सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

फूलों की दो टोकरियों से प्रबोधन

174

शू फन

अपने खाली समय के दौरान, मैंने इंटरनेट पर सुलैमान के बारे में एक कहानी पढ़ी। एक पड़ोसी देश के राजा ने, भेंट के तौर पर, दो असाधारण और दुर्लभ फूलों की टोकरियाँ सुलैमान को दीं। एक टोकरी के फूल वास्तविक थे और दूसरी टोकरी के फूल नकली थे। बहरहाल, दोनों टोकरी के फूल बेहद समान दिखते थे। केवल देखकर वास्तविक फूलों को नकली फूलों से अलग पहचानने का लगभग कोई रास्ता नहीं था। पड़ोसी देश के उस राज्याधिकारी ने जो फूलों की टोकरियाँ लेकर आया था, सुलैमान के ज्ञान के बारे में सुना था। इसलिए, उसने सुलैमान से असली फूलों और नकली फूलों के बीच भेद करने के लिए कहा। सुलैमान ने कुछ लोगों से अपने बगीचे में फूलों की उन दो टोकरियों को लाने के लिए कहा। कोई भी समझ नहीं पाया था कि सुलैमान के इरादे क्या थे। सुलैमान ने सभी को बगीचे में इकट्ठा होने के लिए कहा और वहीं वे समझ पाए कि उसने बगीचे में टोकरियों को लाने के लिए क्यों कहा था। असली फूलों ने कई मधुमक्खियों को आकर्षित किया, जब कि नकली फूलों के पास कोई भी मधुमक्खी नहीं थी।

हालांकि यह एक बहुत ही सरल कहानी है, इसमें बहुत आध्यात्मिक अर्थ है। उन फूलों ने जिनमें जीवन था, एक सुगंध बहाई और उन्होंने मधुरस को स्रावित किया। यही कारण है कि उन्होंने मधुमक्खियों को आकर्षित किया। अन्य टोकरी में फूल निर्जीव थे। हालांकि, बाहर से वे भी वैसे ही लगते थे, उन्होंने कोई सुगंध नहीं छोड़ी और न ही उनके पास मधुमक्खी को आकर्षित करने के लिए कोई शहद था।

इस कहानी को पढ़ने के बाद कि किस तरह सुलैमान नकली फूलों से असली फूलों को समझने में सक्षम था, मैं यह सोचे बिना नहीं रह सकी: वर्तमान समय में कई ईसाई हैं जो भक्तिपूर्वक प्रभु यीशु की वापसी की प्रतीक्षा कर रहे हैं। हालांकि, साथ ही, वे धोखा खाने से डरते हैं और परिणामस्वरूप, वे यीशु की वापसी के सुसमाचार को नकारते हैं। क्योंकि बाइबल में, यीशु ने कहा: "उस समय यदि कोई तुम से कहे, 'देखो, मसीह यहाँ है!' या 'वहाँ है!' तो विश्‍वास न करना। क्योंकि झूठे मसीह और झूठे भविष्यद्वक्‍ता उठ खड़े होंगे, और बड़े चिह्न, और अद्भुत काम दिखाएँगे कि यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा दें" (मत्ती 24:23-24)। यही कारण है कि, वर्तमान में, धार्मिक दुनिया में ऐसे कई ईसाई हैं जिन्होंने भले ही किसी को परमेश्वर को गवाही देते हुए और प्रभु की वापसी की बात करते हुए सुन रखा है, वे कोई तलाश, जाँच और भेद नहीं करते हैं। इसके बजाय, वे अंधाधुंध फैसले करते हैं, दोषी ठहराते हैं और विरोध करते हैं। वे यही कहते रहते हैं कि "जो भी प्रभु की वापसी की गवाही देते हैं, वे सभी झूठे हैं"। क्या इस तरह की अवधारणा और कल्पना के साथ वे प्रभु की वापसी का स्वागत कर सकते हैं? अगर हम सावधानीपूर्वक प्रभु की शिक्षाओं पर विचार करते हैं, तो हम पाएँगे कि दरअसल प्रभु ने हमें यह सिखाया है कि नकली मसीहों को कैसे पहचानना है ताकि हम अंतिम दिनों में केवल नकली मसीहों के प्रकटन के आधार पर ही परमेश्वर की वापसी के सुसमाचार को अस्वीकार न कर दें। अगर हम नकली मसीहों द्वारा धोखा खाने के हमारे भय को यह अनुमति देते हैं कि हमें परमेश्वर की आवाज़ को सुनने और परमेश्वर की आवाज़ को समझने पर ध्यान केंद्रित करने से रोका जा सके, तो हम कैसे प्रभु की वापसी का स्वागत कर सकते हैं? अतीत की सोचो जब यीशु बस अपना काम करने आया ही था। मंदिर में यहोवा परमेश्वर की सेवा करने वाले फरीसी, मुख्य पुजारी और शास्त्री लोग अपनी अवधारणाओं और कल्पनाओं और बाइबल के पुराने नियम का पालन करते थे। उन्होंने यीशु के काम की तलाश या जाँच नहीं की थी। इसके बजाय, उन्होंने यीशु को क्रूस पर कीलों से जड़ दिया और एक बहुत ही गंभीर पाप किया। अंततः, उन्हें परमेश्वर का दंड और अभिशाप प्राप्त हुए। हालांकि, यीशु के वचनों को सुनने के बाद, पतरस, नतनएल, सामरी महिला और अन्य ने यह स्वीकार किया कि यीशु ही आने वाला मसीहा था। नतीजतन, उन्होंने परमेश्वर का अनुसरण किया। प्रकाशितवाक्य में कई बार भविष्यवाणी की गई है, "जिस के कान हों, वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है"। रोमियों की पुस्तक के अध्याय 10, 17वीं उक्ति में यह कहा गया है: "सो विश्वास सुनने से, और सुनना मसीह के वचन से होता है"। इसलिए, जब हम किसी को यीशु की वापसी के सुसमाचार का प्रचार करते हुए सुनते हैं, तो हमें पहले खोज और जाँच करनी चाहिए। हमारी खोज और जाँच के आधार पर, हमें तब यह विवेक करना चाहिए कि परमेश्वर वापस आया है या नहीं। इस तरह, हम परमेश्वर से मिलने का अवसर फिर से न खो देंगे।

स्वाभाविक रूप से, यदि हमें परमेश्वर की वापसी का स्वागत करना है, तो पहले हमें समझना होगा कि मसीह क्या है। आओ, हम परमेश्वर के वचनों को पढ़ें और देखें कि उसे इस विषय पर क्या कहना है: "परमेश्वर देहधारी हुआ और मसीह कहलाया, और इसलिए वह मसीह, जो लोगों को सत्य दे सकता है, परमेश्वर कहलाता है। इसमें कुछ भी अतिशयोक्ति नहीं है" ("केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनन्त जीवन का मार्ग दे सकता है")। परमेश्वर के वचनों से हम देख सकते हैं कि केवल देहधारी परमेश्वर को मसीह कहा जा सकता है। मसीह का अर्थ है कि देह में परमेश्वर के आत्मा का साक्षात्कार किया गया है। मसीह परमेश्वर का प्रकटन है, और अपने कार्य को करने हेतु परमेश्वर का देहधारण है। हालांकि बाहरी रूप से मसीह एक सामान्य व्यक्ति की तरह दिखता है, मसीह का सार दिव्यता है और जो कार्य वह करता है वह परमेश्वर का कार्य है। अब, असली मसीह और नकली मसीहों के बीच कोई कैसे भेद कर सकता है? परमेश्वर ने कहा, "यह पता लगाने के लिए कि क्या यह देहधारी परमेश्वर है, मनुष्य को इसका निर्धारण उसके द्वारा अभिव्यक्त स्वभाव से और उसके द्वारा बोले वचनों से अवश्य करना चाहिए। कहने का अभिप्राय है, कि वह परमेश्वर का देहधारी शरीर है या नहीं, और यह सही मार्ग है या नहीं, इसे परमेश्वर के सार से तय करना चाहिए। और इसलिए, यह निर्धारित करने[अ] में कि यह देहधआरी परमेश्वर का शरीर है या नहीं, बाहरी रूप-रंग के बजाय, उसके सार (उसका कार्य, उसके वचन, उसका स्वभाव और बहुत सी अन्य बातें) पर ध्यान देना ही कुंजी है। यदि मनुष्य केवल उसके बाहरी रूप-रंग को ही देखता है, उसके तत्व की अनदेखी करता है, तो यह मनुष्य की अज्ञानता और उसके अनाड़ीपन को दर्शाता है" ("केवल वह जो परमेश्वर के कार्य को अनुभव करता है वही परमेवर में सच में विश्वास करता है")। "यदि कोई मनुष्य अपने आप को परमेश्वर कहता हो मगर अपनी दिव्यता को व्यक्त करने में, परमेश्वर स्वयं का कार्य करने में, या परमेश्वर का प्रतिनिधित्व करने में असमर्थ हो, तो वह निसंदेह ही परमेश्वर नहीं है, क्योंकि उसमें परमेश्वर का सार नहीं है, और परमेश्वर जो अंतर्निहित रूप से प्राप्त कर सकता है वह उसके भीतर विद्यमान नहीं है" ("देहधारी परमेश्वर की सेवकाई और मनुष्य के कर्तव्य के बीच अंतर")। परमेश्वर के वचनों से हम समझ सकते हैं कि झूठे मसीहों को पहचानने में यह निरीक्षण करना होता है कि क्या उनके पास परमेश्वर का सार है, और मात्र उनके बाहरी दिखावे से इसका पता नहीं लगाया जा सकता। इस भेद को पाने के लिए हमें उनके कार्य, शब्द और स्वभाव को भी देखना होगा। मसीह लोगों को सच्चाई और जीवन प्रदान करने में सक्षम होता है। वह परमेश्वर के धार्मिक स्वभाव और उसके कार्य के ज्ञान को व्यक्त करने में सक्षम होता है। मसीह स्वयं पवित्र, धर्मी परमेश्वर है। यह ठीक वैसा ही है जैसा कि यीशु का, अनुग्रह के युग के दौरान, एक सामान्य व्यक्ति की तरह दिखना था। बहरहाल, उसने बड़ी मात्रा में सच्चाई व्यक्त की और उसने लोगों को पश्चाताप करने के तरीक़े प्रदान किए। उसने एक ऐसा स्वभाव भी व्यक्त किया जो मुख्यतः दया और प्रेम का था, और उसने लोगों को सिखाया कि दूसरों को सात बार के सत्तर गुने तक माफ़ करना चाहिए। यीशु ने बीमारों को भी ठीक किया, राक्षसों को निर्वासित किया और लोगों को कानून की बाध्यताओं से मुक्त किया। अंत में, वह क्रूस पर कीलों से जड़ दिया गया, जिससे समस्त मानव जाति का छुटकारा पूरा हुआ। यीशु के वचनों और कार्य से, हम पूरी तरह से पुष्टि कर सकते हैं कि मसीह सत्य, मार्ग और जीवन है। इसी प्रकार, आज प्रभु यीशु जो देह में लौट आया है—सर्वशक्तिमान परमेश्वर एक नए युग को, राज्य के युग को लेकर आया है। उसने लाखों वचनों को व्यक्त किया है और वह अंतिम दिनों के न्याय के कार्य को करने आया है। वह अपने धार्मिक और पवित्र स्वभाव के द्वारा मनुष्य का न्याय और शुद्धिकरण करता है ताकि मनुष्य को पाप करने और पश्चाताप करने के अंतहीन चक्र में जीने की आवश्यकता न रहे। अंत में, उसका कार्य मनुष्य को पापों के बंधन से मुक्त हो जाने और पूरी तरह से बचाए और सिद्ध हो जाने देगा। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों ने हमारे लिए सभी रहस्यों को उजागर किया है। उन वचनों ने मानव जाति के लिए परमेश्वर के इरादों के बारे में, मनुष्य की प्रत्येक श्रेणी के अंत के बारे में, और परमेश्वर जिस कार्य को पूरा करना चाहता है, उसके बारे में हमें अवगत किया है। परमेश्वर के वचनों ने हमें अभ्यास का एक मार्ग भी दिया है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों और कार्य से हम देख सकते हैं कि वह सच्चाई का मूर्त रूप है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर का कार्य एक बार फिर इसकी पुष्टि करता है कि मसीह सत्य, मार्ग और जीवन है। ये सभी चीज़ें वो हैं जिन्हें पूरा करने में नकली मसीह कभी भी सक्षम नहीं होंगे।

अब, हमें नकली मसीहियों को कैसे समझना चाहिए? परमेश्वर ने कहा: "यदि, वर्तमान समय में, कोई व्यक्ति उभर कर आता है जो चिह्नों और चमत्कारों को प्रदर्शित करने, पिशाचों को निकालने, और चंगाई करने में और कई चमत्कारों को करने में समर्थ है, और यदि यह व्यक्ति दावा करता है कि यह यीशु का आगमन है, तो यह दुष्टात्माओं की जालसाजी और उसका यीशु की नकल करना होगा। इस बात को स्मरण रखें! परमेश्वर एक ही कार्य को दोहराता नहीं है। यीशु के कार्य का चरण पहले ही पूर्ण हो चुका है, और परमेश्वर फिर से उस चरण के कार्य को पुनः नहीं दोहराएगा। ...यदि अंत के दिनों के दौरान, परमेश्वर अभी भी चिह्नों और चमत्कारों को प्रदर्शित करता है और अभी भी दुष्टात्माओं को निकालता और चंगा करता है—यदि वह यीशु के ही समान करता है—तो परमेश्वर एक ही कार्य को दोहरा रहा होगा, और यीशु के कार्य का कोई महत्व या मूल्य नहीं होगा। इस प्रकार, प्रत्येक युग में परमेश्वर कार्य के एक ही चरण को करता है। एक बार जब उसके कार्य का प्रत्येक चरण पूरा हो जाता है, तो शीघ्र ही इसकी दुष्टात्माओं के द्वारा नकल की जाती है, और शैतान द्वारा परमेश्वर का करीब से पीछा करने के बाद, परमेश्वर एक दूसरे तरीके में बदल देता है; एक बार परमेश्वर अपने कार्य का एक चरण पूर्ण कर लेता है, तो इसकी दुष्टात्माओं द्वारा नकल कर ली जाती है। तुम लोगों को इन बातों के बारे में अवश्य स्पष्ट हो जाना चाहिए।" "आज, परमेश्वर अनुग्रह के युग को समाप्त करने और अनुग्रह के युग की सभी प्रथाओं को बाहर निकालने आया है। ...आज का परमेश्वर चिह्न और चमत्कार नहीं करता है, न ही वह चंगा करता और पिशाचों को निकालता है। जब यीशु आया, तो उसने परमेश्वर के एक भाग को प्रकट करने वाला कार्य किया, परन्तु इस समय परमेश्वर कार्य के उस चरण को करने आया है जो बाकी है, क्योंकि परमेश्वर एक ही कार्य को दोहराता नहीं है; वह हमेशा नया रहने वाला परमेश्वर है और कभी भी पुराना नहीं पड़ता है, और इसलिए तुम आज जो कुछ भी देख रहे हो वह व्यावहारिक परमेश्वर के वचन और कार्य हैं" ("आज परमेश्वर के कार्य को जानना")।

परमेश्वर के वचनों से हम समझते हैं कि नकली मसीहों के पास परमेश्वर का सार नहीं होता है और वे परमेश्वर के कार्य को नहीं कर सकते हैं। वे तो केवल परमेश्वर होने का नाटक करने के लिए परमेश्वर के पिछले काम की नकल कर सकते हैं। दूसरे शब्दों में, अंतिम दिनों में, जो लोग चमत्कार कर सकते हैं, बीमारों को ठीक कर सकते हैं, राक्षसों को भगा सकते हैं और यह दावा करते हैं कि वे मसीह हैं, वे निश्चित रूप से दुष्ट आत्माएँ हैं जो परमेश्वर होने का ढोंग कर रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि परमेश्वर नित्य नवीन होता है और कभी भी पुराना नहीं होता है। प्रत्येक युग में, परमेश्वर का कार्य भिन्न होता है। वह हमेशा नया कार्य करता है। अगर मनुष्य इस भेद को नहीं समझ सकता है, तो वह धोखा खा जाएगा। इसलिए, यीशु ने हमें चेतावनी दी: "उस समय यदि कोई तुम से कहे, 'देखो, मसीह यहाँ है!' या 'वहाँ है!' तो विश्‍वास न करना। क्योंकि झूठे मसीह और झूठे भविष्यद्वक्‍ता उठ खड़े होंगे, और बड़े चिह्न, और अद्भुत काम दिखाएँगे कि यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा दें" (मत्ती 24:23-24)। आज, सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंतिम दिनों के मसीह, ने नया काम किया है। वह अब चमत्कार नहीं करता, बीमारों को ठीक नहीं करता और राक्षसों को भगाता नहीं है। इसके बजाय, वह सच्चाई व्यक्त करता है और मनुष्य का न्याय करने, मनुष्य को शुद्ध करने और मनुष्य को सिद्ध करने का काम करता है। नए युग में उसने मनुष्य को अभ्यास का एक मार्ग दिखाया है और उसने मनुष्य को जीने की एक राह दी है। इसके विपरीत, नकली मसीह और नकली भविष्यवक्ता सच्चाई से बिलकुल ही लैस नहीं हैं और न ही वे सत्य को व्यक्त करने में और मानव जाति को जीवन प्रदान करने में सक्षम हैं। वे केवल परमेश्वर के पिछले काम की नकल कर सकते हैं और लोगों को धोखा देने के लिए कुछ सरल चमत्कार कर दिखाते हैं। बहरहाल, वे 5 रोटी और 2 मछलियों से 5000 लोगों को खिलाने, लाज़र का पुनरुत्थान करने, हवा और समुद्र को डाँटने और ऐसे अन्य चमत्कार नहीं कर सकते जो यीशु ने किये थे। वे दुष्ट आत्माएँ हैं जो परमेश्वर होने का ढोंग कर रहे हैं। वे सभी चीजों पर शासन नहीं करते हैं और उनके पास ऐसा करने की शक्ति या अधिकार नहीं है। यह पूरी तरह से उनके सार से निर्धारित होता है। जैसा कि परमेश्वर ने कहा था: "कभी न कभी, उन धोखेबाज़ मसीह का पतन होगा, हालांकि वे मसीह होने का दावा करते हैं, किंतु उनमें किंचितमात्र भी मसीह का सार-तत्व नहीं होता। इसलिए मैं कहता हूं कि मसीह की प्रमाणिकता मनुष्य के द्वारा परिभाषित नहीं की जा सकती है, परन्तु स्वयं परमेश्वर के द्वारा उत्तर दिया और निर्णय लिया जा सकता है" ("केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनन्त जीवन का मार्ग दे सकता है")। इसलिए, अगर हम सच्चे मसीह को झूठे मसीहों से अलग करने के सिद्धांतों को समझ सकते हैं, तो हमें धोखा खाने से डरने की ज़रूरत नहीं है। एक ऐसे दिल के साथ जो परमेश्वर का सम्मान करता हो, हम शांतिपूर्वक और साहसपूर्वक सभी प्रकार की बोलियों की तलाश, जाँच और पहचान कर सकते हैं। केवल वह व्यक्ति जो मनुष्य के लिए सत्य, मार्ग और जीवन ला सकता है, वही सच्चा मसीह है। यह वैसा ही है जैसा कि उस कहानी ने बताया है। असली फूलों में जीवन था और वे मधुमक्खियों को आकर्षित करने में सक्षम थे। नकली फूलों में, जो कि बाहर से असली फूलों के जैसे ही थे, जीवन नहीं था और वे मधुमक्खियों को शहद से आकर्षित करने में असमर्थ थे। इसी प्रकार, चाहे नकली मसीह खुद को छद्मवेश में कितना भी छिपाएँ और परमेश्वर की नकल करें, वे सत्य को व्यक्त करने और मनुष्य को जीवन प्रदान करने में असमर्थ होते हैं। बहरहाल, सच्चे मसीह के पास परमेश्वर का सार होता है, वह सत्य को व्यक्त करने में और मनुष्य को जीवन प्रदान करने में सक्षम होता है। इसलिए, यीशु का कार्य दुनिया के सभी कोनों में फैल जाने में सक्षम है और वह परमेश्वर के सामने कई लोगों को ला सकता है ताकि वे यीशु के उद्धार को प्राप्त कर सकें। यह जीवन की शक्ति है। उस सच्चाई ने जिसे अंतिम दिनों के सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने व्यक्त किया है, 6,000 वर्षों के प्रबंधन के अपने कार्य के सभी रहस्यों को समस्त मानव जाति के देख पाने के लिए खोल दिया है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर उन सभी सच्चाइयों को व्यक्त करने में सक्षम है जिनकी मनुष्य को शुद्ध होने और बचाए जाने के लिए आवश्यकता है। यह वैसा ही है जैसा कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने कहा: जिसे परमेश्वर मानव जाति को प्रदान करता है। न केवल यह सत्य हमें सकारात्मक चीज़ों और नकारात्मक चीज़ों के भेद को समझने में सहायता कर सकता है, बल्कि यह हमें अपने स्वभावों को बदलने का तरीक़ा भी प्रदान करता है जिसकी हमें ज़रूरत है और इसके अलावा, यह हमें अनन्त जीवन का मार्ग प्रदान करता है। यह पूरी तरह से परमेश्वर के सार पर निर्भर है। यह वैसा ही है जैसा कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने कहा था: "जीवन का मार्ग कोई साधारण चीज़ नहीं है जो चाहे कोई भी प्राप्त कर ले... यह इसलिए कि जीवन केवल परमेश्वर से ही आता है, कहने का अर्थ है कि केवल स्वयं परमेश्वर ही जीवन के तत्व का अधिकारी है, स्वयं परमेश्वर के बिना जीवन का मार्ग नहीं है, और इसलिए केवल परमेश्वर ही जीवन का स्रोत है, और जीवन के जल का सदा बहने वाला सोता है" ("केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनन्त जीवन का मार्ग दे सकता है")। वर्तमान में, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के राज्य का सुसमाचार पहले ही समग्र मुख्यभूमि चीन में फैल चुका है। अभी, यह दुनिया के सभी कोनों में प्रसारित किया जा रहा है और इसकी गवाही दी जा रही है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा व्यक्त वचन देह में प्रकट होता है भी बहुत समय पहले इन्टरनेट पर प्रकाशित किया गया है। यह उन सभी के लिए प्रदान किया गया है जो जाँच करने के लिए सच्चाई को चाहते हैं। बहुत से लोगों ने जो सच्चाई से प्रेम करते हैं और परमेश्वर के प्रकटन के लिए तरसते हैं, उन वचनों को पढ़ा है जिन्हें सर्वशक्तिमान परमेश्वर व्यक्त करता है, और वे सभी यह मानते हैं कि यह परमेश्वर की आवाज़ हैं और सर्वशक्तिमान परमेश्वर अंतिम दिनों में प्रकट होने वाला प्रभु यीशु ही है। एक के बाद, वे परमेश्वर के सिंहासन के सामने लौट रहे हैं। आज, अगर हम झूठे मसीहों द्वारा धोखा खाने से डरते हैं और परिणामस्वरूप, सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंतिम दिनों के मसीह, के प्रकटन और कार्य की खोज और जाँच नहीं करते हैं, तो हमने हमेशा के लिए अंतिम दिनों में परमेश्वर के अनुग्रह को खो दिया होगा!

सम्बंधित मीडिया