सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

अय्यूब के विषय में (II)

6

अय्यूब की वैचारिक शक्ति

अय्यूब के वास्तविक अनुभव और उसकी सीधी एवं सच्ची मानवता का अर्थ था कि उसने बहुत ही न्यायसंगत निर्णय एवं चुनाव किया था जब उसने अपनी सम्पत्तियों और अपने बच्चों को खो दिया था। ऐसे न्यायसंगत चुनाव उसके प्रतिदिन के अनुसरण (उद्यमों) और परमेश्वर के कार्यां से अविभाज्य थे जिन्हें उसने अपने दिन प्रति दिन के जीवन के दौरान जाना था। अय्यूब की ईमानदारी ने उसे यह विश्वास करने के काबिल बनाया कि यहोवा का हाथ सभी चीज़ों के ऊपर शासन करता है; उसके विश्वास ने उसे इस सत्य को जानने की अनुमति दी कि यहोवा परमेश्वर की संप्रभुता सभी चीज़ों के ऊपर है; उसके ज्ञान ने उसे यहोवा परमेश्वर की संप्रभुता एवं इंतज़ामों को मानने के लिए तैयार किया और उसे योग्य बनाया; उसकी आज्ञाकारिता ने यहोवा परमेश्वर के प्रति उसके भय में उसे और भी अधिक सच्चा होने के योग्य बनाया; उसके भय ने बुराई से दूर रहने में उसे और भी अधिक योग्य बनाया; आखिरकार, अय्यूब सिद्ध बन गया क्योंकि वह परमेश्वर का भय मानता और बुराई से दूर रहता था; और उसकी सिद्धता ने उसे अधिक बुद्धिमान बना दिया, और उसे बहुत अधिक वैचारिक शक्ति प्रदान की।

हमें "न्यायसंगत" शब्द को किस प्रकार समझना चाहिए? यह एक शाब्दिक अनुवाद है जिसका अर्थ है अच्छी भावना होना, अपनी सोच में तार्किक एवं संवेदनशील होना, अच्छे बोल होना, अच्छे कार्य करना, और न्यायप्रिय होना, और अच्छे एवं नियमित नैतिक मानकों को धारण करना। फिर भी अय्यूब की वैचारिक शक्ति को इतनी आसानी से समझाया नहीं जा सकता है। जब ऐसा कहा जाता है कि अय्यूब अत्याधिक वैचारिक शक्ति धारण करता था, तो यह उसकी मानवता और परमेश्वर के सामने उसके आचरण के सम्बन्ध में होता है। क्योंकि अय्यूब ईमानदार था, वह परमेश्वर की संप्रभुता पर विश्वास करने और उसको मानने के योग्य था, जिसने उसे ऐसा ज्ञान दिया जिसे दूसरों के द्वारा हासिल नहीं किया जा सकता था, और इस ज्ञान ने उसे काबिल बनाया कि वह उन आपदाओं को और भी अधिक सटीकता से परखे, उनका न्याय करे और उन्हें परिभाषित करे जो उस पर आई थीं, जिसने उसे योग्य किया था कि वह और भी अधिक सटीकता एवं जल्दी से चुनाव करे कि उसे क्या करना है और किस बात को दृढ़ता से थामे रहना है। कहने का तात्पर्य है कि उसके शब्द, व्यवहार, एवं उसके कार्यों के पीछे के सिद्धान्त, और वह नियम जिसके द्वारा उसने कार्य किया था, वे नियमित, स्पष्ट एवं विशिष्ट थे, और वे अंधे, आवेगपूर्ण या भावनात्मक नहीं थे। वह जानता था कि जो भी आपदा उस पर आई थी उससे कैसे निपटा जाए, वह जानता था कि जटिल घटनाओं के बीच सम्बन्धों को कैसे सम्भाला एवं सन्तुलित किया जाए, वह जानता था कि उन मार्गों को कैसे दृढ़ता से थामा जाए जिन्हें थमा जाना चाहिए, और, इसके अतिरिक्त, वह जानता था कि यहोवा परमेश्वर के देने एवं ले लेने के विषय में कैसा व्यवहार किया जाए। यही अय्यूब की सबसे बड़ी वैचारिक शक्ति थी। यह बिलकुल ऐसा ही था क्योंकि अय्यूब ऐसी वैचारिक शक्ति से सुसज्जित था कि उसने कहा, "यहोवा ने दिया और यहोवा ही ने लिया; यहोवा का नाम धन्य है," जब उसने अपनी सम्पत्तियों और अपने बेटे एवं बेटियों को खो दिया था।

जब अय्यूब का सामना उसके शरीर के अत्याधिक कष्ट से, और अपने परिवार के लोगों एवं मित्रों के ऐतराज से हुआ, और जब उसका सामना मृत्यु से हुआ, तो उसके वास्तविक व्यवहार ने एक बार फिर से सभी के सामने उसके सच्चे चेहरे को प्रदर्शित किया।

अय्यूब का असली चेहरा: सच्चा, शुद्ध, और बिना किसी असत्य का

आओ हम निम्नलिखित अंश को पढ़ें: "तब शैतान यहोवा के सामने से निकला, और अय्यूब को पाँव के तलवे से ले सिर की चोटी तक बड़े बड़े फोड़ों से पीड़ित किया। तब अय्यूब खुजलाने के लिये एक ठीकरा लेकर राख पर बैठ गया" (अय्यूब 2:7-8)। यह अय्यूब के आचरण का चित्रण है जब उसके शरीर पर फोड़े निकल आए थे। इस समय, अय्यूब दर्द सहते हुए राख पर बैठ गया। किसी ने भी उससे व्यवहार नहीं की, और किसी ने भी उसके शरीर के दर्द को कम करने के लिए सहायता नहीं की; इसके बजाए, उसने अपने फोड़ों की सतह को खुजाने के लिए एक ठीकरे का इस्तेमाल किया। ऊपरी तौर पर, यह अय्यूब की पीड़ा का एक चरण था, और इसका उसकी मानवता एवं परमेश्वर के भय से कोई नाता नहीं है, क्योंकि अय्यूब ने इस समय अपनी मनःस्थिति एवं विचारों को प्रकट करने के लिए शब्दों का प्रयोग नहीं किया। फिर भी, अय्यूब के कार्य एवं उसका आचरण अभी भी उसकी मानवता की सच्ची अभिव्यक्ति है। पिछले अध्याय के लेख में हमने पढ़ा था कि अय्यूब पूर्व के सभी मनुष्य में सबसे बड़ा था। इसी बीच, दूसरे अध्याय का यह अंश हमें यह दिखाता है कि पूर्व के इस महान व्यक्ति को राख में बैठकर अपने आपको खुजाने के लिए एक ठीकरा लेना पड़ा। क्या इन दोनों चित्रण के बीच स्पष्ट अन्तर नहीं है? यह ऐसा अन्तर है जो हमें अय्यूब के असली व्यक्तित्व को दिखाता है उसकी प्रतिष्ठा एवं हैसियत के बावजूद, उसने कभी उनसे प्रेम नहीं किया या उन पर कोई ध्यान नहीं दिया; उसने परवाह नहीं की कि अन्य लोग उसकी प्रतिष्ठा को कैसे देखते हैं, न ही वह इस विषय में चिंतित था कि उसके कार्य एवं आचरण का उसकी प्रतिष्ठा पर कोई नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा या नहीं; वह पद प्रतिष्ठा के धन-दौलत में लिप्त नहीं हुआ, न ही उसने उस महिमा का आनन्द उठाया जो हैसियत एवं प्रतिष्ठा से आया था। उसने सिर्फ अपने मूल्यों की और यहोवा परमेश्वर की नज़रों में अपने जीवन को जीने के महत्व की चिंता की थी। अय्यूब का असली व्यक्तित्व ही उसकी हस्ती थी: उसने प्रसिद्धि एवं सौभाग्य से प्रेम नहीं किया था, और वह प्रसिद्धि एवं सौभाग्य के लिए नहीं जीता था; वह सच्चा, शुद्ध और बिना किसी असत्य के था।

अय्यूब के प्रेम एवं नफरत का अलगाव

अय्यूब और उसकी पत्नी के बीच हुए संवाद में उसकी मानवता के एक और पहलु को प्रदर्शित किया गया है: तब उसकी स्त्री उससे कहने लगी, "क्या तू अब भी अपनी खराई पर बना है? परमेश्‍वर की निन्दा कर, और चाहे मर जाए तो मर जा।" उसने उससे कहा, "तू एक मूढ़ स्त्री की सी बातें करती है, क्या हम जो परमेश्‍वर के हाथ से सुख लेते हैं, दुःख न लें?" (अय्यूब 2:9-10)। जिस पीड़ा को वह सह रहा था उसे देखते हुए, अय्यूब की पत्नी ने उसे इस पीड़ा से बच निकलने में सहायता करने के लिए सलाह देने की कोशिश की थी—फिर भी उन "भले इरादों" को अय्यूब की मंजूरी प्राप्त नहीं हुई; इसके बजाए, उन्होंने उसके क्रोध को भड़का दिया, क्योंकि उसने यहोवा परमेश्वर में उसके विश्वास एवं उसके प्रति उसकी आज्ञाकारिता का इंकार किया था, और साथ ही यहोवा परमेश्वर के अस्तित्व को भी नकारा था। यह अय्यूब के लिए असहनीय था कि वह दूसरों के विषय में कुछ भी न कहे, क्योंकि उसने स्वयं को ऐसा कुछ करने की अनुमति कभी नहीं दी थी जिससे परमेश्वर का विरोध हुआ हो या उसे तकलीफ पहुंची हो। वह कैसे चुपचाप रह सकता था जब उसने देखा कि अन्य लोगों ने ऐसे शब्दों को कहा जो परमेश्वर की निन्दा एवं उसका अपमान था? इस प्रकार, उसने अपनी पत्नी को "मूर्ख स्त्री" कहा। अपनी पत्नी के प्रति अय्यूब की मानसिकता क्रोध एवं घृणा, साथ ही साथ निन्दा एवं फटकार की थी। यह प्रेम एवं घृणा के बीच अन्तर करने के विषय में अय्यूब के मनुष्यत्व की स्वाभाविक अभिव्यक्ति थी, और यह सच्चे मनुष्यत्व का असली प्रदर्शन था। अय्यूब ने न्याय के एक एहसास को धारण किया था—ऐसा एहसास जिससे उसने दुष्टता की बयार एवं लहर से नफरत की, और बेतुकी झूठी शिक्षा, भद्दे विवादों, एवं ऊटपटांग अभिकथनों से घृणा की, उनकी भर्त्सना एवं उन्हें अस्वीकार किया, और ऐसे एहसास ने उसे अनुमति दी कि वह तब भी अपने सही सिद्धान्तों एवं उद्देश्य को सच्चाई से थामे रहे जब उसे भीड़ के द्वारा अस्वीकार कर दिया गया था और उसे उन लोगों के द्वारा छोड़ किया गया था जो उसके करीबी थे।

अय्यूब की उदारता एवं ईमानदारी

जबकि, अय्यूब के व्यवहार में हम उसके मनुष्यत्व के विभिन्न पहलुओं की अभिव्यक्ति को देख सकते हैं, तो हम अय्यूब के मनुष्यत्व के किस पहलु को देखते हैं जब उसने अपने जन्म के दिन को कोसने के लिए अपना मुंह खोला था? यह वह विषय है जिस पर हम नीचे बातचीत करेंगे।

ऊपर, मैंने अय्यूब के द्वारा अपने जन्म के दिन को कोसने की शुरुआत के विषय में बात की है। तुम लोग इसमें क्या देखते हो? यदि अय्यूब कठोर हृदय, और बिना प्रेम के होता, यदि वह ठंडा और भावनारहित होता, एवं मानवता से रहित होता, तो क्या उसने परमेश्वर के हृदय की इच्छा की परवाह की होती? और क्या परमेश्वर के हृदय की परवाह करने के फलस्वरूव वह अपने जन्म के दिन को कोस सकता था? दूसरे शब्दों में, यदि अय्यूब कठोर हृदय का होता और मानवता से रहित होता, तो क्या वह परमेश्वर की पीड़ा से परेशान हो सकता था? क्या वह अपने जन्म के दिन को कोस सकता था क्योंकि परमेश्वर उसके द्वारा व्यथित हुआ था? इसका उत्तर है, बिल्कुल भी नहीं! क्योंकि वह दयालु हृदय का था, इसलिए अय्यूब ने परमेश्वर के हृदय की परवाह की थी; क्योंकि वह परमेश्वर के हृदय की परवाह करता था, इसलिए अय्यूब ने परमेश्वर की पीड़ा का एहसास किया; क्योंकि वह दयालु हृदय का था, इसलिए उसने परमेश्वर की पीड़ा का एहसास करने के परिणामस्वरूप अत्याधिक यातना सही; क्योंकि अय्यूब ने परमेश्वर की पीड़ा का एहसास किया; वह अपने जन्म के दिन से घृणा करने लगा, और इस प्रकार उसने अपने जन्म के दिन को कोसा। बाहरी लोगों के लिए, अय्यूब की परीक्षा के दौरान उसका सम्पूर्ण आचरण एक आदर्श है। केवल उसके द्वारा अपने जन्म के दिन को कोसना ही उसकी खराई एवं सीधाई के ऊपर एक प्रश्न चिन्ह अंकित करता है, या एक एक अलग ही आंकलन प्रदान करता है। वास्तव में, यह अय्यूब की मानवता के मूल-तत्व की सबसे सच्ची अभिव्यक्ति थी। उसकी मानवता का मूल-तत्व छिपा हुआ या बंद किया हुआ नहीं था, या किसी अन्य के द्वारा संशोधित किया हुआ नहीं था। जब उसने अपने जन्म के दिन को धिक्कारा, तो उसने अपने हृदय की गहराई में उदारता एवं ईमानदारी को प्रदर्शित किया; वह एक ऐसे सोते के समान था जिसका पानी इतना साफ एवं पारदर्शी था कि अपने तल को प्रदर्शित करता था।

अय्यूब के बारे में यह सब कुछ सीखने के बाद, बहुत से लोगों के पास निःसन्देह अय्यूब की मानवता के मूल-तत्व के विषय में निष्पक्ष रूप से एक सटीक एवं वस्तुनिष्ठ (तथ्यों पर आधारित) आंकलन होगा। उनके पास अय्यूब की खराई एवं सीधाई के विषय में एक गहरी, व्यावहारिक, एवं और अधिक उन्नत समझ एवं प्रशंसा भी होनी चाहिए जिसके विषय में परमेश्वर के द्वारा बोला गया था। मुझे आशा है, कि यह समझ एवं प्रशंसा लोगों को परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने की रीति की शुरुआत करने में सहायता करेगी।

"वचन देह में प्रकट होता है से आगे जारी" से