सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

वचन देह में प्रकट होता है

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

कितना नीच है तुम्हारा चरित्र !

तुम सभी अपनी शानदार कुर्सियों पर बैठे हो और उन बच्चों को अपने पास बैठाकर सिखा रहे हो जो तुम्हारी तरह हैं। तुम लोग यह कैसे नहीं जानते कि तुम लोगों के इन "बच्चों" में पहले ही सांस नहीं था, और बहुत पहले उनके पास मेरा कार्य नहीं था? मेरी महिमा पूरब की भूमि से लेकर पश्चिम की भूमि तक चमकती है, लेकिन जब मेरी महिमा पृथ्वी के अंत तक फैलेगी और जब यह जागृत होने और चमकने लगेगी, तो मैं पूरब की महिमा को लेकर उसे पश्चिम की ओर ले आऊँगा, ताकि पूरब में अंधेरे के ये लोग जो मुझे छोड़ चुके हैं, फिर से प्रकाश की चमक के बिना रहेंगे। उस समय, तुम लोग परछाई की घाटी में रहोगे। हालांकि, आज के लोग पहले की तुलना में सौ गुना बेहतर हैं, वे फिर भी मेरी आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर सकते हैं, और वे अभी भी मेरे लिए यशस्वी गवाही नहीं हैं। तुम लोग पहले से सौ गुना बेहतर हो, यह मेरे कार्य के कारण है—यह पृथ्वी पर मेरे कार्य का फल है। परंतु, मैं अभी भी तुम लोगों के वचनों और कर्मों के प्रति, और तुम लोगों के चरित्र के प्रति घृणा महसूस करता हूं, और मेरे सामने किए गए तुम लोगों के कार्यों के प्रति मुझे अविश्वसनीय रोष महसूस होता है, क्योंकि तुम लोगों को मेरे बारे में कोई समझ नहीं है। तो तुम लोग मेरी महिमा से कैसे जीवित हो सकते हो, और तुम लोग मेरे भविष्य के कार्य के प्रति पूरी तरह कैसे भरोसेमंद रह सकते हो? तुम लोगों का विश्वास बहुत सुंदर है; तुम लोगों का कहना है कि तुम लोग अपना जीवन मेरे कार्य को समर्पित करने के लिए तैयार हो, उसके लिए कुछ भी करने और सब कुछ करने के लिए तैयार हो, लेकिन तुम लोगों के स्वभाव में अधिक बदलाव नहीं आया है। तुम्हारे वचन केवल अभिमानी रहे हैं, और तुम लोगों की वास्तविक क्रियाएं बहुत घिनौनी रही हैं। ऐसा लगता है कि मानो किसी की जीभ और होंठ स्वर्ग में हैं, लेकिन उसके पैर दूर पृथ्वी पर हैं, इसलिए उसके वचन और कर्म और उसकी प्रतिष्ठा अभी भी भयानक स्थिति में हैं। तुम लोगों की प्रतिष्ठा को नष्ट कर दिया गया है, तुम लोगों की छवि तुच्छ बन गई है, तुम लोगों के बोलने का का तरीका नीच है, तुम लोगों का जीवन घृणित है, और यहां तक कि तुम लोगों की सारी मानवता भी नीच है। तुम लोगों का मस्तिष्क लोगों के प्रति संकुचित है और तुम लोग हर बात पर बहस करते हो। तुम लोग स्वयं अपनी प्रतिष्ठा और स्थिति के बारे में बहस करते हो, इतना कि तुम लोग नरक में उतरकर, आग के तालाब में जाने को तैयार हो। तुम लोगों के वर्तमान वचन और कर्म यह निर्धारित करने के लिए पर्याप्त हैं कि तुम लोग पापी हो। मेरे कार्य के प्रति तुम लोगों का रवैया मेरे लिए यह तय करने के लिए पर्याप्त है कि तुम लोग अधर्मी हो, और तुम लोगों के स्वभाव यह कहने के लिए पर्याप्त हैं कि तुम लोग घृणित आत्माएं हो जो चीज़ों से भरी हैं। तुम लोगों की अभिव्यक्तियां और तुम लोग जो प्रकट करते हो, वे यह कहने के लिए पर्याप्त हैं कि तुम लोग ऐसे हो जिन्होंने अशुद्ध आत्माओं का रक्त पर्याप्त मात्रा में पिया है। जब राज्य में प्रवेश करने की बात आए, तो तुम लोग अपनी भावनाओं को धोखा मत देना। क्या तुम लोग मानते हो कि जिस तरह से अभी तुम लोग हो, वह तुम्हारे लिए मेरे स्वर्ग के राज्य के द्वार में प्रवेश करने के लिए पर्याप्त है? क्या तुम लोग मानते हो कि अपने वचनों और कर्मों के मेरे परीक्षण से गुज़रे बिना, तुम लोग मेरे कार्य की पवित्र भूमि और वचनों में प्राप्त कर सकते हो? कौन है जो मेरी दो आँखों को मूर्ख बनाने में कामयाब हो सकता है तुम लोगों का घृणित, नीच व्यवहार और बातचीत मेरी दृष्टि से कैसे बच सकते हैं? तुम लोगों के जीवन को मेरे द्वारा अशुद्ध आत्माओं का रक्त पीने और उन अशुद्ध आत्माओं का मांस खाने के जीवन के रूप में निर्धारित किया गया है, क्योंकि तुम लोग हर दिन मेरे सामने उनका रूप धारण करते हो। मेरे सामने तुम लोगों का व्यवहार विशेष रूप से बुरा था, तो मैं कैसे चिढ़ महसूस न करता? तुम लोग जो कहते हो उसमें अशुद्ध आत्माओं की अपवित्रता है: तुम लोग उसी तरह से धोखेबाज़ी, चालबाज़ी, और मक्खनबाज़ी करते हो जैसे जादू-टोना करने वाले करते हैं, जैसे धोखा देने वाले और अधर्मियों का रक्त पीने वाले करते हैं। मानव जाति की सभी अभिव्यक्तियाँ बहुत अधर्मी हैं, तो ऐसा कैसे हो सकता है सभी लोगों को उस पवित्र भूमि में पहुँचा दिया जाए जहाँ धर्मी व्यक्ति रहते हैं? तुम्हें लगता है कि तुम्हारा घिनौना व्यवहार तुम्हें पवित्र व्यक्ति की तरह उन अधर्मी लोगों से अलग कर सकता है? तुम्हारी सांप जैसी जीभ आखिरकार तुम्हारी उस देह का नाश कर देगी जो विनाश करती है और घिनौने व्यवहार करती है, और तुम्हारे वे हाथ जो अशुद्ध आत्माओं के रक्त डूबे हुए हैं, अंत में तुम्हारी आत्मा को नरक में खींच लेंगे, तो तुम मैल में लिपटे हुए अपने हाथों को साफ़ करने के इस अवसर का उपयोग क्यों नहीं करते हो? और तुम अधर्मी वचन बोलने वाली अपनी इस जीभ को काटकर फेंकने के अवसर का उपयोग क्यों नहीं करते हो? क्या कहीं ऐसा तो नहीं कि तुम अपने दो हाथों और अपनी जीभ और होंठ के लिए नरक की आग में जलने के लिए तैयार हो? मैं अपनी दोनों आँखों से सभी लोगों के दिलों पर नज़र रखता हूं क्योंकि मानव जाति का निर्माण करने से पहले मैंने उनके दिलों को अपने हाथों में थामा था। मैंने बहुत पहले मनुष्य के हृदय के भीतर झांका था, तो ऐसा कैसे हो सकता है कि मनुष्य के दिल के विचार मेरी आँखों से बच सकते हों? और मेरी आत्मा के जलने से बचने के लिए वह समय से कैसे पहुँच सकते हैं?

तुम्हारे होंठ कबूतरों से भी अधिक दयालु हैं, लेकिन तुम्हारा दिल प्राचीन सांप से भी अधिक भयावह है, यहां तक कि तुम्हारे होंठ एक लेबनानी महिला से भी सुंदर हैं, लेकिन तुम्हारा दिल लेबनानी महिलाओं की तरह दयालु नहीं है और यह निश्चित रूप से कनानी लोगों की सुंदरता से तुलना नहीं कर सकता। तुम्हारा दिल बहुत धोखेबाज़ है। मुझे बस घृणा है अधर्मी के होंठों और अधर्मी के दिलों से। लोगों से मेरी आवश्यकताएं संतों से अधिक नहीं हैं, बस केवल इतना है कि मुझे अधर्मियों के बुरे कर्मों से घृणा होती है और मुझे उम्मीद है कि अधर्मी अपना मैलापन दूर कर सकेंगे और अपनी मौजूदा दुर्दशा से बच सकेंगे ताकि उन्हें उन अधर्मी लोगों से अलग किया जा सके, और वे उन लोगों के साथ रह सकें और पवित्र हो सकें जो धर्मी हैं। तुम उसी परिस्थिति में हो जिसमें मैं हूँ, लेकिन तुम लोग मैल लिपटे हुए हो, तुम लोगों में उस मानव की समानता का ज़रा-सा भी अंश नहीं है, जिसे शुरुआत में बनाया गया था और क्योंकि हर दिन तुम लोग उन अशुद्ध आत्माओं की नकल करते हो और वही करते हो जो वे करती हैं और वही कहते हो जो वे कहती हैं, तो तुम लोगों का प्रत्येक अंग और यहाँ तक कि तुम लोगों की जीभ और होंठ भी उस मैले पानी से भीगे हुए हैं। यह इतना अधिक है कि तुम लोग उन दागों से ढंके हुए हो और तुम लोगों का एक भी अंग ऐसा नहीं है जिसका उपयोग मेरे कार्य के लिए किया जा सके। यह बहुत ही निराशाजनक है! तुम लोग घोड़ों और पशुओं की एक ऐसी दुनिया में रहते हो, और फिर भी तुम लोगों को परेशानी नहीं होती; और तुम लोग आनन्द से भरे हुए हो और तुम लोग स्वतंत्रता से और आराम से रहते हो। तुम लोग इस अशुद्ध पानी में तैर रहे हो, लेकिन वास्तव तुम लोगों को पता भी नहीं है कि तुम लोग इस तरह की परिस्थितियों से घिरे हुए हो। हर दिन तुम अशुद्ध आत्माओं के साथ संबंध रखते हो और "मल" के साथ व्यवहार करते हो। तुम्हारा जीवन बहुत नीच है, और फिर भी तुम नहीं जानते कि तुम बिल्कुल भी इस मानवीय दुनिया में जी नहीं रहे हो और तुम अपने नियंत्रण में नहीं हो। क्या तुम नहीं जानते कि तुम्हारे जीवन को बहुत पहले अशुद्ध आत्माओं ने कुचल दिया था, कि तुम्हारे चरित्र को बहुत पहले अशुद्ध पानी से मैला कर दिया गया था? क्या तुम्हें लगता है कि तुम पृथ्वी पर स्वर्ग में रह रहे हो, कि तुम खुशियों के बीच में हो? क्या तुम नहीं जानते कि तुमने अपना जीवन अशुद्ध आत्माओं के साथ गुज़ारा है, और कि तुमने उन चीज़ों के साथ अपना जीवन गुज़ारा है जो उन्होंने तुम्हारे लिए तैयार की हैं? तुम्हारे जीवित रहने का कोई अर्थ कैसे हो सकता है? तुम्हारे जीवन का कोई मूल्य कैसे हो सकता है? तुम अपने अशुद्ध आत्मा माता-पिता के लिए दौड़-भाग करते रहे हो, फिर भी तुम यह नहीं जानते कि जिन लोगों ने तुम्हें जाल में फंसाया है वे अशुद्ध आत्माएं तुम्हारे वे माता-पिता हैं जिन्होंने तुम्हें जन्म दिया और पाल-पोस के बड़ा किया। इसके अलावा, तुम यह नहीं जानते कि तुम्हारी सारी गंदगी वास्तव में उन्होंने ही तुम्हें दी है; तुम बस यही जानते हो कि वे तुम्हें "आनंद" दे सकते हैं, वे तुम्हें ताड़ना नहीं देते हैं, न ही वे तुम्हारे साथ न्याय करते हैं, और विशेष रूप से वे तुम्हें शाप नहीं देते हैं। वे कभी भी तुम पर गुस्से से भड़के नहीं हैं, बल्कि वे तुम्हारे साथ प्यार और दयालुता से व्यवहार करते हैं। उनके वचन तुम्हारे दिल को पोषित करते हैं और तुम्हें लुभाते हैं, ताकि तुम भ्रमित हो जाओ और बिना जाने, तुम उनकी सेवा के इच्छुक हो जाओ, उनकी निकासी के साथ ही उनके नौकर भी बन जाओ। तुम्हारी कोई शिकायत नहीं है, और तुम उनकी सेवा के लिए तैयार हो—वे तुम्हें धोखा देते हैं। यही कारण है कि मेरे कार्य के प्रति तुम्हारी कोई प्रतिक्रिया नहीं—कोई आश्चर्य नहीं है कि तुम हमेशा मेरे हाथों से चुपके से निकल जाना चाहते हो, और कोई आश्चर्य नहीं है कि तुम हमेशा मीठे वचनों का उपयोग करके गलत तरीकों से मेरी सहायता चाहते हो। हुआ यूं है कि तुमने पहले से एक दूसरी योजना बनाई है, एक दूसरी व्यवस्था की है। तुम मेरे, सर्वशक्तिमान के कार्यों, को थोड़ा-बहुत देख तो सकते हो, परंतु तुम्हें मेरे न्याय और मेरी ताड़ना के छोटे-से हिस्से के बारे में भी नहीं पता। तुम नहीं जानते कि मेरी ताड़ना कब शुरू हुई; तुम केवल मुझे धोखा देना जानते हो, लेकिन तुम नहीं जानते कि मैं मनुष्य के उल्लंघन को बर्दाश्त नहीं करता हूं। चूंकि तुमने पहले से ही मेरी सेवा करने का दृढ़ संकल्प किया है, मैं तुम्हें जाने नहीं दूँगा। मैं ईर्ष्यालु परमेश्वर हूं, और मैं एक ऐसा परमेश्वर हूं जिसके दिल में मनुष्य के लिए जलन है। चूंकि तुमने पहले से ही अपने वचनों को वेदिका पर रख दिया है, मैं यह बर्दाश्त नहीं करूँगा कि तुम मेरी ही आंखों के सामने से भाग जाओ, और मैं यह भी बर्दाश्त नहीं करूँगा कि तुम दो स्वामियों की सेवा करो। क्या तुम्हें लगता है कि मेरी वेदिका पर अपने वचनों को रखकर, मेरी आँखों के सामने उन्हें रखकर, तुम किसी दूसरे से प्रेम कर सकते हो? मैं लोगों को इस तरह से स्वयं को मूर्ख बनाने कैसे दे सकता हूं? क्या तुम्हें लगा कि तुम आसानी से प्रतिज्ञा कर सकते हो, अपनी जीभ से मेरे लिए शपथ ले सकते हो? तुम मेरे सिंहासन के प्रति, जो सबसे ऊँचा है, कैसे अपनी शपथ ले सकते हो? क्या तुम्हें लगा कि तुम्हारी शपथ पहले से ही समाप्त हो चुकी है? मैं तुम लोगों को बताना चाहता हूँ कि भले ही तुम्हारी देह समाप्त हो जाए, तुम्हारी शपथ समाप्त नहीं हो सकती। अंत में, मैं तुम लोगों की शपथ के आधार पर तुम्हारी निंदा करूँगा। फिर भी तुम लोगों को लगता है मुझसे निपटने के लिए तुम अपने वचनों को मेरे सामने रख सकते हो और तुम लोगों के दिल अशुद्ध आत्माओं और बुरी आत्माओं की सेवा करते रहेंगे। मेरा क्रोध उन कुत्तों और सुअर जैसे लोगों को कैसे बर्दाश्त कर सकता है जो मुझे धोखा देते हैं? मुझे अपने प्रशासनिक नियमों को पूरा करना होगा, और अशुद्ध आत्माओं के हाथों से उन सभी घुटते हुए, "पवित्र" लोगों को निकालना होगा जो मेरा बैल बनने, मेरा घोड़ा बनने और जो मेरे द्वारा वध किए जाने की दया पाने के लिये मुझ पर विश्वास करते हैं, एक व्यवस्थित ढंग से "मेरी प्रतीक्षा" करते हैं। मैं तुमसे तुम्हारा पिछला दृढ़ संकल्प फिर से उठवाऊँगा और एक बार फिर से अपनी सेवा करवाऊँगा। सृष्टि की कोई भी वस्तु मुझे धोखा दे, यह मैं सहन नहीं करूँगा। तुम्हें क्या लगा कि तुम स्वच्छंदता से अनुरोध कर सकते हो और मेरे सामने स्वच्छंदता से झूठ बोल सकते हो? तुम्हें लगता है कि मैं तुम्हारें वचनों और कर्मों को सुन या देख नहीं सकता हूँ? तुम्हारे वचन और कर्म मेरी दृष्टि से कैसे बच सकते हैं? मैं लोगों को इस तरह से धोखा कैसे देने दे सकता हूं?

मैं तुम्हारे बीच में रहा हूं, तुम्हारे साथ कई वसंत और कई पतझड़ के दौरान जुड़ा रहा हूँ, मैं तुम्हारे बीच बहुत समय से जी रहा हूं, तुम्हारे साथ रहा हूँ—तुम्हारे घृणित व्यवहारों में से कितने मेरी आंखों के सामने से फिसल गए? दिल से कहे गए तुम लोगों के ये वचन मेरे कानों में लगातार गूंजते हैं; तुम लोगों की हज़ारों, करोड़ों आकांक्षाएं मेरी वेदिका पर रखी गई हैं—उन्हें गिना भी नहीं जा सकता हैं। फिर भी तुम लोगों का जो समर्पण है और जो तुम अपने आपको खपाते हो, वह थोड़ा-सा भी नहीं है। मेरी वेदिका पर तुम लोगों की सच्चाई की एक बूँद भी नहीं है। मुझ पर तुम लोगों के विश्वास के फल कहां हैं? तुम लोगों ने मुझ से अनगिनत अनुग्रह प्राप्त किया है और स्वर्ग से अनगिनत रहस्यों को देखा है, और मैंने तुम लोगों को स्वर्ग की लपटें भी दिखाई हैं, लेकिन तुम्हें जला देने की मेरी हिम्मत नहीं है, और बदले में तुम लोगों ने मुझे कितना दिया है? तुम लोग मुझे कितना देने के लिए तैयार हो? जो भोजन मैंने तुम्हें दिया, उसे तुम पलटकरउसी को मेरे सामने पेश कर देते हो। और मेरे सामने पेश कर देते हो, बल्कि यह और कहते हो कि यह वही है जो तुम्हें अपनी मेहनत के पसीने के बदले में मिला है, कि तुम स्वयं को पूरी तरह मुझे दे रहे हो। तुम यह कैसे नहीं जानते कि तुम्हारा सारा "योगदान" वही चीज़ें हैं जो मेरी ही वेदिका से चोरी किए गए? और अब तुम उसे मुझे पेश कर रहे हो—क्या तुम मुझे धोखा नहीं दे रहे हो? तुम यह कैसे नहीं जानते कि आज जिसका आनंद मैं उठा रहा हूं वह मेरी वेदिका पर अर्पित की गई भेंट है, न कि वो जो अपनी कड़ी मेहनत के बदले तुमने कमाया है और फिर मुझे पेश किया है। तुम लोगों में वास्तव में मुझे इस तरह धोखा देने की हिम्मत है, तो मैं तुम लोगों को कैसे माफ़ कर सकता हूँ? मैं अब इसे और कैसे सहन कर सकता हूं? मैंने तुम लोगों को सब कुछ दे दिया है। मैंने तुम लोगों के लिए सब कुछ खोलकर रख दिया है, तुम्हारी ज़रूरतों को पूरा किया है, और तुम लोगों की आँखें खोल दी हैं, और फिर भी तुम लोग अपनी अंतरात्मा को अनदेखा कर, इस तरह मुझे धोखा देते हो। मैंने निस्सवार्थ ढंग से अपना सब कुछ तुम लोगों पर अर्पित कर दिया है, ताकि तुम लोग अगर पीड़ित भी होते हो, तो भी, मैं जो कुछ भी स्वर्ग से लाया हूँ, वो तुम लोगों को प्राप्त हो जाए। परंतु तुम लोगों में कोई समर्पण नहीं है, और अगर तुमने छोटा-सा योगदान किया भी है, तो तुम लोग उसका हिसाब मेरे साथ करते हो। क्या तुम्हारा योगदान शून्य नहीं होगा? जो कुछ तुमने मुझे दिया है, वह तो बस रेत के एक कण के अलावा कुछ नहीं है, परन्तु जो कुछ तुमने मुझसे माँगा है वह एक टन सोने के बराबर है। क्या तुम्हारी माँग अनुचित नहीं है? मैं तुम लोगों के बीच काम करता हूं। उस दस प्रतिशत का कोई निशान नहीं है जो मुझे हासिल होना चाहिए, अतिरिक्त बलिदान को तो भूल ही जाओ। इसके अलावा, ईश्वरीय लोगों द्वारा जिस दस प्रतिशत का योगदान किया जाता है, उसे दुष्टों द्वारा छीन लिया जाता है। क्या तुम सब मुझे से तितर-बितर नहीं हो गए हो? क्या तुम सब मेरे विरोधी नहीं हो गए हो? क्या तुम सब मेरी वेदिका को नष्ट नहीं कर रहे हो? इस प्रकार के व्यक्ति को मेरी आँखें एक खज़ाने के रूप में कैसे देख सकती हैं? क्या वे सुअर और कुत्ते नहीं हैं, जिनसे मैं घृणा करता हूँ? मैं तुम्हारे दुष्ट कार्यों को खज़ाने के रूप में कैसे देख सकता हूँ? मेरा कार्य वास्तव में किसके लिए है? कहीं ऐसा तो नहीं कि यह केवल आप सभी को समाप्त करके मेरा अधिकार प्रकट करने के लिए है? क्या तुम लोगों का जीवन मेरे एक ही वचन पर निर्भर नहीं है? ऐसा क्यों है कि मैं केवल तुम लोगों को निर्देश देने के लिए वचनों का प्रयोग कर रहा हूं और मैंने जितनी जल्दी हो सके तुम लोगों को समाप्त करने के लिए अपने वचनों को तथ्यों में नहीं बदला है? क्या मेरे वचन और मेरा कार्य केवल मानव जाति को समाप्त करने के लिए हैं? क्या मैं एक ऐसा परमेश्वर हूं जो निर्दोषों को मारता है? इस समय मेरे सामने उपस्थित तुम लोगों में से कितने ऐसे हैं जो मानवीय जीवन की सही राह की अपने पूर्ण अस्तित्व से खोज कर रहे हैं? मेरे सामने केवल तुम लोगों के शरीर हैं, लेकिन तुम लोगों के दिल मुझसे बहुत, बहुत दूर हैं। क्योंकि तुम लोगों को पता नहीं कि मेरा कार्य वास्तव में क्या है, तुम लोगों में से कई ऐसे हैं जो मुझे छोड़कर जाना चाहते हैं, जो मुझसे स्वयं को दूर करते हैं, और जो उस स्वर्ग में रहना चाहते हैं जहाँ कोई ताड़ना नहीं है, कोई न्याय नहीं है। क्या लोग अपने दिलों में इसी की कामना नहीं करते हैं? मैं तुम्हारे साथ ज़बरदस्ती नहीं कर रहा हूँ। तुम जो भी राह लोगे, वो तुम्हारी अपनी पसंद है, और आज की राह न्याय और शाप के साथ चलती है, लेकिन तुम सबको पता होना चाहिए कि जो मैंने तुम लोगों को दिया है, चाहे वह न्याय हो या ताड़ना, वह उन उपहारों में से सबसे अच्छा है जो मैं तुम लोगों को दे सकता हूँ, और वे सब वे चीज़ें हैं जिनकी तुम लोगों को तत्काल आवश्यकता है।

पिछला:सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है

अगला:व्यवस्था के युग में कार्य

शायद आपको पसंद आये