सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

वचन देह में प्रकट होता है

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

अध्याय 10

आपको इससे या उससे भयभीत नहीं होना चाहिए। चाहे तुम कितनी भी मुसीबतों या खतरों का सामना करो, तुम मेरे सम्मुख स्थिर रहो; किसी भी चीज से बाधित ना हो, ताकि मेरी इच्छा पूरी हो सके। यह तुम्हारा कर्तव्य होगा अन्यथा तुम मेरे क्रोध का सामना करोगे और मेरा हाथ..., और तुम अनंत मानसिक पीड़ा भोगोगे। तुम्हें सब कुछ सहना होगा, तुम्हारे पास जो कुछ है उसे तुम त्याग दोगे और मेरा अनुसरण करने के लिए जो कुछ तुम कर सकते हो वह तुम करोगे; मेरे लिए पूरी कीमत चुकाओगे। यह वह समय होगा जब मैं तुम्हें परखूंगा, क्या तुम अपनी निष्ठा मुझे अर्पित करोगे? क्या तुम अपनी ईमानदारी से मार्ग के अंत तक मेरे पीछे चलोगे? मत डरो; मेरी सहायता के कारण कौन तुम्हारे मार्ग में बाधा डाल सकता है? यह स्मरण रखो! स्मरण रखो! जो कुछ घटित होता है वह मेरी भली इच्छा से और मेरी देख-रेख में होता है। क्या तुम्हारा हर शब्द व कार्य मेरे वचन के अनुसार हो सकता? जब अग्नि परीक्षा तुम पर आती हैं, क्या तुम घुटने टेक कर पुकारोगे? या दुबक कर आगे बढ़ने में असमर्थ होगे?

तुम में हिम्मत और सिद्धांत होने चाहिए जब तुम उन रिश्तेदारों का सामना करो जो विश्वास नहीं करते। परन्तु मेरी वजह से तुम किसी भी अन्धकार की शक्ति के अधीन ना होओगे। पूर्ण मार्ग पर चलने के लिए मेरी बुद्धि पर भरोसा रखो; शैतान के षडयंत्रों को काबिज़ न होने दो। अपने हृदय को मेरे सम्मुख रखने हेतु पूरा प्रयास करो और मैं तुम्हें आराम और शान्ति दूंगा और तुम्हारे हृदय में आनंद दूंगा। तुम मनुष्य से स्वीकृति ना लेना; क्या मुझे संतुष्ट करना अधिक मूल्यवान और गंभीर नहीं? क्या मुझे संतुष्ट करने से तुम अनंत और जीवनपर्यंत शान्ति या आनंद ना पाओगे? वर्तमान की तकलीफ़ें बताती हैं कि तुम्हारी आशीषें भविष्य में कितनी बड़ी हैं; यह अवर्णनीय है। तुम नहीं जानते कि तुम कितनी बड़ी आशीषें पाओगे, तुम उनकी कल्पना भी नहीं कर सकते हो। आज वे वास्तविक हो जायेंगी, बिल्कुल वास्तविक! यह दूर नहीं है, तुम उसे देख सकते हो? इसका अंतिम अंश भी मुझमें है और आगे यह कितना चमकदार है! अपने आंसू पोंछो, किसी दुःख और दर्द को महसूस मत करो, सब कुछ मेरे हाथों में है और मेरा लक्ष्य यह है कि तुम्हें जल्द विजयी बनाऊं और तुम्हें अपने साथ महिमा में ले चलूँ। जो कुछ तुम पर बीता है उसके लिए तुम धन्यवाद और स्तुति करोगे और यह मेरे हृदय को संतोष प्रदान करेगा।

मसीह का अतींद्रिय जीवन प्रकट हो चुका है, ऐसा कुछ भी नहीं जिससे तुम डरो। शैतान हमारे पैरों के नीचे है और उसका समय सीमित है। जागो! संसार की अनैतिकता को दूर करो, मृत्यु के गर्त से खुद को स्वतंत्र करो! मेरे प्रति विश्वासयोग्य रहो, सबसे बढ़कर, बहादुरीसे आगे बढ़ो; मैं तुम्हारी चट्टान हूँ, मुझ पर भरोसा रखो!

पिछला:अध्याय 9

अगला:अध्याय 11

सम्बंधित मीडिया