सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

एक थ्री-सेल्फ पादरी की धारणाओं का एक ईसाई द्वारा पुरज़ोर खंडन

15

पादरी फेंग (एक थ्री-सेल्फ पादरी): बहन जियांग, परमेश्‍वर में विश्वास करने के सही मार्ग को अपनाने का आपका निर्णय बहुत अच्छा है। यह प्रभु यीशु के वचनों के अनुरूप है। मैं बिना किसी एतराज़ के पूरी तरह से सहमत हूँ। लेकिन अभी-अभी, आपने गवाही दी कि प्रभु यीशु, यानी देहधारी सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर लौट आये हैं। यही बात मुझे समझ में नहीं आती है। आपको यह भी पता है कि कई सालों से कम्युनिस्ट पार्टी आप लोगों को पूरी तरह से दोषी ठहराने, दबाने और गिरफ्तार करने में जुटी है। धार्मिक समुदाय के ज़्यादातर पादरियों और एल्डर्स ने भी चमकती पूर्वी बिजली की निंदा की है। अगर सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर वास्तव में लौट कर आये प्रभु यीशु हैं, तो सीसीपी द्वारा निंदा और विरोध किया जाना निश्चित है। लेकिन धार्मिक समुदाय ने उनका प्रतिरोध क्यों किया और उनकी निंदा क्यों की? अगर वे वास्तव में लौट कर आये प्रभु हैं, तो उन्हें सबसे पहले पादरियों और एल्डर्स के सामने प्रकट होना चाहिए, ताकि इन पादरियों और एल्‍डर्स को सबसे पहले स्‍वर्गारोहित किया जा सके। लेकिन अब मामला ऐसा नहीं है। सीसीपी न केवल जबरदस्त तरीके से चमकती पूर्वी बिजली को दबाने और गिरफ्तार करने में जुटी है, बल्कि धार्मिक समुदाय के ज़्यादातर पादरी और एल्‍डर्स भी उसकी निंदा और विरोध कर रहे हैं। आख़िर समस्या क्या है? क्या आप इसके बारे में मुझे समझा सकती हैं?

जियांग शिनयी (एक ईसाई): पादरी फेंग, आप अंत के दिनों में परमेश्‍वर के प्रकटन और कार्य पर सवाल उठा रहे हैं क्योंकि धार्मिक समुदाय के ज़्यादातर पादरी और एल्‍डर्स सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर का विरोध तथा निंदा करते हैं। यह सामान्य बात है। याद कीजिये कि जब प्रभु यीशु कार्य करने के लिए प्रकट हुए थे, तो न केवल रोमन तानाशाही ने उनका विरोध कर उन्हें दोषी ठहराया था, बल्कि यहूदी धर्म ने भी पूरी उग्रता से प्रभु यीशु का विरोध और निंदा की थी। तो क्या इसका मतलब यह है कि प्रभु यीशु परमेश्‍वर का प्रकटन नहीं थे? क्या आपको यकीन है कि धार्मिक समुदाय के पादरियों और एल्डर्स द्वारा जिसकी भी निंदा की गयी है वह सही रास्ता नहीं है? आपकी सोच के अनुसार धार्मिक समुदाय के पादरियों और एल्डर्स द्वारा जिस किसी की भी निंदा की गयी है वह परमेश्‍वर का प्रकटन और कार्य नहीं है, तो मैं पूछ सकती हूँ कि क्या प्रभु यीशु परमेश्‍वर का प्रकटन नहीं थे? क्या प्रभु यीशु के वचन और कार्य परमेश्‍वर का प्रकटन और कार्य नहीं थे? चूंकि यहूदी धर्म के नेताओं ने प्रभु यीशु का बहुत अधिक विरोध और निंदा की थी, प्रभु यीशु में आपके विश्वास का आधार क्या है? पादरी फेंग, आप बाइबल के बारे में जानते हैं। क्या मैं पूछ सकती हूँ प्रभु यीशु ने फरीसियों को शाप क्यों दिया था? फरीसियों ने किन लोगों का प्रतिनिधित्व किया था? क्या फरीसियों ने धार्मिक नेताओं का प्रतिनिधित्व किया था? प्रकाशित वाक्‍य की पुस्‍तक में धार्मिक समुदाय के विनाश की भविष्यवाणी की गई थी। इसका मतलब क्या था? यह इस बात को दर्शाता है कि धार्मिक नेता परमेश्‍वर के विरोधी रहे हैं। वे सभी मसीह को नकारते हैं और उनका विरोध करते हैं और परमेश्‍वर के विरुद्ध कार्य करते हैं। क्या आप नहीं मानते कि यही सच है? क्यों धार्मिक समुदाय पवित्र आत्मा के कार्य से इतना उजड़ा हुआ और वंचित है? यह इस बात को दर्शाने के लिए काफ़ी है कि परमेश्‍वर धार्मिक समुदाय से घृणा करते हैं और उसे शाप देते हैं। परमेश्‍वर वास्तव में चाहते हैं कि उनके चुने हुए लोग धर्म से बाहर निकलें, बेबीलोन के शहर से निकलकर परमेश्‍वर की ओर आएं। यही परमेश्‍वर का इरादा है। अगर आप इस पर विश्वास नहीं करते तो, प्रकाशित वाक्‍य की भविष्यवाणी को देखें, समझें कि कैसे प्रभु यीशु ने फरीसियों को शाप दिया, तब आपको सब कुछ समझ आ जायेगा।

पादरी फेंग: यह सच है कि प्रभु यीशु ने फरीसियों को शाप दिया था। यह भी सच है कि प्रकाशित वाक्‍य में धार्मिक बेबीलोन के पतन की भविष्यवाणी की गयी थी। मुझे यह सब पता है। फिर भी, बहन जियांग आप गवाह हैं कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर, प्रभु यीशु हैं, जो अंत के दिनों में सत्‍य को व्यक्त कर न्याय का कार्य करने के लिए लौट कर आये हैं। क्या इसके लिए बाइबल से जुड़ा कोई आधार है? जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, यह जानते हैं कि प्रभु यीशु की वापसी का मतलब उनके पुनर्जीवित आध्‍यात्मिक शरीर का बादलों के साथ नीचे उतरना है ताकि सभी लोग उन्‍हें देख सकें। आज तक, हमने प्रभु यीशु को बादलों के साथ नीचे उतरते नहीं देखा है। इसलिए मुझे विश्वास है कि प्रभु अभी तक नहीं लौटे हैं। बहन ज़ियांग, मुझे समझ नहीं आया। आप इस बात की गवाही क्यों देती हैं कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर ही प्रभु यीशु हैं जो लौट आये हैं? आपको इस बात का इतना विश्वास कैसे है कि परमेश्‍वर अंत के दिनों में प्रकट होने और कार्य करने के लिए मनुष्य के पुत्र के रूप में देहधारण करेंगे? क्या आप मुझे बता सकती हैं?

जियांग शिनयी: पादरी फेंग, आप अक्सर दूसरों को बाइबल पढाते हैं, आपको मुझ से ज़्यादा बाइबल की समझ होनी चाहिए। लेकिन सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर में मेरा विश्वास अध्ययन और परीक्षण के आधार पर बना है। मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के कई वचनों को पढ़ा और पाया है कि उनके सभी वचन सत्य हैं, कि उन्होंने बाइबल के सभी रहस्यों को उजागर किया है। मुझे विश्वास है कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की अभिव्यक्ति परमेश्‍वर की वाणी है। सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की मेरी स्वीकृति प्रभु यीशु की इन भविष्यवाणियों पर आधारित है: "क्योंकि जैसे बिजली आकाश के एक छोर से कौंध कर आकाश के दूसरे छोर तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य का पुत्र भी अपने दिन में प्रगट होगा। परन्तु पहले अवश्य है कि वह बहुत दु:ख उठाए, और इस युग के लोग उसे तुच्छ ठहराएँ" (लूका 17:24-25)। "आधी रात को धूम मची: 'देखो, दूल्हा आ रहा है! उससे भेंट करने के लिये चलो'" (मत्ती 25:6)। "देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा और वह मेरे साथ" (प्रकाशितवाक्य 3:20)। अपनी भविष्यवाणियों में, प्रभु यीशु ने "मनुष्य का पुत्र प्रगट होगा" के बारे में और इस बारे में उल्लेख किया था "परन्तु पहले अवश्य है कि वह बहुत दु:ख उठाए, और इस युग के लोग उसे तुच्छ ठहराएँ।" यह साफ़ तौर पर दर्शाता है कि अंत के दिनों में, प्रभु मनुष्य के पुत्र के रूप में देहधारण कर लौटेंगे, और फिर भी मनुष्य से बात करेंगे। जब तक मनुष्य परमेश्‍वर की वाणी को सुनेगा, तब तक वह प्रभु का स्वागत कर चुका होगा। सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर का प्रकटन और कार्य प्रभु यीशु की भविष्यवाणियों को पूरा करता है। प्रभु के वचन बहुत साफ़ हैं कि वे अंत के दिनों में मनुष्य के पुत्र के रूप में लौटेंगे। क्योंकि उन्होंने मनुष्य के पुत्र की बात कही थी, तो यह सामान्य मानवता के साथ मनुष्य के रूप में जन्‍म लेने को दर्शाता है, जिसका मतलब है परमेश्‍वर का देहधारण करना। अगर यह पुनर्जीवित हुए प्रभु यीशु की आध्‍यात्मिक देह होती, तो उसे मनुष्य का पुत्र नहीं कहा जा सकता क्योंकि पुनर्जीवित हुए प्रभु यीशु की आध्‍यात्मिक देह, प्रकट और अदृश्‍य हो सकती है और वह दीवारों को भेद सकती है। इसे अंतरिक्ष और भूगोल की सीमाओं में बाँधा नहीं जा सकता। यह सामान्य मानवता वाली मानव देह नहीं है। पादरी फेंग, क्या जो मैं कह रही हूँ, वह सही है? यह इसलिए है क्योंकि प्रभु मनुष्य के पुत्र के रूप में फिर से देह रूप में लौट आये हैं, जिस तरह अतीत में प्रभु यीशु का प्रकटन एक साधारण, सामान्य व्यक्ति के अनुरूप है, जिनका लोगों ने विरोध किया, जिनकी निंदा की और जिन्हें अस्वीकार किया, क्योंकि उन्हें पता नहीं था कि वे परमेश्‍वर हैं। अगर प्रभु बादलों के साथ एक आध्‍यात्मिक देह में लौट रहे होते, तो यह निश्चित ही देखने लायक एक अद्भुत दृश्‍य होगा। सभी लोग इसे देख कर स्तब्ध रह जाते। फिर कैसे प्रभु "बहुत दु:ख उठाए, और इस युग के लोग उसे तुच्छ ठहराएँ।" क्या प्रभु यीशु की भविष्यवाणी गलत नहीं हो जाती? इसलिए अंत के दिनों में प्रभु का मनुष्य के पुत्र के रूप में देह रूप में लौटना निश्चित है। पादरी फेंग, आप इसे किस प्रकार देखेंगे?

पादरी फेंग: आपकी समझ उचित है और बाइबल के अनुरूप भी। परमेश्‍वर के प्रकटन और कार्य की तुलना सत्य को व्यक्त करने की क्षमता के साथ करने को मैं स्वीकार नहीं कर सकता हूँ। अगर किसी ने परमेश्वर के प्रकटन को जाना है, तो क्या वह सत्य को भी व्यक्त करने में सक्षम नहीं है? अगर पैगंबर परमेश्‍वर के वचनों को व्यक्त करने में सक्षम हैं, तो क्या यह उन्हें परमेश्‍वर का प्रकटन बना देता है? बहन ज़ियांग, आपको परमेश्‍वर के प्रकटन और कार्य को स्‍वीकार करते समय सचेत रहना होगा क्योंकि बाइबल में कहा गया है: "उस समय यदि कोई तुम से कहे, 'देखो, मसीह यहाँ है!' या 'वहाँ है!' तो विश्‍वास न करना। क्योंकि झूठे मसीह और झूठे भविष्यद्वक्‍ता उठ खड़े होंगे, और बड़े चिह्न, और अद्भुत काम दिखाएँगे कि यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा दें" (मत्ती 24:23-24)। प्रभु के वचन बहुत स्पष्ट हैं कि अंत के दिनों में, ऐसे झूठे मसीह और झूठे पैगंबर होंगे जो लोगों को धोखा देंगे। इसलिए हम आसानी से प्रभु की देह में वापसी की गवाही देने वाले किसी पर भी विश्वास नहीं कर सकते। क्या आपको ऐसा नहीं लगता है? क्या आप यकीन से कह सकते हैं कि आपको धोखा नहीं दिया गया है?

जियांग शिनयी: पादरी फेंग, आपके वचनों को सुनकर, लगता है आप ठगे जाने को लेकर चिंतित हैं, इसलिए आप अंत के दिनों के परमेश्‍वर के वचनों और कार्य को आसानी से स्‍वीकार नहीं कर रहे हैं। जब मैं सच्चे मार्ग का अध्ययन कर रही थी, तब कई लोगों ने मुझे भी सचेत रहने की सलाह दी थी। उन्होंने मुझे वह धर्मग्रंथ पढने के लिए दिया जिसका आपने अभी-अभी हवाला दिया था। लेकिन यह अंश हमें केवल सावधान रहने और ठगे जाने से बचने के बारे में बताता है। यह अंत के दिनों में प्रभु का मनुष्य के पुत्र के रूप में देह में वापसी का खंडन नहीं करता है। न ही यह इस बात को साबित करता है कि अंत के दिनों में मसीह कार्य करने के लिए प्रकट नहीं होंगे क्योंकि प्रभु यीशु ने स्पष्ट रूप से कहा था, "मैं शीघ्र आनेवाला हूँ!" अगर हम इस अंश की इस रूप में व्याख्या करें कि अंत के दिनों में मसीह कार्य के लिए प्रकट नहीं होंगे, और केवल झूठे मसीह और झूठे पादरी लोगो को धोखा देंगे, तो यह एक बहुत बड़ी गलती होगी। पादरी फेंग, आपको यह भी पता होना चाहिए कि अंत के दिनों में देह रूप में कार्य करने के लिए परमेश्‍वर के प्रकटन से पहले और बाद के वर्षों में हर देश में लोगों को धोखा देने के लिए झूठे मसीह और झूठे पादरी प्रकट हुए थे। इन परिस्थितियों में, हम यह कैसे तय कर सकते हैं कि यह परमेश्‍वर का प्रकटन और कार्य है? हम झूठे मसीहों में कैसे भेद कर सकते हैं? प्रभु यीशु के वचन बहुत स्पष्ट हैं: "मेरी भेड़ें मेरा शब्द सुनती हैं; मैं उन्हें जानता हूँ, और वे मेरे पीछे पीछे चलती हैं" (यूहन्ना 10:27)। "आधी रात को धूम मची: 'देखो, दूल्हा आ रहा है! उससे भेंट करने के लिये चलो'" (मत्ती 25:6)। "देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा और वह मेरे साथ" (प्रकाशितवाक्य 3:20)। "मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा" (यूहन्ना 16:12-13)। प्रभु के वचन के अनुसार, हम निश्चिंत हो सकते हैं कि अंत के दिनों में जब प्रभु लौटेंगे, वे वचन व्‍यक्‍त करेंगे। वे लोग जो परमेश्‍वर की वाणी को सुनेंगे, वे प्रभु का स्वागत करेंगे। इसलिए, परमेश्‍वर के प्रकटन और कार्य का पता लगाने में सबसे कठिन भाग परमेश्‍वर की वाणी को सुनना है। प्रकाशित वाक्‍य की पुस्‍तक में भविष्यवाणी की गई थी: "जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है" (प्रकाशितवाक्य 2:29)। परमेश्‍वर के प्रकटन और कार्य की खोज करते हुए, हमें कलीसियाओं से कहे गए पवित्र आत्मा के वचनों को देखना चाहिए। जब हमें वह कलीसिया मिल जाएगी जहाँ पवित्र आत्मा बोलता है, तब हम प्रभु के प्रकटन और कार्य को पा सकेंगे। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं: "चूँकि हम परमेश्वर के पदचिन्हों को खोज रहे हैं, हमें अवश्य ही परमेश्वर की इच्छा, परमेश्वर के वचन, परमेश्वर के कथन की खोज करनी चाहिए; क्योंकि जहां परमेश्वर के नए वचन हैं, वहाँ परमेश्वर की वाणी है, और जहां परमेश्वर के पदचिन्ह हैं, वहाँ परमेश्वर के कार्य हैं। जहां परमेश्वर की अभिव्यक्ति है, वहाँ परमेश्वर का प्रकट होना है, और जहां परमेश्वर का प्रकट होना है, वहाँ मार्ग, सत्य और जीवन का अस्तित्व है" (वचन देह में प्रकट होता है)। जब मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर द्वारा व्यक्त किये गए सभी वचनों को सत्य और परमेश्‍वर की वाणी पाया, तब जाकर मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर को स्‍वीकार किया। अगर वे परमेश्‍वर नहीं होते, तो कौन इतने सारे सत्‍य व्यक्त कर सकता था? यह इस बात को साबित करने के लिए पर्याप्त था कि यह मनुष्य की देह में परमेश्‍वर का प्रकटन था, क्योंकि भ्रष्ट मानव जाति में सत्‍य नहीं होता। यहाँ तक कि प्राचीन संत और परमेश्‍वर द्वारा बचाये गए लोग भी सत्‍य को व्यक्त करने में सक्षम नहीं थे। चाहे कितनी ही बाइबल पढ़ें, परमेश्‍वर में विश्वास करने वालों के लिए सत्‍य को व्यक्त करना असंभव है। दुष्‍टात्‍मा शैतान चमत्कार और अचरज भरे कार्य कर सकता है, पर वह सत्‍य व्यक्त नहीं कर सकता। हालांकि एक पैगंबर परमेश्‍वर के वचन बोल सकता है, मगर वह केवल परमेश्‍वर के वचनों को लोगों तक पहुंचाता है। उनके द्वारा बताए गए वचन बहुत सीमित होते हैं। परमेश्‍वर के निर्देशों के बिना, उनका कार्य समाप्त हो जायेगा। उनके पास स्वयं का कोई सत्‍य नहीं है। और न ही वे परमेश्‍वर का कार्य कर सकते हैं। वे मनुष्य के रूप में केवल अपना कर्तव्य निभा सकते हैं। इसलिए, प्रभु के प्रकटन और कार्य की खोज करने में यह निश्चित होना चाहिए कि केवल मसीह ही सत्‍य, मार्ग और जीवन हैं। केवल जो सत्‍य को व्यक्त कर सकता है वही कार्यशील परमेश्‍वर का प्रकटन है। सत्‍य को व्यक्त कर पाने की क्षमता के बिना, चाहे वह जितने भी चमत्कार और अचंभे करके दिखाए, वह परमेश्‍वर का प्रकटन नहीं है। मैंने बहुत समय तक इन सारी बातों पर चिंतन किया। अंत में मैंने यह निष्कर्ष निकाला है कि क्योंकि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर ही इतने सारे सत्‍यों को व्यक्त कर सकते हैं, वे निश्चित ही परमेश्‍वर का प्रकटन हैं। पादरी फेंग, जिस प्रकार मैंने इसे स्‍वीकार किया है, क्या इसमें कुछ गलत है?

पादरी फेंग: बहन जियांग, जो भी आपने कहा उसे सुनने के बाद, मुझे लगता है कि आप वास्तव में एक विचारशील और दृढ़-निश्चयी महिला हैं। अब मुझे विश्वास है कि आपको सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर में विश्वास करने के लिए धोखे से मूर्ख नहीं बनाया गया है। आपको प्रभु में विश्वास करते हुए बहुत समय नहीं हुआ लेकिन आप बाइबल को बहुत अच्छे से समझती हैं। इस बात के लिए मैं आपकी प्रशंसा करता हूँ! ऐसा लगता है कि सत्‍य को वास्तव में सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर द्वारा व्यक्त किये गए वचनों में पाया जा सकता है। जब भी मुझे समय मिलेगा, मैं वचन देह में प्रकट होता है को अवश्‍य पढू़ंगा और सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के अंत के दिनों के कार्य का ध्‍यानपूर्वक अध्‍ययन करूंगा।

"वार्तालाप" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

सम्बंधित मीडिया