सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

व्यवस्था का युग: परमेश्वर के कार्य का लक्ष्य और महत्व

135

परमेश्वर के अति-उत्कृष्ट वचन:

इस्राएल में यहोवा के कार्य का महत्व, उद्देश्य, और चरण, पूरी पृथ्वी पर उसके कार्य का सूत्रपात करने के लिए थे, जो, इस्राएल को इसका केन्द्र लेते हुए, धीरे-धीरे अन्य जाति-राष्ट्रों में फैलते हैं। यही वह सिद्धांत है जिसके अनुसार वह तमाम विश्व में कार्य करता है—एक प्रतिमान स्थापना करना, और तब तक उसे फैलाना जब तक कि विश्व के सभी लोग उसके सुसमाचार को ग्रहण न कर लें। प्रथम इस्राएली नूह के वंशज थे। इन लोगों को केवल यहोवा की श्वास प्रदान की गई थी, और वे जीवन की मूल आवश्यकताओं को पर्याप्त रूप से समझते थे, किन्तु वे नहीं जानते थे कि यहोवा किस प्रकार का परमेश्वर है, या मनुष्य के लिए उसकी इच्छा को नहीं जानते थे, और यह तो बिलकुल भी नहीं जानते थे कि समस्त सृष्टि के प्रभु का सम्मान कैसे करें। जहाँ तक इस बात का संबंध है कि क्या पालन करने के लिए नियम और व्यवस्थाएँ थी, और कि क्या ऐसा कार्य था जो सृजित किए गए प्राणी को सृष्टा के लिए करना चाहिए : आदम के वंशज इन बातो के बारे में कुछ नहीं जानते थे। वे बस इतना ही जानते थे कि पति को अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिए पसीना बहाना और परिश्रम करना चाहिए, और यह कि पत्नी को अपने पति के प्रति समर्पण करना चाहिए और उस मानव प्रजाति को बनाये रखना चाहिए जिसे यहोवा ने सृजित किया था। दूसरे शब्दों में, ये लोग, जिनके पास केवल यहोवा की श्वास और उसका जीवन था, इस बारे में कुछ नहीं जानते थे कि परमेश्वर की व्यवस्थाओं का पालन कैसे करें या समस्त सृष्टि के प्रभु को कैसे संतुष्ट करें। वे बहुत ही कम समझते थे। इसलिए भले ही उनके हृदय में कुछ भी कुटिलता या छल नहीं था और उनके बीच कभी-कभार ईर्ष्या और कलह उत्पन्न हो जाता था, तथापि उन्हें समस्त सृष्टि के प्रभु, यहोवा के बारे में कोई ज्ञान या समझ नहीं थी। मनुष्य के ये पूर्वज केवल यहोवा की चीज़ों को खाना और यहोवा की चीज़ों का आनन्द लेना जानते थे, किन्तु वे यहोवा का आदर करना नहीं जानते थे; वे नहीं जानते थे कि यहोवा ही वह एक है जिसकी उन्हें घुटने टेककर आराधना करनी चाहिए। इसलिए वे उसका सृजन कैसे कहे जा सकते थे? यदि ऐसा हुआ होता, तो इन वचनों का क्या हुआ होता, “यहोवा समस्त सृष्टि का प्रभु है” और “उसने मनुष्य को सृजित किया ताकि मनुष्य उसे अभिव्यक्त कर सके, उसकी महिमा कर सके और उसका प्रतिनिधित्व कर सके”—क्या ये व्यर्थ में नहीं बोले गए होते? जिन लोगों में यहोवा के लिए आदर नहीं है वे उसकी महिमा के गवाह कैसे बन सकते थे? वे कैसे उसकी महिमा की अभिव्यक्तियाँ बन सकते थे? क्या यहोवा के ये वचन कि “मैंने मनुष्य को अपनी छवि में बनाया” तब दुष्टात्मा—शैतान के हाथों में हथियार नहीं बन जाते? क्या तब ये वचन यहोवा द्वारा मनुष्य के सृजन के लिए अपमान का एक चिह्न नहीं बन जाते? कार्य के उस चरण को पूरा करने के लिए, मनुष्य को बनाने के बाद यहोवा ने आदम के समय से नूह के समय तक उन्हें निर्देश या मार्गदर्शन नहीं दिया। बल्कि, जब जल प्रलय ने दुनिया को नष्ट कर दिया उसके बाद ही ऐसा हुआ कि उसने औपचारिक तौर पर उन इस्राएलियों का मार्गदर्शन करना आरम्भ किया जो नूह के और आदम के भी वंशज थे। इस्राएल में उसके कार्य और कथनों ने इस्राएल के सभी लोगों को मार्गदर्शन दिया जब वे इस्राएल के तमाम देश में अपना जीवन जीते थे, और इस तरह मानवजाति को दिखाया कि यहोवा न केवल मनुष्य में अपना श्वास फूँकने में समर्थ है ताकि उसके पास परमेश्वर का जीवन हो सके, और मिट्टी में उठ कर एक सृजित किए गए मानव प्राणी बन सके, बल्कि मानवजाति पर शासन करने के लिए मानवजाति को भस्म कर सकता था, और मानवजाति को शाप दे सकता था और अपने राजदण्ड का उपयोग कर सकता था। तब भी, क्या उन्होंने देखा था कि यहोवा पृथ्वी पर मनुष्य के जीवन को मार्गदर्शन दे सकता था, और मानवजाति के बीच दिन के घंटों और रात के घंटों के अनुसार बात कर सकता था और कार्य कर सकता था। उसने कार्य सिर्फ इसलिए किया था ताकि उसके जीवधारी जान सकें कि मनुष्य धूल से आया जिसे परमेश्वर द्वारा उठाया गया, और इसके अलावा यह कि मनुष्य उसके द्वारा बनाया गया था। न केवल इतना, बल्कि उसने इस्राएल में जो कार्य आरम्भ किया था वह इस आशय से था कि दूसरे लोग और राष्ट्र (जो वास्तव में इस्राएल से पृथक नहीं थे, बल्कि इस्राएलियों से अलग हो गए थे, मगर फिर भी वे आदम और हव्वा के वंशज ही थे) इस्राएल से यहोवा के सुसमाचार को प्राप्त कर सकें, ताकि विश्व में सभी सृजित प्राणी यहोवा का आदर करने और उसे महान होना ठहराने में समर्थ हो सकें। यदि यहोवा ने अपना कार्य इस्राएल में आरम्भ नहीं किया होता, बल्कि उसके बजाए, मनुष्यों को बनाने के बाद, उन्हें पृथ्वी पर निश्चिन्त जीवन जीने दिया होता, तो उस स्थिति में, मनुष्य की शारीरिक प्रकृति के कारण (प्रकृति का अर्थ है कि मनुष्य उन चीज़ों को कभी नहीं जान सकता है जिन्हें वह देख नहीं सकता है, जिसका अर्थ है, कि वह नहीं जानेगा कि यहोवा ने मानवजाति को बनाया है, और इस बात को तो बिल्कुल नहीं जानेगा कि उसने ऐसा क्यों किया है), वह कभी नहीं जानेगा कि यह यहोवा था जिसने मानवजाति को बनाया है अथवा कि वह समस्त सृष्टि का प्रभु है। यदि यहोवा ने अपने स्वयं के आनन्द की वस्तु होने के लिए मनुष्य का सृजन किया होता और उसे पृथ्वी पर रखा होता, और फिर एक अवधि तक मनुष्यों को मार्गदर्शन देने के लिए उनके बीच रहने की अपेक्षा ऐसे ही अपने हाथों की धूल झाड़ कर चला गया होता, तब उस स्थिति में सारी मानवता वापस शून्यता की ओर लौट गयी होती; यहाँ तक कि स्वर्ग और पृथ्वी और उसकी बनाई हुई असंख्य चीज़ें, और समस्त मानवजाति, शून्यता की ओर लौट गयी होती और इसके अलावा शैतान द्वारा कुचल दी गई होती। इस तरह से यहोवा की यह इच्छा कि “पृथ्वी पर, अर्थात्, उसके सृजन के बीच में, उसके पास पृथ्वी पर खड़े होने के लिए एक स्थान, एक पवित्र स्थान होना चाहिए” टूटकर बिखर गई होती। और इसलिए, मानवजाति को बनाने के बाद, वह उनके जीवन में मार्गदर्शन करने के लिए उनके बीच रहने, और उनके बीच में से उनके साथ बात करने में समर्थ था, सब कुछ अपनी इच्छा को साकार करने, और अपनी योजना को प्राप्त करने के लिए था। जो कार्य उसने इस्राएल में किया वह केवल उस योजना को क्रियान्वित करने के अभिप्राय से था जिसे उसने सभी चीज़ों की रचना करने से पहले निर्धारित किया था, और इसलिए सबसे पहले इस्राएलियों के मध्य उसका कार्य करना और उसका सभी चीज़ों का सृजन करना एक दूसरे से असंगत नहीं थे, बल्कि दोनों उसके प्रबन्धन, उसके कार्य और उसकी महिमा के वास्ते थे, और उसके मानवजाति के सृजन के अर्थ को और अधिक गहरा करने के लिए थे। उसने नूह के बाद दो हज़ार वर्षों तक पृथ्वी पर मानवजाति के जीवन का मार्गदर्शन किया, जिस दौरान उसने मानवजाति को यह समझना सिखाया कि समस्त सृजन के प्रभु यहोवा का किस प्रकार आदर करें, अपने जीवन को कैसे चलाएँ और कैसे जीवन बिताएँ, और सबसे बढ़कर, किस प्रकार यहोवा के गवाह के रूप में कार्य करें, कैसे उसे आज्ञाकारिता प्रस्तुत करें, और उसका सम्मान करें, और यहाँ तक कि कैसे दाऊद और उसके याजकों के समान संगीत के साथ उसकी स्तुति करें।

"व्यवस्था के युग में कार्य" से

आरंभ में, पुराने विधान के व्यवस्था के युग के दौरान मनुष्य का मार्गदर्शन करना एक बच्चे के जीवन का मार्गदर्शन करने जैसा था। आरंभिक मानवजाति यहोवा की नवजात थी, जो इस्राएली थी। उनकी समझ में नहीं आया कि कैसे परमेश्वर का सम्मान करें या पृथ्वी पर रहें। जिसका अर्थ है, कि यहोवा ने मानवजाति को बनाया, अर्थात् उसने आदम और हव्वा को बनाया, किन्तु उसने उन्हें समझने के लिए आंतरिक शक्तियाँ नहीं दी कि कैसे यहोवा का सम्मान करें या पृथ्वी पर यहोवा की व्यवस्था का अनुसरण करें। यहोवा के प्रत्यक्ष मार्गदर्शन के बिना, कोई भी इसे सीधे नहीं जान सकता था, क्योंकि आरंभ में मनुष्य ऐसी आंतरिक शक्तियों से सम्पन्न नहीं था। मनुष्य केवल यह जानता था कि यहोवा ही परमेश्वर है, और उसे पता नहीं था कि उसका सम्मान करने के लिए क्या करना है, किस मन से उसका सम्मान करना है, और उसके आदर में क्या चढ़ाना है। मनुष्य केवल यह जानता था कि उस चीज का आनंद कैसे लिया जाए जिसका यहोवा द्वारा निर्माण की गई सभी चीजों के बीच आनंद उठाया जा सकता है। मनुष्य को कोई आभास नहीं था कि धरती पर किस प्रकार का जीवन परमेश्वर के एक प्राणी के अनुकूल होता है। निर्देशों के बिना, व्यक्तिगत रूप से मार्गदर्शन करने वाले किसी के बिना, इस तरह की मानवजाति कभी एक उचित जीवन नहीं जी सकती थी,और केवल शैतान द्वारा ही चुपके से बंदी बनायी जा सकती थी। ... और इसलिए, मानव जाति के सृजन के बाद, यहोवा का कार्य अभी ख़त्म होने से बहुत दूर था। उसे अपने सामने मानवजाति का पूरी तरह से मार्गदर्शन करना था ताकि मानवजाति धरती पर एक साथ रहने और उसका सम्मान करने में सक्षम हो जाए, और ताकि वे उसके मार्गदर्शन द्वारा धरती पर एक उचित मानव जीवन के सही रास्ते पर प्रवेश करने में सक्षम जाए। केवल तभी वह कार्य पूर्णतः सम्पन्न हुआ था जिसे मुख्यतः यहोवा के नाम के अधीन आयोजित किया गया था; अर्थात्, केवल तभी दुनिया का सृजन करने का यहोवा का कार्य पूरी तरह से सम्पन्न हुआ था। और इसलिए, चूँकि उसने मानवजाति का सृजन किया है, उसे पृथ्वी पर हजारों वर्षों तक मानवजाति के जीवन का मार्गदर्शन करना पड़ा था, ताकि मानव जाति उसके आदेशों और व्यवस्थाओं का पालन करने, और पृथ्वी पर एक उचित मानव जीवन की सभी गतिविधियों में हिस्सा ले पाने में सक्षम हो जाए। केवल तभी यहोवा का कार्य पूर्णतः सम्पन्न हुआ था।

"परमेश्वर के कार्य का दर्शन (3)" से

सम्बंधित मीडिया