मसीह की बातचीतों के अभिलेख

विषय-वस्तु

अध्याय 26. जिसमें सत्य की कमी है वह दूसरों का नेतृत्व नहीं कर सकता

क्या आप वाकई में किसी के स्वभाव में परिवर्तन के बारे में समझते हैं? स्वभाव में बदलाव से क्या मतलब होता है? क्या आप स्वभाव में बदलाव को पहचान सकते हैं? किन परिस्थितियों को किसी के जीवन स्वभाव में परिवर्तन माना जा सकता है, और कौनसी स्थितियाँ मात्र बाहरी व्यवहार में परिवर्तन हैं? किसी के बाहरी व्यवहार में बदलाव और किसी के भीतरी जीवन में बदलाव के बीच क्या अंतर है? क्या आप मुझे अंतर बता सकते हैं? आप किसी को कलीसिया के चारों ओर उत्सुकता से दौड़ते हुए देखते हैं, और आप कहते हैं: “वह बदल गया है!” आप देखते हैं कि कोई व्यक्ति अपने परिवार या नौकरी को त्याग देता है, और आप कहते हैं: “वह बदल गई है!” अगर उन्होंने ऐसा बलिदान किया है, तो आप सोचते हैं कि वे निश्चित रूप से बदल गए होंगे। इसी तरह आप चीजों को देखते हैं। कुछ लोग और भी बेतुके हैं; वे किसी को अपना परिवार या नौकरी छोड़ते हुए देखते हैं, और वे कहते हैं: “वाह, यह व्यक्ति वास्तव में परमेश्‍वर से प्यार करता है!” आज आप कहते हैं कि यह व्यक्ति परमेश्‍वर को प्यार करता है, कल आप कहेंगे कि कोई अन्य परमेश्‍वर से प्यार करता है। यदि आप किसी को अंतहीन ढंग से उपदेश देते हुए देखते हैं, तो आप कहते हैं: “वाह, इस व्यक्ति ने परमेश्‍वर को जान लिया है। उसने सत्य प्राप्त कर लिया है। अगर वह परमेश्‍वर को नहीं जानता, तो उसके पास बोलने के लिए इतना कुछ कैसे है?” क्या आप इस प्रकार चीजों को नहीं देखते हैं? दरअसल, आप में से ज्यादातर लोग चीजों और लोगों को इसी प्रकार देखते हैं। आप हमेशा दूसरों को गौरवान्वित करते हैं और उनका यशगान करते हैं। आज आप परमेश्वर को प्यार करने के लिए किसी को गौरवान्वित करते हैं, कल आप परमेश्वर को जानने के लिए, परमेश्वर के प्रति वफ़ादार होने के लिए किसी अन्य को गौरवान्वित करते हैं। आप दूसरों को गौरवान्वित करने में विशेषज्ञ हैं। हर दिन, आप दूसरों को गौरवान्वित करते हैं और उनका यशगान करते हैं जिसके परिणामस्वरूप उनका अहित होता है, फिर भी आपको ऐसा करने में गर्व महसूस होता है। जिस व्यक्ति की आप प्रशंसा करते हैं वह पूरे दिन गर्व से फूला रहता है और खुद से कहता है: “वाह, मैं बदल गया हूँ! मुझे गौरव प्राप्त होगा। मुझे सफलता का पूरा भरोसा है।” क्या आप नहीं देख सकते हैं कि आप उनके लिए किस तरह एक गड्ढा खोद रहे हैं? उन्होंने अभी तक परमेश्‍वर पर विश्वास करने के सही रास्ते पर ठीक से पैर जमाया भी नहीं है, फिर भी वे महसूस करते हैं कि उन्होंने यह सब पहले ही हासिल कर लिया है। क्या आप ऐसा करके उन्हें विनाश की ओर नहीं धकेल रहे हैं? कितनी बार आपने इतनी भयानक चीज़ की है? आप न तो दूसरों को ज़िन्दगी प्रदान कर सकते हैं और न ही उनकी स्थिति का विच्छेदन कर सकते हैं, ऐसा करने के लिए आप सिर्फ यह जानते हैं कि उन्हें कैसे गौरवान्वित करना है। नतीजा होता है उनकी बर्बादी करवाना। क्या आप नहीं जानते कि भ्रष्ट लोग दूसरों की प्रशंसा को बनाए नहीं रख सकते हैं? यहाँ तक ​​कि प्रशंसा किए बिना भी, लोग पहले से ही उच्च और शक्तिशाली महसूस करते हैं, उनके सिर गर्व से तन जाते हैं। यदि आप उनकी प्रशंसा करते हैं, तो क्या उनकी मृत्यु भी जल्द नहीं आती है? आप नहीं जानते कि परमेश्‍वर से प्यार करना, परमेश्‍वर को जानना, या दिल से परमेश्‍वर के लिए स्वयं को खपा देने का क्या मतलब है। आप इन बातों में से कोई भी बात नहीं समझते हैं। आप केवल यह करते हैं कि चीजों को उनके बाहरी रूप के आधार पर देखते हैं, जल्दबाजी में निर्णय लेते हैं, दूसरों की प्रशंसा करते हैं और उन्हें गौरवान्वित करते हुए सम्मान देते हैं। बहुत सारे लोगों को आप ने नुकसान पहुँचाया है! जब आप इस तरह से दूसरों की प्रशंसा करते हैं, तो वे गिर जाएँगे। वे स्वयं संतुष्ट हो जाते हैं, आपकी स्तुति में भरोसा शुरू करते हैं, और अहंकार से बोलते हैं। कलीसिया में, वे निरंतर दूसरों को झिड़कते हैं और निरंकुशता से व्यवहार करते हैं। जब आप इस तरह से काम करते हैं, तो आप दूसरों को अथाह गड्ढे में डाल सकते हैं। क्या आप एक अदृश्य चाकू के साथ एक हत्यारे के समान नहीं हैं? किसी के लिए परमेश्‍वर से प्यार करने का क्या मतलब है? जो लोग परमेश्वर से प्यार करते हैं, वे पतरस की तरह होंगे, उन्हें अवश्य परिपूर्ण बनाया गया होगा, और वे अपने रास्ते के अंत तक पहुँच चुके होंगे। केवल परमेश्‍वर निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि कौन उन्हें प्यार करता है, और परमेश्‍वर लोगों के दिलों में देख सकते हैं। लोगों की ऐसी अंतर्दृष्टि नहीं हो सकती है, इसलिए वे दूसरों को कैसे परिभाषित कर सकते हैं? केवल परमेश्‍वर जानता है कि कौन उन्हें वास्तव में प्यार करता है। यहाँ तक ​​कि अगर किसी व्यक्ति का दिल परमेश्‍वर-प्रेमी है, तो वह यह नहीं कहने की हिम्मत करता है कि वह एक परमेश्‍वर-प्रेमी व्यक्ति हैं। परमेश्‍वर ने कहा कि पतरस उन्हें प्यार करता था, लेकिन पतरस ने खुद कभी नहीं कहा कि वह एक परमेश्वर-प्रेमी व्यक्ति है। तो कैसे आप इतनी लापरवाही से दूसरों की प्रशंसा कर सकते हैं? यह मनुष्य का कर्तव्य नहीं है। ऐसा करना पूरी तरह से असंवेदनशीलता है। केवल परमेश्‍वर जानते हैं कि उन्हें कौन प्यार करता है और केवल परमेश्‍वर कह सकते हैं कि कौन उनसे प्यार करता है। यदि कोई व्यक्ति ऐसे दावे करता है, तो वह ग़लत जगह पर खड़ा है। जब आप परमेश्‍वर की स्थिति में खड़े होकर दूसरों की प्रशंसा और सराहना करते हैं, तो आप किसका प्रतिनिधित्व कर रहे हैं? परमेश्‍वर दूसरों की प्रशंसा या सराहना कभी नहीं करेंगे। पतरस को परिपूर्ण बनाने के बाद, इस चरण का काम न होने तक, परमेश्‍वर ने उसे एक मिसाल के रूप में पेश नहीं किया। उस समय, परमेश्‍वर ने किसी को भी ऐसे शब्द कभी नहीं कहे। केवल कार्य के इस चरण को करते समय उन्होंने ऐसी टिप्पणियाँ की। जो कुछ भी परमेश्‍वर करते हैं वह महत्वपूर्ण होता है। किसी व्यक्ति के लिये लापरवाही से ऐसा कहना कितना बेतुका और हास्यास्पद है कि कोई व्यक्ति परमेश्‍वर-प्रेमी है! सबसे पहले, वे ग़लत जगह पर खड़े हैं। दूसरा, निष्कर्ष निकालना मनुष्य का काम नहीं है। लोगों का यशगान करने का क्या मतलब है? इसका अर्थ है कि उन्हें नुकसान पहुँचाना, उन्हें भ्रमित करना, उन्हें बेवकूफ़ बनाना। तीसरा, यदि निष्पक्षता से कहें, तो आप न केवल दूसरों को सही रास्ते पर नहीं लाते हैं, बल्कि आप उनके सहज प्रवेश को भी अस्त-व्यस्त करके उन्हें परेशानी में डाल देते हैं। यदि आप चारों ओर जाकर कहते हैं कि अमुक व्यक्‍ति तो परमेश्‍वर से प्यार करता है, या अमुक व्यक्‍ति परमेश्‍वर के प्रति वफादार है, या अमुक व्यक्‍ति ने बलिदान किया है, तो क्या हर कोई उस व्यक्ति के बाहरी व्यवहार की नकल करने की कोशिश नहीं करेगा? न केवल आप ने लोगों को सही रास्ते पर नहीं रखा, बल्कि आपने उनमें से ज्यादातर को रास्ते से बाहर हटा दिया है। अपने बाहरी कार्यों के लिए गौरवान्वित होने के लिए गुमराह होकर, वे अनजाने में पौलुस के पथ पर चल पड़े हैं। क्या यह प्रभाव नहीं है? ऐसा कहते समय, क्या आप इन समस्याओं से परिचित हैं? आप किसकी स्थिति से खड़े हैं? आप क्या भूमिका निभा रहे हैं? उद्देश्य प्रभाव क्या है? अंतत: आप उन्हें किस मार्ग पर ले गए हैं? आप ने किस हद तक उन्हें फँसा दिया हैं? इस तरह के काम के नतीजे बहुत गंभीर होते हैं। कुछ कार्यकर्ता ऐसे ही हैं। वे न केवल नीचे वालों को जीवन उपलब्ध कराने का काम नहीं कर सकते हैं, बल्कि उनके कार्य विनाशकारी और विघटनकारी हैं, लोगों को पौलुस के रास्ते पर भेजना हैं, फिर भी उन्हें लगता है कि वे अच्छे अगुवे हैं और स्वयं पर गर्व महसूस करते हैं। आपके वर्तमान तरीकों के अनुसार, क्या आप दूसरों को सही रास्ते पर ला सकते हैं? आप दूसरों को वास्तव में किस मार्ग पर ले जा सकते हैं? क्या आप उन सभी को पौलुस के रास्ते पर नहीं ले जा रहे हैं? जिस तरह से मैं इसे देखता हूँ, यह वास्तव में वही मामला है; यह अतिशयोक्ति नहीं है। यह कहा जा सकता है कि आप सभी पौलुस की तरह के अगुवे हैं, दूसरों को पौलुस के रास्ते पर चलाते हैं। और आप अभी भी गौरवान्वित होना चाहते हैं? अगर आप की निंदा नहीं की जाती है तो आप बहुत भाग्यशाली होंगे। ऐसी प्रथाओं से, आप परमेश्‍वर का विरोध कर रहे हैं; आप परमेश्‍वर की सेवा करते हैं, फिर भी आप उनका विरोध करते हैं और उनके काम में बाधा डालने में एक विशेषज्ञ बन जाते हैं। यदि आप यदि इसी तरह से करते रहे, तो आप अंततः एक झूठे धर्मगुरु, एक झूठे कर्मचारी, एक झूठे देवदूत बन जाएँगे। यह राज्य प्रशिक्षण का युग है। यदि आप सच्चाई के लिये प्रयास नहीं करते हैं और अपने काम पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित नहीं करते हैं, तो आप अनजाने में पौलुस के मार्ग पर कदम रखेंगे और आप ठीक पौलुस की तरह के अन्य कई लोगों को जन्म देंगे। क्या आप ऐसे नहीं हो जाएँगे जो परमेश्‍वर का विरोध करते हैं और उनके काम में बाधा पहुँचाते हैं? इसलिए, यदि परमेश्‍वर की सेवा करने वाले लोग लोगों को सही रास्ते पर नहीं डालते हैं और परमेश्‍वर की मंजूरी अर्जित नहीं करते हैं, तो वे परमेश्‍वर का विरोध कर रहे हैं। केवल यही दो रास्ते हैं। कुछ ही लोग हैं जो सफल होते हैं, और अनेक लोग विफल होते हैं। जब महान कार्य कर रहे होते हैं, तो परिणाम बहुत बड़ी सफलता या बड़ी विफलता होता है। आपके लिए, यदि आप बिना मुड़े अपने वर्तमान पथ पर चलते रहेंगे, तो परिणाम बड़ी असफलता होगा। आप एक परमेश्‍वर का विरोध करने वाले कुकर्मी, झूठे कार्यकर्ता, झूठे देवदूत, झूठे धर्मगुरु बन जाएँगे। यदि अब आप सही रास्ते पर चलना शुरू करते हैं, तो वास्तव में पतरस के रास्ते पर चलना आरम्भ करते हैं, तो आप अभी भी परमेश्‍वर-अनुमोदनकार्यकर्ता, देवदूत, अच्छा अगुवा और अच्छा धर्मगुरु बन सकते हैं। यदि आप परिपूर्णता की तलाश नहीं करते हैं, यदि आप परमेश्‍वर के वचन की वास्तविकता में प्रवेश नहीं करना चाहते हैं, तो आप खुद को खतरे में पाएँगे। आपके अज्ञान, अनुभव और अपरिपक्वता की कमी को देखते हुए, जो कुछ भी किया जा सकता है, वह यथार्थ रूप से यथासंभव आपके साथ सच्चाई का संचार करना है ताकि आप समझ सकें। क्योंकि आज का समय पतरस और पौलुस के समय से बहुत अलग है। उन दिनों में, यीशु ने मनुष्य का न्याय करने, मनुष्य को दंड देने या मनुष्य के स्वभाव को बदलने का काम अभी तक नहीं किया था। आज, परमेश्‍वर के देह-धारण ने सत्य को इतने पारदर्शी रूप में व्यक्त किया है। लेकिन आप अभी भी पौलुस के रास्ते पर चल रहे हैं, जो यह दिखाता है कि आपकी व्यापक क्षमताएँ दोषपूर्ण हैं और आगे इंगित करता है कि पौलुस की तरह, आपमें बहुत बुराई है, और आप अपने स्वभाव में भी घमंडी हैं। वह युग आज से अलग था, और संदर्भ अलग था। आज, परमेश्‍वर का वचन बहुत उज्ज्वल और बहुत स्पष्ट है; ऐसा लगता है कि जैसे वह अपने हाथों को आप को सिखाने और नेतृत्व करने के लिए बढ़ा रहे हैं। यदि आप अभी भी ग़लत रास्ता लेते हैं, तो यह वास्तव में अनुचित है। इसके अलावा, आज, दो आकृतियाँ विशिष्ट हैं, एक सकारात्मक और एक नकारात्मक, एक आदर्श और दूसरा एक चेतावनी। यदि आप ग़लत रास्ता लेते हैं, तो इसका मतलब है कि आपने ग़लत चुनाव किया है। यदि आप बहुत बुरे हैं, तो फिर दोषी कोई और नहीं, स्वयं आप हैं। केवल वह जिसके पास सत्य है, वही दूसरों का नेतृत्व कर सकता है। जिसके पास सत्य का अभाव है, वह केवल दूसरों को भटका ​​सकता है।