आज का बाइबल पाठ: प्रभु यीशु द्वारा सब्त के दिन का पालन न किया जाना हमें क्या चेतावनी देता है?

08 मार्च, 2019

ली किंग, चीन

aaj ka bible reading, आज का बाइबल पाठ, daily bible reading in hindi 2021, आज का बाइबल वचन, aaj ka bible vachan in hindi, aaj ka vachan bible se, बाइबल का दैनिक पाठ

एक दिन सबेरे-सबेरे, जब मैं अपने आध्यात्मिक भक्ति में लगी हुई थी, तो मैंने बाइबिल में लिखी इन बातों को देखा: "उस समय यीशु सब्त के दिन खेतों में से होकर जा रहा था, और उसके चेलों को भूख लगी तो वे बालें तोड़-तोड़कर खाने लगे। फरीसियों ने यह देखकर उससे कहा, "देख, तेरे चेले वह काम कर रहे हैं, जो सब्त के दिन करना उचित नहीं।" उसने उनसे कहा, ...पर मैं तुम से कहता हूँ कि यहाँ वह है जो मन्दिर से भी बड़ा है। यदि तुम इसका अर्थ जानते, 'मैं दया से प्रसन्न होता हूँ, बलिदान से नहीं,' तो तुम निर्दोष को दोषी न ठहराते। मनुष्य का पुत्र तो सब्त के दिन का भी प्रभु है" (मत्ती 12:1-3, 6-8)। इस अंश को पढ़ने के बाद, मैं गहरी सोच में डूब गई: "व्यवस्था के युग में, यहोवा ने आम लोगों को सब्त रखने का निर्देश दिया था। सब्त के दिन, आम आदमी को सारे काम रोक देने होते थे; अगर वे उस दिन काम करना नहीं रोकते, तो वह एक पाप होता, और उनको इसका हिसाब देना पड़ता था। जब प्रभु यीशु अपना कार्य करने के लिए आये, तो उन्होंने सब्त का दिन नहीं रखा, बल्कि वे अपने शिष्यों को विभिन्न स्थानों में सुसमाचार का प्रचार और कार्य करने के लिए ले गये। ऐसा क्यों किया गया था? प्रभु यीशु द्वारा ऐसा करना हमें क्या चेतावनी देता है? मैंने काफ़ी समय तक इस पर विचार किया, लेकिन मैं फिर भी इसे समझ नहीं पाई।

कई दिनों के बाद, मैंने सुना कि मेरी सहकर्मी सू उपदेश सुनने की एक यात्रा से लौटी थी, इसलिए मैं उससे मिलने उसके घर चली गई। उसने खुशी-खुशी वो सारी बातें मुझे बताई जो उपदेशों को सुनकर उसे समझ आई थीं। फिर उसने एक पुस्तक निकाली। उसने बताया कि इस पुस्तक ने ऐसे कई सत्यों और रहस्यों को उजागर किया था, जो पहले कभी नहीं सुनी गई थीं। उसने कहा कि उसने पुस्तक का काफ़ी हिस्सा पढ़ा था, और वह इसे जितना अधिक पढ़ती थी, उसके हृदय में उतना ही अधिक प्रकाश भरता जाता था। उसने कहा कि उसे ऐसे कई सत्य समझ में आ गये, जिन्हें उसने पहले नहीं समझा था। सहकर्मी सू की बातें सुनने के बाद, मैं पूरे दिल से परमेश्वर की तैयारियों का धन्यवाद करने लगी और मैं उसे यह बताने से खुद को नहीं रोक पाई कि पिछले कुछ दिनों से कौन सी बात ने मुझे उलझन में डाल रखा था। उसने मुस्कुराते हुए मुझसे कहा, "प्रभु का धन्यवाद। यह पुस्तक इस मुद्दे के बारे में बहुत स्पष्ट रूप से बताती है कि प्रभु यीशु ने सब्त के दिन कार्य क्यों किया था। आओ इसे साथ मिलकर देखते हैं।" यह कहते हुए उसने पुस्तक को खोला और मुझे इसका एक अंश पढ़ने के लिए दिया। मैंने पढ़ा: "जब प्रभु यीशु आया, तो उसने लोगों को यह बताने के लिए अपने व्यावहारिक कार्यों का उपयोग किया कि परमेश्वर ने व्यवस्था के युग को अलविदा कह दिया है और नया कार्य शुरू किया है, और इस नए कार्य में सब्त का पालन करना आवश्यक नहीं है। परमेश्वर का सब्त के दिन की सीमाओं से बाहर आना उसके नए कार्य का बस एक पूर्वाभास था; वास्तविक और महान कार्य अभी आना बाकी था। जब प्रभु यीशु ने अपना कार्य प्रारंभ किया, तो उसने व्यवस्था की बेड़ियों को पहले ही पीछे छोड़ दिया था, और उस युग के विनियम और सिद्धांत तोड़ दिए थे। उसमें व्यवस्था से जुड़ी किसी भी बात का कोई निशान नहीं था; उसने उसे पूरी तरह से छोड़ दिया था और अब उसका पालन नहीं करता था, और उसने मानवजाति से आगे उसका पालन करने की अपेक्षा नहीं की थी। इसलिए तुम यहाँ देखते हो कि प्रभु यीशु सब्त के दिन मकई के खेतों से होकर गुज़रा, और प्रभु ने आराम नहीं किया; वह बाहर काम कर रहा था और आराम नहीं कर रहा था। उसका यह कार्य लोगों की धारणाओं के लिए एक आघात था और इसने उन्हें सूचित किया कि वह अब व्यवस्था के अधीन नहीं रह रहा था, और उसने सब्त की सीमाओं को छोड़ दिया था और एक नई कार्यशैली के साथ वह मानवजाति के सामने और उनके बीच एक नई छवि में प्रकट हुआ था। उसके इस कार्य ने लोगों को बताया कि वह अपने साथ एक नया कार्य लाया है, जो व्यवस्था के अधीन रहने से उभरने और सब्त से अलग होने से आरंभ हुआ था। जब परमेश्वर ने अपना नया कार्य किया, तो वह अतीत से चिपका नहीं रहा, और वह अब व्यवस्था के युग की विधियों के बारे में चिंतित नहीं था, न ही वह पूर्ववर्ती युग के अपने कार्य से प्रभावित था, बल्कि उसने सब्त के दिन भी उसी तरह से कार्य किया, जैसे वह दूसरे दिनों में करता था, और सब्त के दिन जब उसके चेले भूखे थे, तो वे मकई की बालें तोड़कर खा सकते थे। यह सब परमेश्वर की निगाहों में बिलकुल सामान्य था। परमेश्वर अपना बहुत-सा नया कार्य करने के लिए, जिसे वह करना चाहता है, और नए वचन कहने के लिए, जिन्हें वह कहना चाहता है, एक नई शुरुआत कर सकता है। जब वह एक नई शुरुआत करता है, तो वह न तो अपने पिछले कार्य का उल्लेख करता है, न ही उसे जारी रखता है। क्योंकि परमेश्वर के पास उसके कार्य के अपने सिद्धांत हैं, जब वह नया कार्य शुरू करना चाहता है, तो यह तब होता है जब वह मानवजाति को अपने कार्य के एक नए चरण में ले जाना चाहता है, और जब उसका कार्य एक उच्चतर चरण में प्रवेश करता है। यदि लोग पुरानी कहावतों या नियमों के अनुसार काम करते रहते हैं या उनसे चिपटे रहते हैं, तो वह इसे याद नहीं रखेगा या इसका अनुमोदन नहीं करेगा। ऐसा इसलिए है, क्योंकि वह पहले ही एक नया कार्य ला चुका है, और अपने कार्य के एक नए चरण में प्रवेश कर चुका है। जब वह नया कार्य आरंभ करता है, तो वह मानवजाति के सामने पूर्णतः नई छवि में, पूर्णतः नए कोण से और पूर्णतः नए तरीके से प्रकट होता है, ताकि लोग उसके स्वभाव के विभिन्न पहलुओं और उसके स्वरूप को देख सकें। यह उसके नए कार्य में उसके लक्ष्यों में से एक है। परमेश्वर पुरानी चीज़ों से चिपका नहीं रहता या पुराने मार्ग पर नहीं चलता; जब वह कार्य करता और बोलता है, तो यह उतना निषेधात्मक नहीं होता, जितना लोग कल्पना करते हैं। परमेश्वर में सब-कुछ स्वतंत्र और मुक्त है, और कोई निषेध नहीं है, कोई बाधा नहीं है—वह मानवजाति के लिए आज़ादी और मुक्ति लाता है। वह एक जीवित परमेश्वर है, ऐसा परमेश्वर, जो वास्तव में, सच में मौजूद है। वह कोई कठपुतली या मिट्टी की मूर्ति नहीं है, और वह उन मूर्तियों से बिलकुल भिन्न है, जिन्हें लोग प्रतिष्ठापित करते हैं और जिनकी आराधना करते हैं। वह जीवित और जीवंत है और उसके कार्य और वचन मनुष्यों के लिए संपूर्ण जीवन और ज्योति, संपूर्ण स्वतंत्रता और मुक्ति लेकर आते हैं, क्योंकि वह सत्य, जीवन और मार्ग धारण करता है—वह अपने किसी भी कार्य में किसी भी चीज़ के द्वारा विवश नहीं होता। ... इस प्रकार, प्रभु यीशु सब्त के दिन खुले तौर पर बाहर जा सकता था और कार्य कर सकता था, क्योंकि उसके हृदय में मानवजाति से उत्पन्न कोई नियम, ज्ञान या सिद्धांत नहीं थे। उसके पास केवल परमेश्वर का नया कार्य और उसका मार्ग था। उसका कार्य मानवजाति को स्वतंत्र करने, लोगों को मुक्त करने, उन्हें प्रकाश में रहने देने और उन्हें जीने देने का मार्ग था" ('परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III')।

इस अंश को पढ़ने के बाद मुझे थोड़ा-बहुत समझ आया और मैंने सहकर्मी सू से कहा: "तो जब प्रभु यीशु अपना कार्य करने के लिए आये, उन्होंने सब्त के दिन का पालन नहीं किया, बल्कि वे अपने शिष्यों को विभिन्न स्थानों में सुसमाचार का प्रचार करने और काम करने के लिए गये। उन्होंने ऐसा उस समय के लोगों को यह बताने के लिए किया कि परमेश्वर ने व्यवस्थाओं को पीछे छोड़ दिया था और अब वे एक नया कार्य कर रहे थे। वे लोगों को एक नये युग में ले जाना चाहते थे। ऐसा लगता है कि परमेश्वर के हर एक कार्य के पीछे उनकी इच्छा निहित है!"

सहकर्मी सू ने मुझसे कहा, "हाँ, यह अंश बहुत स्पष्ट रूप से यह बताता है कि प्रभु यीशु ने सब्त के दिन कार्य क्यों किया था। जब परमेश्वर कार्य करते हैं, तो वे कार्य करने के पुराने तौर-तरीकों से चिपके नहीं रहते हैं और वे पुराने रास्तों पर नहीं चलते हैं। परमेश्वर भ्रष्ट मानवजाति की ज़रूरतों के मुताबिक हमेशा नये और उच्चतर कार्य करते हैं। जब परमेश्वर कोई नया कार्य करते हैं, तो वे पुराने कार्य से बंधे नहीं रहते हैं, और अगर लोग पुरानी प्रथाओं का पालन करते हैं तो वे नियमों से चिपके रहते हैं। सिर्फ़ पुराने नियमों एवं प्रथाओं को छोड़कर और परमेश्वर के कार्य के पदचिह्नों का बारीकी से पालन करके ही लोग उनका उद्धार प्राप्त कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, व्यवस्था के युग में परमेश्वर ने धरती पर इंसानों के जीवन का मार्गदर्शन करने के लिए मूसा के माध्यम से व्यवस्थाओं और आज्ञाओं की घोषणा की थी। इंसान से परमेश्वर की अपेक्षा थी कि वो इन व्यवस्थाओं और आज्ञाओं का पालन करे और सब्त का दिन ज़रूर रखे। ऐसा इसलिए था क्योंकि उस समय के लोग अपने जीवन को चलाने का तरीका नहीं जानते थे, और वे यह भी नहीं जानते थे कि परमेश्वर की आराधना करना क्या होता है। वे परमेश्वर की आराधना करने के तरीके या कार्य के समय और इस तरह की बातों के बारे में कुछ नहीं जानते थे। परमेश्वर यह नहीं चाहते थे कि इंसान दिन भर अपने आपको व्यस्त रखे, दिन शुरू होते ही काम करने लगे और शाम होने पर आराम करे, सिर्फ़ भोजन, कपड़े और आवास के लिए जीवन जिये और अपने परिवारों का पालन-पोषण करता रहे। इसलिए, उन्होंने अपनी व्यवस्थाओं और आज्ञाओं की घोषणा की, जिनका पालन करना इंसान के लिए ज़रूरी है। उन्होंने इंसान के लिए सब्त का दिन बनाया, जिसके मुताबिक यह आवश्यक था कि लोग हफ़्ते के छः दिन काम करें, और फिर सातवें दिन सारा काम रोक दें, ताकि वे परमेश्वर के समक्ष आकर उनकी आराधना कर सकें। लेकिन व्यवस्था के युग के अंत में, इंसान शैतान के द्वारा अधिक से अधिक भ्रष्ट होता चला गया। देखने को भले ही वे सब्त का दिन रखते थे और सब्त के दिन परमेश्वर की आराधना और गुणगान करते थे, लेकिन अब उनके दिलों में परमेश्वर की सच्ची आराधना नहीं रह गयी थी। सब्त का दिन रखने के बावजूद, उनके लिए यह सिर्फ़ एक तरह से ऐसे नियम या रिवाज का पालन करना था, जिसका कोई अर्थ नहीं था। इसलिए, जब प्रभु यीशु अपना कार्य करने के लिए आये, तो उन्होंने इंसान की ज़रूरतों को देखते हुए पश्चाताप का मार्ग बताया। उन्होंने लोगों को सब्त के दिन के नियमों और प्रथाओं का पालन करने से जोड़कर नहीं रखा। इसके बजाय, उन्होंने नियमों और सब्त के दिन को पीछे छोड़ देने के लिए कहा। उन्होंने इंसान के लिए नई अपेक्षाएं प्रस्तावित कीं: अंतर्मन से और सच्चे दिल से परमेश्वर की आराधना करना। इस तरीके से, लोग अभ्यास का एक नया, उच्चतर मार्ग पाने में सक्षम थे, सिर्फ़ पुराने नियमों एवं प्रथाओं को छोड़कर और परमेश्वर की अपेक्षाओं के अनुसार अभ्यास करके ही वे प्रभु से मिली शांति और खुशी का आनंद उठा सकते थे और परमेश्वर की देखरेख एवं सुरक्षा में जीवन बिता सकते थे। बाहर से देखने पर ऐसा लगता था मानो सब्त का दिन न रखकर प्रभु यीशु व्यवस्थाओं को छोड़ रहे थे, लेकिन असल में वे व्यवस्थाओं का पालन कर रहे थे, और लोगों को नियमों एवं परंपराओं का पालन करने की जगह अंतर्मन से और सच्चे दिल से परमेश्वर की आराधना करने में सक्षम बना रहे थे। यह एक अधिक गहन अभ्यास और परमेश्वर की आराधना के मार्ग में प्रवेश था जिसने लोगों को परमेश्वर के दिल के अधिक करीब और अंतरंग होने के काबिल बनाया। अगर प्रभु ने व्यक्तिगत रूप से अपने शिष्यों को सब्त का दिन अपने पीछे छोड़ देने के लिए उनकी अगुवाई नहीं की होती, तो कोई भी व्यवस्थाओं की बाधाओं के पार जाने में कामयाब न हुआ होता। परमेश्वर द्वारा स्वयं निरंतर नये कार्य करते रहने के कारण ही लोग अभ्यास का एक नया मार्ग पाने और आत्मा की मुक्ति एवं आज़ादी हासिल करने में सक्षम हो पाये। परमेश्वर के कार्य से, हम यह देख सकते हैं कि परमेश्वर सच्चे और जीवंत परमेश्वर हैं, और यह कि परमेश्वर के साथ न तो कोई नियम होता है और न ही कोई पाबंदी होती है। जब परमेश्वर कोई नया कार्य करते हैं, तो वे व्यवस्थाओं या नियमों द्वारा सीमित नहीं होते, और वे पुराने कार्य से चिपके नहीं रहते हैं। परमेश्वर सदा नये रहते हैं और कभी पुराने नहीं होते। वे हमेशा इंसान को एक नये, उच्चतर कार्यक्षेत्र की ओर ले जाते हैं। जब परमेश्वर ने अपना नया कार्य किया, तो वे पुराने नियमों या प्रथाओं से चिपके नहीं रहे; उन्होंने एक बिल्कुल नये तरीके से लोगों के बीच रहकर कार्य किया, और इस तरह लोगों को अभ्यास का एक नया मार्ग अपनाने में सक्षम बनाया। अंततः, उन्होंने लोगों को व्यवस्थाओं से बचाया और उन्हें अपने समक्ष बंधनों से मुक्त होकर आजादी से जीवन जीने और अपना उद्धार पाने के काबिल बनाया।"

सहकर्मी सू की संगति सुनने के बाद, मैंने उत्साह में कहा: "अब मेरा दिल कितना साफ़ हो गया है! परमेश्वर का कार्य बहुत ही व्यावहारिक है और वे कार्य करने के पुराने तरीकों से बिल्कुल भी चिपके नहीं रहते हैं। वे हमारी ज़रूरतों के मुताबिक हमेशा नये कार्य करते हैं, वे हमें अभ्यास के नये मार्ग दिखाते हैं, और वे अपनी आराधना करने और अपने आशीषों का आनंद लेने के लिए अपने समक्ष आने का बेहतर अवसर प्रदान करते हैं। अगर परमेश्वर ने नया कार्य नहीं किया होता और सब्त के दिन से दूर जाने में लोगों का मार्गदर्शन नहीं किया होता, तो लोग हमेशा व्यवस्थाओं के बंधनों में जकड़े रहते; वे नियमों और परंपराओं में बंधकर परमेश्वर की आराधना करते रहते और व्यवस्थाओं का उल्लंघन करने के लिए निंदा और दंड के भागी बनते रहते। वाकई परमेश्वर हमसे कितना अधिक प्रेम करते हैं!"

सहकर्मी सू ने अपना सिर हिलाया और मुस्कुराते हुए कहा, "हाँ, वाकई। परमेश्वर द्वारा किये जाने वाले हर एक कार्य का एक गहरा अर्थ है, और उनमें हम इंसानों के लिये परमेश्वर का प्रेम भरा हुआ है! इसलिए, जब परमेश्वर कोई नया कार्य करते हैं, तो चाहे परमेश्वर का कार्य हमारी भ्रांतियों और कल्पनाओं से मेल खाता हो या नहीं, चाहे हम इसे समझ पाते हों या नहीं, हमें हमेशा परमेश्वर की इच्छा की खोज करनी चाहिए और उनके प्रति अपने दिल में पूरे सम्मान के साथ उनके कार्य को जानने की कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि सिर्फ़ इसी तरीके से हम परमेश्वर के पदचिह्नों का बारीकी से पालन कर सकते हैं और उनका उद्धार हासिल कर सकते हैं। अगर हम घमंडी और अभिमानी बने रहते हैं, और परमेश्वर के नये कार्य को नहीं जानते या उसकी खोज नहीं करते हैं, तो हम निश्चित रूप से परमेश्वर के ख़िलाफ़ विद्रोह और उनका विरोध करेंगे, और इस तरह हम परमेश्वर के उद्धार को गँवा देंगे—फिर इसके परिणामों की तो बात ही क्या कहें! उदाहरण के लिए, उस समय के प्रधान याजकों, शास्त्रियों और फरीसियों ने स्पष्ट रूप से देखा कि प्रभु यीशु के वचनों और कार्य में अधिकार और सामर्थ्य था, लेकिन उन्होंने खुले दिमाग से सत्य की खोज नहीं की, न ही वे परमेश्वर के कार्य के बारे में जानते थे। इसके बजाय, वे नियमों और व्यवस्थाओं के बंदिशों से सख्ती से चिपके रहे, वे यह कहकर प्रभु यीशु के कार्य और वचनों की निंदा करने में उनका इस्तेमाल करते रहे कि वे पुराने विधान से दूर चले गये हैं। उन्होंने प्रभु यीशु द्वारा सब्त का दिन न रखे जाने को नियमों का उल्लंघन मानकर उनकी आलोचना की। उन्होंने हर मोड़ पर प्रभु यीशु के कार्य की तुलना यहोवा के कार्य से की और जब तक यीशु के कार्य उनकी खुद की भ्रांतियों एवं कल्पनाओं से मेल नहीं खाते थे, तब तक उन्होंने प्रभु यीशु की निंदा की, उनके बारे में अपनी राय बनायी और यहां तक कि उनका तिरस्कार भी किया। अंत में, उन्होंने रोम के अधिकारियों से सांठगांठ करके प्रभु यीशु को क्रूस पर चढ़ा दिया, और इस तरह वे परमेश्वर के अभिशाप और दंड के भागी बने। फरीसियों की विफलता की सबक हमारे लिए एक चेतावनी है कि इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता है कि परमेश्वर कहां प्रकट होते हैं और वे किस तरीके से कार्य करते हैं, हम हमारी भ्रांतियों और कल्पनाओं पर भरोसा नहीं कर सकते। हम परमेश्वर के नये कार्य को छोटा दिखाने के लिए उनके पिछले कार्य का इस्तेमाल नहीं कर सकते। परमेश्वर की बुद्धि इतनी अद्भुत और अथाह है; इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि परमेश्वर क्या कार्य करते हैं, वे बेहतर तरीके से मानवजाति को बचाने के लिए ऐसा करते हैं, और इन सबके पीछे परमेश्वर की इच्छा और उनके अथक प्रयास निहित हैं। हम—भ्रष्ट इंसान—परमेश्वर के कार्य की थाह भी नहीं पा सकते। हम सिर्फ़ अपने दिलों में पूरे आदर के साथ परमेश्वर के कार्य की खोज कर सकते हैं और उसे स्वीकार कर सकते हैं, क्योंकि केवल इसी तरीके से हम परमेश्वर की स्वीकृति और आशीष पाने में सक्षम हो सकेंगे।"

मैंने अपना सिर हिलाया और सहकर्मी सू से कहा, "हाँ! परमेश्वर कितने बुद्धिमान हैं, कितने सर्वशक्तिमान हैं, हम इंसान भला उनके कार्य की थाह कैसे पा सकते हैं? जैसा कि बाइबल में कहा गया है: 'आहा! परमेश्‍वर का धन और बुद्धि और ज्ञान क्या ही गंभीर है! उसके विचार कैसे अथाह, और उसके मार्ग कैसे अगम हैं! प्रभु की बुद्धि को किसने जाना? या उसका मंत्री कौन हुआ?' (रोमियों 11:33-34)। परमेश्वर के नये कार्य के प्रति हमारे दृष्टिकोण में, हमें अपने दिलों में परमेश्वर के प्रति पूरा सम्मान रखते हुए इन बातों की अधिक खोज और अध्ययन करना चाहिए, तभी हम परमेश्वर का उद्धार पाने में सक्षम होंगे! प्रभु का धन्यवाद! आज की संगति से वाकई मुझे काफ़ी फ़ायदा हुआ है!"

"प्रभु का धन्यवाद!"

आपके लिए अनुशंसित:

बाइबल प्रवचन, बाइबल वचन, बाइबल का वचन, पौलुस का जीवन परिचय, bible ke vachan
बाइबल में, पौलुस ने कहा था "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है" (2 तीमुथियुस 3:16), पौलुस के वचन बाइबल में हैं। इसीलिए, वे परमेश्‍वर द्वारा प्रेरित थे; वे परमेश्‍वर के वचन हैं। प्रभु में विश्वास करना बाइबल में विश्वास करना है। चाहे कोई भी विचारधारा क्‍यों न हो, यदि वह बाइबल से भटकती है, तो वह विधर्म है! हम प्रभु में विश्वास करते हैं, इसीलिए हमें सदा बाइबल के अनुसार कार्य करना चाहिए, अर्थात्, हमें बाइबल के वचनों का पालन करना चाहिए। बाइबल ईसाई धर्म का मूलभूत सिद्धांत है, हमारे विश्वास की नींव है। बाइबल को त्‍यागना प्रभु में अविश्‍वास करने के समान है; यदि हम बाइबल को त्‍याग देते हैं, तो हम प्रभु में कैसे विश्वास कर सकते हैं? बाइबल में प्रभु के वचन लिखे हैं। क्या कहीं और भी ऐसी जगह है जहां हम उनके वचनों को पा सकते हैं? यदि प्रभु में हमारा विश्वास बाइबल पर आधारित नहीं है, तो इसका आधार क्या है?

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" | अंश 4

यदि किसी ऐसे व्यक्ति की, जिसने कई वर्षों तक परमेश्वर का अनुसरण किया है और कई सालों तक उसके वचनों के पोषण का आनंद लिया है, परमेश्वर संबंधी परिभाषा अनिव…

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" | अंश 102

पहले देहधारी परमेश्वर ने देहधारण के कार्य को पूर्ण नहीं किया; उसने उस कार्य के पहले चरण को ही पूर्ण किया जिसे देह में होकर करना परमेश्वर के लिए आवश्यक…

बाइबल संदेश: आपदाएं बार-बार आ रही हैं—प्रभु का स्वागत करने के लिए बुद्धिमान कुंवारियाँ कैसे बनें

प्रभु यीशु ने कहा था, "तुम लड़ाइयों और लड़ाइयों की चर्चा सुनोगे, तो घबरा न जाना क्योंकि इन का होना अवश्य है, परन्तु उस समय अन्त न होगा। क्योंकि जाति प…

प्रभु यीशु की वापसी से संबंधित बाइबल की 6 भविष्यवाणियाँ पूरी की जा चुकी हैं

यह लेख, बाइबल में लिखी प्रभु यीशु की वापसी से संबंधित भविष्यवाणियों और उनकी पूर्ति का एक निष्पक्ष विवरण देता है। इस लेख का उद्देश्य, बाइबल की भविष्यवाणी की पूर्ति के आधार पर पाठकों को इस तथ्य की पुष्टि करने में समर्थ बनाना है कि प्रभु वापस आ गये हैं, फिर उन्हें प्रभु की वापसी की तलाश और जांच करने, उनकी वापसी का स्वागत करने में एक बुद्धिमान कुंवारी की तरह होने, और अनन्त जीवन प्राप्त करने देना है।