सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

अंत के दिनों में परमेश्वर के देहधारण के पीछे का उद्देश्य

I

सृष्टि से ले कर अब तक, केवल अंत के दिनों में,

ईश्वर ने देहधारण किया करने को कार्य इतना महान।

इतना सहा दर्द, इतना नम्र वो है कि खुद इंसान बना।

बावजूद इन सब के, उसके कार्य में न कोई देर।

वो कर रहा है अब भी अपना कार्य अपनी योजना के अनुसार।

ईश्वर के इस कार्य का उद्देश्य है प्राप्त लोगों को करना,

है उनका उद्धार करना, वे उसके लिए देंगे गवाही।

और उसकी महिमा की प्राप्ति होगी,

और उसकी महिमा की प्राप्ति होगी।

II

वो देह में आया जीतने मानव को,

पूर्ण करेगा जिन्हें वो प्रेम करे।

वो खुद देखना चाहता है देते हुए उनको गवाही,

ऐसे लोग बहुत संख्या में नहीं, न वो एक या दो हैं।

विभिन्न देशों से और वे विभिन्न जातियों से हैं।

वो कर रहा है अब भी अपना कार्य अपनी योजना के अनुसार।

ईश्वर के इस कार्य का उद्देश्य है

प्राप्त लोगों को करना, है उनका उद्धार करना,

वे उसके लिए देंगे गवाही।

और उसकी महिमा की प्राप्ति होगी,

और उसकी महिमा की प्राप्ति होगी।

उद्देश्य यही है, उद्देश्य यही है।

उद्देश्य यही है, उद्देश्य यही है।

III

ईश्वर का न्याय, कार्य और वचन, उसके रहस्य जो हैं प्रकट

इन सिद्ध लोगों के लिए ही ये सब हैं।

इनके ही लिए, ईश्वर कहता है सच

और जीवन में करने को प्रवेश बतलाता है।

इन्हीं के लिए वो हुआ देहधारी, करे वादे और दे अनुग्रह।

ईश्वर दे सच उन्हें जिन्हें वो करता है सिद्ध, दुष्टों को नहीं देता है,

उन्हें जो सत्य का अभ्यास करते हैं,

जो हैं ईश्वर के लिए खुद को व्यय करते।

ईश्वर दे सच उन्हें जिन्हें वो करता है सिद्ध, दुष्टों को नहीं देता है,

उन्हें जो सत्य का अभ्यास करते हैं,

जो हैं ईश्वर के लिए खुद को व्यय करते,

जो हैं ईश्वर के लिए खुद को व्यय करते।

वो अब भी अपना कार्य कर रहा है,

वो अब भी अपना कार्य कर रहा है,

वो अब भी अपना कार्य कर रहा है अपनी योजना के अनुसार।

ईश्वर के इस कार्य का उद्देश्य है प्राप्त लोगों को करना,

है उनका उद्धार करना, वे उसके लिए देंगे गवाही।

और उसकी महिमा की प्राप्ति होगी,

और उसकी महिमा की प्राप्ति होगी।

और उसकी महिमा की प्राप्ति होगी।

उद्देश्य यही है, उद्देश्य यही है।

उद्देश्य यही है, उद्देश्य यही है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:परमेश्वर उन्हें आशीष देता है जो ईमानदार हैं

अगला:परमेश्वर के अधिकार के तहत शैतान कुछ नहीं बदल सकता

शायद आपको पसंद आये