सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं
  • परमेश्वर को जानना
  • मसीही जीवन

परमेश्वर के दैनिक वचन: परमेश्वर के वचनों के चुनिंदा अंश परमेश्वर के समक्ष हमें शांत रहने और हर दिन उनके वचन सुनने में मदद करते हैं, ताकि हम जीवन जल का पोषण प्राप्त कर सकें और समय के साथ जीवन में प्रगति कर सकें।

29 09:08
6 12:42
20 13:35
17 08:31
5 13:43
3 10:07
3 15:19
3 06:03
3 24:27
3 20:11
3 29:28
2 10:30
2 18:55
3 10:19
3 11:58
2 16:33
1 18:12
2 12:09
1 07:36
7 18:50
1 06:41
1 17:24
4 15:04
2 11:42
12 11:41
2 32:35
1 13:58
5 19:14
2 19:36
1 15:06
4 18:10
2 15:31
3 12:05
2 13:51
1 13:48
3 18:43
1 19:20
2 09:39
1 12:00
4 15:57
4 20:46
2 29:31
2 16:20
3 15:26
3 09:40
2 19:13
2 11:48
3 12:32
2 14:09
1 16:48
2 13:17
1 17:28
1 17:19
1 17:23
3 14:12
3 15:52
2 18:43
2 13:39
2 16:22
4 16:23
1 27:19
1 32:05
1 14:43
2 08:21
2 19:48
1 10:40
2 10:50
4 12:42
2 14:27
1 15:14
2 23:20
2 13:35
1 27:26
1 15:05
2 20:00
3 13:08
2 20:05
1 32:36
1 29:39
2 23:13
1 19:13
7 19:28
3 13:42
4 09:25
1 12:20
3 22:41
1 24:33
1 18:07
0 13:36
1 10:42
3 18:31
1 20:37
1 19:22
1 17:27
1 05:57
1 16:03
1 14:11
1 11:35
1 10:03
1 14:41
1 13:54
1 6:21
1 16:09
1 15:33
1 10:04
0 21:35
0 13:18
0 15:53
0 10:33
0 09:13
0 14:56
1 19:10
0 11:59
2 14:07
1 12:20
1 13:37
0 15:30
2 18:38
0 55:16
2 18:52
0 13:06
0 00:00
0 00:00
0 00:00
0 00:00
0 18:09
0 17:15
0 13:45
0 15
2 16:48
0 13:35
0 16:14
0 6:10
0 00:00
0 7:40
0 10:35
0 18:37
0 21:36
0 29:00
1 17:39
0 18:53
0 12:58
0 17:29
0 17:28
0 14:32
0 16:29
0 00:00
0 13:26
0 14:17
4 13:36
0 13:59
0 12:32
1 7:32
0 13:14
0 10:58
1 6:18
0 18:12
1 11:00
0 10:55
1 07:44
0 12:05
0 07:27
0 05:23
0 09:42
0 07:58
0 25:27
4 19:52
0 15:27
0 13:17
0 19:25
1 13:04
0 10:46
0 09:26
2 15:59
1 15:25
1 17:22
1 06:47
2 06:53
1 13:59
1 07:54
1 17:40
0 22:03
3 15:24
3 11:05
2 7:07
0 9:48
0 19:06
0 8:27
0 9:35
1 3:03
0 4:20
0 3:06
0 10:51
0 6:17
0 4:28
0 14:04
0 14:27

कार्य के तीन चरण

20 13:16
6 14:10
4 13:30
1 18:10
0 15:25
4 12:20
3 15:37
1 08:21
4 12:10
2 17:43
4 16:49
1 07:28
4 08:19
0 11:07
4 14:02
19 09:33
3 10:12
1 04:37
4 05:20
2 13:50
0 08:59
1 08:59
4 13:18
2 12:54
1 10:04
10 19:39
5 05:06
13 10:23
1 11:12
2 17:27
3 17:32
7 07:36

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य

4 19:27
2 15:07
1 09:51
1 08:47
1 17:36
1 12:11
0 14:27
0 12:39
2 11:40
0 10:28
1 09:04
28 23:20
8 17:00
6 18:19
4 18:27
0 09:23
1 18:05
6 08:39
4 17:52
6 14:34
1 12:27
33 07:24
8 18:17
1 00:00

अंत के दिनों में न्याय

2 08:32
6 07:20
12 12:15
7 05:06
2 09:56
2 09:07
0 13:34
0 00:00
2 09:35
0 14:48
2 19:27
0 05:07
0 00:00
0 13:45
20 23:20
1 04:39

देहधारण

5 09:36
0 11:41
4 14:15
0 10:27
1 15:09
0 09:11
9 09:47
5 17:16
3 13:34
7 12:58
3 04:49
4 07:40
0 11:12
5 09:04
10 10:10
14 11:58
2 13:05
3 10:22
0 05:23
3 13:17
7 15:39
6 14:06
4 10:29
4 11:27
2 11:45
0 09:07
0 13:34
0 14:17
4 12:01
2 15:52
3 15:43
18 08:24
12 16:00
7 15:52
1 18:54
3 15:44
0 15:00
0 08:07
1 10:05
1 14:57

परमेश्वर के कार्य को जानना

1 10:38
2 06:57
0 08:23
1 17:32
1 29:57
1 00:00
0 05:10
1 13:22
3 17:49
1 10:04
2 09:06
4 08:14
2 18:59
0 16:42
1 07:45
1 11:23
3 18:11
1 07:53
0 06:49
0 09:43
0 10:44
1 12:40
0 20:57
7 13:39
4 09:39
0 07:37
4 12:04
3 14:53
0 25:22
0 15:51
1 05:28
0 20:45
0 13:05
1 00:00
0 09:46
1 06:18
0 16:30
0 13:39
0 08:17
0 13:26
0 08:01
2 11:43
2 14:36
0 06:30
0 10:38
1 13:32
2 14:13
0 12:39
1 13:07
0 09:20
0 06:15
0 12:47
2 11:53
1 12:24
0 05:26
0 10:28
1 09:33
0 15:09
0 15:09
1 10:30
2 13:33
13 19:35
6 13:27
7 14:29
0 13:11
0 17:35
0 08:22
0 04:51
0 04:12
9 15:28
5 06:24
2 09:20
2 10:26
0 11:15

परमेश्वर का स्वभाव और स्वरूप

1 06:29
1 13:13
0 07:15
0 09:31
3 08:56
0 14:10
0 10:25
0 12:26
3 05:11
3 16:13
1 13:02
0 17:03
0 07:14
0 09:20
0 10:04
0 17:46
6 12:20
8 11:28
2 14:42
0 14:06
5 15:31
7 17:21
3 09:21

बाइबल के बारे में रहस्य

1 07:23
0 08:21
6 11:28
12 12:10
2 11:53
12 13:16
5 05:50
1 05:28
1 08:03
1 18:32

धर्म-संबंधी धारणाओं का खुलासा

5 06:44
1 06:22
3 10:25
17 11:16
0 11:29
0 08:03
4 07:24
0 18:17
1 20:24
0 11:41
1 20:28
1 16:28
2 19:48
2 18:32
4 19:02
2 15:54
2 14:55
5 16:24
2 07:07
0 07:41
0 15:22
0 06:31
0 12:51
1 13:45
0 15:26
1 12:43
1 17:35

इंसान की भ्रष्टता का खुलासा

0 10:12
0 19:08
1 13:41
0 11:25
0 16:23
0 11:38
0 13:30
0 15:27
0 16:38
1 16:08
4 07:23
2 06:47
1 12:27
1 07:49
0 09:50
1 08:44
0 07:16
0 12:41
1 16:28
0 14:28
0 11:40
0 08:17
0 07:37
0 12:03
0 14:39
0 11:03
0 15:03
0 10:24
0 14:25
0 10:53
2 06:25
1 13:55
0 12:49
1 13:13
0 11:25
0 09:19
1 12:44
4 14:39
0 09:12
0 07:19
0 07:17
0 14:35
0 05:06
0 18:28
2 19:08
1 13:21
0 13:38
0 13:59
0 05:46
0 07:28
0 10:45
0 00:00

जीवन में प्रवेश

2 10:53
4 12:13
3 10:48
1 18:31
0 11:51

मंज़िलें और परिणाम

5 16:47
6 09:28
3 06:45
1 15:43
1 14:30
0 20:56
3 22:58
2 10:46
3 17:03
1 10:39
1 05:02
11 12:10
0 14:40
11 11:42
3 05:58
5 12:24
24 25:59
7 18:53
0 19:43
1 09:57
अधिक

परमेश्वर कहते हैं: “एक सच्चा जीव होने के लिए उसे अपने रचनाकार को जानना आवश्यक है, मनुष्य की रचना किस उद्देश्य के लिए की गई है, रचे गये जीव की क्या-क्या ज़िम्मेदारियां हैं और सम्पूर्ण सृष्टि के रचनाकार की आराधना कैसे करनी है।…” सृष्टा की आवाज़ को सुनो जो परमेश्वर को जानने के मार्ग पर पैर जमाने मे तुम्हारी अगुआई करेगी।

271 57:21
153 52:11
152 50:45
623 40:00
225 58:00
42 25:41
120 45:46
157 33:00
287 38:33
112 39:21
79 27:12
87 43:30
81 53:24
46 48:44
169 48:12
अधिक

क्या आप जानते हैं कि परमेश्वर अंत के दिनों में मनुष्य को शुद्ध करने और बचाने के कार्य को कैसे पूरा करता है? हम परमेश्वर के आशीषों और वादे को कैसे प्राप्त कर सकते हैं? परमेश्वर कहते हैं: “वे सब जो परमेश्वर के प्रभुत्व के अधीन समर्पण करेंगे उच्चतर सत्य का आनंद लेंगे और अधिक बड़ी आशीषें प्राप्त करेंगे। वे वास्तव में ज्योति में निवास करेंगे, और सत्य, मार्ग और जीवन को प्राप्त करेंगे।”

776 40:04
184 22:18
128 36:30
193 44:18
65 48:57
279 21:10
170 28:30
330 28:21
101 26:42
192 21:42
248 29:44
156 23:20
102 26:23
442 25:58
181 33:58
358 25:50
521 21:19
74 27:15
150 25:51
179 36:29
123 23:46
165 19:35
99 24:19
41 11:19
72 11:34
130 14:39
223 16:59
339 24:59
210 20:18
67 19:18
119 25:53
60 21:17
206 34:01
36 39:35
110 22:02
291 17:45
72 37:08
236 16:27
110 24:00
272 42:50
377 26:36
140 32:58
118 28:48
48 33:16
170 31:01
123 26:10
41 25:28
50 44:07
681 49:42
123 41:15
113 15:57
125 37:24
205 36:19
137 38:00
303 34:57
38 31:21
270 53:23
158 49:19
233 39:55
197 6:22
221 37:19
475 31:21
467 34:25
137 34:19
65 24:08
53 19:54
61 30:48
185 37:07
382 54:26
116 58:19
133 53:59
109 52:31
234 31:27
238 50:18
46 19:49
93 33:28
64 24:16
80 42:54
372 42:35
175 48:20
92 31:53
276 45:27
64 45:52
130 55:49
34 38:25
37 34:18
20 39:32
74 45:49
59 38:54
25 39:42
98 42:29
110 39:34
69 50:36
515 42:12
241 35:31
103 52:51
279 48:36
116 47:52
78 19:21
88 22:07
172 23:17
55 12:38
63 22:37
103 25:03
56 28:32
136 23:22
58 23:13
38 22:07
42 20:41
200 21:57
62 21:47
71 20:42
80 22:44
74 19:38
171 24:04
50 22:27
100 23:23
289 26:08
37 21:16
145 23:02
54 18:56
146 25:05
47 25:25
63 10:55
35 30:57
67 41:00
175 50:36
147 33:08
168 40:06
163 45:19
101 56:53
51 42:24
121 39:32
209 50:28
92 44:29
87 47:19
89 55:42
31 43:20
87 29:03
274 51:10
127 27:39
95 23:54
103 25:15
11 32:24
2 23:41
अधिक

परमेश्वर के उत्कृष्ट वचनों के पठन मनुष्य को बचाने के परमेश्वर के कार्य के पीछे की सच्ची कहानी को जानने, परमेश्वर के देहधारण के रहस्य को जानने, मसीह के सार को जानने, यह जानने कि परमेश्वर क्या है और उसके पास क्या है, मानवजाति के परिणाम और मंजिल और सत्य के कई अन्य पहलुओं को जानने की ओर आपको ले जाते हैं।

अधिक

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों को सुनें और समझें कि परमेश्वर द्वारा इंसान के उद्धार की अंदरूनी कहानी, परमेश्वर के देहधारणों का रहस्य, मसीह का सार, परमेश्वर का स्वरूप, इंसान का परिणाम और मंजिल, और सत्य के दूसरे पहलू क्या हैं।

9 23:37
10 21:51
4 25:23
8 42:41
10 35:05
4 57:22
19 10:58
8 16:30
7 06:10
4 09:59
1 05:22
0 05:19
4 05:09
2 17:44
0 43:42
0 41:45
0 41:43
0 31:57
3 40:03
2 27:38
0 23:41
1 14:36
0 16:32
1 12:53
2 6:56
2 32:14
0 06:02
1 16:49
0 06:17
1 11:21
1 15:58
0 36:01
1 31:47
0 09:20
2 15:56
0 00:00
0 00:00
1 00:00
0 19:02
1 32:47
1 11:21
3 19:38
2 8:38
2 46:58
1 12:20
1 27:43
1 40:33
1 31:57
2 34:28
0 18:09
0 34:04
अधिक