सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

सूचीपत्र

प्रभु यीशु और सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर एक ही परमेश्‍वर हैं, लेकिन विभिन्न युगों में अलग-अलग कार्य करते हैं। प्रभु यीशु ने छुटकारे का कार्य किया और पश्चाताप का मार्ग बताया। अंत के दिनों में, सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर मानवजाति के न्याय और शुद्धिकरण का कार्य करते हैं और उन्हें अनन्‍त जीवन का मार्ग देते हैं। मेरे पास अभी भी एक सवाल है, पश्चाताप के मार्ग और अनन्‍त जीवन के मार्ग के बीच क्या अंतर है?

उत्तर: परमेश्‍वर सिर्फ़ एक ही हैं और मानवजाति को बचाने का उनका कार्य एक या दो चरणों में पूरा नहीं किया जा सकता है। क्योंकि मानव जाति को बचाने के लिए परमेश्‍वर की प्रबंधन योजना में कार्य के तीन चरण हैं, प्रत्येक चरण में परमेश्‍वर द्वारा व्यक्त किए गए सत्‍य अलग हैं, और यह धीरे-धीरे गहरा होता है, ताकि आख़िर में यह पूर्ण हो जाए। परमेश्‍वर अलग-अलग युगों में उस समय की मनुष्य की ज़रूरतों के आधार पर विभिन्न कार्य करते हैं, इस तरह से प्रत्येक युग में परमेश्‍वर मनुष्य को अलग मार्ग देते हैं। आप पूछते हैं कि पश्चाताप के मार्ग और अनन्‍त जीवन के मार्ग के बीच क्या अंतर है, यह एक महत्वपूर्ण सवाल है। यह एक सत्‍य है जिसे परमेश्‍वर में विश्वास रखने वाले हर सच्चे विश्वासी को समझना चाहिए, क्योंकि यह इससे संबंधित है कि मनुष्य कैसे सत्य को जान कर अनन्‍त जीवन पाता है। अब हम सभी जानते हैं कि प्रभु यीशु ने अनुग्रह के युग में छुटकारे का कार्य किया और मनुष्य को पश्चाताप का मार्ग दिया। जैसा कि प्रभु यीशु ने कहा था: "मन फिराओ क्योंकि स्वर्ग का राज्य निकट आया है" (मत्ती 4:17)। जिसका अर्थ है कि अगर मनुष्य स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करना चाहता है तो उसे परमेश्‍वर के सामने अपने पापों का स्वीकार और पश्चाताप करना चाहिए। पूर्व के पापों को स्‍वीकारने के बाद, ऐसे पाप क्षमा कर दिए जाएंगे। मनुष्य अब पाप नहीं करेगा, पश्चाताप करेगा और फ़िर से जन्म लेगा। यह पश्चाताप है लेकिन उस समय, प्रभु यीशु ने सिर्फ़ मनुष्यों को अपने पापों को स्‍वीकारने और पश्चाताप करने की शिक्षा दी, पाप न करना, बुरा न करना, अपने आप को अस्वीकार करना, क्रूस उठाना और प्रभु का अनुसरण करना, अपने पूरे हृदय, आत्मा, और मन से प्रभु से प्रेम करना, विनम्रता, सहनशीलता और धैर्य के साथ, दूसरों को ख़ुद की तरह प्रेम करना, और दूसरों को सात गुना सात बार क्षमा करना, आदि। ये मनुष्य के पश्चाताप के मार्ग हैं। जब मनुष्य अपने पापों को कबूल करता है और प्रभु यीशु के सामने पश्चाताप करता है, तो इन पापों को क्षमा किया जाएगा, जिससे मनुष्य परमेश्‍वर के सामने प्रार्थना करने और उनके साथ सहभागिता करने लायक हो जाता है, और परमेश्‍वर के दिए गए भरपूर अनुग्रह और सत्‍य का आनंद लेता है। लेकिन हम इससे इनकार नहीं कर सकते कि भले ही मनुष्य के पाप क्षमा कर दिए जाते हों, उसकी पापी प्रकृति अभी भी उसके अंदर मौजूद है, और वह अभी भी परमेश्‍वर के साथ विश्वासघात और विरोध कर सकता है। यह सिद्ध करता है कि हालाँकि मनुष्य के पापों को क्षमा किया जा सकता है, मगर वह फ़िर भी पाप कर सकता है और पवित्र नहीं बन सकता। प्रभु यीशु ने सिर्फ़ छुटकारे का कार्य किया, जो सिर्फ़ मनुष्य को अपने पापों को कबूल करने, पश्चाताप करने, परमेश्‍वर के पास लौटने, और परमेश्‍वर द्वारा दिए गए अनुग्रह का आनंद लेने की गुंजाइश देता है। इससे पता चलता है कि प्रभु यीशु द्वारा व्यक्त किये गये सत्य मनुष्य के पश्चाताप करने का मार्ग है। जैसा कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर कहते हैं: "उस समय, यीशु ने अनुग्रह के युग में अपने अनुयायियों को उपदेशों की एक श्रृंखला कही, जैसे कि कैसे अभ्यास करें, कैसे एक साथ इकट्ठा हों, प्रार्थना में कैसे माँगें, दूसरों के साथ कैसे व्यवहार करें इत्यादि। जो कार्य उसने किया वह अनुग्रह के युग का था, और उन्होंने केवल यह प्रतिपादित किया कि शिष्य और वे जिन्होंने परमेश्वर का अनुसरण किया कैसे अभ्यास करें। उसने केवल अनुग्रह के युग का ही कार्य किया और अंत के दिनों का कोई कार्य नहीं किया। …प्रत्येक युग में परमेश्वर के कार्य की स्पष्ट सीमाएँ हैं; वह केवल वर्तमान युग का कार्य करता है और वह कभी भी कार्य का आगामी चरण अग्रिम में नहीं करता है। केवल इस तरह से उसका प्रत्येक युग का प्रतिनिधि कार्य सामने लाया जा सकता है। यीशु ने अंत के दिनों के केवल चिह्नों के बारे में बात की, इस बारे में बात की कि किस प्रकार से धैर्यवान बनें और कैसे बचाए जाएँ, कैसे पश्चाताप करें और स्वीकार करें, और साथ ही सलीब को कैसे सहें, और साथ ही पीड़ाओं को कैसे सहन करें; उन्होंने कभी भी नहीं कहा कि अंत के दिनों में मनुष्य को किस में प्रवेश करना चाहिए या परमेश्वर की इच्छा को किस प्रकार से संतुष्ट करें …" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "वह मनुष्य किस प्रकार परमेश्वर के प्रकटनों को प्राप्त कर सकता है जिसने उसे अपनी ही धारणाओं में परिभाषित किया है?")। "पाप बलि के माध्यम से मनुष्य के पापों को क्षमा किया जा सकता है, परन्तु मनुष्य इस मसले को हल करने में असमर्थ रहा है कि वह कैसे आगे और पाप नहीं कर सकता है और कैसे उसके पापी स्वभाव को पूरी तरह से दूर किया जा सकता है और उसे रूपान्तरित किया जा सकता है। परमेश्वर के सलीब पर चढ़ने के कार्य की वजह से मनुष्य के पापों को क्षमा किया गया था, परन्तु मनुष्य पुराने, भ्रष्ट शैतानी स्वभाव में जीवन बिताता रहा। वैसे तो, मनुष्य को भ्रष्ट शैतानी स्वभाव से अवश्य पूरी तरह से बचाया जाना चाहिए ताकि मनुष्य का पापी स्वभाव पूरी तरह से दूर किया जाए और फिर कभी विकसित न हो, इस प्रकार मनुष्य के स्वभाव को बदले जाने की अनुमति दी जाए। इसके लिए मनुष्य से अपेक्षा की जाती है कि वह जीवन में उन्नति के पथ को, जीवन के मार्ग को, और अपने स्वभाव को परिवर्तित करने के मार्ग को समझे। साथ ही इसके लिए मनुष्य को इस मार्ग के अनुरूप कार्य करने की आवश्यकता है ताकि मनुष्य के स्वभाव को धीरे-धीरे बदला जा सके और वह प्रकाश की चमक में जीवन जी सके, और यह कि वह परमेश्वर की इच्छा के अनुसार सभी चीज़ों को कर सके, और भ्रष्ट शैतानी स्वभाव को दूर कर सके, और शैतान के अंधकार के प्रभाव को तोड़कर आज़ाद हो सके, उसके परिणामस्वरूप पाप से पूरी तरह से ऊपर उठ सके। केवल तभी मनुष्य पूर्ण उद्धार प्राप्त करेगा" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "देहधारण का रहस्य (4)")। सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचन हमें साफ़-साफ़ बताते हैं कि प्रभु यीशु ने छुटकारे का कार्य किया, और जो उन्होंने हमें दिया वह सिर्फ़ पश्चाताप का ही मार्ग था, लेकिन उन्होंने मनुष्य को उसकी शैतानी प्रकृति को त्‍यागने और पवित्र बनने के लिए अनन्‍त जीवन का मार्ग नहीं दिया। इसलिए, अंत के दिनों में, सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर आ गए हैं, और प्रभु यीशु के छुटकारे के कार्य की नींव पर, उन्होंने "परमेश्‍वर के भवन से शुरू करते हुए न्याय" का कार्य किया और हमें अनन्‍त जीवन का मार्ग दिया है। सिर्फ़ अंत के दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर द्वारा दिए गए अनन्‍त जीवन के मार्ग को अपना कर क्या लोग परमेश्‍वर की इच्छा के प्रति आज्ञाकारी बन सकते हैं, पूरी तरह से शैतान के बुरे असर से बच सकते हैं, पवित्रता की स्थिति में पहुँच सकते हैं, और परमेश्‍वर के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं?

हमने अभी पश्चाताप के तरीके के बारे में सहभागिता की, और मुझे लगता है कि आप सभी इसे समझते हैं। अब मैं इस बारे में बात करना चाहूँगी कि अनन्‍त जीवन का मार्ग क्या है, और फ़िर मैं पश्चाताप के मार्ग और अनन्‍त जीवन के मार्ग के बीच के अंतर के बारे में बात करूँगी। जब हम अनन्‍त जीवन के मार्ग के बारे में बात करते हैं, तो हम सिर्फ़ पापों को स्‍वीकारने और पश्चाताप के बारे में बात नहीं कर रहे हैं, हम सत्‍य के उस मार्ग के बारे में बात कर रहे हैं जो लोगों को अनन्‍त जीवन प्रदान करता है। और अधिक विशिष्‍ट रूप से कहें तो, लोग उद्धार कैसे पाते हैं, शैतान के असर से कैसे मुक्त होते हैं, सत्‍य को जीवन के रूप में कैसे पाते हैं, परमेश्‍वर के अनुरूप कैसे बनते हैं, और परमेश्‍वर द्वारा कैसे प्राप्त किये जाते हैं। यह अनन्‍त जीवन का मार्ग है। इसलिए, जो लोग अनन्‍त जीवन का मार्ग पाते हैं, ये वही लोग हैं जो सत्य को पाते हैं, जो सत्य को जीवन के रूप में पाते हैं, और ये परमेश्‍वर द्वारा पूर्ण किए वही लोग हैं जो स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं। क्या ये वो लोग नहीं हैं जो अनन्‍त जीवन का मार्ग पाते हैं? क्या वे लोग जो सत्‍य को अपने जीवन के रूप में पाते हैं, वे कभी परमेश्‍वर का विरोध करेंगे या परमेश्‍वर को धोखा देंगे? वो लोग जो स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करते हैं, क्या वे कभी मरेंगे, या उन्हें कभी नरक में भेजा जाएगा? इसलिए, कोई भी व्यक्ति जो सत्‍य को जीवन के रूप में पाता है, वह परमेश्‍वर को जानेगा, और इस तरह अनन्‍त जीवन का मार्ग पाएगा, समझ गए? आइए इस विषय पर सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचनों पर नजर डालें।

"अंतिम दिनों का मसीह जीवन लेकर आता, और सत्य का स्थायी एवं अनन्त मार्ग प्रदान करता है। इसी सत्य के मार्ग के द्वारा मनुष्य जीवन को प्राप्त करेगा, और एक मात्र इसी मार्ग से मनुष्य परमेश्वर को जानेगा और परमेश्वर का अनुमोदन प्राप्त करेगा" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनन्त जीवन का मार्ग दे सकता है")।

"अंत के दिनों का कार्य यहोवा और यीशु के कार्य को और उन सभी रहस्यों को प्रकट कर देता है जिन्हें मनुष्य के द्वारा समझा नहीं गया है। इसे मानवजाति की नियति और अंत को प्रकट करने के लिए और मानवजाति के बीच उद्धार के सब कार्य का समापन करने के लिए किया जाता है। अंत के दिनों में कार्य का यह चरण सभी चीज़ों को समाप्ति की ओर ले आता है। मनुष्य के द्वारा समझे नहीं गए सभी रहस्यों को, मनुष्य को ऐसे रहस्यों में अंर्तदृष्टि पाने की अनुमति देने और उनके हृदयों में एक स्पष्ट समझ पाने के लिए, अवश्य सुलझाया जाना चाहिए। केवल तभी मनुष्य को उनके प्रकारों के अनुसार विभाजित किया जा सकता है। …तो मनुष्य के द्वारा नहीं समझे गए सभी रहस्यों को प्रकट कर दिया जाएगा, पहले नहीं समझी गई सभी सच्चाइयों को स्पष्ट कर दिया जाएगा, और मानवजाति को उसके भविष्य के मार्ग और नियति के बारे में बता दिया जाएगा। यही वह सब कार्य है जो इस चरण में किया जाना है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "देहधारण का रहस्य (4)")।

"कार्य के इस अंतिम चरण में, वचन के द्वारा परिणामों हो प्राप्त किया जाता है। वचन के माध्यम से, मनुष्य बहुत से रहस्यों को और पिछली पीढ़ियों के दौरान किये गए परमेश्वर के कार्य को समझ जाता है; वचन के माध्यम से, मनुष्य को पवित्र आत्मा के द्वारा प्रबुद्ध किया जाता है; वचन के माध्यम से, मनुष्य पिछली पीढ़ियों के द्वारा कभी नहीं सुलझाए गए रहस्यों को, और साथ ही अतीत के समयों के भविष्यद्वक्ताओं और प्रेरितों के कार्य को, और उन सिद्धान्तों को समझ जाता है जिनके द्वारा वे काम करते थे; वचन के माध्यम से, मनुष्य परमेश्वर स्वयं के स्वभाव को, और साथ ही मनुष्य की विद्रोहशीलता और विरोध को भी समझ जाता है, और स्वयं अपने सार को जान जाता है। कार्य के इन चरणों और बोले गए सभी वचनों के माध्यम से, मनुष्य आत्मा के कार्य को, परमेश्वर के देहधारी देह के कार्य को, और इसके अतिरिक्त, उसके सम्पूर्ण स्वभाव को जान जाता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "देहधारण का रहस्य (4)")।

"अंत के दिनों में, मसीह मनुष्य को सिखाने के लिए विभिन्न प्रकार की सच्चाइयों का उपयोग करता है, मनुष्य के सार को उजागर करता है, और उसके वचनों और कर्मों का विश्लेषण करता है। इन वचनों में विभिन्न सच्चाइयों का समावेश है, जैसे कि मनुष्य का कर्तव्य, मनुष्य को किस प्रकार परमेश्वर का आज्ञापालन करना चाहिए, हर व्यक्ति जो परमेश्वर के कार्य को मनुष्य को किस प्रकार परमेश्वर के प्रति निष्ठावान होना चाहिए, मनुष्य को किस प्रकार सामान्य मानवता से, और साथ ही परमेश्वर की बुद्धि और उसके स्वभाव इत्यादि को जीना चाहिए। ये सभी वचन मनुष्य के सार और उसके भ्रष्ट स्वभाव पर निर्देशित हैं। खासतौर पर, वे वचन जो यह उजागर करते हैं कि मनुष्य किस प्रकार से परमेश्वर का तिरस्कार करता है इस संबंध में बोले गए हैं कि किस प्रकार से मनुष्य शैतान का मूर्त रूप और परमेश्वर के विरूद्ध दुश्मन की शक्ति है। अपने न्याय का कार्य करने में, परमेश्वर केवल कुछ वचनों से ही मनुष्य की प्रकृति को स्पष्ट नहीं करता है; वह लम्बे समय तक इसे उजागर करता है, इससे निपटता है, और इसकी काट-छाँट करता है। उजागर करने की इन विधियों, निपटने, और काट-छाँट को साधारण वचनों से नहीं, बल्कि सत्य से प्रतिस्थापित किया जा सकता है, जिसे मनुष्य बिल्कुल भी धारण नहीं करता है। केवल इस तरीके की विधियाँ ही न्याय समझी जाती हैं; केवल इसी तरह के न्याय के माध्यम से ही मनुष्य को वश में किया जा सकता है और परमेश्वर के प्रति समर्पण में पूरी तरह से आश्वस्त किया जा सकता है, और इसके अलावा मनुष्य परमेश्वर का सच्चा ज्ञान प्राप्त कर सकता है। न्याय का कार्य जिस चीज़ को उत्पन्न करता है वह है परमेश्वर के असली चेहरे और उसकी स्वयं की विद्रोहशीलता के सत्य के बारे में मनुष्य में समझ। न्याय का कार्य मनुष्य को परमेश्वर की इच्छा की, परमेश्वर के कार्य के उद्देश्य की, और उन रहस्यों की अधिक समझ प्राप्त करने देता है जो उसके लिए अबोधगम्य हैं। यह मनुष्य को उसके भ्रष्ट सार तथा उसकी भ्रष्टता के मूल को पहचानने और जानने, साथ ही मनुष्य की कुरूपता को खोजने देता है। ये सभी प्रभाव न्याय के कार्य के द्वारा निष्पादित होते हैं, क्योंकि इस कार्य का सार वास्तव में उन सभी के लिए परमेश्वर के सत्य, मार्ग और जीवन का मार्ग प्रशस्त करने का कार्य है जिनका उस पर विश्वास है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है")।

सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचनों के ज़रिए हम देख सकते हैं कि अनन्‍त जीवन का मार्ग कोई ऐसी चीज़ नहीं हैं जिसे कुछ नियमों के ज़रिये सिखाया जा सके, न ही इंसानों की पाप करने और परमेश्‍वर का विरोध करने की प्रवृत्ति का समाधान महज कुछ अंशों से किया जा सकता है। मानव जाति शैतान के द्वारा गंभीर रूप से भ्रष्‍ट बना दी गयी है, और वह सभी तरह के शैतानी ज़हर से भरी है। वे बेहद अहंकारी, घमंडी और आत्‍म-केंद्रित, और परमेश्‍वर के प्रति धारणाओं, काल्‍पनिक विचारों और बेहिसाब मांगों से भरे हुए हैं। उन्‍हें परमेश्‍वर का वास्‍तविक ज्ञान बिल्‍कुल भी नहीं है, उनके मन में सच्‍चा भय, आज्ञापालन या प्रेम काफी कम है। अगर लोग अपने शैतानी स्वभावों से मुक्‍त होकर पवित्र होना चाहते हैं, या सच में परमेश्वर को जानना, उनका आज्ञापालन करना, उनके प्रति भय रखना और उनसे प्रेम करना और परमेश्‍वर के अनुरूप बनना चाहते हैं, तो इसके लिए उन्हें सत्‍य के कई पहलुओं को समझने की ज़रूरत है। जैसा कि भ्रष्‍ट मानव जाति के लिए अंत के दिनों में ज़रूरी होता है, "परमेश्‍वर के भवन से शुरू होने वाले न्याय" का कार्य परमेश्‍वर करते हैं, और वे शैतान के असर से मनुष्यों की पूर्ण मुक्ति और उद्धार के लिए लिए आवश्‍यक सभी सत्‍य व्‍यक्त करते हैं। इसलिए, अनन्‍त जीवन का मार्ग सत्य के एक या दो पहलुओं तक सीमित नहीं है, यह सत्‍य के कई सारे पहलुओं से युक्‍त है। अगर लोग अंत के दिनों में परमेश्‍वर के कार्य का अनुभव करने लगते हैं, तो वे मानव जाति को बचाने के लिए परमेश्‍वर द्वारा व्‍यक्‍त किये गए पूर्ण सत्‍य को समझने लगते हैं, और सत्‍य की वास्‍तविकता में प्रवेश कर जाते हैं, इसके बाद बिना किसी संदेह के वे अपने जीवन में स्वभावगत परिवर्तन पा सकते हैं, और परमेश्‍वर के सच्‍चे आज्ञाकारी और भक्‍त जैसे बन जाते हैं। वे ऐसे लोग हैं जो अनन्‍त जीवन का मार्ग पा लेते हैं। अनन्‍त जीवन का मार्ग क्‍या है? वे सभी सत्‍य जो मानव जाति को उद्धार देने के लिए परमेश्‍वर अंत के दिनों में व्‍यक्‍त करते हैं। अंत के दिनों में परमेश्‍वर का कार्य मनुष्‍यों में सत्य की बारिश करना है ताकि ये सत्य मनुष्‍य का जीवन बन जायें। जो लोग परमेश्‍वर के इन वचनों के साथ जीवन जीते हैं वे अनन्‍त जीवन का मार्ग पा लेते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कोई व्‍यक्ति परमेश्‍वर के वचनों को कितनी गहराई तक महसूस करता है। जब तक हम विभिन्‍न सत्‍यों की वास्‍तविकता को कुछ हद तक अपने पास रखते हैं, सच्‍चे इंसान की तरह जीवन-यापन करते हैं, ईमानदार रहते हैं और परेमश्‍वर के सच्‍चे आज्ञाकारी होते हैं, सिद्धांत के अनुसार अपना आचरण करते हैं, परमेश्‍वर का भय करते हैं और बुराई से परहेज़ करते हैं, हम मानवता और सत्‍य से परिपूर्ण व्‍यक्ति बन जाते हैं, और इस तरह हम अनन्‍त जीवन का मार्ग पाते हैं। जब हम अनन्‍त जीवन का मार्ग पा लेते हैं तो हम पाप और शैतान के असर से मुक्‍त हो जाते हैं, इसका अर्थ है कि हम अब और अधिक पाप नहीं करते, परमेश्‍वर का विरोध या उनके साथ धोखा नहीं करते। परमेश्‍वर का सच्‍चा ज्ञान पाकर, हम स्वभावगत परिवर्तन पा सकते हैं। तब हम परमेश्‍वर के आज्ञाकारी, उनके भक्‍त और प्रेमी होकर उनके अनुरूप बन जाते हैं, और परमेश्‍वर की इच्‍छा का पालन करने वाले बन जाते हैं। जब हम अनन्‍त जीवन का मार्ग पा लेते हैं तो फ़िर हम कभी नहीं मरेंगे। हमें परमेश्‍वर के आशीर्वाद का सुख और स्‍वर्ग के राज्य में प्रवेश मिलेगा, जिसका हमसे वादा किया गया था।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "जब मानवजाति सही मार्ग में प्रवेश कर लेगी उसके बाद, लोगों का सामान्य मानव जीवन होगा। वे सब अपने संबंधित कर्तव्यों को करेंगे और पूर्णतः परमेश्वर के प्रति विश्वसनीय होंगे। वे अपनी अवज्ञा और अपने भ्रष्ट स्वभाव को पूरी तरह छोड़ देंगे, और वे परमेश्वर के कारण और परमेश्वर के लिए जीएँगे। उनमें अवज्ञा और प्रतिरोध का अभाव होगा। वे पूर्णतः परमेश्वर की आज्ञा पालन कर पाएँगे। यही परमेश्वर और मनुष्य का जीवन है और राज्य का जीवन है, और यही विश्राम का जीवन है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर और मनुष्य एक साथ विश्राम में प्रवेश करेंगे")।

"मैं सिंहासन पर आराम करता हूँ, मैं सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड पर आराम से पीठ टिकाए हुए हूँ और मैं पूरी तरह से संतुष्ट हूँ, क्योंकि सभी चीजों ने अपनी पवित्रता को पुनः प्राप्त कर लिया है, और मैं एक बार फिर से सिय्योन में शान्तिपूर्वक निवास कर सकता हूँ, और पृथ्वी पर लोग मेरे मार्गदर्शन के अधीन शान्त, तृप्त जीवन बिता सकते हैं। सभी लोग सब कुछ मेरे हाथों में प्रबंधित कर रहे हैं, सभी लोगों ने अपनी पूर्व की बुद्धिमत्ता और मूल प्रकटन को पुनः-प्राप्त कर लिया है; वे धूल से अब और ढके हुए नहीं हैं, बल्कि, मेरे राज्य में, हरिताश्म के समान शुद्ध हैं, प्रत्येक ऐसे चेहरे वाला जैसा कि मनुष्य के हृदय के भीतर के एक पवित्र जन का हो, क्योंकि मनुष्यों के बीच मेरा राज्य स्थापित हो चुका है" (सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के लिये परमेश्वर के कथन "वचन देह में प्रकट होता है" के "सोलहवाँ कथन" से लिया गया)।

"राज्य में, परमेश्वर के साथ उसके लोगों का जीवन इतना प्रसन्न रहता है कि जिसकी तुलना नहीं की जा सकती। लोगों के धन्य जीवन के लिये जल-स्रोत नृत्य करते हैं, पर्वत लोगों के साथ मेरी बहुलता का आनंद लेते हैं। मेरे राज्य में सभी लोग प्रयासरत हैं, श्रम कर रहे हैं, अपनी निष्ठा दिखा रहे हैं। राज्य में, न तो अब कोई विद्रोह है, न कोई विरोध; स्वर्ग और पृथ्वी एक-दूसरे पर आश्रित हैं, मानव और मुझमें निकटता है, गहन भाव हैं, जीवन के परम सुख में, साथ-साथ प्रवृत्त हैं …" (सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के लिये परमेश्वर के कथन "वचन देह में प्रकट होता है" के "लोगों! आनंद मनाओ!" से लिया गया)।

"सिंहासन से बहता है जीवन जल" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

सम्बंधित मीडिया