सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने 5/28 झाओयुआन हादसा क्यों गढ़ा?

0

मा जिन्लोंग (राष्ट्रीय सुरक्षा दल का कप्तान(अध्यक्ष)): तुम्हें सच्चाई बताता हूँ, हान लू। ऐसा नहीं है कि हम उन लोगों को नहीं समझते जो परमेश्वर में विश्वास करते हैं। मेरे मित्रों में परमेश्वर के विश्वासी भी हैं। मुझे पता है कि जो परमेश्वर में विश्वास रखते हैं वे अच्छे लोग होते हैं जो बुरे काम नहीं करते हैं। तो फिर कम्युनिस्ट पार्टी तुम लोगों को क्यों पकड़ना चाहती है? ऐसा इसलिए, क्योंकि तुम लोगों की सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया बहुत तेजी से बढ़ रही है, इसके प्रभाव तेजी से बढ़ रहे हैं। तुम लोग अभी भी सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन का प्रचार करके, पूरे धार्मिक समुदाय को चौंकाते रहते हो। क्या ऐसा संभव है कि कम्युनिस्ट पार्टी तुम लोगों को न रोके और प्रतिबंधित न करे? क्या तुम जानती हो "28 मई शांदोंग चाउए मामला" क्या है? यह कम्युनिस्ट पार्टी का पूरी दुनिया के लिए एक संकेत था कि वह सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया को प्रतिबंधित और नष्ट करना चाहता था। और उसने जोरों से यह नारा भी लगाया, "प्रतिबंध पूरा होने तक सैनिक टुकडियों को वापस नहीं लिया जाएगा!" यह क्या दर्शाता है? यह दर्शाता है कि केन्द्रीय नेतृत्व ने सभी भूमिगत कलीसियाओं को पूरी तरह प्रतिबंधित और ख़त्म करने का फ़ैसला किया है, ख़ास तौर पर तुम लोगों के सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया को। शंदों चाऊऐ मामले के लोक मुकदमे के बाद, हालांकि कई लोगों ने शंदों चाऊऐ मामले के बारे में हर तरह के सवाल उठाये हैं, कहते हुए कि यह मामला एक मनगढंत मामला था जो कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा जानबूझकर सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया को झूठे आरोपों से फसानें और बदनाम करने के लिए गढ़ा गया था, फिर भी, अदालत ने इस मामले की सार्वजनिक रूप से सुनवाई की। समाचार मीडिया ने भी मामले की एक सिलसिलेवार रिपोर्ट तैयार की। तुम लोग 28 मई के शंदों चाऊऐ मामले पर चाहे जितनी शंका करो और इसे नकारो, यह सब बेकार है। जब कम्युनिस्ट पार्टी ऐसा कह और कर सकती है, तो ऐसे भी कई लोग निश्चित रूप से होंगे जो इस पर विश्वास करते हैं। हालांकि झूठ और हिंसा अच्छी बातें नहीं हैं, लेकिन ये प्रभावी हैं। ये सब जो हो रहा है, ऐसा ही है न?

हान लू (एक ईसाई): कप्तान मा, यह शंदों चाऊऐ मामला केवल कुछ समय के लिए लोगों को मूर्ख बना सकता है। झूठ ज्यादा समय तक नहीं टिकता. सच देर-सबेर सामने आ ही जायेगा जब सीसीपी धार्मिक आस्थाओं को दबाती है, जातीय अल्पसंख्यकों को कुचलती है, विश्वविद्यालय के छात्रों को रोकती है, यह पहले हमेशा कुछ झूठे मामलों को गढ़ती है। ये अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए बनाये गए जनमत आधार हैं। कौन नहीं जानता कि चीन की अदालतें और मीडिया पूरी तरह से चीन की कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा नियंत्रित है? आत्म-निर्णय तो बिल्कुल भी नहीं है। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की अदालत, तानाशाही बरकरार रखने के लिए कम्युनिस्ट पार्टी की राष्ट्रीय मशीनरी है। समाचार मीडिया चीन की कम्युनिस्ट पार्टी का मुखपत्र और उपकरण हैं, राग अलापनेवाले हैं, जो लोगों को भ्रमित करने और दुनिया को धोखा देने के लिए चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के लिए झूठ गढ़ते हैं। इस सत्य को सभी लोग जानते हैं! 28 मई शंदों चाऊऐ का मामला संदेहों से भरा हुआ है। जब अदालत शंदों चाऊऐ मामले की सुनवाई कर रही थी, मुजरिमों ने अदालत में कहा, "जांग फैन और मैं सच्चे 'सर्वशक्तिमान परमेश्वर' के एकमात्र प्रवक्ता हैं। जिस 'सर्वशक्तिमान परमेश्वर' पर राज्य कड़ी कार्यवाही करता है वह वो है जिस पर जावो वेशन विश्वास करता है, न कि वो 'सर्वशक्तिमान परमेश्वर' जिस पर हम विश्वास करते हैं।" "मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया से कभी संपर्क नहीं किया था।" उन्होंने बार-बार कहा कि वे सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया के सदस्य नहीं थे। उलझाने वाला भाग यह था कि चीनी कम्युनिस्ट न्यायाधीश ने बचाव पक्ष के बयानों को भी नज़रअंदाज़ कर दिया था और सबके सामने यह निर्णय किया कि सभी प्रतिवादी सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया के लोग थे। समस्या क्या थी? चीनी कम्युनिस्ट न्यायालय ने तथ्यों को तोड़-मरोड़कर, इस हत्या के मामले में सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया पर दोष लगाकर कलीसिया को झूठे आरोपों में फंसाया और बदनाम किया, और तथ्यों और क़ानून की उपेक्षा की चीन की कम्युनिस्ट सरकार ने इस मामले को हाई प्रोफाइल ढंग से सार्वजनिक तौर पर प्रचारित करने के लिए मीडिया का भी इस्तेमाल किया। समझदार लोग देख सकते हैं कि यह एक अन्य झूठा मामला था जो चीनी कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा सावधानीपूर्वक तैयार किया गया था। सीसीपी का ऐसा करने के पीछे उद्देश्य क्या था? समझदार लोग यह देख सकते हैं कि यह सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया को दबाने और सताने के लिए झूठ से गढ़ा गया लोकमत था।

चेन जुन (राष्ट्रीय सुरक्षा दल का उप-कप्तान(उपाध्यक्ष): अगर शंदोंग चाउए मामला झूठा भी है, तो क्या? सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया को कुचलने के लिए, चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने सभी प्रचार मशीनों को शुरू कर दिया, बहुत सारे लोकमत बनाये, और कुछ परिणाम प्राप्त किये। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के पास मेगाफोन है। पूरी मीडिया, रेडियो स्टेशन और समाचारपत्र कम्युनिस्ट पार्टी के उपकरण हैं। यहाँ तक कि अगर आप लोग सही भी हैं, तो भी आप लोगों के पास यह कहने के लिए कोई स्थान नहीं है। कम्युनिस्ट पार्टी का एक उसूल है "एक झूठ भी दस हज़ार बार दोहराने पर सच बन जायेगा।" तुम मुझे यह बताना चाहती हो कि तुम्हें ये मालूम नहीं था? कम्युनिस्ट पार्टी चीनी लोगों पर जिन चीज़ों से शासन करती है, वो झूठ और क्रांतिकारी हिंसा हैं। यह एक राजनीतिक जरूरत है। जैसे कि अध्यक्ष माओ ने कहा, "यह एक साजिश नहीं, यह एक खुला षड़यंत्र है।" झूठ और धोखा क्या होते हैं? "परिणाम अच्छा हो तो बुरा साधन भी ठीक है" यह कम्युनिस्ट पार्टी का सिद्धांत और उसका काम करने का अंदाज़ है! क्या तुम समझी?

हान लू: क्या आप लोग ऐसा सोचते हैं कि आप लोग चीनी लोगों और दुनिया को झूठ से भ्रमित कर सकते हैं और धोखा दे सकते हैं? मुझे नहीं लगता। झूठ लोगों को कुछ समय के लिए भ्रमित कर धोखा दे सकता है, लेकिन ऐसा ज्यादा समय तक नहीं चलता। देर-सबेर, सत्य पूरी तरह स्पष्ट हो जायेगा! मेरे लिए तो, यह कहना कि "एक झूठ भी दस हज़ार बार दोहराने पर सच बन जायेगा" विश्वसनीय नहीं है। दस हज़ार बार बोले जाने के बाद भी मुझे झूठ के सच बनने का प्रमाण नहीं मिल सकता। झूठ आखिरकार उजागर होकर नष्ट हो जाएगा। झूठ कभी भी दृढ़ता से टिक नहीं सकता। कम्युनिस्ट पार्टी के कार्य और कर्म बाइबल के वचनों को पक्का करते हैं: "तुम अपने पिता शैतान से हो और अपने पिता की लालसाओं को पूरा करना चाहते हो। वह तो आरम्भ से हत्यारा है और सत्य पर स्थिर न रहा, क्योंकि सत्य उसमें है ही नहीं। जब वह झूठ बोलता, तो अपने स्वभाव ही से बोलता है; क्योंकि वह झूठा है वरन् झूठ का पिता है" (यूहन्ना 8:44)। शैतान झूठों का पिता है। केवल शैतान ही बेरहमी से झूठ बोलेगा और धोखा देगा।

"विपरीत परिस्थितियों में मधुरता" नामक फ़िल्म की पटकथा से