सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

ख़्यालों से और कल्पनाओं से परमेश्वर को कभी न जान पाओगे

I

परमेश्वर को जानना हमारे अनुभव और कल्पना पर निर्भर नहीं है, निर्भर नहीं है।

उसे परमेश्वर पर, थोपने की जुर्रत ना करना, ना करना।

इंसां का अनुभव, चाहे कितना भी गहरा हो,

मगर उसकी अपनी सीमायें हैं, वो ना तथ्य है ना कोई, सच्चाई है,

परमेश्वर के, स्वभाव से, भी असंगत है,

परमेश्वर के असल सार से भी भिन्न है, भिन्न है।

धर्मी स्वभाव ही परमेश्वर का, उसका सच्चा सार है, उसका सच्चा सार है;

उस पर ना इंसां का हुक्म चलता है, ना वो अपनी किसी रचना-सा है।

वो तो है आख़िर परमेश्वर। रहे भले वो इंसानों में,

मगर वो अपनी रचना का हिस्सा नहीं है;

उसका स्वभाव बदलेगा, ना उसका सार बदलेगा।

II

परमेश्वर का ज्ञान चीज़ों को देखने से,

द्रव्य को अलग करने से, इंसान को समझने से आता नहीं।

परमेश्वर का ज्ञान ऐसे साधनों और पथ से मिलता नहीं।

प्रभु का ज्ञान अनुभव और ख़्यालों पर निर्भर नहीं है।

उनकी सीमाएं हैं, वे ना तथ्य हैं, ना सच्चाई हैं, ना सच्चाई हैं।

धर्मी स्वभाव ही परमेश्वर का, उसका सच्चा सार है, उसका सच्चा सार है;

उस पर ना इंसां का हुक्म चलता है, ना वो अपनी किसी रचना-सा है।

वो तो है आख़िर परमेश्वर। रहे भले वो इंसानों में,

मगर वो अपनी रचना का हिस्सा नहीं है;

उसका स्वभाव बदलेगा, ना उसका सार बदलेगा।

जान पायेगा ना कोई प्रभु को, सिर्फ़ अपनी कल्पना से।

कर लो उसे स्वीकार जो भी मिलता है प्रभु से,

परमेश्वर, को जानने का पथ यही बस यही है:

थोड़ा-थोड़ा करके उसका अनुभव तुम लेते चलो।

III

वो दिन आएगा जब सच्चाई के लिये तुम्हारे सहयोग की वजह से,

तुम्हारी भूख-प्यास की वजह से

उसे जानने-समझने के लिये, परमेश्वर तुम्हें प्रबुद्ध करेगा।

धर्मी स्वभाव ही परमेश्वर का, उसका सच्चा सार है, उसका सच्चा सार है;

उस पर ना इंसां का हुक्म चलता है, ना वो अपनी किसी रचना-सा है।

वो तो है आख़िर परमेश्वर। रहे भले वो इंसानों में,

मगर वो अपनी रचना का हिस्सा नहीं है;

उसका स्वभाव बदलेगा, ना उसका सार बदलेगा।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:विश्राम में प्रवेश करने की मानवता के लिए एकमात्र राह

अगला:परमेश्वर को इंतज़ार है उनकी मण्डली को पाने का जो उसके साक्षी हैं

शायद आपको पसंद आये

प्रश्न 24: तुम यह प्रमाण देते हो कि प्रभु यीशु पहले से ही सर्वशक्तिमान परमेश्वर के रूप में वापस आ चुका है, कि वह पूरी सच्चाई को अभिव्यक्त करता है जिससे कि लोग शुद्धिकरण प्राप्त कर सकें और बचाए जा सकें, और वर्तमान में वह परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य को कर रहा है, लेकिन हम इसे स्वीकार करने की हिम्मत नहीं करते। यह इसलिए है क्योंकि धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों का हमें बहुधा यह निर्देश है कि परमेश्वर के सभी वचन और कार्य बाइबल में अभिलेखित हैं और बाइबल के बाहर परमेश्वर का कोई और वचन या कार्य नहीं हो सकता है, और यह कि बाइबल के विरुद्ध या उससे परे जाने वाली हर बात विधर्म है। हम इस समस्या को समझ नहीं सकते हैं, तो तुम कृपया इसे हमें समझा दो। बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है