साझा करें:

एक ईसाई संगीतमय वृत्तचित्र—शीघ्र आ रहा है!

परमेश्वर कहते हैं: "इस विशाल ब्रह्मांड में ऐसे कितने प्राणी हैं जो सृष्टि के नियम का बार-बार पालन करते हुए, एक ही निरंतर नियम पर चल रहे हैं और प्रजनन कार्य में लगे हैं। ... वह मानवजाति को अपने अस्तित्व से अवगत कराएगा, अपनी सम्प्रभुता पर विश्वास कराएगा, अपने कार्यों को दिखाएगा, और अपने राज्य में वापस लाएगा ।"

परिचय

पूरे विशाल ब्रह्मांड में सभी आकाशीय पिण्ड सटीक रीति से, अपनी-अपनी कक्षाओं में भ्रमण करते हैं। आकाश के तले, पहाड़ों, नदियों और झीलों की अपनी-अपनी सीमाएं होती हैं, और सभी प्राणी जीवन के नियमों के अनुसार चार मौसमों में रहते हुए प्रजनन करते हैं ..इन सबको अत्यंत विशिष्टता से आकार दिया गया है-क्या कोई शक्तिमान है जो इन सब पर शासन और इनकी व्यवस्था कर रहा है? इस जगत में रोते हुए आने से लेकर, हमने जीवन में अलग-अलग भूमिकाएं निभाई हैं। जन्म से बुढ़ापा, फिर रोग, फिर मृत्यु, हम ग़म और ख़ुशी के बीच जीते रहते हैं ... दरअसन दरअसल कहाँ से आता है और हम वास्तव में कहाँ चले जाते हैं? हमारी नियति को कौन नियंत्रित कर रहा है? प्राचीन समय से लेकर आधुनिक समय तक, महान राष्ट्रों का उदय हुआ, अनेक वंश आए और गए, अनेक देशों और मनुष्यों का उत्थान हुआ और फिर वे काल के गाल में समा गए ... प्रकृति के नियमों की तरह, मानवता के विकास में भी अनंत रहस्य निहित हैं। क्या आप इनके उत्तर जानना चाहेंगे? वह जिसका हर चीज़ पर प्रभुत्व है नामक डॉक्यूमेंटरी आपको इसके मूल तक पहुँचने का रास्ता दिखाएगी, हर रहस्य पर से पर्दा हटाएगी!

ट्रेलर

परमेश्वर के सामर्थ्य की गवाही

साझा करें

ब्रह्मांड की खोज

साझा करें

जीवन के रहस्यों की खोज

साझा करें

आपदा पर प्रतिबिंबन

साझा करें

राष्ट्रों का उदय और पतन

साझा करें

व्यवस्था जारी करना

साझा करें

झलक 1

क्या मानवजाति वास्तव में स्वयं के भाग्य के नियंत्रण में है?

1
2
3
4

झलक 2

इंसान अपने अस्तित्व के लिये किस पर निर्भर है?

झलक 3

मानव इतिहास के विकास का संचालक कौन है?

चित्र

अधिक

ट्रेलर

नीचे स्क्रोल करें
ऊपर स्क्रोल करें
नीचे स्क्रोल करें