सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

परमेश्वर के वचन के भजन

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

परमेश्वर स्वर्ग में है और धरती पर भी

परमेश्वर, परमेश्वर।

परमेश्वर जब धरती पर होता है,

तो इंसानों के दिल में वो व्यवहारिक होता है।

स्वर्ग में वो सब जीवों का स्वामी होता है।

नदियाँ लांघी, पर्वत पर भी एकबार चढ़ा है परमेश्वर।

इंसानों के बीच कभी घूमा-फिरा है परमेश्वर।

स्वयं व्यवहारिक परमेश्वर का खुले-आम विरोध करे, किसमें साहस?

सर्वशक्तिमान के शासन से जाए बाहर, किसमें साहस?

स्वर्ग में है परमेश्वर कहे बेशक, किसमें साहस?

धरती पर है परमेश्वर कहे यकीनन, किसमें साहस?

कह नहीं सकता कोई यकीनन, कहाँ है परमेश्वर।

कह नहीं सकता कोई यकीनन, कहाँ है परमेश्वर।

परमेश्वर, परमेश्वर।

आसमाँ में होता है तो क्या, बस अलौकिक है परमेश्वर?

धरती पर होता है तो क्या, बस व्यवहारिक है परमेश्वर, परमेश्वर?

सब चीज़ों पर परमेश्वर का शासन,

या इंसानों की पीड़ा की उसकी अनुभूति,

क्या तय कर सकते हैं, कि वो व्यवहारिक परमेश्वर है?

परमेश्वर स्वर्ग में है और धरती पर भी

सब चीज़ों में, इंसानों में परमेश्वर है।

मानव हर दिन परमेश्वर के संग रह सकता है,

हर दिन परमेश्वर के दर्शन कर सकता है,

दर्शन कर सकता है, दर्शन कर सकता है।

परमेश्वर।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:परमेश्वर और इंसान के लिये अलग-अलग आरामगाह

अगला:परमेश्वर की एकमात्र इच्छा है कि इंसान उसकी बात सुने और माने