सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

नवीनतम पठन

परमेश्वर कहते हैं: “एक सच्चा जीव होने के लिए उसे अपने रचनाकार को जानना आवश्यक है, मनुष्य की रचना किस उद्देश्य के लिए की गई है, रचे गये जीव की क्या-क्या ज़िम्मेदारियां हैं और सम्पूर्ण सृष्टि के रचनाकार की आराधना कैसे करनी है।…” सृष्टा की आवाज़ को सुनो जो परमेश्वर को जानने के मार्ग पर पैर जमाने मे तुम्हारी अगुआई करेगी।

135 57:21
70 52:11
61 50:45
342 40:00
61 58:00
24 25:41
39 45:46
37 33:00
76 38:33
41 39:21
33 26:39
32 43:30
40 53:24
29 48:44
78 48:12
अधिक

क्या आप जानते हैं कि परमेश्वर अंत के दिनों में मनुष्य को शुद्ध करने और बचाने के कार्य को कैसे पूरा करता है? हम परमेश्वर के आशीषों और वादे को कैसे प्राप्त कर सकते हैं? परमेश्वर कहते हैं: “वे सब जो परमेश्वर के प्रभुत्व के अधीन समर्पण करेंगे उच्चतर सत्य का आनंद लेंगे और अधिक बड़ी आशीषें प्राप्त करेंगे। वे वास्तव में ज्योति में निवास करेंगे, और सत्य, मार्ग और जीवन को प्राप्त करेंगे।”

379 40:05
90 22:18
62 36:30
51 44:24
29 48:57
129 21:10
38 28:29
69 28:20
35 26:42
69 21:43
88 29:44
58 23:20
42 26:20
122 25:58
40 33:58
68 25:50
143 21:19
44 27:15
45 25:51
79 36:29
53 23:49
60 19:35
37 24:19
14 11:18
28 11:34
49 14:39
93 16:59
67 24:59
84 20:18
25 19:18
40 25:11
13 21:17
85 34:01
18 39:35
40 22:02
60 17:45
31 37:08
58 16:26
30 24:00
93 42:50
170 26:36
48 32:58
35 28:44
31 33:16
76 31:01
45 26:10
20 25:28
26 44:07
237 49:42
47 41:15
43 15:57
44 37:24
113 36:19
35 38:00
69 34:57
21 31:21
101 53:23
56 49:19
76 39:55
81 6:22
79 37:19
203 31:21
100 34:25
57 34:19
28 24:08
24 19:51
33 30:48
51 37:07
129 54:26
36 58:19
54 53:59
52 52:31
71 31:27
78 50:18
19 19:49
39 33:34
41 24:16
29 42:54
76 42:35
55 48:20
40 31:53
78 45:27
36 45:52
73 55:49
23 38:25
15 34:18
10 39:32
42 45:49
27 38:54
16 39:42
29 42:29
54 39:34
30 50:36
142 42:13
119 35:32
54 52:51
69 48:36
35 47:52
15 19:26
34 22:07
48 23:23
18 12:38
22 22:37
31 25:03
25 28:32
37 23:22
21 23:13
20 22:07
20 20:41
31 21:57
31 21:47
31 20:42
35 22:44
26 19:38
85 24:04
12 22:27
39 23:23
54 26:08
13 21:16
35 23:02
22 18:56
49 25:05
15 25:25
21 10:55
20 30:57
29 41:00
33 50:36
54 33:08
53 40:06
65 45:19
56 56:53
22 42:24
47 39:32
97 50:28
48 44:29
40 47:19
34 55:42
16 43:20
42 29:03
108 51:10
51 27:39
33 23:54
50 25:15
अधिक