सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

ईसाई का अनुभव और गवाही: मैंने वैवाहिक जीवन में कलह के समाधान का मार्ग पाया (भाग 2)

200

ली क्वान

बहरहाल, जब मैंने अपनी पत्नी के साथ सुसमाचार को साझा किया, तो उसने इसे स्वीकार नहीं किया। फिर, मैंने कलीसिया के भाई-बहनों से कहा कि वे आएँ और मेरी पत्नी के साथ सुसमाचार को साझा करें, लेकिन वह अभी भी सुनने की इच्छुक नहीं थी और वह उन्हें मेहमानों के रूप में भी नहीं चाहती थी। इन परिस्थितियों के सन्दर्भ में, मैं अपनी पत्नी के लिए अपनी उत्सुक इच्छाओं को केवल परमेश्वर को सौंप सकता था। एक दिन, मैंने परमेश्वर के वचन में पढ़ा: "वास्तविक जीवन में तुम्हारा व्यवहार और प्रकाशन परमेश्वर के लिए गवाही है, वे मनुष्य के द्वारा जीए जाते हैं और परमेश्वर के लिए गवाही ठहरते हैं, और वास्वत में यही परमेश्वर के प्रेम का आनन्द लेना है; जब इस बिन्दु तक तुम्हारा अनुभव होता है, तो उसमें एक प्रभाव की उपलब्धि हो चुकी होती है। तुम असली जीवन जी रहे होते हैं, और तुम्हारे प्रत्येक कार्य को अन्य लोग प्रशंसा से देखते हैं, तुम्हारा बाह्य रूप साधारण होता है परन्तु तुम अत्यंत धार्मिकता का जीवन जीते हो... दूसरों के द्वारा प्रशंसा प्राप्त करते हैं - और यह वे लोग हैं जो गवाही देते हैं और परमेश्वर की अभिव्यक्ति हैं" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर से प्रेम करने वाले लोग हमेशा के लिए उसके प्रकाश में रहेंगे")। "लोगों के साथ जो कुछ भी होता है यह तब होता है जब परमेश्वर लोगों से अपेक्षा रखता है कि वे उसके लिए गवाही के लिए दृढ़ बने रहें। इस क्षण में तेरे साथ कुछ भी बड़ा नहीं घटा है, और तू महान गवाही नहीं दे रहा है, परन्तु तेरे जीवन का प्रत्येक विस्तार परमेश्वर के लिए गवाही से सम्बन्ध रखता है। यदि तू अपने भाइयों और बहनों, परिवार के सदस्यों और अपने आसपास के प्रत्येक लोगों की प्रशंसा को जीत सके; यदि एक दिन, अविश्वासी आएं और जो कुछ तू करता है उसकी तारीफ करें, और देखें कि जो कुछ परमेश्वर करता है वह अद्भुत होता है, तो तूने गवाही दे दी होगी" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "केवल परमेश्वर को प्रेम करना ही वास्तव में परमेश्वर पर विश्वास करना है")। परमेश्वर के वचन ने मुझे वह राह दिखाई जिसे मुझे अपनाने की ज़रूरत थी, और वह राह यह थी कि हर किसी को अपने पुराने स्वभाव को और अपनी खुद की दुराचारी जीवन-शैली को बदलने के लिए परमेश्वर के वचन का उपयोग करना चाहिए। मेरे लिए परमेश्वर की गवाही देने और मेरी पत्नी तक लाभ और आत्मिक उन्नति को पहुँचाने का एकमात्र तरीका यह था कि मैं मेरी पत्नी को मुझमें हुए इन परिवर्तनों को और परमेश्वर द्वारा मुझ पर किए गए कार्य को देखने दूँ। मैंने उस बीते समय के बारे में सोचा जब परमेश्वर में विश्वास करने से पहले मैं शैतान के नियमों के आधार पर जीवन जीता था। मैं सुखवाद में व्यस्त था और मैं वैसा नहीं था जैसा कि एक मनुष्य को होना चाहिए। यह पूरी तरह शैतान की राक्षसी छवि ही थी जिसने मेरी पत्नी और मेरे बच्चों को बहुत नुकसान पहुँचाया था। अब, मेरी पत्नी ने मेरे खिलाफ़ नाराज़गी और पूर्वाग्रह को बना रखा था और मुझे उसके लिए गुंजाईश रखने की ज़रूरत थी। और भी, मुझे अब परमेश्वर में विश्वास था और मुझे परमेश्वर के वचन के आधार पर खुद को संचालित करना था और एक वास्तविक व्यक्ति की तरह जीना था। परमेश्वर की गवाही देने के लिए मुझे सच्चाई की वास्तविकता को जीना होगा।

इसके बाद, मैंने परमेश्वर के वचन को अभ्यास में डालना शुरू कर दिया और अब मैं पहले अपने बारे में नहीं सोचता था। मैंने अब अपने ही सुख-भोग पर पूरी तरह से ध्यान न केंद्रित करने का प्रयास भी किया, बल्कि मेरी घरेलू जिम्मेदारियों को पूरा करने की खातिर सब कुछ त्यागने का प्रयास किया। जब मैंने देखा कि मेरी पत्नी दुकान के लिए सामान खरीदने जाने के लिए सुबह जल्दी उठती है, तो मैं भी आध्यात्मिक भक्ति पाने के लिए परमेश्वर के वचन को पढ़ने हेतु जल्दी उठने लगा, और फिर घर के कामों में मेरी पत्नी की मदद करता था। मैं नाश्ता बनाता, घर को साफ-सुथरा रखता, और कभी-कभी कपड़े धोने का काम भी कर देता, और फिर मैं कार्यस्थल पर अपने कर्मचारियों के कामों को व्यवस्थित करने के लिए जाता था। काम से जुड़े सामाजिक दायित्वों को बनाए रखने के लिए अब मैं मानवजाति के तरीकों का उपयोग नहीं करता था। इसके बजाय, मैंने परमेश्वर के सामने प्रार्थना की और प्रलोभन से दूर रहने तथा उन बुरी आदतों को तोड़ने के लिए उसके ज्ञान पर भरोसा किया। जब मैंने इन चीज़ों को किया तो मुझे मन की शांति की आश्चर्यजनक भावना महसूस हुई। उसके साथ ही, चूँकि मैं सच्चाई को अभ्यास में डाल रहा था, मुझे परमेश्वर के आशीर्वाद भी नज़र आने लगे। हालांकि मैं सामाजिक घटनाओं में भाग नहीं लेता था, फिर भी मेरे काम की सभी परियोजनाओं से मैंने आसानी से धन कमाया। जब मैं अपनी आय का हिसाब किया, तो मैंने अपनी पत्नी को पैसे दिए और उससे कहा, "इसका तुम्हारी आवश्यकता के अनुसार इस्तेमाल करो। अतीत में, मैंने हमेशा शराब पीने में अपना पैसा बर्बाद कर दिया था और मैं वास्तव में गलत राह पर था। मैंने तुम्हारे लिए बहुत कठिनाई पैदा की थी। अब, मैं चाहता हूँ कि तुम ही पैसे का प्रबंधन करो!" यह सुनकर, मेरी पत्नी ने मुझे छेड़ते हुए कहा, "ओह? तो अब तुम घर के कुछ काम कर पाते हो और घर को घर समझते हो। क्या तुम्हारा विवेक जाग गया है?" जब मैंने इन शब्दों को सुना, तो उस उद्धार के लिए मैं चुपचाप आभारी हुआ जो परमेश्वर ने मुझे दिया था। इसके अलावा, अपने बच्चों की पढ़ाई में मदद करने के लिए मैं जो कुछ भी कर सकता था, वह मैंने करना शुरू कर दिया और मातापिता-शिक्षक सम्मेलनों में सक्रिय हो गया। भोजन के बाद, मैं अपनी पत्नी और बच्चों के साथ परमेश्वर में विश्वास करने के अपने अनुभव के बारे में बातचीत करता और परमेश्वर ने मुझे कैसे निर्देशित और परिवर्तित किया था, इसकी गवाही देता था। धीरे-धीरे, मेरा परिवार आपस में अधिक करीब होता गया।

कुछ समय बीतने के बाद, कलीसिया से भाई-बहनें मेरे घर सहभागिता के लिए आईं और मेरी पत्नी हमें सुनने के लिए पास में बैठ गई। भाइयों और बहनों से मेरी पत्नी ने सक्रिय रूप से उन समस्याओं के बारे में सवाल पूछे जिनका समाधान नहीं होता है, और उन्होंने जवाब में उसे परमेश्वर के वचन बताये और अनुसरण के लिए उसे एक मार्ग दिखाया। मैंने मेरी पत्नी को उन भाई-बहनों से यह कहते हुए सुना, "आपकी सहभागिता ने मेरी उन वास्तविक कठिनाइयों को हल कर दिया है जिनका मैं सामना कर रही थी, मैं आप सभी के प्रति बहुत आभारी हूँ! जब भी आपके पास समय हो, आप कृपया वापस आएँ और हमसे संपर्क करें। यदि ली क्वान घर पर न भी हों, तो भी आपका स्वागत है।" जब मैंने अपनी पत्नी को यह कहते हुए सुना तो मुझे अविश्वसनीय खुशी हुई। यह वास्तव में परमेश्वर द्वारा किये गए रहस्यमय कार्य का एक उदाहरण है जिससे मेरी पत्नी एक परिवर्तन को हासिल कर सकी थी!

एक दिन, मैं घर आया और मैंने मेरी पत्नी को परमेश्वर के वचन को बड़े मन से पढ़ते देखा। मैं जल्दी से उसके पास गया और उत्साहित होकर मैंने पूछा, "तुमने परमेश्वर के वचन को कब से पढ़ना शुरू कर दिया?" कुछ लजाते हुए उसने जवाब दिया, "मैं वास्तव में कुछ समय से इन्हें देखती रहती हूँ, साथ ही साथ स्तुति-गीतों को भी सुनती हूँ। जब मैंने परमेश्वर पर विश्वास करने के बाद तुम में आए परिवर्तनों को देखा और मैंने यह भी देखा कि हमारे घर में आने वाले भाई-बहन तुम्हारे पूर्व सुखवादी मित्रों से बहुत अलग हैं और वे कितने भले और सम्माननीय हैं, तो मुझे लगा कि यही सच्चा मार्ग था। धीरे-धीरे, मैंने परमेश्वर के वचन को पढ़ना, स्तुति-गीतों को सुनना और सुसमाचार के वीडियो को देखना शुरू कर दिया। अब, मैंने उन्हें हर दिन पढ़ती हूँ..."। जब मैंने मेरी पत्नी को ये बातें कहते हुए सुना, तो मुझे वास्तव में यह अनुभव होना शुरू हो गया कि केवल परमेश्वर ही लोगों को बदल सकता और बचा सकता है और मैंने अपने दिल में परमेश्वर की निरंतर प्रशंसा की। परमेश्वर ने मुझे अवसाद और पीड़ा से बचा लिया था और उसने मुझे अपने वचनों से परिशुद्ध और परिवर्तित किया था। परमेश्वर ने मुझे एक ऐसे व्यक्ति की तरह जीने के योग्य बनाया जो कुछ सच्चा हो, और मेरे माध्यम से, मेरी पत्नी ने देखा कि परमेश्वर कितना शक्तिशाली है, और इस तरह उसे उद्धार प्राप्त हुआ। परमेश्वर का कार्य वास्तव में अद्भुत है, और वह बहुत बुद्धिमान और हमारे प्यार के योग्य है! मुझे परमेश्वर का महान उद्धार मिला है और मैं वास्तव में उसका धन्यवाद और उसकी प्रशंसा करता हूँ! इसके बाद, मेरे बच्चों ने परमेश्वर में विश्वास रखने के मार्ग पर चलना शुरू कर दिया। हम अक्सर एक परिवार के रूप में परमेश्वर के वचनों को पढ़ते हैं, और हम परमेश्वर के वचन के बारे में अपने अनुभवों और ज्ञान पर सहभागिता करना पसंद करते हैं। पूरा परिवार परमेश्वर के प्रेम के उष्म आलिंगन में आनंद महसूस करता है। मेरी पत्नी ने जब परमेश्वर के अंतिम दिनों के कार्य को स्वीकार कर लिया तो उसके बाद, उसका स्वभाव अधिक प्रसन्नचित्त हो गया और उसका पूरा मानसिक रवैया निरंतर बेहतर होता गया। मेरे बड़े भाई और उनकी पत्नी दोनों ने इस बात पर ध्यान दिया कि परमेश्वर में विश्वास करने के बाद मेरी पत्नी कितनी बदल चुकी थी। वह बहुत जीवंत और बातूनी हो गई थी; ऐसा लगता था कि वह पूरी तरह से कोई और व्यक्ति थी। मेरी भतीजी ने भी मुझे देखा, वह हैरान हुई, और उसने कहा, "अंकल, आपका रंग अब बहुत अच्छा हो गया है और आपकी झुर्रियाँ चली गई हैं। आपका शरीर कुछ भर आया है; अब आप कम उम्र के लगते हैं!" हमारे सारे रिश्तेदारों और पड़ोसियों ने देखा कि हमारा परिवार कितना अच्छा हो गया था और वे हमें प्रशंसा के साथ देखते थे। यह विशेष रूप से तब होता था, जब मैं अपनी पत्नी को हमारे कारोबार को चलाने में मदद करता था और उसके आस-पास की महिलाएँ कहती थीं, "देखो, वे पति-पत्नी के रूप में कितने खुश हैं। लगता है उन्हें एक ख़जाना मिल गया है!" जब मैंने लोगों को ऐसी बातें कहते हुए सुना तो मुझे अन्दर से बहुत अच्छा लगा। मैं पूरी तरह से जानता था कि यह सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उद्धार का कार्य था और उसकी महानता ने मेरे विवाह को बचा लिया था। मेरे और मेरे परिवार के उद्धार के लिए मैं परमेश्वर के प्रति अपने दिल से कृतज्ञता व्यक्त करना चाहता हूँ!

मेरा परिवार टूट पड़ने के कगार से आज के सुमेल और खुशी तक किस तरह पहुँचा, जब मैं इसके बारे में सोचता हूँ, तो मैं भावना से अभिभूत हो जाता हूँ। यह सर्वशक्तिमान परमेश्वर के मार्गदर्शन के माध्यम से है कि मेरी पत्नी और मैं एक ही मार्ग पर एक साथ चलते हैं और मैंने वह हासिल कर लिया है जिसकी अपने परिवार के लिए मैंने बहुत समय से चाह की थी: एक शांतिपूर्ण, खुशहाल परिवार और जीवन। इस अनुभव ने मुझे वास्तव में दिखाया है कि केवल परमेश्वर के सामने आकर, उसके उद्धार को स्वीकार कर और उसके वचनों को अभ्यास में डालकर ही, किसी व्यक्ति को आशीषें और सुरक्षा मिल सकती हैं और फिर सारी पीड़ा या कठिनाई जो कोई भी व्यक्ति सहता है, हल हो जाएँगी! सर्वशक्तिमान परमेश्वर का अंतिम दिनों का कार्य खुशी का सच्चा मार्ग है! अबसे आगे, मैं परमेश्वर का निष्ठापूर्वक अनुसरण करूँगा और परमेश्वर के उद्धार रुपी अनुग्रह का ऋण चुकाने के लिए सही मार्ग पर चलता रहूँगा!

सम्बंधित मीडिया