सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

दुर्भाग्य बेहद पास था! मैंने प्रभु को करीब-करीब अनदेखा कर दिया था (भाग 2)

37

वेलियन, अमेरिका

यीशु के वापसी की तलाश: अंत के दिनों के देहधारी परमेश्वर एक महिला क्यों होंगे?

उसके बाद मैंने भाई झाओ से ऑनलाइन सम्पर्क किया और उन्हें अपनी उलझन का स्रोत बताया। "बाइबल कहती है, 'जिसकी दुलहिन है, वही दूल्हा है' (यूहन्ना 3:29)। 'आओ, हम आनन्दित और मगन हों, और उसकी स्तुति करें, क्योंकि मेम्ने का विवाह आ पहुँचा है, और उसकी दुल्हिन ने अपने आप को तैयार कर लिया है' (प्रकाशितवाक्य 19:7)। यह लिखा है कि 'दूल्हा' 'दुल्हन' से शादी करेगा, इसलिए क्या 'दूल्हा' यह नहीं दर्शाता की परमेश्वर पुरुष के रूप में लौटेंगे। जबकि, आप गवाही देते हैं कि प्रभु एक महिला के रूप में लौट आए हैं। यह कुछ ऐसा है जिसे मैं नहीं समझता। भाई, क्या आप इस पर संगति साझा कर सकते हैं?" भाई झाओ ने जवाब दिया, "चूंकि बाइबल कहती है कि दुल्हन दूल्हे का स्वागत करने के लिए खुद को तैयार करेगी, इसलिए मैं सोचता था कि जब प्रभु वापस आयेंगे तो वह निश्चित रूप से पुरुष होंगे और संभवतः वे एक महिला नहीं नहीं हो सकते। तो भविष्यवाणी की यह समझ वास्तव में सटीक है, या नहीं? यदि यह वैसा ही है जैसा हम समझते हैं, तो परमेश्वर को आगमन के समय एक पुरुष ही होना चाहिए, केवल एक पुरुष को 'दूल्हा' कहा जा सकता है, इसलिए बिना किसी संदेह के 'दुल्हन' एक महिला को संदर्भित करती है, फिर हमारे पुरुष भाईयों में से कौन, एक 'दुल्हन' बन सकता है और मेम्ने की शादी के भोज में भाग ले सकता है? क्या वे सभी 'दूल्हे' द्वारा अंधेरे में रोते हुए बाहर नहीं निकाले जाएंगे? परमेश्वर सभी प्राणियों का परमेश्वर है; वह सभी पुरुषों और महिलाओं का परमेश्वर है, इसलिए वह केवल महिलाओं को कैसे बचा सकता है और पुरुषों को नहीं? अर्थात, हमारी यह अवधारणा कि 'दूल्हा' एक पुरुष होना चाहिए, सांसारिक दृष्टिकोण से चीजों को देखने से आती है। यह तो बस बाइबल की शाब्दिक समझ, और हमारी अपनी धारणाएँ और कल्पनाएँ है। यह बाइबल में भविष्यवाणी की गई बातों के सच्चे अर्थ से बहुत दूर है, और यह सत्य के अनुरूप तो और भी नहीं है।

"वास्तव में, 'दूल्हा' और 'दुल्हन' के पीछे प्रतीकात्मकता है और इनका दो लिंगों के साथ कोई संबंध नहीं है। 'दुल्हन' कलीसिया का प्रतीक है, और चाहे कोई भाई हो या बहन, हम सभी 'दुल्हनों' में से एक हैं। 'दूल्हा' मसीह का प्रतीक है, जो देहधारी परमेश्वर हैं, परमेश्वर के आत्मा का साकार देह रूप। परमेश्वर का आत्मा लिंग से सीमित नहीं है: जब उसका आत्मा आता है, तो वह पुरुष या महिला, किसी का भी देह धारण कर सकता है। जब तक वह देह में परमेश्वर का आत्मा है, चाहे वह एक पुरुष हो या महिला, वह मसीह है, और मसीह के रूप में, उसे 'दूल्हा' कहा जा सकता है। यह स्पष्ट है और संदेह से परे है।"

भाई झाओ की संगति ने मुझे पूरी तरह से आश्वस्त कर दिया था। मुझे एहसास हुआ कि "दूल्हा" मसीह का एक प्रतीक है और इसका मतलब यह नहीं है कि परमेश्वर एक पुरुष के रूप में आयेंगे। मैं बाइबल के शाब्दिक व्याख्या को मानता रहा था, परमेश्वर का लिंग क्या होगा इसे अपनी धारणाओं और कल्पनाओं पर भरोसा करते हुए सीमित कर रहा था। मैं बहुत घमंडी और अज्ञानी था!

भाई झाओ ने बाद में मुझे सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का एक और अंश भेजा: "परमेश्वर के द्वारा किए गए कार्य के प्रत्येक चरण का एक व्यवहारिक महत्व है। जब यीशु का आगमन हुआ, वह पुरुष था, लेकिन इस बार के आगमन में परमेश्वर स्त्री है। इससे, तुम देख सकते हो कि परमेश्वर ने अपने कार्य के लिए पुरुष और स्त्री दोनों का सृजन किया और वह लिंग के बारे में कोई भी भेदभाव नहीं करता है। जब उसका आत्मा आगमन करता है, तो वह इच्छानुसार किसी भी देह को धारण कर सकता है और वह देह उसका ही प्रतिनिधित्व करता है। चाहे यह पुरुष हो या स्त्री, दोनों ही परमेश्वर का प्रतिनिधित्व करते हैं क्योंकि यह उसका देहधारी शरीर है। यदि यीशु एक स्त्री के रूप में आ जाता और प्रकट हो जाता, दूसरे शब्दों में, यदि पवित्र आत्मा के द्वारा एक शिशु कन्या का, न कि एक लड़के का, गर्भधारण किया गया होता, तब भी कार्य का वह चरण उसी तरह से पूरा किया गया होता। यदि ऐसी बात होती तो, कार्य का यह स्तर एक पुरुष के द्वारा पूरा किया जाता और तब भी वह कार्य उसी तरह से पूरा किया जाता। दोनों ही चरणों में किया गया कार्य महत्वपूर्ण है; कोई भी कार्य दोहराया नहीं जाता है या एक-दूसरे का विरोध नहीं करता है। अपने कार्य के समय में, यीशु को इकलौता पुत्र कहा गया, 'पुत्र' पुरुष लिंग का संकेत करता है। तो फिर इस चरण में इकलौते पुत्र का उल्लेख क्यों नहीं किया जाता है? ऐसा इसलिए है क्योंकि कार्य की आवश्यकताओं ने लिंग में बदलाव को आवश्यक बना दिया जो कि यीशु के लिंग से भिन्न हो। परमेश्वर लिंग के बारे में कोई भी भेदभाव नहीं करता है। उसका कार्य वैसे ही होता है जैसी वह इच्छा करता है और किसी प्रतिबंध के अधीन नहीं है, विशेषकर यह स्वतंत्र है, परन्तु प्रत्येक चरण का एक व्यवहारिक महत्व होता है। परमेश्वर ने दो बार देहधारण किया, और कहने की आवश्यकता नहीं कि अंत के दिनों में उसका देहधारण अंतिम बार है। वह अपने सभी कर्मों को प्रकट करने के लिए आया है। यदि इस चरण मेंर वह स्वयं कार्य करने के लिए देह धारण नहीं करता जिसे मनुष्य देखे, तो मनुष्य हमेशा के लिए यही अवधारणा बनाए रखता कि परमेश्वर सिर्फ पुरुष है, स्त्री नहीं" ("वचन देह में प्रकट होता है" में "देहधारण के महत्व को दो देहधारण पूरा करते हैं" से)।

भाई झाओ ने आगे कहा, "वास्तव में, लिंग एक ऐसी चीज है जो केवल निर्मित प्राणियों से संबंधित है। परमेश्वर स्वाभाविक रूप से एक आत्मा हैं और इस प्रलाप के अधीन नहीं हैं। उन्हें पुरुष या महिला के रूप में संदर्भित केवल इसलिए किया जाता है क्योंकि वह देहधारण करते हैं और एक प्राणी का बाहरी आवरण धारण करते हैं—हम परमेश्वर को इसलिए अस्वीकार नहीं कर सकते क्योंकि उनका एक महिला के तौर पर देहधारण करना हमारी धारणाओं के अनुरूप नहीं है। वास्तविकता यह है कि चाहे परमेश्वर एक पुरुष के रूप में देहधारण करें या एक महिला के रूप में, यह मानवजाति के उद्धार के लिए, उनके काम की पूर्णता के लिए है—यही सबसे महत्वपूर्ण है। प्रभु यीशु एक पुरुष के रूप में आए और छुटकारे का कार्य पूरा किया; यदि परमेश्वर ने अंत के दिनों में भी पुरुष के रूप में अवतार लिया, तो हम सोचेंगे कि परमेश्वर एक पुरुष है, कि वह पुरुषों का परमेश्वर है न कि महिलाओं का। क्या ऐसा करना उनका परिसीमन करना नहीं होगा? और इससे भी अधिक, यह उनकी ईशनिन्दा करना नहीं होगा? परमेश्वर ने अंत के दिनों में एक महिला के रूप में देहधारण किया है, जो वास्तव में हमारी धारणाओं के विपरीत है और हमारे अतीत की परमेश्वर की हमारी गलत समझ को हटा देता है, है और हमें यह एहसास दिलाता है कि परमेश्वर केवल पुरुषों के ही नहीं, बल्कि महिलाओं के भी परमेश्वर हैं; वह न केवल पुरुषों को बचाते हैं, बल्कि महिलाओं को भी उसी तरह बचाते हैं। परमेश्वर की नज़र में, पुरुष और महिला समान पायदान पर हैं: वह पूरी मानवता के परमेश्वर हैं। वह वास्तव में परमेश्वर हैं या नहीं इसका आंकलन हम उनके देहधारण के लिंग के आधार नहीं कर सकते हैं। इसके बजाय, उनके कार्य और वचनों के माध्यम से व्यक्त किए गए स्वभाव के आधार पर हमें इसका निर्धारण करना चाहिए। साथ ही, हमें यह जाँचने पर भी महत्व देना चाहिए कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों में सत्य है या नहीं, वे परमेश्वर की वाणी हैं या नहीं, और क्या सर्वशक्तिमान परमेश्वर का कार्य सच्चा मार्ग है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर मांस में परमेश्वर हैं या नहीं, यह निर्धारित करने का एकमात्र तरीका यही है। जैसा कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने स्वयं कहा है, 'यह पता लगाने के लिए कि क्या यह देहधारी परमेश्वर है, मनुष्य को इसका निर्धारण उसके द्वारा अभिव्यक्त स्वभाव से और उसके द्वारा बोले वचनों से अवश्य करना चाहिए। ...यदि मनुष्य केवल उसके बाहरी रूप-रंग को ही देखता है, उसके तत्व की अनदेखी करता है, तो यह मनुष्य की अज्ञानता और उसके अनाड़ीपन को दर्शाता है' ("वचन देह में प्रकट होता है" के लिए प्रस्तावना से)।

"एक अन्य बिंदु है जिसे हमें अच्छे से समझना चाहिए। क्यों न हम सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों के एक और अंश पर नज़र डालें? सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, 'कभी भी परमेश्वर का कार्य मनुष्यों की धारणाओं के अनुरूप नहीं होता है, क्योंकि उसका कार्य हमेशा नया होता है और कभी भी पुराना नहीं होता है। न ही वह कभी पुराने कार्य को दोहराता है बल्कि पहले कभी नहीं किए गए कार्य के साथ आगे बढ़ जाता है। जिस प्रकार परमेश्वर अपने कार्य को दोहराता नहीं है और मनुष्य परमेश्वर द्वारा अतीत में किए गए कार्य के आधार पर निरपवाद रूप से उसके आज के कार्य का निर्णय करता है, नए युग के कार्य के प्रत्येक चरण को करना परमेश्वर के लिए अत्यंत कठिन है। मनुष्य बहुत अधिक बाधाएँ प्रस्तुत करता है! मनुष्य की सोच बहुत ही ओछी है! कोई भी मनुष्य परमेश्वर के कार्य को नहीं जानता है, फिर भी वह ऐसे कार्य की व्याख्या करता है' ("वचन देह में प्रकट होता है" में "वह मनुष्य किस प्रकार परमेश्वर के प्रकटनों को प्राप्त कर सकता है जिसने उसे अपनी ही धारणाओं में परिभाषित किया है?" से)। परमेश्वर एक ऐसे परमेश्वर हैं जो सदैव नये हैं और कभी पुराने नहीं होते—वह कभी एक ही कार्य दोहराते नहीं हैं। मानवजाति को बचाने के लिए, उन्होंने दो बार देहधारण किया है: पहली बार उन्होंने पुरुष के रूप में देहधारण किया और दूसरी बार महिला के रूप में। अपने देहधारी रूप में दोनों लिंगों को अपना कर ही परमेश्वर ने देह में अपने कार्य को पूरा किया है। इसलिए जब हम परमेश्वर के नये कार्य को सामने पाते हैं, तो हम अतीत में उनके द्वारा किये गये कार्य के नियमों को लागू नहीं कर सकते अन्यथा हम आसानी से परमेश्वर को सीमित कर देंगे और उनका विरोध करने की गलती कर बैठेंगे।

"इसके अतिरिक्त, परमेश्वर सृष्टि के प्रभु हैं और उनकी बुद्धि और सर्वशक्तिमत्ता अथाह है। जैसा की बाइबल में लिखा है, 'आहा! परमेश्‍वर का धन और बुद्धि और ज्ञान क्या ही गंभीर है! उसके विचार कैसे अथाह, और उसके मार्ग कैसे अगम हैं!' (रोमियों 11:33)। हम सिर्फ मामूली छोटे जीव हैं, तो हम परमेश्वर के कार्य को कैसे समझ सकते हैं? हम केवल अपने विचारों और कल्पनाओं के आधार पर यह निर्धारित करते हैं कि परमेश्वर को ऐसा या वैसा होना चाहिए; क्या यह बहुत घमंड भरा और बेतुका नहीं है? यह ठीक वैसा ही है जब प्रभु यीशु कार्य करने के लिए आए थे—फरीसियों में पूरी तरह से परमेश्वर के प्रति श्रद्धा का अभाव था, उन्होंने सत्य की तलाश नहीं की, बल्कि अपने अहंकारी स्वभाव पर भरोसा करते हुए, अपनी धारणाओं और कल्पनाओं पर अड़े रहे। उन्होंने सोचा कि जब परमेश्वर आएंगे तो उन्हें, 'मसीहा' कहा जाएगा, और वह रोमन शासन से बचने में उनकी अगुआई करेंगे। फरीसियों ने अपनी धारणाओं के भीतर परमेश्वर को सीमांकित किया था, प्रभु यीशु के कार्य और वचनों में शक्ति और अधिकार है, यह देखकर भी, उन्होंने वह सब कुछ किया जो वे उन बातों का विरोध और निंदा करने के लिए कर सकते थे, बस इसलिए कि वे उनकी धारणाओं और कल्पनाओं के अनुरूप नहीं थीं। अंततः, उन्होंने प्रभु यीशु को क्रूस पर चढ़ा दिया और फिर उन्हें परमेश्वर द्वारा दंडित किया गया। इसलिए फरीसियों के नक्शेकदम पर चलने से बचने के लिए, प्रभु के आगमन के बारे में अपने दृष्टिकोण में हमें अपनी धारणाओं और कल्पनाओं को छोड़ देना चाहिए। हमें परमेश्वर द्वारा व्यक्त किए गए वचनों में सत्य की तलाश करनी चाहिए। जब तक हम धार्मिकता के लिए भूखे-प्यासे रहेंगे, तब तक परमेश्वर हमें प्रबुद्ध करेंगे, हमारा मार्गदर्शन करेंगे, ताकि हम उनके वचनों माध्यम से उनके दर्शन कर सकें। जैसे प्रभु यीशु ने कहा है, 'धन्य हैं वे, जो मन के दीन हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है' (मत्ती 5:3)। 'धन्य हैं वे, जो धार्मिकता के भूखे और प्यासे हैं, क्योंकि वे तृप्‍त किए जाएँगे' (मत्ती 5:6)।"

भाई झाओ की इस संगति को सुनकर मुझे शर्म महसूस हुई और मेरा चेहरा लाल पड़ गया। मैंने सोचा, "भाई झाओ की संगति कितनी सच्ची है! परमेश्वर इतने बुद्धिमान हैं और उनके पास बहुत अधिकार है, जबकि मैं सिर्फ एक छोटा सा प्राणी हूं। मैं उनके कार्य को सीमा में कैसे बांध सकता हूँ? मैं वास्तव में बहुत दम्भी हूँ, मुझ में विवेक का बहुत अभाव है। अंत के दिनों में एक महिला के रूप में परमेश्वर के देहधारण का बहुत महत्व है। न केवल यह परमेश्वर के बारे में हमारी धारणाओं और कल्पनाओं पर हमला करता है, बल्कि इससे भी अधिक, यह हमें दिखाता है कि परमेश्वर सभी मानवता के परमेश्वर हैं, और उनका कार्य कितना बुद्धिमान है!" यह समझने के बाद मैंने अपनी मानसिकता पूरी तरह से बदल दी और अपने गलत दृष्टिकोण को त्याग दिया; मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों की खोज और जांच शुरू कर दी।

यीशु के आगमन पर निश्चितता पाना: सर्वशक्तिमान परमेश्वर का अनुसरण करना और कभी पीछे मुड़कर न देखना

तब से, मैं आतुरता से सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया द्वारा निर्मित, परमेश्वर के वचनों के ऑनलाइन वीडियो, सुसमाचार फिल्में, कोरल प्रदर्शन, और भजन देख रहा हूँ। इसने मेरी दुनिया को गहराई से हिला दिया है, और मैंने देखा है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया वास्तव में पवित्र आत्मा के कार्य से सम्पन्न है। वे ऐसे वीडियो और फिल्मों की एक समृद्ध सरणी का भी निर्माण करते हैं, जिन्होंने मेरी सभी धारणाओं और मुद्दों का समाधान किया है; वे वास्तव में लोगों के विश्वास को बढ़ाते हैं। मैं सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों को भी नियमित रूप से पढ़ता हूँ, और उनके वचनों के माध्यम से मुझे सत्य के रहस्यों को समझने में मदद मिली है जैसे कि मानवजाति के उद्धार के लिए परमेश्वर की 6,000 साल की प्रबंधन योजना, बाइबल की अंदर की कहानी और सार, परमेश्वर के भिन्न नामों को धारण करने का महत्व, परमेश्वर अंत के दिनों के अपने न्याय के कार्य से कैसे लोगों को शुद्ध करते, बदलते और पूर्ण करते हैं, साथ ही मानवजाति के भविष्य के गंतव्य और परिणाम। इसने वास्तव में मेरी आँखें खोल दी हैं और मेरी आत्मा को तुष्ट किया है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों में अधिकार है और वह शक्ति रखते हैं—परमेश्वर के अलावा, कोई भी व्यक्ति इन वचनों को नहीं कह सकता है। मुझे ऐसा लगता है कि मैं जंगल से निकल कर कनान देश में आ गया हूँ, जहाँ मेरी आत्मा में आनंद है और विश्राम का स्थान है।

एक समय तक खोज और जांच करने के बाद, मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा कहे गए वचनों से निर्धारित किया कि वह वास्तव में प्रभु यीशु की वापसी हैं, वह अंत के दिनों के मसीह हैं। मेरे लिए यह उत्साह अतुलनीय था—मैंने अपने आप को दंडवत कर परमेश्वर के प्रति आभार की प्रार्थना अर्पित की: "सर्वशक्तिमान परमेश्वर, मैं आपको धन्यवाद देता हूँ! जब मैं आपके कार्य की तलाश और जाँच करना छोड़ देना चाहता था, तब आपने मुझे नहीं त्यागा, बल्कि मेरे प्रति दया और सहिष्णुता रखी। आपने मुझे सत्य समझने दिया, मेरी धारणाओं को हल करने दिया—मैं आपकी वापसी का स्वागत करने के मौके को खोते-खोते रह गया। हे परमेश्वर, आपकी यह खोई हुई भेड़ आखिरकार आपकी वापसी का स्वागत करने और आपका उद्धार पाने में सक्षम हो गई है। यह पूरी तरह से आपका अनुग्रह और उत्थान है। इस दिन से, मैं केवल आपके वचनों को पढ़ना, सत्य की तलाश करना, और आपके प्यार को चुकाने के लिए अपने कर्तव्य को पूरा करना चाहता हूँ। परमेश्वर को धन्यवाद!"

सम्बंधित मीडिया