सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

पवित्र आत्मा के नए काम का अनुसरण करो और परमेश्वर की स्वीकृति प्राप्त करो

I

ओ... ओ... ओ... ओ...

पवित्र आत्मा के काम पर चलने का मतलब

परमेश्वर की आज की इच्छा को समझना,

परमेश्वर की मांग के अनुसार कार्य करना,

आज के परमेश्वर के पीछे चलना,

उसकी वर्तमान अपेक्षाओं को मानना,

उसके नवीनतम कथनों में प्रवेश करना।

ऐसे लोग चलते हैं पवित्र आत्मा के काम पर।

वे हैं पवित्र आत्मा की धारा में, देख सकते हैं परमेश्वर को,

पा सकते हैं स्वीकृति परमेश्वर की।

जान सकते हैं वो परमेश्वर के स्वभाव को,

जान सकते हैं वो इंसान की धारणाओं, नाफ़र्मानी को,

जान सकते हैं वो इंसान की प्रकृति, उसके सार को।

और तो और, परमेश्वर की सेवा में, बदल जाएगा उनका स्वभाव।

ऐसे लोग ही हैं जो सिर्फ़ पा सकते हैं परमेश्वर को।

ऐसे लोग ही हैं जिन्हें

सिर्फ़ सही में मिल चुका है एकमात्र सच्चा रास्ता।

II

परमेश्वर के नवीनतम कार्य का ज्ञान होना नहीं है आसान।

लेकिन अगर लोग इरादतन परमेश्वर के कार्य को मानें,

इरादतन करें उसकी खोज,

तो परमेश्वर को देखने का मिलेगा उन्हें मौक़ा,

तो पवित्र आत्मा का नया मार्गदर्शन पाएंगे वो।

और तो और, परमेश्वर की सेवा में, बदल जाएगा उनका स्वभाव।

ऐसे लोग ही हैं जो सिर्फ़ पा सकते हैं परमेश्वर को।

ऐसे लोग ही हैं जिन्हें

सिर्फ़ सही में मिल चुका है एकमात्र सच्चा रास्ता।

III

जानबूझकर जो लोग करते हैं विरोध परमेश्वर के कार्य का,

मिलती नहीं उन्हें पवित्र आत्मा की प्रबुद्धता,

मिलता नहीं उन्हें परमेश्वर का मार्गदर्शन।

इसलिए लोग परमेश्वर के नवीनतम कार्य को प्राप्त कर पाते हैं या नहीं

इसलिए लोग परमेश्वर के नवीनतम कार्य को प्राप्त कर पाते हैं या नहीं

निर्भर है परमेश्वर के अनुग्रह पर,

निर्भर है उनके अपने अनुसरण पर,

निर्भर है उनके अपने इरादों पर।

निर्भर है उनके अपने इरादों पर।

ओ... ओ... ओ... ओ...

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:परमेश्वर इंसान के सच्चे विश्वास की आशा करता है

अगला:परमेश्वर ने पाई है महिमा अपनी सभी रचनाओं के बीच

शायद आपको पसंद आये

  • परमेश्वर स्वर्ग में है और धरती पर भी

    I परमेश्वर, परमेश्वर। परमेश्वर जब धरती पर होता है, तो इंसानों के दिल में वो व्यवहारिक होता है। स्वर्ग में वो सब जीवों का स्वामी होता है। नदियाँ लांघी…

  • स्वयं परमेश्वर की पहचान और पदवी

    I हर चीज़ पर जो राज करे वो परमेश्वर है, हर चीज़ का जो संचालन करे वो परमेश्वर है। हर चीज़ बनाई उसने, हर चीज़ का वो संचालन करता है। हर चीज़ पर वो राज करता…

  • प्रभु यीशु का अनुकरण करो

    I पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को, क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की, इसमें न उसका स्वार्थ था, न योजन…

  • परमेश्वर ने पाई है महिमा अपनी सभी रचनाओं के बीच

    I पहले की तरह नहीं है आज का वक़्त। अपने सिंहासन से मुस्कुराता है परमेश्वर। जिन पर प्राप्त की है उसने विजय, झुकते हैं उसके सामने, करते हैं उसकी आराध…