सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

व्यवस्था का युग: परमेश्वर के कार्य की सामग्री और परिणाम

26

परमेश्वर के अति-उत्कृष्ट वचन:

आरंभ में मानवजाति के सृजन के बाद, ये इस्राएली ही थे जिन्होंने कार्य के आधार के रूप में काम किया, और सम्पूर्ण इस्राएल पृथ्वी पर यहोवा के कार्य का आधार था। यहोवा का कार्य मनुष्य का सीधे नेतृत्व करना और व्यवस्थाओं की स्थापना करके मनुष्य की चरवाही करना था ताकि मनुष्य एक सामान्य जीवन जी सके और पृथ्वी पर सामान्य रूप से यहोवा की आराधना कर सके। व्यवस्था के युग में परमेश्वर एक ही था जिसे मनुष्य के द्वारा न तो देखा जा सकता था और न ही छुआ जा सकता था। वह केवल शैतान द्वारा पहले भ्रष्ट किए गए मनुष्य की अगुवाई करता था, और वह वहाँ उन मनुष्य को निर्देश देने और उनकी चरवाही करने के लिए था, इसलिए जो वचन उसने कहे वे केवल विधान, अध्यादेश और मनुष्य के रूप में जीवन जीने का सामान्य ज्ञान थे, और उस सत्य के बिल्कुल नहीं थे जो मनुष्य को जीवन प्रदान करता है। उसकी अगुवाई में इस्राएली वे नहीं थे जिन्हें शैतान के द्वारा गहराई तक भ्रष्ट किया गया था। उसका व्यवस्था का कार्य उद्धार के कार्य में केवल सबसे पहला चरण, उद्धार के कार्य का एकदम आरम्भ था, और इसका व्यावहारिक रूप से मनुष्य के जीवन स्वभाव में परिवर्तनों से कुछ लेना-देना नहीं था।

"देहधारी परमेश्वर की सेवकाई और मनुष्य के कर्तव्य के बीच अंतर" से

जब परमेश्वर ने अपनी प्रबन्धकीय योजना के आधिकारिक कार्य की शुरुआत की थी, तब उसने अनेक रीति विधियों को ठहराया था जिनका पालन मनुष्य के द्वारा किया जाना था। ये रीति विधियां मनुष्य को अनुमति देने के लिए थे ताकि पृथ्वी पर मनुष्य के साधारण जीवन की अगुवाई करें, मनुष्य का साधारण जीवन जो परमेश्वर एवं उसके मार्गदर्शन से अलग नहीं हो सकता है। परमेश्वर ने सबसे पहले मनुष्य को बताया था कि वेदियों को किस प्रकार बनाना है, और वेदियों को किस प्रकार स्थापित करना है। उसके बाद, उसने मनुष्य को बताया कि कैसे बलिदान चढ़ाना था, और उसने यह ठहराया था कि मनुष्य को किस प्रकार से जीवन जीना था—उसे जीवन में किस पर ध्यान देना था, उसे किसमें बने रहना था, उसे क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। परमेश्वर ने मनुष्य के लिए जो कुछ ठहराया था वह सभी के द्वारा स्वीकार किए जाने के योग्य था, और इन रिवाजों, रीति विधियों, और सिद्धान्तों के साथ उसने लोगों के व्यवहार को उन्नत किया, उनकी ज़िन्दगियों का मार्गदर्शन किया, परमेश्वर के नियमों और उनके शुरूआती कदमों की अगुवाई की, परमेश्वर की वेदी के सामने आने के लिए उनका मार्गदर्शन किया, और सभी चीज़ों के मध्य ऐसा जीवन पाने के लिए मार्गदर्शन किया जिसे परमेश्वर ने मनुष्य के लिए बनाया था जो व्यवस्थित क्रम, नियमितता, और संयम को धारण किए हुए था। परमेश्वर ने मनुष्य की सीमाओं को तय करने के लिए सबसे पहले इन साधारण रीति विधियों एवं सिद्धान्तों का उपयोग किया था, ताकि पृथ्वी पर मनुष्य के पास परमेश्वर की आराधना करने का एक साधारण जीवन हो, और उसके पास मनुष्य का साधारण जीवन हो; उसकी छः हज़ार वर्षों की प्रबंधकीय योजना की शुरुआत की विशिष्ट विषयवस्तु ऐसी ही है।

"परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" से

व्यवस्था के युग के दौरान, यहोवा ने मूसा के लिए अनेक आज्ञाएँ निर्धारित की कि वह उन्हें उन इस्राएलियों के लिए आगे बढ़ा दे जिन्होंने मिस्र से बाहर उसका अनुसरण किया था। ये आज्ञाएँ यहोवा द्वारा इस्राएलियों को दी गई थीं, और उनका मिस्र के लोगों से कोई संबंध नहीं था; वे इस्राएलियों को नियन्त्रण में रखने के अभिप्राय से थीं। परमेश्वर ने उनसे माँग करने के लिए इन आज्ञाओं का उपयोग किया। उन्होंने सब्त का पालन किया या नहीं, उन्होंने अपने माता पिता का आदर किया या नहीं, उन्होंने मूर्तियों की आराधना की या नहीं, इत्यादि: यही वे सिद्धांत थे जिनसे उनके पापी या धार्मिक होना आँकलन किया जाता था। उनमें से, कुछ ऐसे थे जो यहोवा की आग से त्रस्त थे, कुछ ऐसे थे जिन्हें पत्थऱ मार कर मार डाला गया था, और कुछ ऐसे थे जिन्होंने यहोवा का आशीष प्राप्त किया था, और इसका निर्धारण इस बात के अनुसार किया जाता था कि उन्होंने इन आज्ञाओं का पालन किया या नहीं। जो सब्त का पालन नहीं करते थे उन्हें पत्थर मार कर मार डाला जाएगा। जो याजक सब्त का पालन नहीं करते थे उन्हें यहोवा की आग से त्रस्त किया जाएगा। जो अपने माता पिता का आदर नहीं करते थे उन्हें भी पत्थर मार कर मार डाला जाएगा। यह सब कुछ यहोवा द्वारा अनुशंसा किया गया था। यहोवा ने अपनी आज्ञाओं और व्यवस्थाओं को स्थापित किया था ताकि, जब वह उनके जीवन में उनकी अगुवाई करे, तब लोग उसके वचन को सुनें और उसके वचन का पालन करें और उसके विरूद्ध विद्रोह न करें। उसने नई जन्मी हुई मानव प्रजाति को नियन्त्रण में रखने, अपने भविष्य के कार्य की नींव को बेहतर ढंग से डालने के लिए इन व्यवस्थाओं का उपयोग किया। और इसलिए, उस कार्य के आधार पर जो यहोवा ने किया, प्रथम युग को व्यवस्था का युग कहा गया था। यद्यपि यहोवा ने बहुत से कथन कहे और बहुत सा कार्य किया, किंतु उसने इन अज्ञानी लोगों को यह सिखाते हुए कि इंसान कैसे बनें, कैसे जीएँ, यहोवा के मार्ग को कैसे समझें, लोगों का केवल सकारात्मक ढंग से मार्गदर्शन किया। ज़्यादातर, उसने जो कार्य किया वह लोगों से उसके मार्ग का पालन करवाना और उसकी व्यवस्थाओं का अनुसरण करवाना था। कार्य उन लोगों पर किया गया था जो कम गहराई तक भ्रष्ट थे; यह उनके स्वभाव का रूपान्तरण करने या जीवन में प्रगति तक विस्तारित नहीं था। वह लोगों को सीमित और नियन्त्रित करने के लिए केवल व्यवस्था का उपयोग करने तक चिंतित था। उस समय इस्राएलियों के लिए, यहोवा मात्र मन्दिर का एक परमेश्वर, स्वर्ग का एक परमेश्वर था। वह बादल का एक खम्भा, आग का एक खम्भा था। वह सब जो यहोवा उनसे करने की अपेक्षा करता था वह था उन बातों का पालन करना जिन्हें आज लोग उसकी व्यवस्थाओं और आज्ञाओं—कोई इन्हें नियम भी कह सकता है—के रूप में जानते हैं क्योंकि जो यहोवा ने किया वह उन्हें रूपान्तरित करने के अभिप्राय से नहीं था, बल्कि उन्हें बहुत सी वस्तुएँ देना था जो मनुष्य के पास होनी चाहिए, उन्हें स्वयं अपने मुँह से निर्देश देना था, क्योंकि सृजित किए जाने के बाद, मनुष्य के पास उस बारे में कुछ नहीं था जो उसके पास होना चाहिए। और इसलिए, जिन लोगों की यहोवा ने अगुवाई की थी उन्हें उनके पूर्वजों, आदम और हव्वा से भी श्रेष्ठ बनाते हुए, उसने लोगों को वे वस्तुएँ दी जो पृथ्वी पर उनके जीवन के लिए उनके पास होनी चाहिए, क्योंकि जो कुछ यहोवा ने उन्हें दिया था वह उस से बढ़कर था जो उसने आदम और हव्वा को आरंभ में दिया था। इसके बावजूद, यहोवा ने इस्राएल में जो कार्य किया वह केवल मानवजाति का मार्गदर्शन करने और मानवजाति से उनके रचयिता की पहचान करवाने के लिए था। उसने उन्हें जीता नहीं या उन्हें रूपान्तरित नहीं किया, बल्कि मात्र उनका मार्गदर्शन किया। व्यवस्था के युग में यहोवा के कार्य का यही सारांश है। इस्राएल की संपूर्ण धरती पर यह उसके कार्य की पृष्ठभूमि, सच्ची कहानी, और सार है, और छः हज़ार वर्षों के उसके कार्य—मानवजाति को यहोवा के हाथ के नियन्त्रण के अधीन रखने—का आरंभ है। इसमें से उसकी छः-हज़ार-वर्षों की प्रबन्धन योजना में और अधिक कार्य पैदा हुआ था।

"व्यवस्था के युग में कार्य" से

सम्बंधित मीडिया