सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं
Array
(
    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/gospel-qa.html
    [categorys] => Array
        (
            [0] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/desolation-of-churches.html
                    [title] => कलीसियाओं की वीरानी
                    [slug] => desolation-of-churches
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 10863
                                    [slug] => gospel-truth-38
                                    [title] =>  हाल के वर्षों में, धार्मिक संसार में विभिन्न मत और संप्रदाय अधिक से अधिक निराशाजनक हो गए हैं, लोगों ने अपना मूल विश्वास और प्यार खो दिया है और वे अधिक से अधिक नकारात्मक और कमज़ोर बन गए हैं। हम उत्साह का मुरझाना भी देखते हैं और हमें लगता है कि हमारे पास प्रचार करने के लिए कुछ नहीं है और हम सभी ने पवित्र आत्मा के कार्य को खो दिया है। कृपया हमें बताओ, पूरी धार्मिक दुनिया इतनी निराशाजनक क्यों है? क्या परमेश्वर वास्तव में इस दुनिया से नफरत करता है और क्या उसने इसे त्याग दिया है? हमें 'प्रकाशित वाक्य' पुस्तक में धार्मिक दुनिया के प्रति परमेश्वर के शाप को कैसे समझना चाहिए?
                                    [date] => 2018-03-20 11:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-38.html
                                )

                        )

                )

            [1] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/rapture.html
                    [title] => स्वर्गारोहण
                    [slug] => rapture
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 10901
                                    [slug] => gospel-truth-1
                                    [title] =>  हमारा मानना है कि परमेश्वर की वापसी का अर्थ है कि विश्वासियों को सीधे स्वर्ग के राज्य में उठा लिया जाता है, क्योंकि यह बाइबल में लिखा हुआ है: "तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे उनके साथ बादलों पर उठा लिये जाएँगे कि हवा में प्रभु से मिलें; और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे" (1 थिस्सलुनीकियों 4:17)। तुम प्रमाणित कर रहे हो कि प्रभु यीशु वापस आ गया है, तो हम अब पृथ्वी पर क्यों हैं और अभी तक स्वर्गारोहित क्यों नहीं हुए हैं?
                                    [date] => 2018-03-19 06:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-1.html
                                )

                            [1] => Array
                                (
                                    [ID] => 8735
                                    [slug] => what-is-the-rapture-before-the-disaster
                                    [title] => विपत्ति के पहले स्वर्गारोहण क्या है? ऐसा विजयी किसे कहते हैं जिसे विपत्ति से पहले पूर्ण किया जाता हो?
                                    [date] => 2018-03-21 21:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-the-rapture-before-the-disaster.html
                                )

                        )

                )

            [2] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/distinguish-God-s-voice.html
                    [title] => परमेश्वर की आवाज़ को कैसे पहचानें
                    [slug] => distinguish-God-s-voice
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 8726
                                    [slug] => what-are-the-wise-virgins
                                    [title] => बुद्धिमान कुंवारियाँ कौन हैं? मूर्ख कुंवारियाँ कौन हैं?
                                    [date] => 2018-03-21 19:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-are-the-wise-virgins.html
                                )

                        )

                )

            [3] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/truth-of-the-incarnation.html
                    [title] => देहधारण का सत्य
                    [slug] => truth-of-the-incarnation
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 10699
                                    [slug] => gospel-truth-6
                                    [title] =>  परमेश्वर यीशु देहधारी परमेश्वर था और कोई भी इस से इन्कार नहीं कर सकता। अब तुम यह गवाही दे रहे हो कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर ही देह में लौटा हुआ प्रभु यीशु है, परन्तु धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों का कहना है कि तुम जिसमें विश्वास करते हो वह सिर्फ एक व्यक्ति है, वे कहते हैं कि तुम लोगों को धोखा दिया गया है, और हम इसका भेद समझ नहीं पाते हैं। उस समय जब प्रभु यीशु देह बना और छुटकारे का कार्य करने के लिए आया, यहूदी फरीसियों ने भी कहा कि प्रभु यीशु केवल एक व्यक्ति था, कि जो कोई भी उस पर विश्वास करता था, वह धोखा खा रहा था। इसलिए, हम देह-धारण के बारे में सच्चाई के इस पहलू का अनुसरण करना चाहते हैं। वास्तव में देह-धारण क्या होता है? और देह-धारण का सार क्या है? कृपया हमारे लिए इस बारे में सहभागिता करो।
                                    [date] => 2018-03-19 09:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-6.html
                                )

                            [1] => Array
                                (
                                    [ID] => 7772
                                    [slug] => gospel-truth-7
                                    [title] =>  व्यवस्था के युग का कार्य करने के लिए परमेश्वर ने मूसा का उपयोग किया, तो अंतिम दिनों में परमेश्वर अपने न्याय के कार्य को करने के लिए लोगों का इस्तेमाल क्यों नहीं करता है, बल्कि इस कार्य को उसे खुद करने के लिए देह बनने की ज़रूरत क्यों है?
                                    [date] => 2018-03-19 10:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-7.html
                                )

                            [2] => Array
                                (
                                    [ID] => 10903
                                    [slug] => gospel-truth-8
                                    [title] =>  अनुग्रह के युग में, परमेश्वर मानवजाति की पाप-बलि के रूप में सेवा करने के लिए देह बना, और पापों से उन्हें बचा लिया। अंतिम दिनों में परमेश्वर सच्चाई को प्रकट करने और न्याय के अपने कार्य को करने के लिए देह फिर से बन गया है, ताकि मनुष्य को पूरी तरह से शुद्ध किया जा सके और बचाया जा सके। तो मानव जाति को बचाने का कार्य करने के लिए परमेश्वर को दो बार देह-धारण की आवश्यकता क्यों पड़ती है? और परमेश्वर का दो बार देह-धारण करने का वास्तविक महत्व क्या है?
                                    [date] => 2018-03-19 11:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-8.html
                                )

                        )

                )

            [4] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/way-of-eternal-life.html
                    [title] => शाश्वत जीवन का मार्ग
                    [slug] => way-of-eternal-life
                    [article] => Array
                        (
                        )

                )

            [5] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/location-of-God-s-work.html
                    [title] => अंत के दिनों में परमेश्वर के कार्य का स्थान
                    [slug] => location-of-God-s-work
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 11170
                                    [slug] => gospel-truth-31
                                    [title] =>  बाइबल में जकर्याह की पुस्तक में, यह भविष्यवाणी की गई है: "यरूशलेम नगर के पूर्व में जैतून पहाड़ है। प्रभु उस दिन उस पहाड़ पर खड़ा होगा।…" परमेश्वर की वापसी निश्चित रूप से यहूदिया में जैतून के पहाड़ पर होगी, और फिर भी तुम गवाही देते हो कि प्रभु यीशु पहले ही वापस आ चुका है, चीन में प्रकट हुआ है और कार्यरत है। चीन एक नास्तिक देश है और यह सबसे अंधकारमय, सबसे पिछड़ा राष्ट्र है जो परमेश्वर को सबसे गंभीर रूप से नकारता है, तो प्रभु की वापसी चीन में कैसे हो सकती है? हम वास्तव में इसको समझ नहीं सकते, इसलिए कृपया हमारे लिए इसका उत्तर दो।
                                    [date] => 2018-03-20 04:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-31.html
                                )

                        )

                )

            [6] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/inside-story-of-the-bible.html
                    [title] => बाइबल के अंदर की कहानी
                    [slug] => inside-story-of-the-bible
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 11154
                                    [slug] => gospel-truth-24
                                    [title] =>  तुम यह प्रमाण देते हो कि प्रभु यीशु पहले से ही सर्वशक्तिमान परमेश्वर के रूप में वापस आ चुका है, कि वह पूरी सच्चाई को अभिव्यक्त करता है जिससे कि लोग शुद्धिकरण प्राप्त कर सकें और बचाए जा सकें, और वर्तमान में वह परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य को कर रहा है, लेकिन हम इसे स्वीकार करने की हिम्मत नहीं करते। यह इसलिए है क्योंकि धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों का हमें बहुधा यह निर्देश है कि परमेश्वर के सभी वचन और कार्य बाइबल में अभिलेखित हैं और बाइबल के बाहर परमेश्वर का कोई और वचन या कार्य नहीं हो सकता है, और यह कि बाइबल के विरुद्ध या उससे परे जाने वाली हर बात विधर्म है। हम इस समस्या को समझ नहीं सकते हैं, तो तुम कृपया इसे हमें समझा दो।
                                    [date] => 2018-03-19 23:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-24.html
                                )

                            [1] => Array
                                (
                                    [ID] => 11162
                                    [slug] => gospel-truth-26
                                    [title] =>  बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। कृपया बताओ, क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं?
                                    [date] => 2018-03-20 01:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-26.html
                                )

                            [2] => Array
                                (
                                    [ID] => 7674
                                    [slug] => gospel-truth-27
                                    [title] =>  बाइबल परमेश्वर के कार्य का प्रमाण है; केवल बाइबल पढ़ने के द्वारा ही प्रभु पर विश्वास करने वाले लोग यह जान सकते हैं कि परमेश्वर ने आकाश और पृथ्वी और सभी चीजों को बनाया और इसी से वे परमेश्वर के अद्भुत कार्यों, उसकी महानता और सर्वशक्तिमानता को देख सकते हैं। बाइबल में परमेश्वर के बहुत सारे वचन और मनुष्य के अनुभवों की बहुत सारी गवाहियाँ हैं; यह मनुष्य के जीवन के लिए प्रावधान कर सकती है और मनुष्य के लिए बहुत लाभदायक हो सकती है, इसलिए मुझे जिसकी खोज करनी है वह यह है कि क्या हम वास्तव में बाइबल पढ़ने के द्वारा अनन्त जीवन को प्राप्त कर सकते हैं? क्या बाइबल के भीतर वास्तव में अनन्त जीवन का कोई मार्ग नहीं है?
                                    [date] => 2018-03-20 02:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-27.html
                                )

                        )

                )

            [7] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/the-true-way-and-the-false-way.html
                    [title] => सच्चे मार्ग और झूठे मार्ग के बीच अंतर करना
                    [slug] => the-true-way-and-the-false-way
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 5209
                                    [slug] => how-can-we-ascertain-that-almighty-god-is-the-returned-jesus
                                    [title] => कोई वाकई कैसे पुष्टि करे कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर लौटे कर आए यीशु हैं?
                                    [date] => 2017-11-08 19:41:47
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/how-can-we-ascertain-that-almighty-god-is-the-returned-jesus.html
                                )

                        )

                )

            [8] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/the-true-Christ-and-false-christs.html
                    [title] => सच्चे मसीह और झूठी मसीहों के बीच अंतर करना
                    [slug] => the-true-Christ-and-false-christs
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 10725
                                    [slug] => gospel-truth-5
                                    [title] =>  धार्मिक पादरी और प्राचीन लोग अक्सर विश्वासियों के लिए ऐसा प्रचार करते हैं कि कोई भी उपदेश जो कहता है कि प्रभु देह में आ गया है, वह झूठा है। वे बाइबल की इन पंक्तियों को इसका आधार बनाते हैं: "उस समय यदि कोई तुम से कहे, 'देखो, मसीह यहाँ है!' या 'वहाँ है!' तो विश्‍वास न करना। क्योंकि झूठे मसीह और झूठे भविष्यद्वक्‍ता उठ खड़े होंगे, और बड़े चिह्न, और अद्भुत काम दिखाएँगे कि यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा दें" (मत्ती 24: 23-24)। अब हमें कुछ पता नहीं है कि हमें सच्चे मसीह को झूठों से कैसे अलग पहचानना चाहिए, इसलिए कृपया इस प्रश्न का उत्तर दो।
                                    [date] => 2018-03-19 08:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-5.html
                                )

                            [1] => Array
                                (
                                    [ID] => 8388
                                    [slug] => what-is-a-false-christ
                                    [title] => एक झूठा मसीह क्या होता है?
                                    [date] => 2018-03-21 06:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-a-false-christ.html
                                )

                        )

                )

            [9] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/work-and-word-of-God-and-of-man.html
                    [title] => परमेश्वर और मनुष्य के कार्य और वचन के बीच अंतर
                    [slug] => work-and-word-of-God-and-of-man
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 11152
                                    [slug] => gospel-truth-23
                                    [title] =>  तुम यह प्रमाण देते हो कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर देहधारी परमेश्वर है, जो अभी अंतिम दिनों में अपने न्याय के कार्य को कर रहा है। लेकिन धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों का कहना है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर का कार्य वास्तव में मनुष्य का काम है, और बहुत से लोग जो प्रभु यीशु पर विश्वास नहीं करते, वे कहते हैं कि ईसाई धर्म एक मनुष्य में विश्वास है। हम अभी भी यह नहीं समझ पाए हैं कि परमेश्वर के कार्य और मनुष्य के काम के बीच में क्या अंतर है, इसलिए कृपया हमारे लिए यह सहभागिता करो।
                                    [date] => 2018-03-19 22:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-23.html
                                )

                        )

                )

            [10] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/following-God-and-following-people.html
                    [title] => परमेश्वर का अनुसरण करने और मनुष्य का अनुसरण करने के बीच अंतर करना
                    [slug] => following-God-and-following-people
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 8656
                                    [slug] => what-is-following-god
                                    [title] => परमेश्वर का अनुसरण करना किसे कहते हैं?
                                    [date] => 2018-03-21 10:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-following-god.html
                                )

                            [1] => Array
                                (
                                    [ID] => 8658
                                    [slug] => what-is-following-man
                                    [title] => मनुष्य का अनुसरण करना किसे कहते हैं?
                                    [date] => 2018-03-21 11:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-following-man.html
                                )

                        )

                )

            [11] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/work-of-the-Holy-Spirit-and-of-evil-spirits.html
                    [title] => पवित्र आत्मा के और दुष्ट आत्माओं के कार्य के बीच अंतर करना
                    [slug] => work-of-the-Holy-Spirit-and-of-evil-spirits
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 8668
                                    [slug] => the-work-of-the-holy-spirit
                                    [title] => पवित्र आत्मा के कार्य को कोई कैसे प्राप्त कर सकता है?
                                    [date] => 2018-03-21 15:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/the-work-of-the-holy-spirit.html
                                )

                            [1] => Array
                                (
                                    [ID] => 8664
                                    [slug] => what-is-the-work-of-the-holy-spirit
                                    [title] => पवित्र आत्मा का कार्य क्या है? पवित्र आत्मा का कार्य कैसे प्रकट किया जाता है?
                                    [date] => 2018-03-21 14:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-the-work-of-the-holy-spirit.html
                                )

                            [2] => Array
                                (
                                    [ID] => 8670
                                    [slug] => what-is-the-work-of-evil-spirits
                                    [title] => बुरी आत्माओं का क्या काम है? बुरी आत्माओं का काम कैसे प्रकट होता है?
                                    [date] => 2018-03-21 16:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-the-work-of-evil-spirits.html
                                )

                            [3] => Array
                                (
                                    [ID] => 8672
                                    [slug] => differences-between-work-of-the-holy-spirit-and-work-of-evil-spirits
                                    [title] => पवित्र आत्मा के कार्य और बुरी आत्माओं के काम के बीच क्या अंतर है?
                                    [date] => 2018-03-21 17:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/differences-between-work-of-the-holy-spirit-and-work-of-evil-spirits.html
                                )

                            [4] => Array
                                (
                                    [ID] => 8674
                                    [slug] => what-is-possession-by-demons
                                    [title] => दुष्टात्माओं के कब्ज़े में आ जाना क्या है? दुष्टात्माओं के कब्ज़े में आ जाना कैसे प्रकट होता है?
                                    [date] => 2018-03-21 18:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-possession-by-demons.html
                                )

                        )

                )

            [12] => Array
                (
                    [morelink] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel-categories/analyzing-the-essence-of-the-pharisees.html
                    [title] => फरीसियों के सार का विश्लेषण करना
                    [slug] => analyzing-the-essence-of-the-pharisees
                    [article] => Array
                        (
                            [0] => Array
                                (
                                    [ID] => 7776
                                    [slug] => gospel-truth-33
                                    [title] =>  उस समय, जब प्रभु यीशु अपने कार्य को करने के लिए आया था, यहूदी फरीसियों ने उसका अंधाधुंध विरोध किया, उसकी निंदा की और उसे क्रूस पर कीलों से जड़ दिया। जब अंतिम दिनों का सर्वशक्तिमान परमेश्वर अपना कार्य करने के लिए आता है, तो धार्मिक पादरी और प्राचीन लोग उसकी भी अवहेलना और निंदा करते हैं, परमेश्वर को फिर एक बार क्रूस पर चढ़ाते हैं। यहूदी फरीसी, धार्मिक पादरी और प्राचीन लोग इस तरह सच्चाई से नफरत क्यों करते हैं और क्यों इस तरह मसीह के विरुद्ध खुद को खड़ा कर देते हैं? वास्तव में उनका निहित सार क्या है?
                                    [date] => 2018-03-20 06:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-33.html
                                )

                            [1] => Array
                                (
                                    [ID] => 11092
                                    [slug] => gospel-truth-34
                                    [title] =>  धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों को बाइबल का सशक्त ज्ञान है, वे प्रायः लोगों के समक्ष बाइबल का विस्तार करते हैं और उन्हें बाइबल का सहारा बनाये रखने के लिए कहते हैं, इसलिए बाइबल की व्याख्या करना और उसकी प्रशंसा करना क्या वास्तव में परमेश्वर की गवाही देना और प्रशंसा करना है? ऐसा क्यों कहा जाता है कि धार्मिक पादरी और प्राचीन लोग ढोंगी फरीसी हैं? हम अभी भी इसको समझ नहीं सकते हैं, तो क्या तुम हमारे लिए इसका जवाब दे सकते हो?
                                    [date] => 2018-03-20 07:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-34.html
                                )

                            [2] => Array
                                (
                                    [ID] => 11184
                                    [slug] => gospel-truth-36
                                    [title] =>  धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों की धार्मिक संसार में सत्ता बनी हुई है और ज्यादातर लोग उनका पालन और अनुसरण करते हैं—यह एक सच्चाई है। तुम कहते हो कि धार्मिक पादरी और प्राचीन लोग इस बात को स्वीकार नहीं करते हैं कि परमेश्वर ने देह-धारण किया है, कि वे देह-धारी परमेश्वर द्वारा प्रकट सत्य पर विश्वास नहीं करते और वे फरीसियों के मार्ग पर चल रहे हैं, और हम इस बात से सहमत हैं। लेकिन तुम यह क्यों कहते हो कि सारे धार्मिक पादरी और प्राचीन लोग पाखंडी फरीसी हैं, कि वे सभी मसीह-शत्रु हैं जो अंतिम दिनों में देह-धारी परमेश्वर के कार्य से उघाड़ दिए गए हैं, और वे अंत में विनाश में डूब जाएँगे? हम इस समय इस बात को स्वीकार नहीं कर सकते। तुम अपना यह दावा कि इन लोगों को नहीं बचाया जा सकता है और उन सभी को विनाश में डूबना चाहिए, किस बात पर आधारित करते हो, इस पर कृपया सहभागिता करो।
                                    [date] => 2018-03-20 09:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-36.html
                                )

                            [3] => Array
                                (
                                    [ID] => 11111
                                    [slug] => gospel-truth-37
                                    [title] =>  यद्यपि पादरी और प्राचीन लोग धार्मिक दुनिया में सत्ता रखते हैं और वे ढोंगी फरीसियों के मार्ग पर चलते हैं, हम तो प्रभु यीशु में विश्वास करते हैं, पादरी और प्राचीन लोगों में नहीं, तो तुम यह कैसे कह सकते हो कि हम भी फरीसियों के रास्ते पर चलते हैं? क्या हम वास्तव में धर्म के भीतर रहकर परमेश्वर में विश्वास करने के द्वारा बचाए नहीं जा सकते हैं?
                                    [date] => 2018-03-20 10:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/gospel-truth-37.html
                                )

                            [4] => Array
                                (
                                    [ID] => 8385
                                    [slug] => what-is-an-antichrist
                                    [title] => मसीह-शत्रु किसे कहते हैं?
                                    [date] => 2018-03-21 05:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-an-antichrist.html
                                )

                            [5] => Array
                                (
                                    [ID] => 8392
                                    [slug] => a-false-leader-or-false-shepherd
                                    [title] => एक झूठा नेता या झूठा चरवाहा क्या होता है?
                                    [date] => 2018-03-21 07:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/a-false-leader-or-false-shepherd.html
                                )

                            [6] => Array
                                (
                                    [ID] => 8395
                                    [slug] => what-is-hypocrisy
                                    [title] => पाखंड क्या है?
                                    [date] => 2018-03-21 08:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/what-is-hypocrisy.html
                                )

                            [7] => Array
                                (
                                    [ID] => 8660
                                    [slug] => difference-between-wheat-and-tares
                                    [title] => गेहूं और जंगली पौधे के बीच क्या अंतर है?
                                    [date] => 2018-03-21 12:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/difference-between-wheat-and-tares.html
                                )

                            [8] => Array
                                (
                                    [ID] => 8662
                                    [slug] => difference-between-a-good-servant-and-an-evil-servant
                                    [title] => एक अच्छे नौकर और एक बुरे नौकर के बीच क्या अंतर है?
                                    [date] => 2018-03-21 13:39:09
                                    [link] => https://hi.kingdomsalvation.org/gospel/difference-between-a-good-servant-and-an-evil-servant.html
                                )

                        )

                )

        )

)