सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

प्रार्थना का महत्व

I

प्रार्थनाएँ वह मार्ग होती हैं जो जोड़ें मानव को परमेश्वर से,

जिससे वह पुकारे पवित्र आत्मा को

और प्राप्त करे स्पर्श परमेश्वर का।

जितनी करोगे प्रार्थना, उतना ही स्पर्श पाओगे,

प्रबुद्ध होगे और मन में शक्ति आएगी।

ऐसे ही लोगों को मिल सकती है पूर्णता शीघ्र ही,

शीघ्र ही, शीघ्र ही, शीघ्र ही।

II

तो जो ना करे प्रार्थना वह है जैसे मृत बिना आत्मा के।

ना मिले स्पर्श परमेश्वर का,

ना कर सके अनुपालन परमेश्वर के कार्यों के।

जो नहीं करोगे प्रार्थना तो छूट जाएगा सामान्य आत्मिक जीवन,

नहीं पाओगे परमेश्वर का साथ; वो तुमको अपनाएगा नहीं,

वो तुमको अपनाएगा नहीं।

जितनी करोगे प्रार्थना, उतना ही स्पर्श पाओगे,

प्रबुद्ध होगे और मन में शक्ति आएगी।

ऐसे ही लोगों को मिल सकती है पूर्णता शीघ्र ही,

ऐसे ही लोगों को मिल सकती है पूर्णता शीघ्र ही,

शीघ्र ही, शीघ्र ही, शीघ्र ही, शीघ्र ही।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:परमेश्वर की ताड़ना और न्याय है मनुष्य की मुक्ति का प्रकाश

अगला:परमेश्वर ने किया है अपने पूर्ण स्वभाव को मनुष्य के सामने प्रकट

शायद आपको पसंद आये