सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

धर्मोपदेश और संगति: वास्तव में भोज में शामिल होना अंत के दिनों के परमेश्वर के न्याय से गुज़रना और शुद्ध होना है

31

परमेश्वर का न्याय सत्य के माध्यम से न्याय है और इसका अनुभव और आनन्द केवल परमेश्वर के घर में लिया जा सकता है। यह बाहरी संसार में प्राप्त नहीं किया जा सकताI क्या यह परमेश्वर द्वारा असाधारण उन्नति नहीं है? (हाँ।) परमेश्वर हमें भोज में शामिल होने की अनुमति देता है—यह भोज है क्या? यह न्याय के माध्यम से शुद्ध होना है, और अंततः मसीह के वचनों को खाने और पीने के माध्यम से सत्य को प्राप्त करना हैI इस भोज का मूल्य बहुत बड़ा है। लोगों को सच्चाई प्राप्त होने पर कौन से शब्द परिपूर्ण होते हैं? परमेश्वर लोगों को पूर्ण करने के लिए सच्चाई का उपयोग करता है, लोगों का जीवन बनाना ताकि वे सच्चाई की छवि को जी सकें—यह भोज में शामिल होने से प्राप्त परिणाम हैं और यह परमेश्वर की इच्छा है। बाहर से, न्याय के वचन निंदा लगते हैं, लेकिन वास्तव में वे शुद्ध और पूर्ण करते हैं। बस न्याय का ज़िक्र उन लोगों को पहाड़ों की तरफ भगाता है जो सत्य से प्यार नहीं करते, जबकि जो सत्य की खोज करते हैं वे आज्ञाकारी हैं। "अगर मेरा न्याय किया जाता है, वो जैसा है वैसा है, और अगर मेरी कटाई-छँटाई और निपटारा किया जाता है तब भी मैं आज्ञापालन करूँगा। मेरे साथ जैसा भी व्यवहार किया जाता है मैं ठीक रहूंगा; परमेश्वर मेरे लिए जो भी इंतज़ाम करते हैं मैं स्वीकार करूँगा।" शुरुआत में यह बहुत कठिन है, लेकिन कुछ दिन भुगतने के बाद, लोग कहते हैं: "मुझमें इतनी अद्भुत भावना क्यों है? यह कैसे है कि मुझमें वास्तव में एक बदलाव सा आ गया है? यह कैसे है कि मेरा चीज़ों को देखने का नज़रिया भी बदल गया है और मेरा परमेश्वर के साथ घनिष्ठ संबंध है? यह कैसे है कि अब मैं कुछ सच्चाईयों को समझता हूँ? ओह, तो भोज में भाग लेना इस बारे में है। कड़वे के माध्यम से मीठा आता है, और मैंने मीठे का स्वाद चखा है। प्रतीत होता है इस भोज में भाग लेना इतना भी बुरा नहीं है। अब मैंने जान गया हूँ कि परमेश्वर का अद्भुत इरादा लोगों को परिपूर्ण करना है। बाहर से, यह परमेश्वर के वचनों की निंदा, न्याय, और ताड़ना है, और परमेश्वर का धार्मिक स्वभाव हम पर पड़ना है, लेकिन अंत में परिणाम सम्पूर्ण शुद्धिकरण और पूर्णता है।" अब आपने समझा न्याय क्या है, सत्य क्या है और भोज में शामिल होना क्या है, है न?

जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति से (श्रृंखला 103)

"यहाँ कुछ लोग हैं जो इस भोज में बीस या तीस वर्षों से भाग ले रहे हैं, और कुछ हैं जो कुछ वर्षों से भाग ले रहे हैं। क्या उन्होंने बहुत सी फसल नहीं काटीहै? फसल बहुत ज्यादा रही है; उन्होंने बहुत कुछ हासिल किया है! एक बात यह है कि परमेश्वर के न्याय और ताड़ना ने लोगों को बहुत सी सच्चाईयों और रहस्यों को समझने की अनुमति दी है। दूसरी बात यह है कि न्याय और ताड़ना के परमेश्वर के वचनों ने उनमें वास्तव में शुद्धिकरण का फल साथ ही साथ धीरे-धीरे पूर्ण होने का भी फल उत्पन्न किया है। "शुद्धिकरण का फल" क्या दर्शाता है? शैतानी दर्शन, कानून, तर्क और मानव में मौजूद सभी तरह के जहर पहले साफ़ किये जाते हैं और वे मानवजाति के भ्रष्टाचार की असलियत के साथ उसकी शैतानी प्रकृति और सार को जान जाते हैं। यह लोगों के जीवन में प्रवेश और उनके स्वभाव में परिवर्तन के लिए बहुत प्रभावी है। और जो सबसे मूल्यवान है वह है कि वे परमेश्वर के लिए अलग-अलग स्तर के सम्मान अपने हृदयों में विकसित करते हैं क्योंकि उन्होंने परमेश्वर द्वारा किये गए न्याय के माध्यम से प्रकट की गयी परमेश्वर की धार्मिकता का स्वाद चखा है। क्योंकि उनकी परमेश्वर के प्रति श्रद्धा सच्ची है, वे सभी तरह की बुराईयों से दूर रहने में सक्षम हैं और उनके शब्दों में पाप नहीं है और वे और हिंसा नहीं करते हैं। और यहाँ तक कि उनके विचारों और इरादों को भी पर्याप्त रूप से साफ़ कर दिया गया है। अतीत में परमेश्वर का विरोध और उसकी आलोचना करना उनके लिए बहुत सामान्य था, लेकिन अब वे आलोचना नहीं करते या जब वे पूरी तरह से कुछ समझ नहीं पाते तो बेलगाम नहीं बोलते। इन सबसे ऊपर, वे आशीर्वाद, स्वर्ग का राज्य, ताज पहनाया जाना या इनाम जैसी शानदार इच्छाओं के बारे में सोचने की हिम्मत भी नहीं करते। वे उन चीज़ों का पीछा करने की हिम्मत नहीं करते, उन्हें लगता है कि उन्हें प्राप्त करना अर्थपूर्ण नहीं है। वे सभी सच्चाई को खोजने, अपने जीवन में बढ़ने, परमेश्वर को जानने, और अपने स्वभाव को बदलने पर ध्यान केन्द्रित करना शुरू करते हैं। वे परमेश्वर के प्रेम के प्रतिफल के लिए स्वीकार्य रूप से अपना कर्तव्य करने पर ध्यान केन्द्रित करते हैं। क्या यह शुद्ध होने की प्रक्रिया नहीं है? यह शुद्ध होने से प्राप्त परिणाम भी है। क्या जीवन में इस तरह की प्रविष्टि और क्या इस तरह के वास्तविक बदलाव परमेश्वर के न्याय के कार्य के फल नहीं हैं? जितना अधिक आप परमेश्वर के न्याय से गुजरेंगे उतना अधिक आप प्राप्त करेंगे। जितने अधिक स्पष्ट रूप से आप सत्य को समझते हैं, उतने अधिक आप बदल जायेंगे। यदि आप परमेश्वर के न्याय और ताड़ना से कम गुज़रते हैं; आप कम फल पाएंगे और कम बदलेंगे; जो सत्य आप समझते हैं वह निश्चित रूप से सतही होगी। यह एक तथ्य है। परमेश्वर के चुने हुए लोगों में सभी जो सत्य को समझते हैं और वास्तविकता में प्रवेश करते हैं, जिनके भ्रष्ट स्वभावों को बड़े पैमाने पर शुद्ध किया गया है, आम तौर पर वे बहुत ही कम परमेश्वर का विरोध करते हैं या उसकी आलोचना करते हैं। यहाँ तक कि अगर उनकी आज्ञाकारिता और परमेश्वर से उनका प्रेम अपर्याप्त है, तब भी अपने हृदय की गहराईयों में वे पहले से ही परमेश्वर की मनोरमता महसूस करते हैं और देखते हैं कि परमेश्वर के लिए सच्ची आज्ञाकारिता क्या है। इस कारण से जीवन में उनका प्रवेश लगातार और भी गहरा होता जाता है। वे कम से कम भ्रष्ट होते जाते हैं, वे परमेश्वर की अधिक से अधिक आज्ञा मानते हैं, और परमेश्वर के लिए उनका प्रेम परमेश्वर के न्याय और ताड़ना के कारण और अधिक बढ़ता जाता है। क्या इस तरह के लोगों को शुद्धि प्राप्त नहीं है? (उन्हें प्राप्त है।) ये वे लोग हैं जिनके लिए स्वर्ग के राज्य में एक स्थान है।

जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति से (श्रृंखला 103)

सम्बंधित मीडिया

शायद आपको पसंद आये