सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

375 कार्य के तीनों चरणों को करता है एक ही परमेश्वर

परमेश्वर के समस्त स्वभाव को प्रकट किया गया है,

पूरे छ: हज़ार वर्षों की प्रबंधन योजना के दौरान,

न कि बस व्यवस्था,

अनुग्रह के युग में या बस अंत के दिनों में।

न्याय, कोप, ताड़ना,

अंत के दिनों का काम है।

जगह नहीं ले सकता अंत के दिनों का काम

व्यवस्था या अनुग्रह के युग के काम की।

बल्कि तीनों जुड़ कर बन जाते हैं एक इकाई।

परमेश्वर ही करता है काम सारे,

लेकिन अलग-अलग युगों में।

व्यवस्था के युग में काम शुरू हुआ।

अनुग्रह के युग में मिला छुटकारा।

अब अंत के दिनों का काम

हर चीज़ का समापन करता है।

यहोवा, यीशु और आज के काम के ये तीन चरण,

परमेश्वर की प्रबंधन योजना के विस्तार को

एक धागे में पिरोते हैं,

सभी हैं कार्य जो एक ही आत्मा द्वारा किये जाते हैं।

संसार की रचना से ही सदा,

परमेश्वर इंसान का प्रबंधन करता रहा है।

आदि, अंत, प्रथम, अंतिम वही है,

वही है जिसके साथ एक युग शुरू और ख़त्म होता है।

अलग युग और जगह में,

कार्य के तीन चरण ये,

साफ़ तौर पर काम हैं एक परमेश्वर,

एक आत्मा के।

जो भी इन्हें बाँटेंगे,

वो उसका विरोध करेंगे।

जो भी इन्हें बाँटेंगे,

वो उसका विरोध करेंगे।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:इन्सान को बचाने का सबसे अहम काम करता है देहधारी परमेश्वर

अगला:राज्य के युग में परमेश्वर का स्वभाव धीरे-धीरे मनुष्य पर प्रकट किया जाता है

सम्बंधित मीडिया

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) मेमने ने पुस्तक को खोला न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंतिम दिनों के मसीह, के उत्कृष्ट वचन राज्य के सुसमाचार पर सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उत्कृष्ट वचन -संकलन मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ राज्य के सुसमाचार पर उत्कृष्ट प्रश्न और उत्तर (संकलन) परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) विजेताओं की गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप