वचन देह में प्रकट होता है

विषय-वस्तु

परमेश्वर द्वारा आवासित देह का सार

पहला देहधारी परमेश्वर पृथ्वी पर साढ़े तैंतीस साल रहा, फिर भी उसने अपनी सेवकाई को उन सालों में से केवल साढ़े तीन साल तक ही किया। अपना कार्य करने के दौरान और अपना कार्य आरम्भ करने से पहले, इन दोनों समयों में, वह अपनी सामान्य मानवता को धारण किए हुए था। वह अपनी साधारण मानवता में साढ़े तैंतीस साल तक रहा। पूरे साढ़े तीन साल तक उसने अपने आप को देहधारी परमेश्वर के रूप में प्रकट किया। अपनी सेवकाई का कार्य प्रारम्भ करने से पहले, अपनी दिव्यता का कोई भी चिन्ह प्रकट नहीं करते हुए, वह अपनी साधारण और सामान्य मानवता के साथ प्रकट हुआ, और यह केवल उसकी सेवकाई को औपचारिक तौर पर प्रारम्भ करने के बाद ही हुआ कि उसकी दिव्यता प्रदर्शित की गई थी। पहले उनतीस साल तक का उसका जीवन और कार्य प्रकट करते हैं कि वह एक सच्चा मानव, मनुष्य का पुत्र, एक देह था; क्योंकि उसकी सेवकाई गंभीरता से उसकी उनतीस साल की उम्र के बाद ही आरम्भ हुई थी। देहधारण का अर्थ यह है कि परमेश्वर देह में प्रकट होता है, और वह अपनी सृष्टि के मनुष्यों के मध्य देह की छवि में कार्य करने आता है। इसलिए, परमेश्वर को देहधारी होने के लिए, उसे सबसे पहले देह, सामान्य मानवता वाली देह अवश्य होना चाहिए; यह, कम से कम, सत्य अवश्य होना चाहिए। वास्तव में, परमेश्वर का देहधारण का निहितार्थ यह है कि परमेश्वर देह में रह कर कार्य करता है, परमेश्वर अपने वास्तविक सार में देहधारी बन जाता है, एक मनुष्य बन जाता है। उसके देहधारी जीवन और कार्य को दो चरणों में विभाजित किया जा सकता है। पहला उसका वह जीवन है जो उसने अपनी सेवकाई प्रारम्भ करने से पहले जीया। वह मानव जीवन की सामान्य नैतिकताओं और व्यवस्थाओं का पालन करते हुए, मानव जीवन की सामान्य आवश्यकताओं (भोजन, कपड़े, आवास, निंद्रा), सामान्य मानवीय कमज़ोरियों और सामान्य मानवीय भावनाओं के साथ, पूरी तरह से सामान्य मानवता में, एक सामान्य मानव परिवार में रहता है। दूसरे शब्दों में, इस पहले चरण के दौरान वह सभी मानवीय क्रियाकलापों में शामिल होते हुए, गैर-दिव्य, पूरी तरह से सामान्य मानवता में रहता है। दूसरा चरण वह जीवन है जो वह अपनी सेवकाई को आरम्भ करने के बाद जीता है। वह अभी भी, अलौकिक शक्ति के किसी भी बाहरी संकेत को प्रकट नहीं करते हुए, एक सामान्य मानव आवरण के साथ, सामान्य मानवता में रहता है। फिर भी वह अपनी सेवकाई के वास्ते ही विशुद्ध रूप से जीता है, और इस समय के दौरान उसकी सामान्य मानवता पूरी तरह से उसके दिव्यता के सामान्य कार्य को करने में रहती है; क्योंकि तब तक उसकी सामान्य मानवता उसकी सेवकाई के कार्य को करने में समर्थ होने की स्थिति तक परिपक्व हो जाती है। इसलिए उसके जीवन का दूसरा चरण अपनी सामान्य मानवता में अपनी सेवकाई को करना है, एक सामान्य मानवता और पूर्ण दिव्यता का जीवन दोनों है। अपने जीवन के प्रथम चरण में वह पूरी तरह से साधारण मानवता का जीवन जीता है उसका कारण यह है कि उसकी मानवता अभी तक दिव्य कार्य की समग्रता के बराबर नहीं है, अभी तक वह परिपक्व नहीं हुई है; केवल जब उसकी मानवता परिपक्व हो जाती है, उसकी सेवकाई को सहारा प्रदान करने के योग्य बन जाती है, तभी वह अपनी सेवकाई की शुरूआत कर सकता है। चूँकि उसे, एक देह के रूप में, बढ़ने और परिपक्व होने की आवश्यकता है, इसलिए उसके जीवन का पहला चरण सामान्य मानवता का जीवन है, जबकि दूसरे चरण में, क्योंकि उसकी मानवता उसके कार्य का दायित्व लेने और उसकी सेवकाई को करने में सक्षम है, इसलिए अपनी सेवकाई के दौरान देहधारी परमेश्वर जिस जीवन को जीता है वह मानवता और पूर्ण दिव्यता दोनों का एक जीवन है। यदि अपने जन्म के समय से ही देहधारी परमेश्वर, अलौकिक संकेतों और चमत्कारों को दिखाते हुए, गंभीरता से अपनी सेवकाई आरम्भ कर देता, तो उसके पास कोई भी दैहिक सार नहीं होता। इसलिए, उसकी मानवता उसके दैहिक सार के लिए अस्तित्व में है; मानवता के बिना कोई भी देह नहीं हो सकती है, और बिना मानवता वाला कोई व्यक्ति मानव नहीं है। इस तरह से, परमेश्वर की देह की मानवता, परमेश्वर के देहधारी देह की अंतर्भूत सम्पत्ति है। ऐसा कहना कि “जब परमेश्वर ने देहधारण किया तो वह पूरी तरह से दिव्य है, मानव बिल्कुल नहीं है” ईशनिंदा है, क्योंकि अपनाए जाने के लिए ऐसा दृष्टिकोण असम्भव है, एक ऐसा दृष्टिकोण जो देहधारण के सिद्धांत का उल्लंघन करता है। यहाँ तक कि उसके अपनी सेवकाई को आरम्भ करने के बाद भी, उसकी दिव्यता अभी भी मानवीय बाह्य आवरण में रहती है जब वह अपना कार्य करता है; यह सिर्फ़ इतना ही है कि उस समय, उसकी मानवता उसकी दिव्यता को सामान्य देह में कार्य करने की अनुमति देने के एक मात्र प्रयोजन को पूरा करती है। इसलिए कार्य का अभिकर्ता उसमें रहने वाली दिव्यता है। कार्य में यह उसकी दिव्यता है न कि उसकी मानवता, फिर भी यह उसकी मानवता में छिपी हुई एक दिव्यता है; उसका कार्य सार रूप में उसकी सम्पूर्ण दिव्यता के द्वारा किया जाता है, न कि उसकी मानवता के द्वारा। परन्तु कार्य को करने वाला उसका देह है। कोई व्यक्ति ऐसा कह सकता है कि वह मनुष्य है और परमेश्वर भी है, क्योंकि परमेश्वर, एक मानव आवरण वाला और मानविक सार वाला बल्कि परमेश्वर के सार वाला भी, देह में रहने वाला परमेश्वर बन जाता है। क्योंकि वह परमेश्वर के सार वाला एक मनुष्य है, वह किसी भी सृजन किए गए मानव से ऊपर है, किसी भी ऐसे मनुष्य से ऊपर है जो परमेश्वर का कार्य कर सकता है। और इसलिए, उसके समान मानवीय आवरण वाले सभी के बीच, उन सभी के बीच जो मानवता को धारण करते हैं, केवल वही देहधारी परमेश्वर स्वयं है—अन्य सभी सृजन किए गए मानव हैं। यद्यपि उन सब में मानवता है, किन्तु सृजन किए गए मानव और कुछ नहीं केवल मानव ही हैं, जबकि देहधारी परमेश्वर भिन्न हैः अपनी देह में उसमें न केवल मानवता है परन्तु इससे महत्वपूर्ण दिव्यता है। उसकी मानवता उसकी देह के बाहरी रूप-रंग में और उसके दिन-प्रतिदिन के जीवन में देखी जा सकती है, किन्तु उसकी दिव्यता को समझना मुश्किल है। क्योंकि उसकी दिव्यता केवल तभी व्यक्त होती है जब उसमें मानवता होती है, और यह वैसा अलौकिक नहीं है जैसा होने की लोग कल्पना करते हैं, लोगों के लिए इसे देखना बहुत ही कठिन है। यहाँ तक कि आज भी लोगों के लिए देहधारी परमेश्वर के सच्चे सार की थाह पाना बहुत कठिन है। वास्तव में, इसके बारे में मेरे द्वारा इतने विस्तार से बताने के बाद भी, मैं अपेक्षा करता हूँ कि तुम लोगों में से अधिकांश के लिए यह अभी भी एक रहस्य ही है। यह मामला बहुत सरल हैः चूँकि परमेश्वर देहधारी बन जाता है, इसलिए उसका सार मानवता और दिव्यता का संयोजन है। यह संयोजन परमेश्वर स्वयं, पृथ्वी पर परमेश्वर स्वयं कहलाता है।

पृथ्वी पर यीशु ने जो जीवन जीया वह देह में एक सामान्य जीवन था। उसने अपनी देह का सामान्य जीवन जीया। उसके अधिकार—परमेश्वर का कार्य करना और उसके वचन बोलना, या बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना, ऐसे असाधारण कार्य करना—ने ज़्यादातर स्वयं को तब तक प्रकट नहीं किया जब तक उसने अपनी सेवकाई आरम्भ नहीं की। उसका जीवन उनतीस वर्ष की उम्र से पहले, उसके अपनी सेवकाई आरम्भ करने से पहले, इस बात का पर्याप्त प्रमाण था कि वह एक सामान्य देह वाला था। इस कारण से और क्योंकि उसने अभी तक अपनी सेवकाई को करना आरम्भ नहीं किया था, लोगों को उसमें कुछ भी दिव्य नहीं दिखाई दिया, एक सामान्य मानव, एक सामान्य मनुष्य से अधिक कुछ नहीं दिखाई दिया—जैसे कि शुरू में कुछ लोग उसे यूसुफ के पुत्र के रूप में मानते थे। लोगों ने सोचा कि वह एक सामान्य मनुष्य का पुत्र है, उसके पास यह बताने का कोई तरीका नहीं था कि वह देहधारी परमेश्वर की देह है; यहाँ तक कि जब, अपनी सेवकाई को करने के दौरान, उसने कई अचम्भे किए, तब भी अधिकांश लोगों ने कहा कि वह यूसुफ का पुत्र है, क्योंकि सामान्य मानवता के बाह्य आवरण वाला वह मसीहा था। उसकी सामान्य मानवता और कार्य दोनों, यह सिद्ध करते हुए कि परमेश्वर पूरी तरह से देह में आया है, जो कि एक बहुत ही साधारण मनुष्य बन गया है, पहले देहधारण के महत्व को पूर्ण करने के लिए अस्तित्व में थे। यह कि कार्य करने से पहले उसकी सामान्य मानवता थी यह इस बात का प्रमाण था कि वह एक साधारण देह था; और यह कि उसने बाद में भी कार्य किया इस बात ने भी यह प्रमाणित किया कि वह एक साधारण देह थी, क्योंकि उसने सामान्य मानवता, संकेत और चमत्कार किए, बीमार को चंगा किया और दुष्टात्माओं को देह में से निकाला। वह चमत्कारों को कर सका उसका कारण यह था कि उसकी देह ने परमेश्वर के अधिकार को धारण किया था, ऐसी देह थी जिसमें परमेश्वर का आत्मा आच्छादित था। वह परमेश्वर का आत्मा के कारण इस अधिकार से सम्पन्न था, और इसका अर्थ यह नहीं है कि वह देह नहीं था। बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना वह कार्य था जो उसे अपनी सेवकाई में करने की आवश्यकता थी, उसकी मानवता में छिपी दिव्यता की अभिव्यक्ति थी, और इससे कुछ भी फर्क नहीं पड़ता कि उसने कौन से संकेत दिखाए या उसने अपने अधिकार को किस प्रकार से प्रदर्शित किया, वह तब भी सामान्य मानवता में रहा और तब भी एक सामान्य देह था। उस स्थिति तक कि वह सलीब पर मरने के बाद पुनर्जीवित हुआ था, तो वह एक सामान्य देह के भीतर रहा। अनुग्रह प्रदान करना, बीमार को चंगा करना, और दुष्टात्माओं को निकालना ये सब उसकी सेवकाई का हिस्सा थे, ऐसे कार्य थे जो उसकी सामान्य देह में किए गए थे। क्रूस पर जाने से पहले, इस बात की परवाह किए बिना कि वह क्या कर रहा है, वह कभी भी अपने सामान्य मानव देह से अलग नहीं हुआ। वह परमेश्वर स्वयं था, परमेश्वर का स्वयं का कार्य कर रहा था, फिर भी क्योंकि वह परमेश्वर की देहधारी देह था, उसने खाना खाया और कपड़े पहने, उसकी सामान्य मानवीय आवश्यकताएँ थी, उसमें सामान्य मानवीय तर्क-शक्ति और सामान्य मानवीय मन था। यह सब इस बात का प्रमाण था कि वह एक सामान्य मनुष्य था, न कि कोई अलौकिक। उसका कार्य परमेश्वर के पहले देहधारण के कार्य को पूर्ण करना, और पहले देहधारण की सेवकाई को पूरा करना था। देहधारण का महत्व यह है कि वह साधारण, सामान्य मनुष्य परमेश्वर स्वयं के कार्यों को करता है; अर्थात्, कि परमेश्वर अपने दिव्य कार्य को मानवता में करता है और उसके द्वारा शैतान को परास्त करता है। देहधारण का अर्थ है कि परमेश्वर का आत्मा देह बन जाता है, अर्थात्, परमेश्वर देह बन जाता है; जो कार्य वह देह में करता है वह पवित्रात्मा का कार्य होता है, जो देह में प्राप्त होता है, देह द्वारा अभिव्यक्त होता है। परमेश्वर को छोड़कर कोई भी अन्य देहधारी परमेश्वर की सेवकाई को पूर्ण नहीं कर सकता है; अर्थात्, केवल परमेश्वर की देहधारी देह, यह सामान्य मानवता—और कोई अन्य नहीं—दिव्य कार्य को व्यक्त कर सकता है। यदि, उसके पहले आगमन के दौरान, उनतीस वर्ष की उम्र से पहले परमेश्वर में सामान्य मानवता नहीं होती—यदि जैसे ही उसने जन्म लिया था वह अचम्भे कर सकता, यदि जैसे ही उसने बोलना आरम्भ किया वह स्वर्ग की भाषा बोल सकता, यदि जिस क्षण उसने सबसे पहले पृथ्वी पर कदम रखा वह सभी संसारिक मामलों को समझ सकता, हर व्यक्ति के विचारों और इरादों को समझ सकता—तो वह एक सामान्य मनुष्य नहीं कहलाया जा सकता था, और उसकी देह मानवीय देह नहीं कहलायी जा सकती थी। यदि ऐसा मामला मसीहा के साथ होता, तो परमेश्वर के देहधारण का अर्थ और सार दोनों ही समाप्त हो गए होते। यह कि वह सामान्य मानवता से सम्पन्न था इससे सिद्ध होता है कि देह में देहधारी परमेश्वर था; यह तथ्य कि वह एक सामान्य मानव विकास प्रक्रिया से होकर गुज़रा आगे प्रदर्शित करता है कि वह एक सामान्य देह था; और इसके अलावा, उसका कार्य इस बात का पर्याप्त सबूत हैं कि वह परमेश्वर के वचन, परमेश्वर के आत्मा, का देह बनना था। कार्य की आवश्यकताओं की वजह से परमेश्वर देहधारी बनता है; दूसरे शब्दों में, कार्य का यह चरण देह में पूर्ण किए जाने, सामान्य मानवता में पूर्ण किए जाने की आवश्यकता थी। यही “वचन का देहधारी होना” के लिए, “वचन का देह में प्रकट होना” के लिए पूर्वापेक्षा है, और परमेश्वर के दो देहधारणों के पीछे की सच्ची कहानी है। लोगों का यह मानना हो सकता है कि यीशु का सम्पूर्ण जीवन चमत्कारों से भरा था, कि पृथ्वी पर अपने कार्य की समाप्ति तक उसने सामान्य मानवता को प्रकट नहीं किया, कि उसमें सामान्य मानवीय आवश्यकताएँ या कमज़ोरियाँ या मानवीय भावनाएँ नहीं थीं, उसे जीवन की बुनियादी आवश्यकताओँ की या सामान्य मानवीय विचारों को ग्रहण करने की ज़रूरत नहीं थी। वे उसके पास एक अतिमानवीय मन, एक सर्वोत्त्कृष्ट मानवता होने की केवल कल्पना करते। वे मानते कि चूँकि वह परमेश्वर है, इसलिए उसे उस तरह से रहना और सोचना नहीं चाहिए जैसे सामान्य मानव रहते और सोचते हैं, कि केवल कोई सामान्य व्यक्ति, एक वास्तविक इंसान, ही सामान्य मानव विचारों को सोच सकता और एक सामान्य मानवीय जीवन जी सकता है। ये सभी मनुष्य के विचार, और मनुष्य की अवधारणाएँ हैं, जो परमेश्वर के कार्य के वास्तविक इरादों के प्रतिकूल चलते हैं। सामान्य मानव सोच, सामान्य मानव सूझ-बूझ और साधारण मानवता को बनाए रखती है; सामान्य मानवता देह के सामान्य प्रकार्यों को बनाए रखती है; और देह के सामान्य प्रकार्य देह के सामान्य जीवन को इसकी समग्रता में बनाए रखते हैं। केवल ऐसी देह में कार्य करने के द्वारा ही परमेश्वर अपने देहधारण के उद्देश्य को पूर्ण कर सकता है। यदि देहधारी परमेश्वर केवल देह के बाहरी आवरण को ही धारण किए रहता, किन्तु सामान्य मानव विचारों को नहीं सोचता, तो उसकी देह मानवीय सूझ-बूझ को धारण नहीं करती, वास्तविक मानवता को तो बिल्कुल भी धारण नहीं करती। कैसे, बिना मानवता वाली, इस प्रकार की देह, उस सेवकाई को पूर्ण कर सकती है जिसे देहधारी परमेश्वर को करना चाहिए? सामान्य मन मानव जीवन के सभी पहलुओं को बनाए रखता है; बिना सामान्य मन के, कोई व्यक्ति मानव नहीं होगा। दूसरे शब्दों में, कोई व्यक्ति जो सामान्य विचारों को नहीं सोचता है वह मानसिक रूप से बीमार है। एक मसीहा जिसमें कोई भी मानवता नहीं बल्कि केवल दिव्यता है उसे परमेश्वर का देहधारी देह नहीं कहा जा सकता है। इसलिए, परमेश्वर के देहधारी देह में कैसे कोई सामान्य मानवता नहीं हो सकती है? क्या ऐसा कहना ईशनिंदा नहीं होगी कि मसीहा में कोई मानवता नहीं है? सभी क्रियाकलाप जिसमें सामान्य मानव शामिल होते हैं एक सामान्य मानव मन की कार्यशीलता पर भरोसा करते हैं। इसके बिना, मानव पथभ्रष्ट की तरह का व्यवहार करते; वे यहाँ तक कि सफेद और काले, अच्छे और बुरे के मध्य अंतर बताने में भी असमर्थ होते, और उनमें कोई भी मानवीय आचारनीति और नैतिक सिद्धांत नहीं होते। इसी प्रकार से, यदि देहधारी परमेश्वर ने एक सामान्य मानव के रूप में नहीं सोचा होता, तो वह एक प्रमाणिक देह, एक सामान्य देह, नहीं होता। इस प्रकार की गैर-विचारशील देह दिव्य कार्य को धारण करने में समर्थ नहीं होती। वह देह की सामान्य गतिविधियों में शामिल होने में समर्थ नहीं होती, पृथ्वी पर मनुष्यों के साथ-साथ रहने में तो बिल्कुल भी समर्थ नहीं होती। और इसलिए परमेश्वर के देहधारण का महत्व, परमेश्वर का देह में आने का वास्तविक सार समाप्त हो गया होता। परमेश्वर के देहधारण की मानवता देह में सामान्य दिव्य कार्य को बनाए रखने के लिए मौजूद रहती है; उसकी सामान्य मानवीय सोच उसकी सामान्य मानवता को और उसकी समस्त सामान्य दैहिक गतिविधियों को बनाए रखती है। कोई व्यक्ति कह सकता है कि उसकी सामान्य मानवीय सोच देह में परमेश्वर के कार्य को बनाए रखने के उद्देश्य से विद्यमान रहती है। यदि यह देह एक सामान्य मानव मन धारण नहीं करती, तो परमेश्वर देह में कार्य नहीं कर सकता था और जो उसे देह में करने की आवश्यकता थी वह कभी भी सम्पन्न नहीं हो सकती थी। यद्यपि देहधारी परमेश्वर एक सामान्य मानवीय मन रखता है, किन्तु उसका कार्य मानव विचार के द्वारा अपमिश्रित नहीं होता है; वह इस पूर्वशर्त के अधीन सामान्य मन के साथ मानवता में कार्य को अपने हाथ में लेता है, कि वह मानवता को मन के साथ धारण करता है, न कि सामान्य मानवीय विचारों को प्रयोग में लाने के द्वारा। इस बात पर ध्यान दिए बिना कि उसकी देह के विचार कितने उत्कृष्ट हैं, उसके कार्य पर तर्क या सोच का ठप्पा नहीं लगता है। दूसरे शब्दों में, उसका कार्य उसकी देह के मन के द्वारा कल्पना नहीं किया जाता है, बल्कि उसकी मानवता में दिव्य कार्य की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति है। उसका समस्त कार्य उसकी वह सेवकाई है जिसे उसे पूरा करने की आवश्यकता है, और इनमें से कोई भी उसके मस्तिष्क द्वारा कल्पना नहीं किया जाता है। उदाहरण के लिए, बीमार को चंगा करना, दुष्टात्माओं को निकालना, और सलीब पर चढ़ना उसके मानवीय मन के परिणाम नहीं थे, किसी मानवीय मन वाले किसी भी मनुष्य द्वारा प्राप्त नहीं किए जा सकते थे। इसी तरह, आज का जीतने का कार्य ऐसी सेवकाई है जो देहधारी परमेश्वर के द्वारा अवश्य की जानी चाहिए, किन्तु यह किसी मानवीय इच्छा का कार्य नहीं है, यह ऐसा कार्य है जो उसकी दिव्यता को करना चाहिए, ऐसा कार्य जिसे करने में कोई भी दैहिक मानव सक्षम नहीं है। इसलिए देहधारी परमेश्वर को सामान्य मानव मन से सम्पन्न अवश्य होना चाहिए, सामान्य मानवता से सम्पन्न अवश्य होना चाहिए, क्योंकि उसे एक सामान्य मन के साथ मानवता में कार्य को अवश्य करना चाहिए। यही देहधारी परमेश्वर के कार्य का सार है, देहधारी परमेश्वर के कार्य का वास्तविक सार है।

इससे पहले कि यीशु अपना कार्य करता, वह अपनी सामान्य मानवता में जीया। कोई नहीं कह सकता था कि वह परमेश्वर है, किसी को भी पता नहीं चला कि वह देहधारी परमेश्वर है; लोग उसे केवल एक पूर्णतः साधारण व्यक्ति समझते थे। उसकी सर्वथा सामान्य, साधारण मानवता इस बात का प्रमाण थी कि परमेश्वर ने देह में देहधारण किया है, और यह कि अनुग्रह का युग देहधारी परमेश्वर के कार्य का युग है, न कि पवित्रात्मा के कार्य का युग। यह इस बात का प्रमाण थी कि परमेश्वर का आत्मा पूरी तरह से देह में साकार हुआ है, कि परमेश्वर के देहधारण के युग में उसका देह पवित्रात्मा का समस्त कार्य करेगी। सामान्य मानवता वाला मसीहा ऐसा देह है जिसमें सामान्य मानवता, सामान्य विवेक, और मानविक विचार को धारण करते हुए, आत्मा साकार होता है। “साकार होना” का अर्थ है परमेश्वर का मानव बनना, पवित्रात्मा का देह बनना; इसे स्पष्ट रूप से कहें, तो यह तब होता है जब परमेश्वर स्वयं सामान्य मानवता वाली देह में वास करता है, और इसके माध्यम से अपने दिव्य कार्य को व्यक्त करता है—यही है साकार होने या देहधारी होने का अर्थ। अपने पहले देहधारण के दौरान, बीमारों को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना परमेश्वर के लिए आवश्यक था क्योंकि उसका कार्य छुटकारा दिलाना था। सम्पूर्ण मानव जाति को छुटकारा दिलाने के लिए, उसे दयालु और क्षमाशील होने की आवश्यकता थी। सलीब पर चढ़ने से पहले उसने जो कार्य किया वह बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना था, जो उसके द्वारा मनुष्य को पाप और गंदगी से उद्धार के पूर्वलक्षण थे। क्योंकि यह अनुग्रह का युग था, इसलिए बीमारों को चंगा करना, उसके द्वारा संकेतों और चमत्कारों को दिखाना परमेश्वर के लिए आवश्यक था, जो उस युग में अनुग्रह के प्रतिनिधि थे; क्योंकि अनुग्रह का युग अनुग्रह प्रदान करने के आस-पास केन्द्रित था, जिसका प्रतीक शान्ति, आनन्द और भौतिक आशीष थे, जो कि सभी यीशु में लोगों के विश्वास की निशानियाँ थी। अर्थात् बीमार को चंगा करना, दुष्टात्माओं को निकालना, और अनुग्रह प्रदान करना, अनुग्रह के युग में यीशु की देह की सहज क्षमताएँ थीं, ये देह में साकार हुए पवित्रात्मा के कार्य थे। किन्तु जब वह ऐसे कार्य कर रहा था, तब वह देह में रह रहा था, वह देह से ऊपर नहीं गया। इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता है कि उसने चंगाई का कौन सा कार्य किया, वह तब भी सामान्य मानवता को धारण किए हुए था, तब भी एक सामान्य मानव जीवन जी रहा था। परमेश्वर के देहधारण के युग में देह ने पवित्रात्मा के सभी कार्य किए, मेरा ऐसा कहने का कारण यह है, कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि उसने क्या कार्य किया, उसने यह देह में किया। किन्तु उसके कार्य की वजह से, लोगों ने उसकी देह को पूरी तरह से दैहिक सार रखने वाला नहीं माना, क्योंकि उसकी देह चमत्कार कर सकती थी, और कुछ विशेष क्षणों में ऐसे कार्य कर सकती थी जो देह से ऊपर जाते थे। वास्तव में, ये सब घटनाएँ उसकी सेवकाई आरम्भ करने के बाद हुईं, जैसे कि उसका चालीस दिनों तक परीक्षण किया जाना या पहाड़ पर रूपान्तरित होना। इसलिए यीशु के साथ, परमेश्वर के देहधारण का अर्थ पूर्ण नहीं हुआ था, किन्तु केवल आंशिक तौर पर पूर्ण हुआ था। अपने कार्य को आरम्भ करने से पहले उसने देह में जो जीवन जीया वह सर्वथा बिल्कुल सामान्य था। अपना कार्य आरम्भ करने के बाद उसने केवल अपनी देह के बाहरी आवरण को बनाए रखा। क्योंकि उसका कार्य दिव्यता की एक अभिव्यक्ति था, इसलिए यह देह के सामान्य प्रकार्यों से बढ़कर था। आख़िरकार, परमेश्वर का देहधारी देह मांस-और-रक्त वाले मानव से भिन्न था। वास्तव में, अपने दैनिक जीवन में, उसे भोजन, कपड़ों, नींद और आश्रय की उसी तरह आवश्यकता थी जैसी किसी भी अन्य को होती है, सभी सामान्य आवश्यकताओं, तर्कसंगत होने और विचार की ज़रूरत थी जैसी कि किसी भी सामान्य इंसान को होती है। लोग उसे अभी भी सामान्य मनुष्य मान रहे थे, सिवाय इसके कि उसने जो कार्य किया वह अलौकिक था। वास्तव में, इससे कुछ फ़र्क नहीं पड़ता है कि उसके क्या किया, वह एक साधारण और सामान्य मानवता में रहा और जहाँ तक उसने जो कार्य किया उसका विचार विशेष रूप से सामान्य था, उसके विचार, किसी भी अन्य सामान्य मनुष्य की अपेक्षा, विशेष रूप से अधिक सुस्पष्ट थे। इस प्रकार से सोचना और तर्क करना यह देहधारी परमेश्वर के लिए आवश्यक था, क्योंकि दिव्य कार्य को ऐसी देह के द्वारा व्यक्त किए जाने की आवश्यकता थी जिसका तर्क बहुत ही सामान्य हो और विचार बहुत ही सुस्पष्ट हो—केवल इसी प्रकार से उसकी देह दिव्य कार्य को व्यक्त कर सकती थी। सम्पूर्ण साढ़े तैतीस साल के दौरान जो यीशु इस पृथ्वी पर रहा, उसने अपनी सामान्य मानवता को बनाए रखा, किन्तु उसकी इन साढ़े तीन साल की सेवकाई के दौरान, लोगों ने सोचा कि वह बहुत ही अत्युत्तम है, कि वह पहले की अपेक्षा बहुत ही अलौकिक है। वास्तविकता में, यीशु की सामान्य मानवता पहले और बाद में अपरिवर्तित रही; पूरे समय उसकी मानवता एक सी थी, किन्तु जब उसने अपनी सेवकाई आरम्भ की उससे पहले और उसके बाद के अंतर के कारण, उसकी देह के बारे में दो भिन्न-भिन्न मत उभरे। इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता कि लोग क्या सोचते थे, देहधारी परमेश्वर ने पूरे समय अपनी सामान्य मानवता को बनाए रखा, क्योंकि जबसे परमेश्वर देहधारी हुआ, वह देह में रहा, ऐसी देह जिसकी सामान्य मानवता थी। इसकी परवाह किए बिना कि वह अपनी सेवकाई कर रहा है या नहीं, उसकी देह की सामान्य मानवता को मिटाया नहीं जा सकता था, क्योंकि मानवता देह का मूल सार है। इससे पहले कि यीशु अपनी सेवकाई को करता, सभी मानवीय क्रियाकलापों में संलग्न रहते हुए उसकी देह पूरी तरह से सामान्य बनी रही; वह जरा सा अंश मात्र भी अलौकिक प्रकट नहीं हुआ, उसने कोई भी अद्भुत संकेत नहीं दिखाए। उस समय वह केवल बहुत ही आम मानव था जो परमेश्वर की आराधना करता था, यद्यपि उसकी खोज अधिक ईमानदार थी, किसी की भी अपेक्षा अधिक ईमानदार थी। इस प्रकार से उसकी सर्वथा सामान्य मानवता स्वयं प्रकट हुई। क्योंकि अपनी सेवकाई को अपनाने से पहले उसने बिल्कुल भी कार्य नहीं किया, इसलिए उसकी पहचान से कोई भी अवगत नहीं था, कोई भी नहीं बता सकता था कि उसकी देह अन्य सभी से भिन्न है, क्योंकि उसने एक भी चमत्कार नहीं किया था, परमेश्वर स्वयं के कार्य का जरा सा अंश भी नहीं किया था। हालाँकि, उसके अपनी सेवकाई का कार्य प्रारम्भ करने के बाद, उसने सामान्य मानवता के बाहरी आवरण को बनाए रखा और तब भी सामान्य मानवीय सूझबूझ के साथ जीया, किन्तु क्योंकि उसने परमेश्वर स्वयं के कार्य को करना, मसीहा की सेवकाई को अपनाना और उन कार्यों को करना आरम्भ कर दिया था जिन्हें करने के लिए नश्वर प्राणी, मांस-और-रक्त से बने प्राणी करने में अक्षम थे, इसलिए लोगों ने मान लिया कि उसकी सामान्य मानवता नहीं थी और पूरी तरह से एक सामान्य देह नहीं थी बल्कि एक अपूर्ण देह थी। उसके द्वारा किए गए कार्य की वजह से लोगों ने कहा कि वह देह में एक परमेश्वर है जिसकी सामान्य मानवता नहीं है। यह एक ग़लत समझ थी, क्योंकि लोगों ने देहधारी परमेश्वर के महत्व को नहीं समझा था। यह गलतफहमी इस तथ्य से उठी थी कि परमेश्वर के द्वारा देह में व्यक्त कार्य दिव्य कार्य था, जो एक देह में व्यक्त हुआ था जिसकी एक सामान्य मानवता थी। परमेश्वर देह में आच्छादित था, वह देह के भीतर रहा, और उसकी मानवता में उसके कार्य ने उसकी मानवता की सामान्यता को धुँधला कर दिया था। इसी कारण से लोगों ने विश्वास किया कि परमेश्वर में मानवता नहीं थी।

पहले देहधारी परमेश्वर ने देहधारण के कार्य को पूर्ण नहीं किया; उसने उस कार्य के पहले चरण को ही पूर्ण किया जिसे देह में होकर करना परमेश्वर के लिए आवश्यक था। इसलिए, देहधारण के कार्य को समाप्त करने के लिए, परमेश्वर एक बार पुनः देह में वापस आया, देह की समस्त सामान्यता और वास्तविकता में जीवित रहा, अर्थात्, पूरी सामान्य और साधारण देह में परमेश्वर के वचन को प्रकट किया, इस प्रकार उस कार्य का समापन किया जिसे उसने देह में अधूरा छोड़ दिया था। दूसरा देहधारी देह सार रूप में पहले के ही समान है, बल्कि और भी अधिक वास्तविक था, यहाँ तक कि पहले से भी अधिक समान्य है। परिणामस्वरूप, दूसरी देहधारी देह जो पीड़ा सहती है वह पहले वाले से अधिक है, किन्तु यह पीड़ा देह में उसकी सेवकाई के परिणामस्वरूप है, जो कि एक भ्रष्ट मानव की पीड़ा से भिन्न है। यह भी उसकी देह की सामान्यता और वास्तविकता से उत्पन्न होती है। क्योंकि वह अपनी सेवकाई को सर्वथा सामान्य और वास्तविक देह में करता है, इसलिए उसकी देह को अत्यधिक कठिनाई को अवश्य सहना चाहिए। जितना अधिक सामान्य और वास्तविक उसकी देह होगी, उतना ही अधिक वह अपनी सेवकाई करने में भुगतेगा। परमेश्वर एक बहुत ही आम देह में कार्य करता है, ऐसी देह जो कि बिल्कुल भी अलौकिक नहीं है। क्योंकि उसकी देह सामान्य है और उसे मनुष्य को बचाने के कार्य का दायित्व भी अवश्य लेना चाहिए, इसलिए वह अलौकिक देह की अपेक्षा और भी अधिक माप में पीड़ा को भुगतता है—ये सभी पीड़ाएँ उसकी देह की वास्तविकता और सामान्यता से उत्पन्न होती हैं। अपनी सेवकाई को करते समय जिन पीड़ाओं से दोनों देहधारी देहें गुज़री हैं, उनसे कोई भी देहधारी देह के सार को देख सकता है। देह जितना अधिक समान्य होगी, कार्य करने के समय उतनी ही अधिक कठिनाई वह सहेगी; कार्य को करने वाली देह जितना अधिक वास्तविक होगी, उतनी ही अधिक कठोर अवधारणाएँ लोग रखते हैं, और उतने ही अधिक खतरे उस पर पड़ने की संभावना होती है। और फिर भी, देह जितना अधिक वास्तविक होती है, और देह जितनी अधिक आवश्यकताओं और सामान्य मानवजाति की पूरी भावना को धारण करती है, उतना ही अधिक वह परमेश्वर के कार्य को देह में सँभालने में सक्षम होती है। यह यीशु की देह थी जिसे सलीब पर चढ़ाया गया था, उसकी देह जिसे उसने पाप बलि के रूप में त्याग दिया था; यह सामान्य मानवता वाली देह के माध्यम से था कि उसने शैतान को हराया और सलीब से मनुष्य को पूरी तरह से बचाया। और यह पूरी देह के रूप में है कि दूसरा देहधारी परमेश्वर विजय का कार्य करता है और शैतान को हराता है। केवल ऐसी देह जो पूरी तरह से सामान्य और वास्तविक है वही विजय के कार्य को अपनी सम्पूर्णता से कर और एक सशक्त गवाही बना सकती है। अर्थात्, मनुष्य को जीतने के कार्य[क] को देह में परमेश्वर की वास्तविकता और सामान्यता के माध्यम से प्रभावशाली बनाया जा सकता है, न कि अलौकिक अचम्भों और प्रकटनों के माध्यम से। इस देहधारी परमेश्वर की सेवकाई बोलना, और इसके द्वारा मनुष्य को जीतना और पूर्ण बनाना है; दूसरे शब्दों में, देह में साकार हुआ पवित्रात्मा का कार्य, देह का कर्तव्य, बालना और इस के द्वारा मनुष्य को पूरी तरह से जीतना, प्रकट करना, पूर्ण बनाना और हटाना है। और इसलिए, यह विजय के कार्य में है कि देह में परमेश्वर का कार्य पूरी तरह से सम्पन्न किया जाएगा। आरंभिक छुटकारे का कार्य देहधारण के कार्य का आरम्भ था; विजय का कार्य करने वाली देह देहधारण के समस्त कार्य को पूर्ण करेगी। लिंग रूप में, एक पुरुष और दूसरा महिला है; इसमें परमेश्वर के देहधारण का अर्थ पूर्ण हो गया है। यह परमेश्वर के बारे में मनुष्य की मिथ्या-धारणा को दूर करता हैः परमेश्वर पुरुष और महिला दोनों बन सकता है और देहधारी परमेश्वर सार से लिंगहीन है। परमेश्वर ने पुरुष और महिला दोनों को बनाया, और वह लिंगों के बीच विभेद नहीं करता है। कार्य के इस चरण में परमेश्वर संकेतों और चमत्कारों को नहीं दिखाता है, ताकि कार्य वचनों के माध्यम से अपने परिणाम प्राप्त करेगा। इसके अलावा, इस समय का देहधारी परमेश्वर का कार्य बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना नहीं है, बल्कि बोलने के माध्यम से मनुष्य को जीतना है, जिसका अर्थ है कि परमेश्वर की इस देहधारी देह द्वारा धारण की गई पैदाइशी योग्यता वचन बोलना और मनुष्य को जीतना है, न कि बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना। सामान्य मानवता में उसका कार्य अचम्भों को करना नहीं है, बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना नहीं है, बल्कि बोलना है, और इसलिए दूसरा देहधारी देह लोगों को पहले वाले की तुलना में अधिक सामान्य प्रतीत हुआ। लोग देखते हैं कि परमेश्वर का देहधारण झूठ नहीं है; परन्तु देहधारी परमेश्वर यीशु के देहधारण से भिन्न है, और यद्यपि वे दोनों ही परमेश्वर के देहधारण हैं, परन्तु वे पूरी तरह से एकही नहीं हैं। यीशु सामान्य मानवता और साधारण मानवता को धारण करता था, किन्तु उसके साथ कई संकेत और चमत्कार थे। इस देहधारी परमेश्वर में, मानवीय आखों को कोई भी संकेत या चमत्कार नहीं दिखाई देंगे, न ही बीमार चंगे होते हुए दिखाई देंगे, न ही दुष्टात्माएँ बाहर निकाली जाती हुई दिखाई देंगी, न ही समुद्र पर चलना, न ही चालीस दिन तक उपवास करना दिखाई देगा... वह उसी कार्य को नहीं करता है जो यीशु ने किया, इस वजह से नहीं कि उसका देह सार रूप में यीशु से कुछ भी भिन्न था, बल्कि क्योंकि बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना उसकी सेवकाई नहीं थी। उसने अपने स्वयं के कार्य को ध्वस्त नहीं किया, अपने कार्य में विघ्न नहीं डाला। चूँकि वह मनुष्य को अपने वास्तविक वचनों से जीतता है, इसलिए उसे अचम्भों के साथ वश में करने की आवश्यकता नहीं है, और इसलिए यह चरण देहधारण के कार्य को पूरा करने के लिए है। आज तुम जिस देहधारी परमेश्वर को देखते हो वह पूरी तरह से एक देह है, और उसके बारे में कुछ भी अलौकिक नहीं है। पूरी तरह से देह होने के कारण, वह दूसरों की तरह ही बीमार पड़ता है, उसे ठीक अन्य लोगों के समान ही भोजन और कपड़ों की आवश्यकता होती है। यदि इस समय के आसपास, देहधारी परमेश्वर अलौकिक संकेतों और चमत्कारों को दिखाता, यदि वह बीमारों को चंगा करता, दुष्टात्माओं को निकालता, या एक वचन से मार सकता, तो विजय का कार्य किस प्रकार से किया जा सकता था? कार्य को बुतपरस्तों में कैसे फैलाया जा सकता था? बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना अनुग्रह के युग का कार्य था, छुटकारे के कार्य का पहला चरण था, और अब जबकि परमेश्वर ने सलीब से लोगों को बचा लिया है, इसलिए वह उस कार्य को अब और नहीं करता है। यदि अंत के दिनों में यीशु के जैसा ही कोई “परमेश्वर” प्रकट हो जाता, जो बीमार को चंगा करता और दुष्टात्माओं को निकालता, और मनुष्य के लिए सलीब पर चढ़ाया जाता, तो वह “परमेश्वर”, यद्यपि बाइबिल में वर्णित परमेश्वर के समरूप होता और स्वीकार करने में मनुष्य के लिए आसान होता, किन्तु अपने सार रूप में, परमेश्वर के आत्मा के द्वारा नहीं, बल्कि एक दुष्टात्मा द्वारा पहना गया देह होता। क्योंकि जो उसने पहले ही पूरा कर लिया है उसे कभी नहीं दोहराना, यह परमेश्वर के कार्य का सिद्धान्त है। इसलिए परमेश्वर के दूसरे देहधारण का कार्य पहले देहधारण के कार्य से भिन्न है। अंत के दिनों में, परमेश्वर विजय का कार्य एक सामान्य और साधारण देह में पूरा करता है; वह बीमार को चंगा नहीं करता है, मनुष्य के लिए सलीब पर नहीं चढ़ाया जाएगा, बल्कि केवल देह में वचनों को कहता है, देह में मानव को जीतता है। केवल ऐसा देह ही देहधारी परमेश्वर का देह है; केवल ऐसा देह ही देह में परमेश्वर के कार्य को पूर्ण कर सकता है।

चाहे इस चरण में देहधारी परमेश्वर कठिनाईयों को सह रहा हो या अपनी सेवकाई को कर रहा हो, वह इसे केवल देहधारण के अर्थ को पूरा करने के लिए करता है, क्योंकि यह परमेश्वर का अंतिम देहधारण है। परमेश्वर केवल दो बार देहधारण कर सकता है। कोई तीसरी बार नहीं हो सकता है। पहला देहधारण पुरुष था; दूसरा स्त्री था, और इसलिए परमेश्वर की देह की छवि मनुष्य के मन में पूर्ण होती है; इसके अलावा, दो देहधारणों ने परमेश्वर के कार्य को देह में पहले ही समाप्त कर लिया है। देहधारण के अर्थ को पूरा करने के लिए पहली बार परमेश्वर के देहधारण ने सामान्य मानवता को धारण किया। इस बार भी वह सामान्य मानवता को धारण करता है, किन्तु इस देहधारण का अर्थ भिन्न है: यह अधिक गहरा है, और उसका कार्य अधिक गहन महत्व का है। परमेश्वर के पुनः देहधारी होने का कारण देहधारण के अर्थ को पूरा करना है। जब परमेश्वर इस चरण के कार्य को पूरी तरह से समाप्त कर लेगा, तो देहधारण का सम्पूर्ण अर्थ, अर्थात्, देह में परमेश्वर का कार्य, पूर्ण हो जाएगा, और देह में करने के लिए अब और कार्य बाकी नहीं रह जाएगा। अर्थात्, अब से आगे परमेश्वर अपने कार्य को करने के लिए कभी भी पुनः देहधारण नहीं करेगा। केवल मानवजाति को बचाने और पूर्ण करने के लिए परमेश्वर देहधारण का कार्य करता है। दूसरे शब्दों में, कार्य के वास्ते को छोड़ कर, देह में आना परमेश्वर के लिए किसी भी तरह से सामान्य नहीं है। कार्य को करने के लिए देह में आ कर, वह शैतान को दिखाता है कि परमेश्वर एक देह, एक सामान्य व्यक्ति एक साधारण व्यक्ति है—और फिर भी वह संसार पर विजयी राज कर सकता है, शैतान को परास्त कर सकता है, मानवजाति को छुटकारा दिला सकता है, मानवजाति को जीत सकता है! शैतान के कार्य का लक्ष्य मानवजाति को भ्रष्ट करना है, जबकि परमेश्वर का लक्ष्य मानवजाति को बचाना है। शैतान मनुष्य को अथाह खाई में फँसाता है, जबकि परमेश्वर उसे इससे बचाता है। शैतान सभी लोगों से अपनी आराधना करवाता है, जबकि परमेश्वर उन्हें अपने प्रभुत्व के अधीन करता है, क्योंकि वह सम्पूर्ण सृष्टि का प्रभु है। यह समस्त कार्य परमेश्वर के दो देहधारणों के द्वारा प्राप्त किया जाता है। उसका देह सार रूप में मानवता और दिव्यता का मिलाप है और सामान्य मानवता को धारण करता है। इसलिए देहधारी परमेश्वर की देह के बिना, परमेश्वर मानवजाति को बचाने के परिणाम प्राप्त नहीं कर सकता है, और अपनी देह की सामान्य मानवता के बिना, देह में उसका कार्य सफल नहीं हो सकता है। परमेश्वर के देहधारण का सार यह है कि उसे सामान्य मानवता अवश्य धारण करनी चाहिए; क्योंकि अन्यथा होने पर यह देहधारण करने के परमेश्वर के मूल आशय के विपरीत चला जाएगा।

मैं ऐसा क्यों यह कहता हूँ कि देहधारण का अर्थ यीशु के कार्य में पूर्ण नहीं हुआ था? क्योंकि वचन पूरी तरह से देहधारी नहीं हुआ? यीशु ने जो किया वह देह में परमेश्वर के कार्य को करने का केवल एक अंश ही था; उसने केवल छुटकारे का कार्य किया और मनुष्य को पूरी तरह से प्राप्त करने का कार्य नहीं किया। इसी कारण से परमेश्वर एक बार पुनः अंत के दिनों में देह बना। कार्य का यह चरण भी एक सामान्य देह में किया गया, एक सर्वथा सामान्य मानव द्वारा किया गया, जिसकी मानवता अंश मात्र भी सर्वोत्कृष्ट नहीं है। दूसरे शब्दों में, परमेश्वर पूरी तरह से इंसान बन गया, और यही ऐसा व्यक्ति है जिसकी पहचान परमेश्वर की पहचान है, एक पूर्ण मानव, एक पूर्ण देह, जो कार्य कर रहा है। मानवीय आँखों के लिए, वह केवल एक देह है जो बिल्कुल भी सर्वोत्कृष्ट नहीं है, एक अति सामान्य व्यक्ति है जो स्वर्ग की भाषा बोल सकता है, जो कोई भी अद्भुत संकेत और चमत्कार नहीं दिखाता है, कोई अचम्भे नहीं दिखाता है, वृहद सभा कक्षों में धर्म के बारे में आंतरिक सत्य को प्रकट तो बिल्कुल नहीं कर सकता है। दूसरे देहधारी देह का कार्य लोगों को सर्वथा पहले के असदृश प्रतीत होता है, इतना अधिक कि दोनों में कुछ भी आम नहीं प्रतीत होता है, और पहले के कार्य का कुछ भी इस समय में नहीं देखा जा सकता है। यद्यपि दूसरे देहधारण के देह का कार्य पहले वाले से भिन्न है, जिससे यह सिद्ध नहीं होता है कि उनका स्रोत एक ही नहीं है। उनका स्रोत एकही है या नहीं यह देहों द्वारा किए गए कार्य की प्रकृति पर निर्भर करता है और न कि उनके बाहरी आवरणों पर। अपने कार्य के तीन चरणों के दौरान, परमेश्वर ने दो बार देहधारण किया है, और दोनों बार देहधारी परमेश्वर के कार्य ने एक नए युग का शुभारंभ किया, एक नए कार्य का सूत्रपात किया; देहधारण एक दूसरे के पूरक हैं। मानवीय आँखों के लिए यह बताना असम्भव है कि दो देह वास्तव में एक ही स्रोत से आते हैं। कहने की आवश्यकता नहीं है, यह मानवीय आँखों या मानवीय मन की क्षमता से बाहर है। किन्तु अपने सार में वे एकही हैं, क्योंकि उनका कार्य एकही पवित्रात्मा से उत्पन्न होता है। दोनों देहधारी देह एकही स्रोत से उत्पन्न होते हैं या नहीं यह उस युग और उस स्थान से जिसमें वे पैदा हुए थे, या ऐसे ही अन्य कारकों से नहीं, बल्कि उनके द्वारा व्यक्त किए गए दिव्य कार्य द्वारा तय किया जा सकता है। दूसरा देहधारी देह किसी भी उस कार्य को नहीं करता है जो यीशु ने किया था, क्योंकि परमेश्वर का कार्य किसी परंपरा का पालन नहीं करता है, बल्कि प्रत्येक बार वह एक नए मार्ग को खोलता है। दूसरे देहधारी देह का लक्ष्य, लोगों के मन पर पहली देह के प्रभाव को गहरा या दृढ़ करना नहीं है, बल्कि इस पूरक करना और पूर्ण बनाना है, परमेश्वर के बारे में मनुष्य के ज्ञान को गहरा करना है, उन सभी नियमों को तोड़ना है जो लोगों के हृदयों में विद्यमान हैं, और उनके हृदयों में परमेश्वर की भ्रामक छवि को मिटाना है। ऐसा कहा जा सकता है कि परमेश्वर स्वयं के कार्य का कोई भी अकेला चरण मनुष्य को उसके बारे में पूरा ज्ञान नहीं दे सकता है; प्रत्येक केवल एक भाग को देता है, न कि सम्पूर्ण को। यद्यपि परमेश्वर ने अपने स्वभाव को पूरी तरह से व्यक्त कर दिया है, किन्तु मनुष्य की समझ की सीमित आंतरिक शक्तियों की वजह से, परमेश्वर के बारे में उसका ज्ञान अभी भी अपूर्ण रहता है। मानव भाषा का उपयोग करके, परमेश्वर के स्वभाव की समग्रता को संप्रेषित करना असम्भव है; उसके कार्य का एक चरण परमेश्वर को पूरी तरह से कितना कम व्यक्त कर सकता है? वह देह में अपनी सामान्य मानवता की आड़ में कार्य करता है, और कोई भी उसे केवल उसकी दिव्यता की अभिव्यक्तियों के द्वारा ही जान सकता है, न कि उसके शारीरिक आवरण के द्वारा। परमेश्वर मनुष्य को परमेश्वर को उसके विभिन्न कार्यों के माध्यम से जानने देने के लिए देह में आता है और उसके कार्य के कोई भी दो चरण एक जैसे नहीं होते हैं। केवल इस प्रकार से ही मनुष्य, एक अकेले पहलू तक सीमित न हो कर, देह में परमेश्वर के कार्य का पूर्ण ज्ञान प्राप्त कर सकता है। यद्यपि दो देहधारणों की देहों के कार्य भिन्न हैं, किन्तु देहों का सार, और उनके कार्यों का स्रोत समरूप है; यह केवल इतना ही है कि वे कार्य के दो विभिन्न चरणों को करने के लिए अस्तित्व में हैं, और दो विभिन्न युगों में सामने आते हैं। कुछ भी हो, देहधारी परमेश्वर के देहें एक ही सार और एक ही स्रोत को साझा करते हैं—यह एक सत्य है जिसे कोई मना नहीं कर सकता है।

फुटनोटः

क. मूलपाठ “का काम” को छोड़ देता है।