सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

अनुग्रह का युग: परमेश्वर के कार्य का लक्ष्य और महत्व

102

परमेश्वर के अति-उत्कृष्ट वचन:

अनुग्रह के युग में, मनुष्य पहले से ही शैतान की भ्रष्टता से गुज़र चुका था, और इसलिए समस्त मानवजाति को छुटकारा देने के कार्य हेतु, अनुग्रह की भरमार, अनन्त सहनशीलता और धैर्य, और उससे भी बढ़कर, मानवजाति के पापों का प्रयाश्चित करने के लिए पर्याप्त बलिदान की आवश्यकता थी ताकि इसके प्रभाव तक पहुँचा जा सके। अनुग्रह के युग में मानवजाति ने जो देखा वह मानवजाति के पापों के प्रायश्चित के लिए मेरी भेंट मात्र था, अर्थात्, यीशु। वे केवल इतना ही जानते थे कि परमेश्वर दयावान और सहनशील हो सकता है, और उन्होंने केवल यीशु की दया और करूणामय-प्रेम को देखा था। ऐसा पूरी तरह से इसलिए था क्योंकि वे अनुग्रह के युग में रहते थे। और इसलिए, इससे पहले कि उन्हें छुटकारा दिया जा सके, उन्हें कई प्रकार के अनुग्रह का आनन्द उठाना था जो यीशु ने उन्हें प्रदान किए थे; केवल यही उनके लिए लाभदायक था। इस तरह, उनके द्वारा अनुग्रह का आनन्द उठाने के माध्यम से उन्हें उनके पापों से क्षमा किया जा सकता था, और यीशु की सहनशीलता और धीरज का आनन्द उठाने के माध्यम से उनके पास छुटकारा पाने का एक अवसर भी हो सकता था। केवल यीशु की सहनशीलता और धैर्य के माध्यम से ही उन्होंने क्षमा पाने का अधिकार प्राप्त किया और यीशु के द्वारा दिए गए अनुग्रह की भरमार का आनन्द उठाया—वैसे ही जैसे कि यीशु ने कहा था, “मैं धार्मिकों को नहीं बल्कि पापियों को छुटकारा दिलाने, पापियों को उनके पापों से क्षमा किए जाने की अनुमति देने आया हूँ।” यदि यीशु मनुष्य के अपराधों के न्याय, अभिशाप, और असहिष्णुता के स्वभाव के साथ देहधारी होता, तो मनुष्य के पास छुटकारा पाने का अवसर कभी नहीं होता, और वह हमेशा के लिए पापी रह गया होता। यदि ऐसा हुआ होता, तो छः-हज़ार-सालों की प्रबन्धन योजना व्यवस्था के युग में रुक गई होती, और व्यवस्था का युग छः-हज़ार-साल बढ़ गया होता। मनुष्य के पापों की संख्या बहुत अधिक बढ़ गई होती और पाप बहुत दारुण हो गए होते, और मानवजाति के सृजन का कोई अर्थ नहीं रह गया होता। मनुष्य केवल व्यवस्था के अधीन ही यहोवा की सेवा करने में समर्थ हो पाता, परन्तु उसके पाप सबसे पहले सृजन किए गए मनुष्यों से बढ़कर हो गए होते। जितना ज़्यादा प्रेम यीशु ने मानवजाति को उसके पापों को क्षमा करते हुए और उन पर पर्याप्त दया और करूणामय-प्रेम लाते हुए किया, उतना ही ज़्यादा मानवजाति ने बचाए जाने, खोई हुई भेड़ कहलाने, की क्षमता प्राप्त की जिन्हें यीशु ने बड़ी कीमत देकर वापिस खरीदा था। शैतान इस काम में गड़बड़ी नहीं डाल सकता था, क्योंकि यीशु ने अपने अनुयायियों के साथ इस तरह से व्यवहार किया था जैसे एक करूणामयी माता अपने नवजात को अपने आलिंगन में लेकर करती है। वह उन पर क्रोधित नहीं हुआ या उनका तिरस्कार नहीं किया, बल्कि सांत्वना से भरा हुआ था; वह उनके बीच कभी भी अचानक बहुत क्रोधित नहीं हुआ; बल्कि उनके पापों के साथ धैर्य रखा और उनकी मूर्खता और अज्ञानता के प्रति आँखें मूँद ली, यह कह कर कि, “दूसरों को सत्तर गुना सात बार क्षमा करो।” इसलिए उसके हृदय ने दूसरों के हृदयों को रूपांतरित कर दिया। यह इसी तरह से था कि लोगों ने उसकी सहनशीलता के माध्यम से अपने पापों से क्षमा प्राप्त की।

"छुटकारे के युग में कार्य के पीछे की सच्ची कहानी" से

अनुग्रह के युग के कार्य में, यीशु परमेश्वर था जिसने मनुष्य को बचाया। उसका स्वरूप अनुग्रह, प्रेम, करुणा, सहनशीलता, धैर्य, विनम्रता, देखभाल और सहिष्णुता, और उसने जो इतना अधिक कार्य किया वह मनुष्य का छुटकारा था। और जहाँ तक उसका स्वभाव है, वह करुणा और प्रेम का था, और क्योंकि वह करुणामय और प्रेममय था, इसलिए उसे मनुष्य के लिए सलीब पर ठोंक दिया जाना था, ताकि यह दिखाया जाए कि परमेश्वर मनुष्य से उसी प्रकार प्रेम करता था जैसे वह स्वयं से करता था, इस हद तक कि उसने स्वयं को अपनी सम्पूर्णता में बलिदान कर दिया। शैतान ने कहा, ""चूँकि तुम मनुष्य से प्यार करते हो, इसलिए तुम्हें उसे अत्यंत चरम तक प्यार अवश्य करना चाहिए: मनुष्य को सलीब से, पाप से मुक्त करने के लिए, तुम्हें अवश्य सलीब पर ठोंका जाना चाहिए, और तुम सभी मानव जाति के बदले में स्वयं को अर्पित करोगे।"" शैतान ने निम्नलिखित शर्त बनायी: ""चूँकि तुम एक प्रेममय और करुणामय परमेश्वर हो, इसलिए तुम्हें मनुष्य को अत्यंत चरम तक प्यार अवश्य करना चाहिए: तुम्हें अवश्य स्वयं को सलीब पर अर्पित करना चाहिए।"" यीशु ने कहा, ""अगर यह मानवजाति के लिए है, तो मैं अपना सब कुछ अर्पित करने को तैयार हूँ।"" इसके बाद, वह स्वयं की खातिर बिना थोड़ी सी भी झिझक के सलीब पर चढ़ गया और समस्त मानव जाति को छुटकारा दिलाया।

"परमेश्वर के कार्य का दर्शन (3)" से

यीशु द्वारा छुटकारे के बिना, मानवजाति सदा सर्वदा पाप में रह रही होती, और पाप की सन्तान और दुष्टात्माओं का वंशज बन जाती। इसी तरह से चलते हुए, समस्त पृथ्वी शैतान का आवास स्थान, इसके निवास का स्थान बन गई होती। परन्तु छुटकारे के कार्य हेतु मानवजाति के प्रति दया व करूणामय-प्रेम दर्शाने की ज़रूरत थी; केवल इस तरीके से ही मानवजाति क्षमा प्राप्त कर सकती थी और अंत में पूर्ण किए जाने और पूरी तरह से ग्रहण किए जाने का अधिकार प्राप्त कर सकती थी। कार्य के इस चरण के बिना, छः-हज़ार-सालों की प्रबन्धन योजना आगे बढ़ने में समर्थ नहीं हो सकती थी। यदि यीशु को सलीब पर नहीं चढ़ाया गया होता, यदि उसने केवल लोगों को चंगा ही किया होता और उनकी दुष्टात्माओं को ही निकाला होता, तो लोगों को उनके पापों से पूर्णतः क्षमा नहीं किया जा सकता था। वे साढ़े तीन साल जो यीशु ने पृथ्वी पर कार्य करते हुए व्यतीत किए, उसने छुटकारे के अपने कार्य का केवल आधा ही पूर्ण किया था; तब, सलीब पर चढ़ाए जाने और पापमय देह की समानता बनने के द्वारा, एक बुराई को सौंपे जाने के द्वारा, उसने सलीब पर चढ़ाए जाने का कार्य पूर्ण किया और मानवजाति की नियति को वश में कर लिया। उसने केवल शैतान के हाथों में सौंप दिए जाने के बाद ही मानवजाति को छुटकारा दिया। साढ़े तैंतीस सालों तक उसने, उपहास किए जाते हुए, कलंक लगाए जाते हुए, और उसे परित्यक्त किए जाते हुए, पृथ्वी पर कष्ट सहा, इस स्थिति तक कि उसके पास सिर रखने की भी जगह नहीं थी, आराम की कोई जगह नहीं थी; तब उसे सलीब पर चढ़ा दिया गया, उसका सम्पूर्ण अस्तित्व—निष्कलंक और निर्दोष शरीर—सलीब पर चढ़ा दिया गया, और हर तरह के कष्ट से गुज़रा। जो सत्ता में थे उन्होंने उसका मज़ाक उड़ाया और उसे चाबुक मारे, और यहाँ तक कि सैनिकों ने उसके मुँह पर थूका; मगर वह, मृत्यु के क्षण तक बिना किसी शर्त के समर्पण करते हुए, शांत रहा और अंत तक सहता रहा, इसके पश्चात उसने पूरी मानवजाति को छुटकारा दिलाया। केवल तभी उसे आराम करने की अनुमति दी गई थी।

"छुटकारे के युग में कार्य के पीछे की सच्ची कहानी" से

सम्बंधित मीडिया