वचन देह में प्रकट होता है

विषय-वस्तु

बाइबल के विषय में (3)

बाइबल की हर चीज़ परमेश्वर के द्वारा व्यक्तिगत रूप से बोले गए वचनों का लिखित दस्तावेज़ नहीं है। बाइबल सामान्यतः परमेश्वर के कार्य की पिछली दो अवस्थाओं का आलेख करती है, उसमें से एक भाग है जो पैग़म्बरों की भविष्यवाणियों का लिखित दस्तावेज़ है, और एक भाग वह अनुभव और ज्ञान है जिन्हें युगों के दौरान उन लोगों के द्वारा लिखा गया था जिन्हें परमेश्वर के द्वारा इस्तेमाल किया गया था। मानवीय अनुभवों को मानवीय अनुमानों और ज्ञान के साथ दूषित किया गया है, जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। बाइबल की बहुत सी पुस्तकों में मानवीय धारणाएँ, मानवीय पक्षपात, और मनुष्यों के बेतुके अनुवाद हैं। हाँ वास्तव में, बहुत सारे वचन पवित्र आत्मा के प्रकाशन और अलौकिक ज्ञान का परिणाम हैं और वे सही अनुवाद हैं - फिर भी यह अभी नहीं कहा जा सकता है कि वे पूरी तरह सत्य की सही अभिव्यक्ति हैं। कुछ निश्चित चीज़ों पर उनका दृष्टिकोण व्यक्तिगत अनुभव के ज्ञान, या पवित्र आत्मा के प्रकाशन से बढ़कर और कुछ भी नहीं है। पैग़म्बरों के पूर्वकथनों को परमेश्वर के द्वारा व्यक्तिगत रीति से निर्देशित किया गया थाः यशायाह, दानिय्येल, एज्रा, यिर्मयाह और यहेजकेल की भविष्यवाणियाँ पवित्र आत्मा के सीधे निर्देशन से आई थीं। ये लोग दर्शी थे, उन्होंने भविष्यवाणी की आत्मा को प्राप्त किया था, और वे सभी पुराने नियम के पैग़म्बर थे। व्यवस्था के युग के दौरान इन लोगों ने, जिन्होंने यहोवा की अभिप्रेरणाओं को प्राप्त किया था, अनेक भविष्यवाणियाँ की थीं, जिन्हें सीधे यहोवा के द्वारा निर्देशित किया गया था। और यहोवा ने उनमें कार्य क्यों किया? क्योंकि इस्राएल के लोग परमेश्वर के चुने हुए लोग थेः पैग़म्बरों के कार्य को उनके बीच में किया जाना था, और वे ऐसे प्रकाशनों को प्राप्त करने के योग्य थे। वास्तव में, वे स्वयं परमेश्वर के दर्शनों को समझ नहीं पाए थे। पवित्र आत्मा ने उनके मुँह के जरिए उन वचनों को कहा था ताकि भविष्य के लोग उन चीज़ों को समझ पाएँ, और देखें कि वे सचमुच में परमेश्वर के आत्मा, अर्थात् पवित्र आत्मा का कार्य था, और मनुष्य की ओर से नहीं आया था, और यह उन्हें पवित्र आत्मा के कार्य का प्रमाण देता था। अनुग्रह के युग के दौरान, यीशु ने उनके बदले में यह सब कार्य किया था, और इस प्रकार लोगों ने अब आगे से भविष्यवाणी नहीं की। अतः क्या यीशु एक पैग़म्बर था? हाँ वास्तव में यीशु एक पैग़म्बर था, लेकिन साथ ही वह प्रेरितों का काम करने में भी सक्षम थाः वह भविष्यवाणी एवं प्रचार दोनों कर सकता था तथा उस क्षेत्र के आस पास के लोगों को शिक्षा दे सकता था। फिर भी जो कार्य उसने किया था और वह पहचान जिसका उसने प्रतिनिधित्व किया था वे एक समान नहीं थे। वह सारी मानवजाति को छुड़ाने, मनुष्य को उसके पापों से छुड़ाने के लिए आया था; वह पैग़म्बर, और एक प्रेरित था, परन्तु उन सब से बढ़कर वह मसीहा था। एक पैग़म्बर भविष्यवाणी कर सकता है, परन्तु यह नहीं कहा जा सकता है कि वह मसीह है। उस समय यीशु अनेक भविष्यवाणियाँ करता था, और इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि वह एक पैग़म्बर था, किन्तु यह नहीं कहा जा सकता है कि वह पैग़म्बर था और इसलिए वह मसीह नहीं था। यह इसलिए है क्योंकि कार्य की एक अवस्था को पूरा करने में वह स्वयं परमेश्वर का प्रतिनिधित्व करता था, और उसकी पहचान यशायाह की पहचान से अलग थीः वह छुटकारे के कार्य को पूरा करने आया था, और उसने मनुष्य का जीवन भी प्रदान किया था, और परमेश्वर का आत्मा सीधे उसके ऊपर आ गया था। उस कार्य में, जो उसने किया था, परमेश्वर के आत्मा की किन्हीं अभिप्रेरणाओं या यहोवा का कोई निर्देश नहीं था। उसके बजाए, आत्मा सीधे तौर पर काम करने आया था - जो यह साबित करने के लिए काफी था कि यीशु पैग़म्बर के समान नहीं था। जो कार्य उसने किया था वह छुटकारे का कार्य था, भविष्यवाणी करना उसके बाद दूसरे स्थान पर था। वह एक पैग़म्बर, एक प्रेरित, और उस से बढ़कर वह एक उद्धारक था। इसी बीच भविष्य बताने वाले केवल भविष्यवाणी कर सकते थे, और किसी भी अन्य काम को करते समय परमेश्वर के आत्मा का प्रतिनिधित्व करने में असमर्थ थे। क्योंकि यीशु ने ढेर सारे काम किए जिन्हें पहले किसी भी मनुष्य के द्वारा नहीं किया गया था, और उसने मनुष्य को छुटकारा देने का कार्य किया था, इस प्रकार वह यशायाह के सादृश्य नहीं था। कुछ लोग आज की इस धारा की दिशा को स्वीकार नहीं करते हैं क्योंकि इसने उनके लिए एक बाधा उत्पन्न कर दी है। वे कहते हैं: “पुराने नियम में अनेक पैग़म्बरों ने भी बहुत सारे वचन कहे हैं - इस प्रकार वे परमेश्वर का देहधारी रूप क्यों नहीं बन पाए? आज का परमेश्वर वचनों को बोलता है - तो क्या यह साबित करना काफी होगा कि वह देहधारी परमेश्वर है? तुम बाइबल को ऊँचा स्थान नहीं देते हो, न ही तुम उसे पढ़ते हो - तो ऐसा कहने के लिए तुम्हारे पास क्या आधार है कि वह परमेश्वर का देहधारण है? तुम कहते हो कि उन्हें पवित्र आत्मा के द्वारा निर्देशित किया गया है, और तुम यह विश्वास करते हो कि कार्य की यह अवस्था वह कार्य है जिसे परमेश्वर के द्वारा व्यक्तिगत रीति से किया गया है - किन्तु इसके लिए तुम्हारे पास क्या आधार है?” तुम आज परमेश्वर के वचनों पर अपना ध्यान केन्द्रित करते हैं, ऐसा दिखाई देता है कि तुमने बाइबल को नकार दिया है, और उसे एक ओर रख दिया है, और इस प्रकार वे कहते हैं कि तुम झूठी शिक्षाओं पर विश्वास करते हो, एवं तुम एक बुरे पंथ के भाग हो।

यदि तुम इन अंतिम दिनों के दौरान परमेश्वर के कार्य की गवाही देने की इच्छा करते हो, तो तुम्हें बाइबल के भीतर की कहानी, बाइबल के ढाँचे और बाइबल के मुख्य तत्वों को समझना होगा। आज, लोग यह विश्वास करते हैं कि बाइबल परमेश्वर है, और परमेश्वर बाइबल है। इस प्रकार वे यह भी विश्वास करते हैं कि बाइबल के सारे वचन सिर्फ वे वचन हैं जिन्हें परमेश्वर ने कहा था, और उन सभी को परमेश्वर के द्वारा बोला गया था। वे जो परमेश्वर में विश्वास करते हैं वे यह भी मानते हैं कि यद्यपि पुराने और नए नियम की छियासठ पुस्तकों को लोगों के द्वारा लिखा गया था, फिर भी उन सभी को परमेश्वर की अभिप्रेरणा के द्वारा दिया गया था, और वे पवित्र आत्मा के कथनों के लिखित दस्तावेज़ हैं। यह लोगों का त्रुटिपूर्ण अनुवाद है, और यह तथ्यों से पूरी तरह मेल नहीं खाता है। वास्तव में, भविष्यवाणियों की पुस्तकों को छोड़कर, पुराने नियम का अधिकांश भाग ऐतिहासिक अभिलेख है। नए नियम के कुछ धर्मपत्र लोगों के व्यक्तिगत अनुभवों से आए हैं, और कुछ पवित्र आत्मा के प्रकाशन से आए हैं; उदाहरण के लिए, पौलुस के धर्मपत्र एक मनुष्य के कार्य से उदय हुए थे, वे सभी पवित्र आत्मा के प्रकाशन के परिणामस्वरूप थे, और वे कलीसिया के लिए लिखे गए थे, और वे कलीसिया के भाइयों एवं बहनों के लिए प्रोत्साहन और उत्साह के वचन हैं। वे पवित्र आत्मा के द्वारा बोले गए वचन नहीं थे - पौलुस पवित्र आत्मा के स्थान पर बोल नहीं सकता था, और न ही वह कोई पैग़म्बर था, और उसमें दिव्यदृष्टि तो बिलकुल नहीं थी। उसके धर्मपत्र इफिसुस, फिलेदिलफिया, गलातिया और अन्य कलीसियाओं के लिए लेखे गये थे। और इस प्रकार, नए नियम के पौलुस के धर्मपत्र वे धर्मपत्र हैं जिन्हें पौलुस ने कलीसियाओं के लिए लिखा था, और वे पवित्र आत्मा की अभिप्रेरणाएं नहीं हैं, न ही वे सीधे तौर पर पवित्र आत्मा के कथन हैं। वे महज प्रोत्साहन, दिलासा और उत्साह के वचन हैं जिन्हें उसने अपने कार्य की श्रृंखला के दौरान कलीसियाओं के लिए लिखा था। इस प्रकार वे उस समय पौलुस के अधिकतर कार्य के लिखित दस्तावेज़ हैं। वे प्रभु में सभी भाइयों और बहनों के लिए लिखे गए थे, और वे उस समय सभी कलीसियाओं के भाइयों एवं बहनों को उसकी सलाह को मानने और प्रभु यीशु के सभी मार्गों में बने रहने के लिए लिखे गए थे। किसी भी सूरत में पौलुस ने यह नहीं कहा कि, वे उस समय की या भविष्य की कलीसियाओं के लिए थे, और सभी को उसकी चीज़ों को खाना और पीना होगा, न ही उसने कहा कि उसके सभी वचन परमेश्वर की ओर से आए थे। उस समय की कलीसियाओं की परिस्थितियों के अनुसार, उसने साधारण तौर पर भाइयों एवं बहनों से संवाद किया था, और उनको प्रोत्साहित किया था, और उनके विश्वास को प्रेरित किया था; और उसने बस सामान्य तौर पर प्रचार किया या उन्हें स्मरण दिलाया था और उन्हें प्रोत्साहित किया था। उसके वचन उसके स्वयं के बोझ पर आधारित थे, और उसने इन वचनों के जरिए लोगों को संभाला था। उसने उस समय की कलीसियाओं के लिए प्रेरित का कार्य किया था, वह एक कर्मचारी था जिसे प्रभु यीशु के द्वारा इस्तेमाल किया गया, और इस प्रकार उसे कलीसियाओं की जिम्मेदारी दी गई थी, उसे कलीसियाओं के कार्य को करने का कार्य भार दिया गया था, उसे भाइयों एवं बहनों की परिस्थितियों के बारे में जानना था - और इसी कारण, उसने प्रभु में सभी भाइयों एवं बहनों के लिए धर्मपत्रों को लिखा था। जो कुछ भी उसने कहा था वह हितकारी था और लोगों के लिए लाभदायक एवं सही था, किन्तु यह पवित्र आत्मा के कथनों को दर्शाता नहीं था, और वह परमेश्वर का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकता था। यह एक विचित्र समझ थी, और एक भयंकर ईश्वरीय निन्दा थी, क्योंकि लोग मनुष्य के अनुभवों के लिखित दस्तावेज़ को और मनुष्य की पत्रियों को पवित्र आत्मा के द्वारा कलीसियाओं को बोले गए वचनों के रूप में ले रहे थे! जब उन धर्मपत्रों की बात आती है जिन्हें पौलुस ने कलीसियाओं के लिए लिखा था। तब यह विशेष रूप से सच है, क्योंकि उसके धर्मपत्र उस समय प्रत्येक कलीसिया की परिस्थितियों और उनकी स्थिति के आधार पर भाइयों एवं बहनों के लिए लिखे गये थे, और वे भाइयों एवं बहनों को प्रभु में प्रोत्साहित करने के लिए थे, ताकि वे प्रभु यीशु के अनुग्रह को प्राप्त कर सकें। उस समय उसके धर्मपत्र भाइयों एवं बहनों को जागृत करने के लिए थे। ऐसा कहा जा सकता है कि यह उसका स्वयं का बोझ था, और साथ ही यह वह बोझ था जिसे पवित्र आत्मा के द्वारा उसे दिया गया था; कुल मिलाकर, वह एक प्रेरित था जिसने उस समय की कलीसियाओं की अगुवाई की थी, जिसने कलीसियाओं के लिए धर्मपत्रों को लिखा था और उन्हें प्रोत्साहन दिया था - यह उसकी जिम्मेदारी थी। उसकी पहचान मात्र कलीसिया के लिए काम करने वाले की थी, वह मात्र एक प्रेरित था जिसे परमेश्वर के द्वारा भेजा गया था; वह एक पैग़म्बर नहीं था, और न ही एक पूर्वकथन कहने वाला था। अतः उसके लिए, स्वयं उसका कार्य और भाइयों एवं बहनों का जीवन सब से अधिक महत्वपूर्ण था। इस प्रकार, वह पवित्र आत्मा के स्थान पर बोल नहीं सकता था। उसके वचन पवित्र आत्मा के वचन नहीं थे, और उन्हें परमेश्वर के वचन तो बिलकुल भी नहीं कहा जा सकता था, क्योंकि पौलुस परमेश्वर के एक जीवधारी से बढ़कर और कुछ नहीं था, और वह निश्चित तौर पर परमेश्वर का देहधारी नहीं था। उसकी पहचान यीशु के समान नहीं थी। यीशु के वचन पवित्र आत्मा के वचन थे, वे परमेश्वर के वचन थे, क्योंकि उसकी पहचान मसीह-परमेश्वर के पुत्र की थी। पौलुस उसके बराबर कैसे हो सकता है? यदि लोग धर्मपत्रों या पौलुस के वचनों को पवित्र आत्मा के कथनों के रूप में देखते हैं, और परमेश्वर के रूप में उसकी आराधना करते हैं, तो सिर्फ यह कहा जा सकता है कि वे बहुत ही अधिक अविवेकी हैं। और अधिक कड़े शब्दों में कहा जाए, तो यह ईश निन्दा नहीं है तो और क्या है? एक मनुष्य परमेश्वर के बदले में कैसे बात कर सकता है? और लोग उसके धर्मपत्रों के लिखित दस्तावेज़ों और उसकी कही बातों के सामने कैसे झुक सकते हैं जैसे मानो वह कोई “पवित्र पुस्तक” या “स्वर्गीय पुस्तक” हो। क्या परमेश्वर के वचनों को एक मनुष्य के द्वारा सामान्य ढंग से बोला जा सकता है? एक मनुष्य परमेश्वर के बदले में कैसे बोल सकता है? और इस प्रकार, तुम क्या कहते हो - क्या वे धर्मपत्र जिन्हें उसने कलीसियाओं के लिए लिखा था उसके स्वयं के विचारों से दूषित नहीं हो गये होंगे? उन्हें मानवीय विचारों के द्वारा दूषित क्यों नहीं किया जा सकता है? उसने अपने व्यक्तिगत अनुभवों और अपने स्वयं के जीवन की व्यापकता के आधार पर कलीसियाओं के लिए इन धर्मपत्रों को लिखा था। उदाहरण के लिए, पौलुस ने गलातियों की कलीसिया को एक धर्मपत्र लिखा था जिस में एक निश्चित विचार था, और पतरस ने दूसरा धर्मपत्रलिखा, जिसमें एक अन्य दृष्टिकोण था। उन में से कौन पवित्र आत्मा के द्वारा आया था? कोई भी निश्चित तौर पर नहीं कह सकता है। इस प्रकार, सिर्फ इतना कहा जा सकता है कि उन दोनों के पास कलीसियाओं के लिए भार था, फिर भी उनके धर्मपत्र उनकी स्थिति को दर्शाते हैं, वे भाइयों एवं बहनों के लिए उनके नियोजन एवं सहयोग, और कलीसियाओं के प्रति उनके भार को दर्शाती हैं, और वे सिर्फ मानवीय कार्य को दर्शाती हैं; वे पूरी तरह पवित्र आत्मा की ओर से नहीं हैं। यदि तुम कहते हो कि उसके धर्मपत्र पवित्र आत्मा के वचन हैं, तो तुम बेतुके हो, और तुम ईश निन्दा कर रहे हो! पौलुस के धर्मपत्र और नए नियम के अन्य धर्मपत्र हाल ही के अधिकतर आत्मिक हस्तियों के संस्मरणों के समरूप हैं। वे वाचमैन नी की पुस्तकों या लॉरेन्स इत्यादि के अनुभवों के समतुल्य हैं। सीधी-सी बात है कि हाल ही के आत्मिक हस्तियों की पुस्तकों को नए नियम में संकलित नहीं किया गया है, फिर भी इन लोगों का सार-तत्व एक समान हैः वे ऐसे लोग थे जिन्हें एक निश्चित अवधि के दौरान पवित्र आत्मा के द्वारा इस्तेमाल किया गया था, और वे सीधे तौर पर परमेश्वर का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकते हैं।

नए नियम में मत्ती का सुसमाचार यीशु की वंशावली को दर्ज करता है। प्रारम्भ में यह कहता है कि यीशु, दाऊद की सन्तान इब्राहीम का वंशज, और यूसुफ का पुत्र था; आगे यह कहता है कि वह पवित्र आत्मा के द्वारा गर्भ में आया था, और कुंवारी से जन्मा था-जिसका अर्थ है कि वह यूसुफ का पुत्र या इब्राहीम का वंशज नहीं था, और वह दाऊद की सन्तान नहीं था। यद्यपि वंशावली यूसुफ के साथ यीशु के संबंध पर जोर देती है। आगे, वंशावली उस प्रक्रिया को दर्ज करना प्रारम्भ करती है जिसके तहत यीशु का जन्म हुआ था। यह कहती है कि यीशु पवित्र आत्मा के द्वारा गर्भ में आया था, उसका जन्म कुंवारी से हुआ था, और वह यूसुफ का पुत्र नहीं था। फिर भी वंशावली में यह साफ साफ लिखा हुआ है कि यीशु यूसुफ का पुत्र था, और क्योंकि वंशावली यीशु के लिए लिखी गई थी, यह बयालीस पीढ़ियों को दर्ज करती है। जब यह यूसुफ की वंशावली की बात करती है, तो यह शीघ्रता से कहता है कि यूसुफ मरियम का पति था, ये शब्द यह साबित करने के लिए हैं कि यीशु इब्राहीम का वंशज था। क्या यह विरोधाभास नहीं है? वंशावली साफ साफ यूसुफ के पूर्वजों के लेखे को दर्ज करता है, यह स्पष्ट रूप से यूसुफ की वंशावली है, किन्तु मत्ती जोर देता है कि यह यीशु की वंशावली है। क्या यह उस तथ्य को नकारता नहीं है कि यीशु पवित्र आत्मा के द्वारा गर्भ में आया था? इस प्रकार, क्या मत्ती के द्वारा दी गई वंशावली मानवीय युक्ति नहीं है? यह हास्यास्पद है! इस रीति से, तुम जान गए हो कि यह पुस्तक पूरी तरह से पवित्र आत्मा के द्वारा नहीं आई थी। कदाचित्, ऐसे कुछ लोग हों जो यह सोचते है कि परमेश्वर के पास जरूर पृथ्वी पर एक वंशावली होगी, जिसके परिणामस्वरूप वे यीशु को इब्राहिम की बयालीसवीं पीढी़ के रूप में निर्दिष्ट करते हैं। यह वास्तव में हास्यास्पद है! पृथ्वी पर आने के बाद, परमेश्वर की वंशावली कैसे हो सकती है? यदि तुम कहते हो कि परमेश्वर की वंशावली है, तो क्या तुम उसे परमेश्वर के जीवधारियों के बीच में श्रेणीबद्ध नहीं करते हो? क्योंकि परमेश्वर पृथ्वी का नहीं है, वह सृष्टि का प्रभु है, और यद्यपि वह देह में आ गया है, फिर भी वह मनुष्य के सार तत्व के समान नहीं है। तुम परमेश्वर को परमेश्वर के जीवधारियों के समान ही श्रेणीबद्ध कैसे कर सकते हो? इब्राहीम परमेश्वर का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकता है; वह उस समय यहोवा के कार्य का माध्यम था, वह मात्र एक विश्वासयोग्य सेवक था जिसे परमेश्वर के द्वारा मंजूर किया गया था, और वह इस्राएल के लोगों में से एक था। वह यीशु का एक पूर्वज कैसे हो सकता है?

यीशु की वंशावली को किसने लिखा था? क्या यीशु ने स्वयं इसे लिखा था? क्या यीशु ने व्यक्तिगत रूप से उन से कहा था, “मेरी वंशावली लिखो?” यीशु को क्रूस पर कीलों से ठोंक दिए जाने के बाद इसे मत्ती के द्वारा दर्ज किया गया था। उस समय, यीशु ने बहुत सारा काम किया था जो उसके चेलों की समझ से परे था, और उसने कोई व्याख्या प्रदान नहीं की थी। उसके जाने के बाद, चेलों ने हर जगह प्रचार करना और काम करना प्रारम्भ किया, और कार्य की उस अवस्था के लिए, उन्होंने धर्मपत्रों और सुसमाचार को लिखना प्रारम्भ किया। यीशु को क्रूस पर चढ़ाए जाने के बीस से लेकर तीस साल के बाद नए नियम के सुसमाचार की पुस्तकों को दर्ज किया या लिखा गया था। उस से पहले, इस्राएल के लोग केवल पुराना नियम ही पढ़ते थे। दूसरे शब्दों में, अनुग्रह के युग में लोग पुराना नियम पढ़ते थे। नया नियम केवल अनुग्रह के युग के दौरान ही प्रकट हुआ था। जब यीशु काम करता था तब नया नियम मौजूद नहीं था; उसके पुनरूत्थान और स्वर्गारोहण के बाद ही लोगों ने उसके कार्य को दर्ज किया या लिखा था। केवल तब ही सुसमाचार की चार पुस्तकें, और उसके अतिरिक्त पौलुस और पतरस की धर्मपत्र, साथ ही साथ प्रकाशित वाक्य की पुस्तक आई थी। प्रभु यीशु के स्वर्ग जाने के केवल तीन सौ साल बाद, जब उसके बाद की पीढ़ियों ने उनके लेखों का मिलान किया था, तब नया नियम अस्तित्व में आया। जब यह कार्य पूरा हो गया केवल तभी नया नियम अस्तित्व में आया था; यह पहले मौजूद नहीं था। परमेश्वर ने वह सब कार्य किया था, प्रेरित पौलुस ने वह सब कार्य किया था, उसके बाद पौलुस और पतरस के धर्मपत्रों को एक साथ मिलाया गया था, और पतमुस के टापू में यूहन्ना के द्वारा दर्ज किए गए सबसे बड़े दर्शन को अंत में रखा गया था, क्योंकि वह अंतिम दिनों के कार्य के विषय में भविष्यवाणी करता है। ये सब बाद में आनेवाली पीढ़ियों के समायोजन थे, और वे आज के कथनों से अलग हैं। जो कुछ आज लिखाया दर्ज किया गया है वह परमेश्वर के कार्य के विभिन्न चरणों के अनुसार है; लोग आज जिसमें शामिल हैं वह ऐसा कार्य है जिसे परमेश्वर के द्वारा व्यक्तिगत रूप से किया गया है, और वे ऐसे वचन हैं जिन्हें परमेश्वर के द्वारा व्यक्तिगत रूप से कहा गया है। तुम्हें हस्तक्षेप करने की कोई आवश्यकता नहीं है-वचनों को, जो सीधे तौर पर आत्मा के द्वारा आए हैं, कदम दर कदम क्रमबद्ध किया गया है, और वे मनुष्य के लिखित दस्तावेज़ों के अभिलेखों से अलग हैं। जो कुछ उन्होंने दर्ज किया है, ऐसा कहा जा सकता है, वह उनकी शिक्षा और उनकी मानवीय योग्यता के स्तर के अनुसार था। जो कुछ उन्होंने दर्ज किया था वे मनुष्यों के अनुभव थे, और प्रत्येक के पास दर्ज करने या लिखने और जानने के लिए अपने स्वयं के माध्यम थे, और प्रत्येक का लिखित दस्तावेज़ अलग था। इस प्रकार, यदि तुम ईश्वर के रूप में बाइबल की आराधना करते हो तो तुम बहुत ही ज़्यादा नासमझ और मूर्ख हो। तुम आज के लिए परमेश्वर के वचनों को क्यों नहीं खोजते हो? केवल परमेश्वर का कार्य ही मनुष्य को बचा सकता है। बाइबल मनुष्य को बचा नहीं सकती है, यह हज़ारों सालों से बिलकुल भी नहीं बदली है, और यदि तुम बाइबल की आराधना करते हो तो तुम पवित्र आत्मा के कार्य को कभी प्राप्त नहीं करोगे। इस्राएल में परमेश्वर के कार्य की दो अवस्थाओं को बाइबल में दर्ज किया गया है, और इस प्रकार तुम देखते हो कि इन लिखित दस्तावेज़ों में सभी नाम इस्राएल से हैं, और सभी घटनाएँ इस्राएल की हैं; यहाँ तक कि “यीशु” नाम भी एक इस्राएली नाम है। यदि आज तुम लगातार बाइबल पढ़ते रहते हो, तो क्या तुम परम्पराओं में बने नहीं रहते हो? जो कुछ बाइबल के नए नियम में दर्ज है वे यहूदिया के मामले हैं। मूल पाठ यूनानी और इब्रानी था, और यीशु के वचन और वह नाम जिसके तहत उसे उस समय पुकारा जाता था वे सभी मनुष्य की भाषा के हैं। जब उसे क्रूस पर कीलों से ठोंका गया था, यीशु ने कहाः “एली एली लमा सबक्तनी?” क्या यह इब्रानी नहीं है? यह महज़ इसलिए क्योंकि यीशु ने यहूदिया में देहधारण किया था, किन्तु इस से यह साबित नहीं होता है कि परमेश्वर यहूदी है। आज, परमेश्वर चीन में देहधारी हुआ है, और इस प्रकार जो कुछ भी वह कहता है वह निःसन्देह चीनी भाषा में है। फिर भी इसकी तुलना बाइबल के चीनी अनुवाद से नहीं की जा सकती है, क्योंकि इन वचनों का स्रोत अलग अलग हैः एक इब्रानी भाषा से आता है जिसे मनुष्य के द्वारा दर्ज किया गया था, और एक सीधे तौर पर आत्मा के कथनों से आता है।