01परमेश्वर की वाणी सुनो और उनके सामने स्वर्गारोहण करो—प्रभु के साथ दावत में भाग लो

बाइबल की भविष्यवाणियों के अनुसार, परमेश्वर आपदाओं से पहले आएँगे। अब जब कि एक के बाद एक आपदाएँ आ रही हैं, तो कैसे हम परमेश्वर का स्वागत कर सकते हैं, कैसे परमेश्वर के सिंहासन के सामने स्वर्गारोहण कर सकते हैं, और कैसे प्रभु के साथ दावत में भाग ले सकते हैं? प्रभु यीशु ने कहा, "देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा और वह मेरे साथ" (प्रकाशितवाक्य 3:20)। "आधी रात को धूम मची: 'देखो, दूल्हा आ रहा है! उससे भेंट करने के लिये चलो'" (मत्ती 25:6)। इससे हम देख सकते हैं कि वास्तव में स्वर्गारोहित होने के लिए, हमें उन बुद्धिमान कुंवारियों की तरह बनना होगा जो परमेश्वर की आवाज़ को सुनना सीखती हैं और दूल्हे का स्वागत करती हैं।

संदर्भ के लिए बाइबल के पद

"देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा और वह मेरे साथ" (प्रकाशितवाक्य 3:20)।

"जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है" (प्रकाशितवाक्य 2:7)।

"मेरी भेड़ें मेरा शब्द सुनती हैं; मैं उन्हें जानता हूँ, और वे मेरे पीछे पीछे चलती हैं" (यूहन्ना 10:27)।

02स्वर्गारोहण करने और प्रभु के साथ दावत में शामिल होने के लिए, तुम्हें परमेश्वर के अंतिम दिनों के न्याय के कार्य को स्वीकार करना होगा

प्रभु को लौटे कुछ समय हो गया है, और वे सच्चाइयों को व्यक्त करते रहे हैं और अंतिम दिनों में, एक ही बार में हमेशा के लिए, वे मानव जाति की पापी प्रकृति और भ्रष्ट स्वभावों को हल करने के लिए न्याय का कार्य कर रहे हैं, ताकि लोगों को परिशुद्ध किया, और पूरी तरह से बचाया, जा सके। कई लोगों ने परमेश्वर के अंतिम दिनों के न्याय को स्वीकार कर लिया है; उनका परमेश्वर के सामने स्वर्गारोहण हुआ है और अब वे प्रभु के साथ दावत में शामिल होते हैं। लेकिन कुछ लोग भ्रमित हैं—ऐसा क्यों है कि केवल अंतिम दिनों में परमेश्वर के न्याय के कार्य को स्वीकार करने से ही लोग स्वर्गारोहण कर सकते हैं और परमेश्वर के साथ दावत में शामिल हो सकते हैं?

संदर्भ के लिए बाइबल के पद

"मैं तुम से सच सच कहता हूँ कि जो कोई पाप करता है वह पाप का दास है। दास सदा घर में नहीं रहता; पुत्र सदा रहता है" (यूहन्ना 8:34-35)।

"सबसे मेल मिलाप रखो, और उस पवित्रता के खोजी हो जिसके बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा" (इब्रानियों 12:14)।

"सत्य के द्वारा उन्हें पवित्र कर: तेरा वचन सत्य है" (यूहन्ना 17:17)।

"मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा परन्तु जो कुछ सुनेगा वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा" (यूहन्ना 16:12-13)।

"यदि कोई मेरी बातें सुनकर न माने, तो मैं उसे दोषी नहीं ठहराता; क्योंकि मैं जगत को दोषी ठहराने के लिये नहीं, परन्तु जगत का उद्धार करने के लिये आया हूँ। जो मुझे तुच्छ जानता है और मेरी बातें ग्रहण नहीं करता है उसको दोषी ठहरानेवाला तो एक है: अर्थात जो वचन मैं ने कहा है, वही पिछले दिन में उसे दोषी ठहराएगा" (यूहन्ना 12:47-48)।

"क्योंकि वह समय आ पहुँचा है कि पहले परमेश्‍वर के लोगों का न्याय किया जाए" (1 पतरस 4:17)।

03केवल परमेश्वर के न्याय और परिशोधन को पाना और सत्य को तुम्हारे जीवन के रूप में हासिल करना, प्रभु के साथ दावत में भाग लेना है

जब हम परमेश्वर के अंतिम दिनों के न्याय के कार्य को स्वीकार करते हैं, तो हमें परमेश्वर के वचनों के न्याय, ताड़ना, परीक्षणों और परिशोधन का अनुभव करना ही होगा। तभी हमारे भ्रष्ट स्वभावों को परिशुद्ध और परिवर्तित किया जा सकता है, और अंततः हम सत्य को अपने जीवन के ही रूप में हासिल कर लेंगे। केवल यही वास्तव में प्रभु के साथ दावत में भाग लेना है।

संदर्भ के लिए बाइबल के पद

"यह लिख, कि धन्य वे हैं, जो मेम्ने के विवाह के भोज में बुलाए गए हैं" (प्रकाशितवाक्य 19:9)।

"यहोवा की यह भी वाणी है, कि इस देश के सारे निवासियों की दो तिहाई मार डाली जाएगी, और बची हुई तिहाई उस में बनी रहेगी। उस तिहाई को मैं आग में डालकर ऐसा निर्मल करूँगा, जैसा रूपा निर्मल किया जाता है, और ऐसा जाँचूँगा जैसा सोना जाँचा जाता है। वे मुझ से प्रार्थना किया करेंगे, और मैं उनकी सुनूँगा। मैं उनके विषय में कहूँगा, 'ये मेरी प्रजा हैं,' और वे मेरे विषय में कहेंगे, 'यहोवा हमारा परमेश्‍वर है'" (जकर्याह 13:8-9)।

"धन्य वे हैं, जो अपने वस्त्र धो लेते हैं, क्योंकि उन्हें जीवन के वृक्ष के पास आने का अधिकार मिलेगा, और वे फाटकों से होकर नगर में प्रवेश करेंगे" (प्रकाशितवाक्य 22:14)।

संदर्भ के लिए लेख

मैंने जीवन जल का आनंद लिया है

मैंने जीवन जल का आनंद लिया है

जीने का शानदार तरीका

जीने का शानदार तरीका

अहंकार को दूर कर, हम बनते कामयाब इंसान

अहंकार को दूर कर, हम बनते कामयाब इंसान

शोहरत और हैसियत की बंदिशों से आज़ाद

शोहरत और हैसियत की बंदिशों से आज़ाद

अधिक उत्कृष्ट सामग्री

अधिक उत्कृष्ट सामग्री

क्या तुमने परमेश्वर की वाणी सुनी?
स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कैसे करें
स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कैसे करें
किस तरह इंसान भ्रष्टता से स्वच्छ हो सकता है
बुद्धिमान कुँवारी कैसे बनें और दूल्हे का स्वागत कैसे करें