सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

सूचीपत्र

आपने यह प्रमाणित किया है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर लौटकर आए प्रभु यीशु हैं और उन्होंने बहुत से वचन व्यक्त किये हैं। परन्तु दक्षिण कोरिया में कुछ लोग ऐसे हैं जो लौटकर आए प्रभु यीशु की नकल करते हैं। उन्होंने कुछ वचन भी कहे हैं और कुछ किताबें भी लिखी हैं। कुछ को अनुयायी भी मिल गए हैं। मैं सुनना चाहता हूँ कि आपका इस बारे में क्या विचार है कि इन झूठे मसीहों के वचनों में भेद कैसे किया जाए।

उत्तर: प्रभु की वापसी की अगवानी कर पाने के लिये ये ज़रूरी है कि सच्चे मसीह और झूठे मसीहों में अंतर करना आए। जो लोग सच्चे मसीह और झूठे मसीहों में अंतर कर सकते हैं केवल वही लोग परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य को स्वीकार कर सकते हैं और उनके सिंहासन के सामने आरोहित किये जा सकते हैं। जो लोग सच्चे मसीह और झूठे मसीहों में भेद नहीं कर सकते, वे मूर्ख कुँवारियाँ हैं और आखिरकार परमेश्वर उन्हें त्याग देंगे और हटा देंगे। झूठे मसीहों को पहचानने के लिये उनके सार की आसलियत का पता लगाना ज़रूरी है। झूठे मसीह दुष्ट आत्माओं के कब्ज़े में होते हैं, इसलिए उनका सार बुरी आत्माएँ है। झूठे मसीहों में सत्य की कोई वास्तविकता नहीं होती। उनके सारी वचन झूठ, बकवास, भ्रामक होते हैं जो काले और सफेद को उलट-पलट देते हैं। वे जानते हैं कि सभी लोग बाइबल के ज्ञान की आराधना करते हैं और बाइबल के रहस्यों को समझना चाहते हैं, इसलिए वे बाइबल की उलटी व्याख्या करने के लिये इस मनोविज्ञान का लाभ उठाते हैं, और लोगों को धोखा देने के लिए तरह-तरह की अजीबोगरीब बातों और बेतुकी बहस का इस्तेमाल करने के लिए बाइबिल को गलत तरीके से पेश करते हैं। उनकी भ्रामक बातें बहुत अजीब और नई लगती हैं, मानो बाइबल की उनकी व्याख्या में बहुत गहरा ज्ञान और रहस्य हो। क्या इससे सिद्ध हो सकता है कि उनकी बातें सत्य हैं? तो फिर सत्य क्या है? सत्य वो है परमेश्वर के पास क्या है और जो वे हैं। ये सभी सकारात्मक चीजों की वास्तविकता है और परमेश्वर के स्वभाव को दर्शाती है। सत्य के सहारे लोग परमेश्वर को जान पाते हैं और सत्य उनका जीवन हो सकता है। ये लोगों को बचा सकता है, उन्हें शुद्ध, परिवर्तित और पूर्ण कर सकता है। झूठे मसीह बाइबल की व्याख्या अजीबो-गरीब बातों और बेतुके तर्कों से करते हैं-वो सच कैसे हो सकता है? क्या ये लोगों को पूर्ण और परिवर्तित कर सकता है? क्या इससे लोग परमेश्वर को जान सकते हैं, उनके हुक्म का पालन कर सकते हैं? क्या इससे लोग शैतान को पहचानकर उससे घृणा कर सकते हैं? क्या इससे लोग शैतान के अंधकारमय प्रभाव से मुक्त हो सकते हैं? अगर उनकी बातें लोगों के जीवन को ऊपर उठाने के असली प्रभाव को हासिल नहीं कर सकतीं, तो फिर वे भ्रामक, पाखंड और झूठ ही मानी जाती हैं। परमेश्वर का कार्य व्यवहारिक है। अंत के दिनों के देहधारी सर्वशक्तिमान परमेश्वर मानवजाति को बचाने के लिए सभी सत्य व्यक्त करते हैं। इन सत्यों से लोग परमेश्वर को जान सकते हैं और उद्धार पाने के लिये शैतान के प्रभाव से मुक्त हो सकते हैं, ऐसे लोग बन सकते हैं जो परमेश्वर की आज्ञा मानें और उनकी आराधना करें, और लोग बन सकते हैं जो असल इंसान की तरह रहकर एक सार्थक जीवन जियें। ये परमेश्वर का कार्य है। अगर लोग सच्चे मसीह में, देहधारी परमेश्वर में विश्वास करें और उनका अनुसरण करें, तो परमेश्वर में 8 या 10 साल आस्था रखने के बाद, वे सहज तौर पर बहुत से सत्य समझने लगेंगे। परमेश्वर में धीरे-धीरे उनका विश्वास, प्रेम और आज्ञाकारिता बढ़ती रहनी चाहिए, और उनके जीवन-स्वभाव में भी कुछ परिवर्तन आना चाहिए। यही प्रभाव सिद्ध कर सकते हैं कि इंसान का जिनमें विश्वास है वे मसीह और सच्चे परमेश्वर हैं। ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने आठ-दस साल तक झूठे मसीहों पर विश्वास किया, लेकिन उन्हें कोई सत्य हासिल नहीं हुआ, उन्हें सच्चे परमेश्वर का कोई असली ज्ञान नहीं है, और परमेश्वर के लिये न कोई आस्था है, न प्रेम है और न ही कोई आज्ञाकारिता है। क्या ऐसे लोगों के साथ धोखा और फरेब नहीं हुआ है?

झूठे मसीहों और हर तरह की दुष्ट आत्माओं के पास कोई सत्य नहीं होता और न ही वे परमेश्वर का कोई कार्य कर सकती हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन परमेश्वर के स्वभाव को, जो उनके पास है और जो वे हैं, उसे व्यक्त करते हैं। कोई झूठा मसीह या दुष्ट आत्मा उन वचनों की नकल नहीं कर सकती है। झूठे मसीह बातों को केवल अलग संदर्भ में ले जा सकते हैं और लोगों को धोखा देने के लिए बाइबल की गलत व्याख्या कर सकते हैं, या लोगों को आशीष देने और वादा करने के लिए प्रभु यीशु का छ्द्म नाम धारण कर सकते हैं, लेकिन लोगों के जीवन प्रवेश के लिए इनका कोई लाभ नहीं होता है इनसे न तो कोई नया मार्ग निकलता और न ही किसी नए युग का सूत्रपात होता है। झूठे मसीहों और दुष्ट आत्माओं के काम टिकते नहीं हैं। कुछ समय के बाद, हंगामे और आत्म-घात में ये खुद ही बिखर जाते हैं। यह सच्चाई है। परमेश्वर से प्राप्त होने वाली चीज़ें ही फलती-फूलती और टिकाऊ होती हैं। मसीह के सच्चे कार्य से ही इंसान को बचाने और उसे पूर्ण करने के परिणाम हासिल किये जा सकते हैं, परमेश्वर की इच्छा पूरी की जा सकती है और युगों का आरंभ और अंत किया जा सकता है। यह पूर्ण है, क्योंकि परमेश्वर सर्वशक्तिमान हैं। परमेश्वर जो सत्य व्यक्त करते हैं वह हमेशा मौजूद रहेगा। स्वर्ग और पृथ्वी समाप्त हो जाएंगे, मगर परमेश्वर के वचन नहीं!

"वे कौन हैं जो वापस आए हैं" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

सम्बंधित मीडिया