सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

सूचीपत्र

पादरी और एल्डर अक्सर धर्मग्रंथों को पढ़ते हैं और लोगों को उपदेश देते हैं, भाई-बहनों के लिए प्रार्थना करते हैं, विश्वासियों से प्यार करते हैं और लोगों से बाइबल से जुड़े रहने का आग्रह करते हैं। अगर हम उन्हें पाखंडी फरीसी कहेंगे, तो ज़्यादातर विश्वासी ये बात समझ नहीं पायेंगे। तो कृपया हमें और विस्तार से बताइए।

उत्तर: उस ज़माने में, यहूदी फरीसी अक्सर धर्मग्रंथों की व्याख्या करते थे और आराधनालयों में विश्वासियों के लिए प्रार्थना करते थे। क्या वे भी लोगों को बहुत धर्मपरायण नहीं लगते थे? तो प्रभु यीशु ने यह कर कि पाखंडी फरीसियों को संताप मिले, फरीसियों को क्यों बेनकाब किया और उन्हें श्राप दिया? क्या प्रभु यीशु ने उनके साथ गलत किया? क्या लोग विश्वास नहीं करते कि प्रभु यीशु के वचन सत्य हैं? क्या लोग अभी भी शक करते हैं कि प्रभु यीशु ने गलत काम किया? पादरी और एल्डर पाखंडी फरीसी हैं या नहीं, वे मसीह-विरोधी हैं या नहीं, सिर्फ़ यह देखकर जाना जा सकता है कि वे बाहरी लोगों से कैसा व्यवहार करते हैं। ज़रूरी है यह देखना कि वे प्रभु और सत्य से कैसा बर्ताव करते हैं। बाहर से वे विश्वासियों से प्रेम करने वाले हो सकते हैं, लेकिन क्या उनके मन में प्रभु के लिए प्रेम है? अगर वे लोगों से प्रेम करते हैं, लेकिन प्रभु और सत्य से परेशान होकर नफ़रत से भरे हुए हैं, और अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर को परखते और उनकी निंदा करते हैं, तो क्या वे पाखंडी फरीसी नहीं हैं? क्या वे मसीह-विरोधी नहीं हैं? बाहर से देखने पर वे उपदेश देते और मेहनत करते हुए लगते हैं, लेकिन अगर ये ओहदा और इनाम पाने के लिए है, तो क्या इसका ये मतलब हो सकता है कि वे प्रभु की आज्ञा मानते हैं और उनके प्रति वफादार हैं? कोई इंसान पाखंडी है या नहीं, यह पहचानने के लिए, आपको उनके दिल में झांकना होगा और उनके इरादों को समझना होगा। किसी चीज़ की असलियत जानने के लिए यह सबसे ज़रूरी है। परमेश्वर लोगों के दिलों को परखते हैं। इसलिए कोई इंसान प्रभु से सच्चा प्रेम करता है या नहीं और उनकी आज्ञा मानता है या नहीं, यह जानने के लिए यह जानना ज़रूरी है कि क्या वे उनके वचन पर अमल करते हुए उनसे जुड़े रहते हैं या नहीं, उनके आदेशों पर चलते हैं या नहीं, यह देखना भी ज़रूरी है कि क्या वे प्रभु यीशु का गुणगान करते हैं और क्या उनकी गवाही देते हैं, और क्या वे परमेश्वर की इच्छा का पालन करते हैं। हम देखते हैं कि फरीसी अक्सर आराधनालयों में लोगों के सामने धर्मग्रंथों की व्याख्या किया करते थे, हर चीज़ के लिए बाइबल के नियमों से बंधे रहते थे और लोगों से प्रेमभाव भी रखते थे। लेकिन असलियत में, उनके हर काम में परमेश्वर के वचन का पालन नहीं होता था या परमेश्वर के आदेशों पर अमल नहीं होता था, बल्कि ऐसा सिर्फ लोगों को दिखाने के लिए किया जाता था। उसी तरह जैसे कि प्रभु यीशु ने उनको बेनकाब करते वक्त कहा था: "वे अपने सब काम लोगों को दिखाने के लिये करते हैं: वे अपने ताबीजों को चौड़ा करते और अपने वस्त्रों की कोरें बढ़ाते हैं" (मत्ती 23:5)। वे जान-बूझकर आराधनालयों और सड़कों पर लंबी कतारों में प्रार्थना के लिए खड़े हो जाते। उपवास के दौरान वे जान-बूझकर अपने चेहरों को उदास बना लेते, ताकि लोग जान सकें कि वे उपवास कर रहे हैं। वे जान-बूझकर सड़कों पर अच्छे काम करते ताकि लोगों की नज़र उन पर पड़े। उन्होंने प्राचीन परंपराओं और धार्मिक रिवाजों को भी जारी रखा जैसे कि "अच्छी तरह से हाथ धोये बिना खाना न खायें।" लोगों को धोखा देकर उनको अपना साथ देने और अपनी आराधना करवाने के लिए, फरीसी राई का पहाड़ बनाकर खुद को छिपाने की कोशिश करते, वे लोगों को धार्मिक आराधना, गायन और स्तुति में उलझाकर रखते या कुछ प्राचीन परंपराओं से चिपके रहने के लिए ही लोगों की अगुवाई करते, लेकिन उन्होंने परमेश्वर के वचन पर चलने, उनके आदेशों का पालन करने और सत्य की वास्तविकता को जानने में लोगों की अगुवाई नहीं की। यही नहीं, उन्होंने सत्य पर चलने, परमेश्वर की आज्ञा का पालन करने और उनकी आराधना करने में भी लोगों की अगुवाई नहीं की। उन लोगों ने सिर्फ विश्वासियों को भरमाने और धोखा देने के लिए कुछ बाहरी कारनामों का इस्तेमाल किया! जब प्रभु यीशु उपदेश देने और कार्य करने आये, धर्मपरायण होने का नाटक कर रहे इन फरीसियों ने अपने ओहदों और रोजी-रोटी को बचाने के लिए दरअसल "बाइबल की रक्षा करने" के बहाने परमेश्वर के नियमों और आदेशों का खुले आम त्याग कर दिया। उन लोगों ने अफवाहें गढ़ीं, झूठी गवाहियां दीं, और प्रभु यीशु का घोर विरोध कर उनको झूठे मामलों में फंसाया, विश्वासियों को प्रभु यीशु का अनुसरण करने से रोकने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया। अंत में, उन लोगों ने सत्ताधारियों के साथ सांठ-गांठ करके प्रभु यीशु को सूली पर चढ़ा दिया! इस तरह से, फरीसियों का पाखंडी और सत्य से नफ़रत करनेवाला स्वभाव पूरी तरह से उजागर हो गया। इससे उनके मसीह-विरोधी सार का पूरी तरह से खुलासा हो गया। इससे पता चलता है कि फरीसियों का सार पाखंडी, बईमान, धोखेबाज और दुर्भावनापूर्ण था। वे सभी झूठे अगुआ थे, जिन्होंने परमेश्वर का मार्ग छोड़ दिया, लोगों को धोखा दिया और उन्हें पिंजड़ों में बंद कर दिया! उन्होंने विश्वासियों को धोखा देकर अपने चंगुल में फंसाया, धार्मिक दुनिया को काबू में करके परमेश्वर का विरोध करने के लिए उकसाया, उन्होंने देहधारी मसीह को बुरी तरह से नकारते हुए उनकी निंदा की और उनसे नफ़रत किया। यानी वे ऐसे मसीह-विरोधी थे, जो अपना खुद का स्वतंत्र राज्य बनाना चाहते थे!

अब हम फरीसियों के पाखंड के तरह-तरह के रूप देख सकते हैं, जब हम उनकी तुलना आजकल के धार्मिक पादरियों और एल्डर्स से करेंगे, तो क्या हमें पता नहीं चलेगा कि वे बिल्कुल फरीसियों जैसे ही हैं, और ये सब वैसे लोग हैं, जो प्रभु के वचन पर नहीं चलते और प्रभु के आदेशों का पालन नहीं करते, इतना ही नहीं, वे ऐसे लोग भी नहीं हैं, जो प्रभु का गुणगान करें और प्रभु की गवाही दें? वे सिर्फ ऐसे लोग हैं, जो आँखें बंद करके बाइबल में विश्वास करते हैं, बाइबल की आराधना करते हैं और बाइबल का बखान करते हैं। वे तरह-तरह के धार्मिक रीति-रिवाजों से चिपके रहते हैं, जैसे कि नियमित सेवाओं में भाग लेना, सुबह की रखवाली करना, रोटी के टुकड़े करना, पवित्र भोज ग्रहण करना, वगैरह-वगैरह। वे बस लोगों के विनम्र होने, सब्र रखने, धर्मपरायण बनने और स्नेही होने की बात पर ही ध्यान देते हैं, लेकिन वे परमेश्वर से दिल से प्रेम नहीं करते, इतना ही नहीं, वे परमेश्वर की आज्ञा का पालन भी नहीं करते और उनके दिल में परमेश्वर का भय बिल्कुल भी नहीं है। उनके कार्य और उपदेशों में सिर्फ बाइबल के ज्ञान और धर्माशास्त्र के सिद्धांत से चिपके रहने और उनकी व्याख्या करने पर ध्यान रहता है। लेकिन जब बात आती है प्रभु के वचन का पालन और अनुभव करने के तरीके की, प्रभु के आदेशों का पालन करने, प्रभु के वचन का प्रचार करने और उनकी गवाही देने के तरीके की, स्वर्गिक पिता की इच्छा का पालन करने, परमेश्वर से सही मायनों में प्रेम करने, उनकी आज्ञा का पालन करने और उनकी आराधना करने की, उन सारी बातों की, जो प्रभु यीशु मानवजाति से चाहते हैं, वे उनके बारे में खोज नहीं करते, जांच-पड़ताल नहीं करते और प्रभु के इरादों को जानने की कोशिश नहीं करते, इतना ही नहीं, वे उनका पालन करने या उन्हें अपनाने में लोगों की अगुवाई भी नहीं करते। घूम-घूमकर बाइबल के ज्ञान और धर्मशास्त्र के सिद्धांत पर उपदेश देने का उनका मकसद अपनी शेखी बघारना और खुद को बड़ा दिखाना होता है, उनकी कोशिश होती है कि लोग उनकी ओर खिंचे चले आएं और उनकी आराधना करें। इसलिए, जब सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंत के दिनों में सत्य व्यक्त करने और अपना न्याय कार्य करने आये, तो इन पादरियों और एल्डर्स ने, धार्मिक दुनिया में स्थाई सत्ता पाने, विश्वासियों को वश में करने और अपना स्वतंत्र राज्य बनाने की महत्वाकांक्षा में, प्रभु यीशु के वचन का उल्लंघन किया, उन पर खुले आम हमला किया। और उनका तिरस्कार करके, और लोगों के सच्चे मार्ग को खोजने और उसकी जाँच-पड़ताल करने से रोकने के लिए पुरजोर कोशिश करके, उन्हें सच्चा मार्ग खोजने-जाँचने से रोकने की पूरी कोशिश की। मिसाल के तौर पर, प्रभु यीशु ने लोगों को बुद्धिमान कुंवारियां बनना सिखाया: जब कोई किसी को चिल्लाता हुआ सुने "देखो, दूल्हा आ रहा है!" तो उन्हें बाहर जा कर उनका स्वागत करना चाहिए। लेकिन जब पादरियों और एल्डर्स ने प्रभु यीशु के दोबारा आने की खबर सुनी, तो उन्होंने ऐसा करने के बजाय कलीसिया पर ताला लगा दिया और विश्वासियों को सच्चे मार्ग की खोज और जाँच-पड़ताल करने से रोकने की भरसक कोशिश की! प्रभु यीशु ने कहा था, "एक दूसरे से अपने ही समान प्रेम रखना।" यही नहीं, उन्‍होंने विश्वासियों को उकसाया कि वे सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य की गवाही देनेवाले भाई-बहनों को बदनाम करें और मारे-पीटें। प्रभु यीशु ने मनुष्य से झूठ न बोलने और झूठी गवाही न देने को कहा था, लेकिन पादरियों और एल्डर्स ने सर्वशक्तिमान परमेश्वर को बदनाम करने के लिए हर तरह की झूठी कहानियां गढ़ीं, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य का विरोध करने, उसको बदनाम करने और उनकी कलीसिया को दाग़दार करने के लिए शैतान सीसीपी के साथ सांठ-गांठ भी की। इससे हमें पता चलता है कि धार्मिक पादरियों और एल्डर्स ने जो कहा और किया है, वह प्रभु के उपदेशों का पूरा उल्लंघन है। वे बिल्कुल पाखंडी फरीसियों जैसे ही हैं। वे सब ऐसे लोग हैं, जो आँखें बंद करके अगुवाई करते हैं, परमेश्वर का विरोध करते हैं, और लोगों को धोखा देते हैं। कृपया मुझे सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन का एक अंश पढ़ने दें। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "यदि तुम्हारी प्रेरणाएँ परमेश्वर के प्रति आज्ञाकारिता के वास्ते नहीं हैं, और तुम्हारे अन्य लक्ष्य हैं, तो जो कुछ भी तुम कहते और करते हो—परमेश्वर के सामने तुम्हारी प्रार्थनाएँ, और यहाँ तक कि तुम्हारे प्रत्येक कार्यकलाप—परमेश्वर के विरोध में होंगे। तुम मृदुभाषी एवं विनम्र-व्यवहार वाले हो सकते हो, तुम्हारा हर कार्यकलाप और अभिव्यक्ति सही दिखायी दे सकती है, तुम एक ऐसा व्यक्ति दिखाई दे सकते हो जो कि आज्ञाकारी है, किन्तु जब परमेश्वर के प्रति तुम्हारी प्रेरणाओं एवं परमेश्वर में विश्वास के बारे में तुम्हारे दृष्टिकोण की बात आती है, तो जो कुछ भी तुम करते हो वह परमेश्वर के विरोध में, तथा बुरा होता है। जो लोग भेड़ों के समान आज्ञाकारी प्रतीत होते हैं, परन्तु जिनके हृदय बुरे इरादों को आश्रय देते हैं, वे भेड़ की खाल में भेड़िए हैं, वे प्रत्यक्षत: परमेश्वर का अपमान करते हैं, और परमेश्वर उन में से एक को भी नहीं छोड़ेगा। पवित्र आत्मा उन में से प्रत्येक को प्रकट करेगा, ताकि सभी यह देख सकें कि उन में से प्रत्येक से जो पाखण्डी हैं पवित्र आत्मा के द्वारा निश्चित रूप से घृणा की जाएगी एवं उनका तिरस्कार किया जाएगा। चिंता मत करो: परमेश्वर बारी-बारी से उन में से प्रत्येक के साथ निपटेगा और उनका समाधान करेगा" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर में अपने विश्वास में तुम्हें परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करना चाहिए")। ये धार्मिक पादरी और एल्डर्स बाहर से विनम्र, धैर्यवान और स्नेही दिखाई देते हैं, लेकिन उनके दिल कपट, धोखेबाजी और द्वेष से भरे हुए हैं। "सच्चे मार्ग की रक्षा करें, झुंड को बचायें" के बहाने, वे सर्वशक्तिमान परमेश्वर का विरोध और निंदा करते हैं विश्वासियों को अपने वश में करना चाहते हैं ताकि वे धार्मिक दुनिया में स्थाई सत्ता हासिल कर खुद का स्वतंत्र राज्य बना पायें। ये पाखंडी फरीसी जो सत्य और परमेश्वर से नफ़रत करते हैं, वे सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य द्वारा उजागर किये गए परमेश्वर-विरोधी मसीह-विरोधी लोगों का समूह हैं। सच्चे मन से परमेश्वर में विश्वास करने वालों को इनके पाखंडी सार और शैतानी, मसीह-विरोधी स्वभाव को पहचानने का तरीका सीख लेना चाहिए। अब उन लोगों से धोखा न खायें, उलझन में न पड़ें और उनके वश में आकर पिंजड़ों में बंद न हो जाएं। आपको सच्चे मार्ग की खोज और जाँच-पड़ताल करनी चाहिए, आपको सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य को स्वीकार करना चाहिए, और परमेश्वर के सिंहासन के सामने वापस आना चाहिए!

"तोड़ डालो अफ़वाहों की ज़ंजीरें" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

सम्बंधित मीडिया