परमेश्वर की आवाज़ को वास्तव मरण कैसे पहचानना चाहिए? कोई कैसे इस बात की पुष्टि कर सकता है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर वास्तव में लौटा हुआ प्रभु यीशु है?

1. परमेश्वर की आवाज़ को वास्तव मरण कैसे पहचानना चाहिए? कोई कैसे इस बात की पुष्टि कर सकता है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर वास्तव में लौटा हुआ प्रभु यीशु है?  संदर्भ के लिए बाइबल के पद: "मेरी भेड़ें मेरा शब्द सुनती…

2018-09-23 06:20:28

परमेश्वर द्वारा विभिन्न युगों के दौरान उपयोग में लाये गए लोगों के शब्दों, जो सत्य से मेल खाते हैं, और परमेश्वर के वचनों में क्या अंतर है?

2. परमेश्वर द्वारा विभिन्न युगों के दौरान उपयोग में लाये गए लोगों के शब्दों, जो सत्य से मेल खाते हैं, और परमेश्वर के वचनों में क्या अंतर है? परमेश्वर के प्रासंगिक वचन: सत्य मानव संसार से आता है, फिर भी वह सत्य …

2018-05-13 04:03:38

व्यवस्था के युग में नबियों के द्वारा दिए गए परमेश्वर के वचनों और देहधारी परमेश्वर द्वारा व्यक्त परमेश्वर के वचनों में क्या अंतर है?

3. व्यवस्था के युग में नबियों के द्वारा दिए गए परमेश्वर के वचनों और देहधारी परमेश्वर द्वारा व्यक्त परमेश्वर के वचनों में क्या अंतर है? परमेश्वर के प्रासंगिक वचन: अनुग्रह के युग में, यीशु ने भी काफ़ी बातचीत की और …

2018-05-04 02:24:37

बुद्धिमान कुँवारियाँ असल में क्या हैं?

संदर्भ के लिए बाइबिल के पद: "तब स्वर्ग का राज्य न दस कुँवारियों के समान होगा जो अपनी मशालें लेकर दूल्हे से भेंट करने को निकलीं।...परन्तु समझदारों ने अपनी मशालों के साथ अपनी कुप्पियों में तेल भी भर लिया।...आधी रात को धूम…

2018-09-10 21:26:48

धर्मोपदेश और संगति: बुद्धिमान कुँवारियों में क्या समझदारी है जो प्रभु का स्वागत करती हैं?

"अनुग्रह के युग के दौरान, यीशु ने बुद्धिमान कुँवारियों के बारे में बात की। यह समस्त रहस्य किस बारे में है? बुद्धिमान कुँवारी शब्द का क्या अर्थ है? मुख्य बात यह है कि वह परमेश्वर की आवाज़ पहचानती है। जब वह इसे सुनती है, त…

2018-09-10 21:43:37

बुद्धिमान कुँवारियाँ कैसे परमेश्वर की आवाज़ सुनती हैं और प्रभु का स्वागत करती हैं?

संदर्भ के लिए बाइबिल के पद: "मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा परन्त…

2018-09-10 23:15:38

मूर्ख कुँवारियाँ असल में क्या हैं?

संदर्भ के लिए बाइबिल के पद: "तब स्वर्ग का राज्य उन दस कुँवारियों के समान होगा जो अपनी मशालें लेकर दूल्हे से भेंट करने को निकलीं। उनमें पाँच मूर्ख और पाँच समझदार थीं। मूर्खों ने अपनी मशालें तो लीं, परन्तु अपने साथ तेल नह…

2018-09-10 23:57:37

मूर्ख कुँवारियों को कैसे उजागर और ख़त्म किया जाता है?

संदर्भ के लिए बाइबिल के पद: "जो मेरे साथ नहीं वह मेरे विरोध में है, और जो मेरे साथ नहीं बटोरता वह बिखेरता है" (लूका 11:23)। "उसका सूप उस के हाथ में है, और वह अपना खलिहान अच्छी रीति से साफ करेगा, और अपने गेहूँ को तो खत्…

2018-09-11 01:45:13

धर्मोपदेश और संगति: मूर्ख कुँवारियाँ क्यों उजागर की और निकाल दी जाती हैं?

तथाकथित 'बुद्धिमान कुँवारियाँ' उन लोगों का प्रतिनिधित्व करती हैं जो परमेश्वर की आवाज़ पहचान सकते हैं और 'दूल्हे' की आवाज़ सुन सकते हैं और इसलिए जो मसीह को स्वीकार कर सकते हैं और उसके प्रति समर्पित हो सकते हैं, जिससे व्या…

2018-09-11 01:58:12

फिर प्रभु वापस लौटने पर वास्तव में कैसे प्रकट होंगे और कार्य करेंगे?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "क्योंकि जैसे बिजली आकाश के एक छोर से कौंध कर आकाश के दूसरे छोर तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य का पुत्र भी अपने दिन में प्रगट होगा। परन्तु पहले अवश्य है कि वह बहुत दु:ख उठाए, और इस युग के लोग उसे तुच…

2019-01-14 03:02:59

हमें सावधान रहते हुए कैसे प्रतीक्षा करनी चाहिए कि हम उनके प्रकटन का स्वागत कर सकें?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "माँगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूँढ़ो तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा" (मत्ती 7:7)। "जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है" (प्रकाशितवाक्य 2:7)। "देख, मैं …

2019-01-14 03:11:36

जब प्रभु प्रकट होंगे तो क्या यह निश्चित है कि वे धार्मिक जगत के सामने प्रकट होंगे? क्या कलीसिया में बने रहने का मतलब प्रभु का स्वागत कर पाना है?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "क्या यह नहीं लिखा है कि मेरा घर सब जातियों के लिये प्रार्थना का घर कहलाएगा? पर तुम ने इसे डाकुओं की खोह बना दी है" (मरकुस 11:17)। "ये लोग होठों से तो मेरा आदर करते हैं, पर उनका मन मुझ से दूर रहत…

2019-01-14 03:22:25

बाइबल से थामे रखने से, क्या हम प्रभु के पदचिह्नों का अनुसरण और उनके आगमन का स्वागत कर सकते हैं?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "और उसके वचन को मन में स्थिर नहीं रखते, क्योंकि जिसे उसने भेजा तुम उसका विश्‍वास नहीं करते। तुम पवित्रशास्त्र में ढूँढ़ते हो, क्योंकि समझते हो कि उसमें अनन्त जीवन तुम्हें मिलता है; और यह वही है जो…

2019-01-14 03:29:51

आँखें मूंदकर झूठे मसीहाओं से बचते रहने से, प्रभु के प्रकटन और कार्य की जाँच-पड़ताल और तलाश करने से इंकार करके, क्या हम प्रभु का स्वागत कर सकते हैं?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है" (प्रकाशितवाक्य 2:3)। "धन्य हैं वे, जो मन के दीन हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है" (मत्ती 5:3)। "धन्य हैं वे, जो धार्मिकता के…

2019-01-14 03:37:49

हम ये कैसे निश्चित कर सकते हैं कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन परमेश्वर की वाणी हैं, कि प्रभु कार्य करने को प्रकट हुए हैं?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा परन्तु जो कुछ सुनेगा वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा" (यूहन्ना 16:13)। "जिसक…

2019-01-14 03:45:23

परमेश्वर की आवाज़ को वास्तव मरण कैसे पहचानना चाहिए? कोई कैसे इस बात की पुष्टि कर सकता है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर वास्तव में लौटा हुआ प्रभु यीशु है?

1. परमेश्वर की आवाज़ को वास्तव मरण कैसे पहचानना चाहिए? कोई कैसे इस बात की पुष्टि कर सकता है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर वास्तव में लौटा हुआ प्रभु यीशु है?  संदर्भ के लिए बाइबल के पद: "मेरी भेड़ें मेरा शब्द सुनती…

2018-09-23 06:20:28

परमेश्वर द्वारा विभिन्न युगों के दौरान उपयोग में लाये गए लोगों के शब्दों, जो सत्य से मेल खाते हैं, और परमेश्वर के वचनों में क्या अंतर है?

2. परमेश्वर द्वारा विभिन्न युगों के दौरान उपयोग में लाये गए लोगों के शब्दों, जो सत्य से मेल खाते हैं, और परमेश्वर के वचनों में क्या अंतर है? परमेश्वर के प्रासंगिक वचन: सत्य मानव संसार से आता है, फिर भी वह सत्य …

2018-05-13 04:03:38

व्यवस्था के युग में नबियों के द्वारा दिए गए परमेश्वर के वचनों और देहधारी परमेश्वर द्वारा व्यक्त परमेश्वर के वचनों में क्या अंतर है?

3. व्यवस्था के युग में नबियों के द्वारा दिए गए परमेश्वर के वचनों और देहधारी परमेश्वर द्वारा व्यक्त परमेश्वर के वचनों में क्या अंतर है? परमेश्वर के प्रासंगिक वचन: अनुग्रह के युग में, यीशु ने भी काफ़ी बातचीत की और …

2018-05-04 02:24:37

बुद्धिमान कुँवारियाँ असल में क्या हैं?

संदर्भ के लिए बाइबिल के पद: "तब स्वर्ग का राज्य न दस कुँवारियों के समान होगा जो अपनी मशालें लेकर दूल्हे से भेंट करने को निकलीं।...परन्तु समझदारों ने अपनी मशालों के साथ अपनी कुप्पियों में तेल भी भर लिया।...आधी रात को धूम…

2018-09-10 21:26:48

धर्मोपदेश और संगति: बुद्धिमान कुँवारियों में क्या समझदारी है जो प्रभु का स्वागत करती हैं?

"अनुग्रह के युग के दौरान, यीशु ने बुद्धिमान कुँवारियों के बारे में बात की। यह समस्त रहस्य किस बारे में है? बुद्धिमान कुँवारी शब्द का क्या अर्थ है? मुख्य बात यह है कि वह परमेश्वर की आवाज़ पहचानती है। जब वह इसे सुनती है, त…

2018-09-10 21:43:37

बुद्धिमान कुँवारियाँ कैसे परमेश्वर की आवाज़ सुनती हैं और प्रभु का स्वागत करती हैं?

संदर्भ के लिए बाइबिल के पद: "मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा परन्त…

2018-09-10 23:15:38

मूर्ख कुँवारियाँ असल में क्या हैं?

संदर्भ के लिए बाइबिल के पद: "तब स्वर्ग का राज्य उन दस कुँवारियों के समान होगा जो अपनी मशालें लेकर दूल्हे से भेंट करने को निकलीं। उनमें पाँच मूर्ख और पाँच समझदार थीं। मूर्खों ने अपनी मशालें तो लीं, परन्तु अपने साथ तेल नह…

2018-09-10 23:57:37

मूर्ख कुँवारियों को कैसे उजागर और ख़त्म किया जाता है?

संदर्भ के लिए बाइबिल के पद: "जो मेरे साथ नहीं वह मेरे विरोध में है, और जो मेरे साथ नहीं बटोरता वह बिखेरता है" (लूका 11:23)। "उसका सूप उस के हाथ में है, और वह अपना खलिहान अच्छी रीति से साफ करेगा, और अपने गेहूँ को तो खत्…

2018-09-11 01:45:13

धर्मोपदेश और संगति: मूर्ख कुँवारियाँ क्यों उजागर की और निकाल दी जाती हैं?

तथाकथित 'बुद्धिमान कुँवारियाँ' उन लोगों का प्रतिनिधित्व करती हैं जो परमेश्वर की आवाज़ पहचान सकते हैं और 'दूल्हे' की आवाज़ सुन सकते हैं और इसलिए जो मसीह को स्वीकार कर सकते हैं और उसके प्रति समर्पित हो सकते हैं, जिससे व्या…

2018-09-11 01:58:12

फिर प्रभु वापस लौटने पर वास्तव में कैसे प्रकट होंगे और कार्य करेंगे?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "क्योंकि जैसे बिजली आकाश के एक छोर से कौंध कर आकाश के दूसरे छोर तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य का पुत्र भी अपने दिन में प्रगट होगा। परन्तु पहले अवश्य है कि वह बहुत दु:ख उठाए, और इस युग के लोग उसे तुच…

2019-01-14 03:02:59

हमें सावधान रहते हुए कैसे प्रतीक्षा करनी चाहिए कि हम उनके प्रकटन का स्वागत कर सकें?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "माँगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूँढ़ो तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा" (मत्ती 7:7)। "जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है" (प्रकाशितवाक्य 2:7)। "देख, मैं …

2019-01-14 03:11:36

जब प्रभु प्रकट होंगे तो क्या यह निश्चित है कि वे धार्मिक जगत के सामने प्रकट होंगे? क्या कलीसिया में बने रहने का मतलब प्रभु का स्वागत कर पाना है?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "क्या यह नहीं लिखा है कि मेरा घर सब जातियों के लिये प्रार्थना का घर कहलाएगा? पर तुम ने इसे डाकुओं की खोह बना दी है" (मरकुस 11:17)। "ये लोग होठों से तो मेरा आदर करते हैं, पर उनका मन मुझ से दूर रहत…

2019-01-14 03:22:25

बाइबल से थामे रखने से, क्या हम प्रभु के पदचिह्नों का अनुसरण और उनके आगमन का स्वागत कर सकते हैं?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "और उसके वचन को मन में स्थिर नहीं रखते, क्योंकि जिसे उसने भेजा तुम उसका विश्‍वास नहीं करते। तुम पवित्रशास्त्र में ढूँढ़ते हो, क्योंकि समझते हो कि उसमें अनन्त जीवन तुम्हें मिलता है; और यह वही है जो…

2019-01-14 03:29:51

आँखें मूंदकर झूठे मसीहाओं से बचते रहने से, प्रभु के प्रकटन और कार्य की जाँच-पड़ताल और तलाश करने से इंकार करके, क्या हम प्रभु का स्वागत कर सकते हैं?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है" (प्रकाशितवाक्य 2:3)। "धन्य हैं वे, जो मन के दीन हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है" (मत्ती 5:3)। "धन्य हैं वे, जो धार्मिकता के…

2019-01-14 03:37:49

हम ये कैसे निश्चित कर सकते हैं कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन परमेश्वर की वाणी हैं, कि प्रभु कार्य करने को प्रकट हुए हैं?

बाइबल के प्रासंगिक पद: "परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा परन्तु जो कुछ सुनेगा वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा" (यूहन्ना 16:13)। "जिसक…

2019-01-14 03:45:23