बाइबल के प्रश्नों के उत्तर

18 संबंधित मीडिया

प्रभु का वादा है कि वे फिर से हमें स्वर्ग के राज्य में ले जाने के लिए आएंगे, और फिर भी आप कहते हैं कि प्रभु अंत के दिनों में न्याय का कार्य करने के लिए पहले ही देहधारी हो चुके हैं। बाइबल साफ तौर पर यह भविष्यवाणी करती है कि प्रभु सामर्थ्य और महान महिमा के साथ बादलों पर देहधारी होंगे। यह उस बात से काफ़ी अलग है जिसकी आपने गवाही दी थी, कि प्रभु पहले ही देहधारण कर चुके हैं और गुप्त रूप से लोगों के बीच देहधारी हो चुके हैं।

उत्तर: आपका कहना है कि प्रभु ने इंसान से वादा किया था कि वे फिर से लोगों को स्वर्ग के राज्य में ले जाने के लिए आएंगे, इसमें कोई संदेह नहीं है, क्योंकि प्रभु भरोसेमंद हैं, वे अपने वादों को बेशक पूरा करेंगे। मगर पहले हमें …

05 दिसम्बर, 2018

प्रभु की वापसी में देहधारण क्यों शामिल है—गुप्त रूप से अवरोहण—साथ-ही-साथ सार्वजनिक रूप से बादलों से अवरोहण?

संदर्भ के लिए बाइबल के पद:"देख, मैं चोर के समान आता हूँ" (प्रकाशितवाक्य 16:15)।"आधी रात को धूम मची: 'देखो, दूल्हा आ रहा है! उससे भेंट करने के लिये चलो'" (मत्ती 25:6)।"देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा …

10 नवम्बर, 2017

प्रभु की वापसी के बारे में, बाइबल में साफ़ तौर पर दर्ज है, "उस दिन या उस घड़ी के विषय में कोई नहीं जानता, न स्वर्ग के दूत और न पुत्र; परन्तु केवल पिता" (मरकुस 13:32)। यदि आप कहते हैं कि प्रभु यीशु पहले ही लौट कर आ चुके हैं, तो आपको कैसे पता चला?

परमेश्वर के वचन से जवाब:उषाकाल में, किसी को भी बताए बिना, परमेश्वर पृथ्वी पर आया और देह में अपना जीवन शुरू किया। लोग इस क्षण से अनभिज्ञ थे। कदाचित वे सब घोर निद्रा में थे, कदाचित बहुत से लोग जो सतर्कतापूर्वक जागे हुए थे …

09 नवम्बर, 2017

बाइबल क्या है? बाइबल किस तरह की पुस्तक है? बाइबल कैसे बनी?

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:परमेश्वर द्वारा व्यवस्था के युग का कार्य कर लेने के बाद पुराना विधान बनाया गया और तब से लोगों ने बाइबल पढ़ना शुरू किया। यीशु ने आने के बाद अनुग्रह के युग का कार्य किया, और उसके प्रेरितों ने नया व…

09 नवम्बर, 2017

प्रभु यीशु कहता था कि वह फिर लौटकर आएगा, तो अंत के दिनों में जब वह वास्तव में लौटता है, तब वह लोगों के समक्ष किन तरह प्रकट होगा?

संदर्भ के लिए बाइबल के पद:"देख, मैं चोर के समान आता हूँ; धन्य वह है जो जागता रहता है, और अपने वस्त्र की चौकसी करता है कि नंगा न फिरे, और लोग उसका नंगापन न देखें" (प्रकाशितवाक्य 16:15)।"यदि तू जागृत न रहेगा तो मैं चोर के …

10 नवम्बर, 2017

अंत के दिनों में परमेश्वर का न्याय कार्य बाइबल की भविष्यवाणियों को साकार और पूरा करता है

धर्मग्रंथों के भीतर जिसकी सबसे अधिक भविष्यवाणी की गई है वह अंत के दिनों में परमेश्वर का न्याय और ताड़ना का कार्य है। धर्मग्रंथों में परमेश्वर द्वारा कम से कम दो सौ स्थानों में न्याय को पूरा करने का उल्लेख किया गया है; को…

09 नवम्बर, 2018

Hindi Christian Movie अंश 2 : "परमेश्वर का नाम बदल गया है?!" - क्या परमेश्वर का नाम वाकई अपरिवर्तनीय है?

धार्मिक दुनिया के पादरी और एल्डर्स अक्सर प्रवचनों में विश्वासियों से कहते हैं कि प्रभु यीशु का नाम कभी नहीं बदल सकता और सिर्फ प्रभु यीशु के नाम पर भरोसा करके ही हम बचाये जा सकेंगे। क्या ऐसी सोच सत्‍य के अनुरूप है? यहोवा परमेश्वर ने कहा था, "मुझ से पहले कोई परमेश्‍वर न हुआ औ…

14 नवम्बर, 2018

Hindi Christian Movie अंश 1 : "परमेश्वर का नाम बदल गया है?!" - क्या बाइबल के वचनों के अलावा परमेश्वर के और भी कोई वचन हैं?

बाइबल कहता है, "जो सिंहासन पर बैठा था, मैंने उसके दाहिने हाथ में एक पुस्तक देखी जो भीतर और बाहर लिखी हुई थी, और वह सात मुहर लगाकर बन्द की गई थी" (प्रकाशितवाक्य 5:1)।(© BSI) "जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है। जो जय पाए, उस को मैं गुप्‍त मन्ना में से…

14 नवम्बर, 2018

Hindi Christian Movie अंश 2 : "जोखिम भरा है मार्ग स्वर्ग के राज्य का" - प्रभु यीशु देह में लौट आये हैं और कार्य करने के लिये प्रकट हुए हैं

बहुत से लोग प्रभु के दूसरे आगमन के स्वागत में, बाइबल में दी गई इस भविष्यवाणी को ही अहमियत देते हैं कि प्रभु दूसरे आगमन में बादलों से उतरेंगे, और इस भविष्यवाणी को अनदेखा कर देते हैं कि प्रभु का दूसरा आगमन देहधारण के ज़रिये होगा। वे ऐसे किसी भी तरीके को जो परमेश्वर के देहधारण…

01 नवम्बर, 2018

बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं?

उत्तर:बहुत से लोगों का विश्वास है कि बाइबल प्रभु की प्रतिनिधि है, परमेश्वर की प्रतिनिधि है और प्रभु में विश्वास करने का अर्थ बाइबल में विश्वास करना है, और बाइबल में विश्वास करना प्रभु में विश्वास करने के समान है। वे बाइब…

20 मार्च, 2018

सच्चे मसीह और झूठे मसीह: सच्चे मसीह और झूठे मसीह के बीच भेद करने का तरीका

सभी प्रकार की आपदाएँ अब घटित हो रही हैं और प्रभु के आने से संबंधित बाइबल की भविष्यवाणियाँ अब काफी हद तक पूरी हो चुकी हैं। कई भाई-बहन अपने दिलों में महसूस करते हैं कि प्रभु पहले से ही लौट आए हैं, और वे सभी प्रभु को खोज रह…

01 जुलाई, 2020

धार्मिक पादरी और प्राचीन लोग बाइबल में पौलुस के इन शब्दों को थामे रहते हैं: "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है" (2 तीमुथियुस 3:16), वे ऐसा विश्वास करते हैं कि बाइबल की हर बात परमेश्वर का ही वचन है, लेकिन तुम कहते हो कि बाइबल के शब्द पूरी तरह से परमेश्वर के वचन नहीं हैं, तो यह सब क्या है?

उत्तर:सबसे पहले, हमें यह समझने की ज़रूरत है कि बाइबल कैसे और कब बनी। बाइबल की मूल किताब पुराने नियम का उल्लेख करती है। इज़राइली लोगों ने, अर्थात यहूदियों ने, केवल पुराने नियम को ही पवित्र शास्त्र कहा था। और फिर, अनुग्रह …

20 मार्च, 2018

परमेश्वर के नाम में एक रहस्य है : विभिन्न युगों में परमेश्वर के अलग-अलग नाम का क्या महत्व है

सूचीपत्र यहोवा नाम यीशु क्यों बन गया? "युगानुयुग" का अर्थ है परमेश्वर का सार और स्वभाव कभी नहीं बदलेगा, यह नहीं कि उसका नाम कभी नहीं बदलेगा विभिन्न युगों में परमेश्वर को विभिन्न नामों से क्यों पुकारा जाता है, और परमेश्वर…

11 मार्च, 2019

आप सब गवाही देते हैं कि प्रभु यीशु लौट आये हैं, और उन्होंने प्रकट होकर चीन में कार्य किया है, मुझे विश्वास है कि यह सच है, क्योंकि प्रभु यीशु ने बाइबल में यह भविष्यवाणी की थी: "क्योंकि जैसे बिजली पूर्व से निकलकर पश्‍चिम तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य के पुत्र का भी आना होगा" (मत्ती 24:27)। लेकिन हमें लगता है कि प्रभु हमें स्वर्ग के राज्य में ले जाने के लिए अंत के दिनों में वापस आयेंगे, या कम-से-कम वे हमें बादलों पर ही उठा लें ताकि हम हवा में उनसे मिल तो सकें। जैसा कि बाइबल में पौलुस ने कहा था, "तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे, उनके साथ बादलों पर उठा लिए जायेंगे, कि हवा में प्रभु से मिलें: और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे" (1 थिस्सलुनीकियों 4:17)। लेकिन जैसा बाइबल में बताया गया है, प्रभु वैसे क्यों नहीं आये? अंत के दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्वर के न्याय के कार्य का हमारे स्वर्ग के राज्य में प्रवेश से क्या लेना-देना है?

उत्तर: बहुत से लोग मानते हैं कि जब प्रभु का पुनरागमन होगा, तो वे विश्वासियों से मिलने के लिए उनको आकाश में उठा लेंगे। आप सब जो कह रहे हैं, वह पौलुस के कथन पर आधारित है, प्रभु के वचन पर नहीं। हमें कोई अनुमान नहीं कि पौलुस…

01 नवम्बर, 2018

प्रभु यीशु कहते हैं: "मेरी भेड़ें मेरा शब्द सुनती हैं" (यूहन्ना 10:27)। तब समझ आया कि प्रभु अपनी भेड़ों को बुलाने के लिए वचन बोलने को लौटते हैं। प्रभु के आगमन की प्रतीक्षा से जुड़ी सबसे महत्वपूर्ण बात है, प्रभु की वाणी सुनने की कोशिश करना। लेकिन अब, सबसे बड़ी मुश्किल ये है कि हमें नहीं पता कि प्रभु की वाणी कैसे सुनें। हम परमेश्वर की वाणी और मनुष्य की आवाज़ के बीच भी अंतर नहीं कर पाते हैं। कृपया हमें बताइये कि हम प्रभु की वाणी की पक्की पहचान कैसे करें।

उत्तर: हम परमेश्वर की वाणी कैसे सुनते हैं? हममें कितने भी गुण हों, हमें कितना भी अनुभव हो, उससे कोर्इ फ़र्क नहीं पड़ता। प्रभु यीशु में विश्वास करते हुए, उनके कई वचन सुनकर हमें कैसा लगता है? हालांकि हमें प्रभु के वचनों का …

01 नवम्बर, 2018

सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनन्त जीवन का मार्ग दे सकता है," तो मुझे वह याद आया जो प्रभु यीशु ने एक बार कहा था, "परन्तु जो कोई उस जल में से पीएगा जो मैं उसे दूँगा, वह फिर अनन्तकाल तक प्यासा न होगा; वरन् जो जल मैं उसे दूँगा, वह उसमें एक सोता बन जाएगा जो अनन्त जीवन के लिये उमड़ता रहेगा" (यूहन्ना 4:14)। हम पहले से ही जानते हैं कि प्रभु यीशु जीवन के सजीव जल का स्रोत हैं, और अनन्‍त जीवन का मार्ग हैं। क्या ऐसा हो सकता है कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर और प्रभु यीशु समान स्रोत हों? क्या उनके कार्य और वचन दोनों पवित्र आत्मा के कार्य और वचन हैं? क्या उनका कार्य एक ही परमेश्‍वर करते हैं?

उत्तर: दोनों बार जब परमेश्‍वर ने देह धारण की तो अपने कार्य में, उन्होंने यह गवाही दी कि वे सत्‍य, मार्ग, जीवन और अनन्‍त जीवन के मार्ग हैं। यह सिद्ध करने के लिए कि मसीह सत्‍य, मार्ग और जीवन हैं, वे कई सत्‍य व्यक्त करते है…

05 दिसम्बर, 2018