सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

मसीह का सार तय होता है उसके काम और अभिव्यक्तियों से

I

मसीह का सार तय होता है उसके काम और अभिव्यक्तियों से।

सच्चे दिल से पूरा करता है वो काम जो सुपुर्द है उसके,

स्वर्ग के परमेश्वर को पूजता है

और अपने पिता की इच्छा तलाशता है।

ये सब तय होता है उसके सार से,

और उसी से उसके कुदरती प्रकाशन तय होते हैं।

वो कुदरती प्रकाशन कहलाते हैं,

चूंकि उसकी अभिव्यक्तियां नकल नहीं हैं,

ना ही इंसान के बरसों के सुधार या तालीम का नतीजा हैं।

ना तो इन्हें उसने सीखा है, ना ख़ुद पर सजाया है,

बल्कि सहज हैं।

ना तो इन्हें उसने सीखा है, ना ख़ुद पर सजाया है,

बल्कि सहज हैं, बल्कि सहज हैं, सहज हैं, सहज हैं।

बल्कि सहज हैं, सहज हैं, सहज हैं।

II

इंसान उसके काम को, अभिव्यक्तियों को, मानवता को नकार सकता है,

वे उसके सामान्य मानवता के जीवन को भी नकार सकते हैं,

मगर उसके सच्चे दिल को नहीं

जब वो स्वर्ग में परमेश्वर को पूजता है।

कोई नकार नहीं सकता कि

वो स्वर्गीय पिता की इच्छा को पूरा करने की ख़ातिर यहां है।

और कोई नकार नहीं सकता जिस सच्चाई से

वो पिता परमेश्वर को खोजता है।

शायद उसकी छवि इंद्रियों को ना भाए,

शायद उसके उपदेश का लहजा निराला ना हो,

शायद उसका काम धरती-या-आकाश को उतना ना हिला पाए,

जितना इंसान अपनी कल्पना में मानता है।

मगर वो सचमुच मसीह है, जो पूरा करता है इच्छा अपने पिता की,

पूरे दिल से, पूरे समर्पण से, मौत की हद तक आज्ञापालन से।

ऐसा इसलिये कि उसका सार मसीह का है।

इन्सान के लिये इस सच पर यकीन करना मुश्किल है,

मगर जो सचमुच वजूद में है,

मगर जो सचमुच वजूद में है,

मगर जो सचमुच वजूद में है,

मगर जो सचमुच वजूद में है,

मगर जो सचमुच वजूद में है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:देह और आत्मा का है काम उसी सार का

अगला:सच्ची प्रार्थना का प्रभाव

शायद आपको पसंद आये

प्रश्न 24: तुम यह प्रमाण देते हो कि प्रभु यीशु पहले से ही सर्वशक्तिमान परमेश्वर के रूप में वापस आ चुका है, कि वह पूरी सच्चाई को अभिव्यक्त करता है जिससे कि लोग शुद्धिकरण प्राप्त कर सकें और बचाए जा सकें, और वर्तमान में वह परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य को कर रहा है, लेकिन हम इसे स्वीकार करने की हिम्मत नहीं करते। यह इसलिए है क्योंकि धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों का हमें बहुधा यह निर्देश है कि परमेश्वर के सभी वचन और कार्य बाइबल में अभिलेखित हैं और बाइबल के बाहर परमेश्वर का कोई और वचन या कार्य नहीं हो सकता है, और यह कि बाइबल के विरुद्ध या उससे परे जाने वाली हर बात विधर्म है। हम इस समस्या को समझ नहीं सकते हैं, तो तुम कृपया इसे हमें समझा दो। परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है