने कर्तव्य को पूरा नहीं कर रहे होगे। इस्राएलियों ने केवल मेरी दया, प्रेम और महानता को देखा था, और यहूदी केवल मेरे धीरज और छुटकारे के गवाह बने थे। उन्होंने मेरी आत्मा के एक छोटे से भाग को देखा था; ऐसा हो सकता है कि उनकी समझ का स्तर जो कुछ तुम लोगों ने देखा और सुना है वह उसके केवल एक का दस हज़ारवां हिस्सा था। जो कुछ तुम लोगों ने देखा है वह उस से कहीं बढ़कर है जो उनके बीच महायाजकों ने देखा था। आज, तुम लोग जिस सच्चाई को समझते हो वह उनकी समझ से बढ़कर है; जो कुछ तुम लोगों ने आज देखा है वह उस से बढ़कर है जो उन्होंने व्यवस्था के युग में देखा था, और जो कुछ तुम लोगों ने अनुभव किया है वह मूसा और एलिय्याह के अनुभवों से कहीं बढ़कर है। क्योंकि जो कुछ इस्राएलियों ने समझा था वह केवल यहोवा की व्यवस्था थी और जो कुछ उन्होंने देखा था वह केवल यहोवा की पीठ की झलक थी; जो कुछ यहूदियों ने समझा था वह केवल यीशु का छुटकारा था, जो कुछ उन्होंने प्राप्त किया था वह केवल वह अनुग्रह था जो यीशु के द्वारा दिया गया था, और जो कुछ उन्होंने देखा था वह यहूदियों के घराने के भीतर यीशु का स्वरूप था। जो कुछ तुम लोग आज देखते हो वह यहोवा की महिमा है, यीशु का छुटकारा है और आज के मेरे सभी कार्य हैं। तुम लोगों ने मेरी आत्मा के वचनों को भी सुना है, मेरी बुद्धिमत्ता की तारीफ की है, मेरे चमत्कारों को जान लिया है, और मेरे स्वभाव से सीखा है। मैंने तुम लोगों को अपने सम्पूर्ण प्रबंधन योजना के बारे में भी बताया था। जो तुम लोगों ने देखा वह मात्र एक प्रेमी और दयालु परमेश्वर नहीं है, परन्तु वह ऐसा है जो धार्मिकता से भरा हुआ है। तुम लोगों ने मेरे आश्चर्यजनक कामों को देखा है और जान गए हो कि मैं प्रचण्ड क्रोध और प्रताप से भरपूर हूँ। उस से बढ़कर, तुम लोग जान गए हो कि मैंने एक बार इस्राएल के घराने पर अपने क्रोध को उड़ेला था, और आज, यह तुम लोगों के पास आ गया है। तुम लोग यशायाह और यूहन्ना की अपेक्षा स्वर्ग के मेरे रहस्यों को कहीं ज़्यादा समझते हो; पिछली पिढ़ियों के सभी पवित्र लोगों की अपेक्षा तुम लोग मेरी मनोरमता और आदर को कहीं ज़्यादा जानते हैं। जो कुछ तुम लोगों ने प्राप्त किया है वह मात्र मेरा सत्य, मेरा मार्ग और मेरा जीवन नहीं है, परन्तु यूहन्ना को प्राप्त होने से भी बड़ा दर्शन और प्रकाशन है। तुम लोगों ने बहुत सारे भेदों को जान लिया है और मेरा सच्चा मुख भी देख लिया है; तुम लोगों ने मेरे न्याय को और भी अधिक स्वीकार कर लिया है और मेरे धर्मी स्वभाव को और भी अधिक जान लिया है। अतः, यद्यपि तुम लोगों का जन्म इन अंतिम दिनों में हुआ है, फिर भी तुम लोग पहली और पिछली बातों की समझ रखते हो; तुम लोगों ने भी अनुभव किया है कि आज के दिन में क्या है, और उसे मेरे हाथों के द्वारा पूरा किया गया था। जो मैं तुम लोगों से पूछता हूँ वह अनुचित नहीं है, क्योंकि मैंने तुम लोगों को बहुत ज़्यादा दिया है और तुम लोगों ने मेरे द्वारा बहुत कुछ देखा है। इसलिए, मैं तुम लोगों से कहता हूँ कि मेरे लिए गवाह बनो जैसा पहले पवित्र लोगों ने किया था, और यह मेरे हृदय की एकमात्र इच्छा है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "तुम विश्वास के विषय में क्या जानते हो?" से

मेरे न्याय का प्रकार्य मनुष्य को मेरी आज्ञाओं का बेहतर ढंग से पालन करने में सक्षम बनाना है, और मेरी ताड़ना का प्रकार्य मनुष्य को एक अधिक प्रभावी ढंग से बदलना है। यद्यपि जो मैं करता हूँ वह मेरे प्रबन्धन के वास्ते है, किन्तु मैंने कभी भी कुछ ऐसा नहीं किया है जो मनुष्य के लाभ के बिना हो। ऐसा इसलिए है क्योंकि मैं इस्राएल से बाहर के सभी देशों को ठीक इस्राएलियों के समान ही आज्ञाकारी बनाना चाहता हूँ और उन्हें एक वास्तविक मनुष्य बनाना चाहता हूँ, ताकि इस्राएल के बाहर की भूमियों पर मेरे लिए पैर रखने की जगह हो। यह मेरा प्रबन्धन है; यही वह कार्य है जिसे मैं अन्यजाति देशों पर निष्पादित कर रहा हूँ। अभी भी, बहुत से लोग मेरे प्रबन्धन को नहीं समझते हैं क्योंकि उन्हें इन चीज़ों में कोई रुचि नहीं है, बल्कि केवल अपने स्वयं के भविष्य और मंज़िलों के बारे में परवाह करते हैं। इस बात की परवाह किए बिना कि मैं क्या कहता हूँ, लोग उस कार्य के प्रति उदासीन हैं जो मैं करता हूँ, इसके बजाय वे अनन्य रूप से अपनी भविष्य की मंज़िलों पर ध्यान केन्द्रित करते हैं। चीज़ें इसी तरह से चलती रहें, तो मेरा कार्य कैसे फैलाया जा सकता है? मेरा सुसमाचार सारे संसार तक कैसे फैलाया जा सकता है? तुम लोगों को जान लेना चाहिए कि जब मेरा कार्य फैलाया जाता है, तो मैं तुम्हें तितर-बितर करूँगा, और तुम लोगों को उसी तरह मारूँगा ठीक जैसे यहोवा ने इस्राएल के प्रत्येक कबीले को मारा था। यह सब कुछ मेरे सुसमाचार को समस्त पृथ्वी पर फैलाने, और मेरे कार्य को अन्यजाति देशों तक फैलाने के लिए किया जाएगा, ताकि वयस्कों और बच्चों के द्वारा एक समान रूप से मेरे नाम को बढ़ाया जा सके और मेरा पवित्र नाम सभी कबीलों और देशों के लोगों के मुँह में बुलंद हो सकता है। इस अंतिम युग में, मैं अपने नाम को अन्यजातियों के बीच गौरवान्वित करवाऊँगा, और अपने कर्मों को अन्यजाति देशों के सामने दिखवाऊँगा जिससे वे मुझे मेरे कर्मों के कारण सर्वशक्तिमान कह सकते हैं, और इसे इतना बना सकते हैं कि मेरे वचन शीघ्र ही घटित हो जाएँ। मैं सभी लोगों को ज्ञात करवाऊँगा कि मैं केवल इस्राएलियों का ही परमेश्वर नहीं हूँ, बल्कि अन्यजातियों का भी हूँ, यहाँ तक कि उनका भी हूँ जिन्हें मैंने शाप दिया है। मैं सभी लोगों को यह देखने दूँगा कि मैं समस्त सृष्टि का परमेश्वर हूँ। यह मेरा सबसे बड़ा कार्य है, अंत के दिनों के लिए मेरी कार्य योजना का उद्देश्य है, और अंत के दिनों में पूरा किया जाने वाला एकमात्र कार्य है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है" से

क्या तू परमेश्वर के किसी युग विशिष्ट स्वभाव को ऐसी उचित भाषा में अभिव्यक्त कर सकता है जिसका युग में महत्व हो? परमेश्वर के कार्य के अपने अनुभव से, क्या तू परमेश्वर के स्वभाव का वर्णन विस्तार से कर सकता है? तू कैसे सटीक रूप से, उचित रूप से उसका वर्णन कर सकता है? जिसके माध्यम से, दूसरे तेरे अनुभवों के बारे में सीख सकें। तू दयनीय, बेचारे और धार्मिकता के भूखे प्यासे धर्मी भक्त विश्वासियों के साथ, जो तेरी चरवाही की आस लगाए बैठे हैं, अपने दर्शनों और अनुभवों को कैसे बांटेगा? किस प्रकार के पात्र तेरी प्रतीक्षा में हैं कि तू उनकी चरवाही करे? क्या तू कल्पना कर सकता है? क्या तू अपने कधों पर बोझ, अपना महान अदेश और अपनी उत्तरदायित्व के प्रति जागृत है? मिशन के प्रति तेरा ऐतिहासिक एहसास कहाँ चला गया? तू अगली पीढ़ी के वास्ते एक अच्छे गुरु समान, कैसे सेवा दे पाएगा? क्या तुझमें गुरुपन का बहुत गंभीरता से एहसास है? तू समस्त पृथ्वी के गुरु का वर्णन कैसे करेगा? क्या वह वास्तव में संसार की समस्त सजीवों और वस्तुओं का गुरु है? कार्य को बढ़ाने हेतु योजनाओं में तुम्हारा अगला कदम क्या है? तुझे चरवाहे के रूप में देखने हेतु कितने लोग प्रतीक्षा कर रहे हैं? क्या तेरा कार्य काफी कठिन सा है? वे लोग दीन-दुखी, दयनीय, अंधे, सब खो चुके हुए, अंधकार में विलाप कर रहे हैं, "मार्ग कहां है?" उनमें ज्योति, जैसे गिरते हुए तारे, के लिए कैसी ललक है कि वह नीचे आकर उस अंधकार की शक्ति को तितर बितर करे, जिसने कई वर्षों से मनुष्यों का दमन किया है। कौन जान सकता है कि वे कैसे उत्सुकतापूर्वक आशा करते हैं और कैसे वे दिन-रात इसके लिए लालायित रहते हैं? ये लोग जो बुरी तरह से सताए जाते हैं, अंधकार के जेल में कैद रहते हैं, छूटने की आशा के बिना, उस दिन भी जब किरण चमकती है; वे कब रोना बंद करेंगे? ये दुर्बल आत्माएं, जिन्हें विश्राम की अनुमति ही नहीं दी गयी, सच में दुर्भाग्य से पीड़ित हैं। वे सदियों से क्रूर रस्सियों के बधंन में हैं, और इतिहास में उनको जमी हुई बर्फ के समान मुहरबंद करके रखा गया है। किसने उनके कराहने की आवाज को कभी सुना है? किसने उनके दयनीय चेहरे को कभी देखा है? क्या तूने कभी सोचा है कि परमेश्वर का हृदय कितना व्याकुल और चिंतित है? जिसे उसने अपने हाथों से रचा उस निर्दोष मानव जाति को ऐसी पीड़ा में दुख उठाते हुए देखकर वह कैसे सह सकता है? वैसे भी मानव जाति तो वह दुर्भाग्यशाली है जिस पर विष प्रयोग किया गया है। यद्यपि वे आज के दिन तक जीवित हैं, कौन यह सोच सकता था कि उन्हें लंबे समय से उस दुष्टात्मा द्वारा विष दिया गया है? क्या तू भूल चुका है कि तू शिकार हुए लोगों मे से एक है? परमेश्वर के लिए अपने प्रेम के खातिर, क्या तू उन्हें बचाने को इच्छुक नहीं है जो जीवित बच गए हैं? क्या तू उस परमेश्वर को कीमत चुकाने हेतु अपना सारा जोर लगाने के लिए इच्छुक नहीं है जो मनुष्य को अपने शरीर और लहू के समान प्रेम करता है? तू एक असाधारण जीवन व्यतित करने के लिए परमेश्वर द्वारा प्रयोग में लाए जाने की कैसे व्याख्या करता है? क्या सच में तुझमें एक धार्मिक, परमेश्वर की सेवा करने वाले, एक अर्थपूर्ण जीवन यापन करने का सकंल्प और विश्वास है?

"वचन देह में प्रकट होता है" से "तुझे अपने भविष्य मिशन से कैसे निपटना चाहिए" से

पिछला:अनुग्रह के युग की तुलना में राज्य के युग में, कलीसियाई जीवन में क्या अंतर है?

अगला:बचाया जाना क्या है? उद्धार क्या है?

शायद आपको पसंद आये

अंतिम दिनों में परमेश्वर के न्याय के महत्व को, अंतिम दिनों में परमेश्वर के न्याय के कार्य से प्राप्त परिणामों में, देखा जा सकता है। अंतिम दिनों में परमेश्वर के न्याय का कार्य किस तरह मानवजाति को शुद्ध करता और बचाता है? एक मात्र सच्चे परमेश्वर को "त्रिदेव या त्रिविध परमेश्वर" के रूप में वर्णित करना, परमेश्वर की अवहेलना और निंदा करना है। प्रश्न 41: हमने चीनी कम्युनिस्ट सरकार और धार्मिक दुनिया के कई भाषण ऑनलाइन देखे हैं जो सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया की बदनामी और झूठी निंदा करते हैं, उन पर आक्षेप और कलंक लगाते हैं (जैसे कि झाओयुआन, शेडोंग प्रांत की "5.28" वाली घटना)। हम यह भी जानते हैं कि सीसीपी लोगों से झूठ और गलत बातें कहने में, और तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर लोगों को धोखा देने में माहिर है, साथ ही साथ उन देशों का जिनके यह विरोध में है, अपमान करने, उन पर हमला करने और उन का न्याय करने में भी माहिर है, इसलिए सीसीपी के कहे गए किसी भी शब्द पर बिल्कुल विश्वास नहीं किया जाना चाहिए। लेकिन धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों के द्वारा कही गई कई बातें सीसीपी के शब्दों से मेल खाती हैं, इसलिए हमें सीपीपी और धार्मिक दुनिया से आने वाले निन्दापूर्ण, अपमानजनक शब्दों को कैसे परखना चाहिए?
वचन देह में प्रकट होता है वचन देह में प्रकट होता है से आगे जारी अंतिम दिनों के मसीह के कथन - संकलन मेमने ने पुस्तक को खोला न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है मसीह की बातचीतों के अभिलेख राज्य के सुसमाचार पर सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उत्कृष्ट वचन -संकलन परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना अंतिम दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ सच्चे मार्ग की खोजबीन पर एक सौ प्रश्न और उत्तर विजेताओं की गवाहियाँ मसीह के न्याय के अनुभव की गवाहियाँ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप राज्य के सुसमाचार पर उत्कृष्ट प्रश्न और उत्तर (संकलन)