अध्याय 26

मेरे पुत्रो, मेरे वचनों पर ध्यान दो, शांतिपूर्वक मेरी आवाज सुनो और मैं तुम्हें प्रकाशन दूँगा। मेरे भीतर शांत रहो, क्योंकि मैं तुम्हारा परमेश्वर हूँ, तुम लोगों का एकमात्र उद्धारक। तुम लोगों को हर समय अपने हृदय शांत रखने चाहिए और मेरे भीतर रहना चाहिए; मैं तुम्हारी चट्टान हूँ, तुम्हारा पुश्ता। कोई दूसरा विचार मत करो, बल्कि अपने पूरे दिल से मुझ पर भरोसा करो और मैं निश्चित रूप से तुम्हारे सामने प्रकट हूँगा—मैं तुम लोगों का परमेश्वर हूँ! आह, वे शक्की लोग! वे निश्चित रूप से दृढ़ नहीं रह सकते और उन्हें कुछ नहीं मिलेगा। तुम्हें पता होना चाहिए कि अब क्या समय है, यह कैसा निर्णायक पल है! यह कितना महत्वपूर्ण है! अपने को उन चीजों में व्यस्त मत करो, जो किसी काम की नहीं हैं; जल्दी से मेरे करीब आ जाओ, मेरे साथ संगति करो, और मैं सारे रहस्य तुम्हारे सामने प्रकट कर दूँगा।

तुम्हें पवित्र आत्मा की अगुआई का प्रत्येक वचन सुनना चाहिए; उन्हें मार्ग के किनारे मत गिराओ। कितनी ही बार तुमने मेरे वचनों को सुना है और फिर उन्हें भुला दिया है। अरे विचारहीन लोगो! तुमने बहुत सारे आशीष खो दिए हैं! अब तुम्हें ध्यान से सुनना चाहिए और मेरे वचनों पर ध्यान देना चाहिए, मेरे साथ अधिक संगति करो और मेरे अधिक करीब आओ। उस सबमें, जिसे तुम नहीं समझते, मैं तुम्हारा मार्गदर्शन करूँगा, और मैं तुम लोगों को आगे ले जाऊँगा। दूसरों के साथ अधिक संगति करने पर ध्यान न दो। अब बहुत लोग ऐसे हैं, जो शब्दों और सिद्धांतों का प्रचार करते हैं, और ऐसे बहुत कम हैं, जिनके पास सचमुच मेरी वास्तविकता है। उनकी संगति व्यक्ति को भ्रमित और जड़ बना देती है, और वे नहीं जान पाते कि प्रगति कैसे करें। उन्हें सुनकर व्यक्ति केवल शब्दों और सिद्धांतों के बारे में थोड़ा और समझ सकता है। तुम लोगों को सावधान रहना चाहिए, अपने दिल को हर समय मेरे समक्ष रहने देना चाहिए; तुम्हें मेरे साथ संवाद करना चाहिए और मेरे करीब आना चाहिए, और मैं तुम्हें वह दिखाऊँगा, जिसे तुम समझ नहीं पाते। अपने बोलने पर ध्यान दो, हर समय अपने दिल का निरीक्षण करो, और उस मार्ग पर चलो, जिस पर मैं चलता हूँ।

यह अब लंबा नहीं होगा, अभी थोड़ा ही समय बाकी है। जल्दी से मेरे अलावा सारी चीजों को त्याग दो और मेरे पीछे आओ! मैं तुम लोगों के साथ दुर्व्यवहार नहीं करूँगा। बहुत बार तुम लोगों ने मेरे कार्यों को गलत समझा है, लेकिन क्या तुम जानते हो कि मैं तुम लोगों से कितना प्रेम करता हूँ? आह, तुम बस मेरे दिल को नहीं समझते। चाहे तुमने कितना भी संदेह किया, चाहे तुम मेरे कितने भी ऋणी रहे, मैं उसे याद नहीं करूँगा, और फिर भी मैंने आगे बढ़ने और मेरी इच्छा के अनुसार कार्य करने के लिए तुम्हें चुना।

अब देर करने का समय नहीं है। अब से तुमने कोई गुप्त इरादा पाला, तो मेरा न्याय तुम लोगों पर आ पड़ेगा। यदि तुम लोग मुझे एक पल के लिए भी छोड़ोगे, तो तुम्हारा हाल लूत की पत्नी जैसा होगा। अब पवित्र आत्मा का कार्य तेज हो गया है, और जो लोग नई रोशनी के साथ कदम से कदम नहीं मिला सकते, वे संकट में हैं। जो लोग ध्यान नहीं रखते, उन्हें त्याग दिया जाएगा; तुम्हें अपनी रक्षा करनी चाहिए। तुम जानते हो कि तुम्हारे आसपास के परिवेश में सभी चीजें मेरी अनुमति से हैं, सब मेरे द्वारा आयोजित हैं। स्पष्ट रूप से देखो और अपने को मेरे द्वारा दिए गए परिवेश में मेरे दिल को संतुष्ट करो। डरो मत, समुदायों का सर्वशक्तिमान परमेश्वर निश्चित रूप से तुम्हारे साथ होगा; वह तुम लोगों के पीछे खड़ा है और तुम्हारी ढाल है। आज लोग बहुत सारी धारणाएँ रखते हैं, जो मुझे उन लोगों के माध्यम से अपनी इच्छा व्यक्त करने के लिए बाध्य करती हैं, जिन्हें दूसरे नीची निगाह से देखते हैं, जो उनके लिए शर्म की बात है, जो अहंकारी और दंभी, अभिमानी, महत्वाकांक्षी और उच्च हैसियत वाले हैं। जब तक तुम लोग मेरे बोझ का गंभीरता से ध्यान रखते हो, तब तक मैं तुम लोगों के लिए सब-कुछ तैयार करूँगा। बस, मेरे पीछे आओ!

पिछला: अध्याय 25

अगला: अध्याय 27

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

आशीषों से तुम लोग क्या समझते हो?

यद्यपि इस युग में जन्मे लोग शैतान और गंदे राक्षसों द्वारा भ्रष्ट कर दिए गए हैं, लेकिन यह भ्रष्टता उनके लिए परम उद्धार भी लेकर आई है,...

क्या परमेश्वर का कार्य उतना सरल है जितना मनुष्य कल्पना करता है?

परमेश्वर के विश्वासी होने के नाते, तुममें से प्रत्येक को सराहना करनी चाहिए कि अंत के दिनों के परमेश्वर का कार्य ग्रहण करके और उसकी योजना का...

स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IV

परमेश्वर की पवित्रता (I)अपनी पिछली सभा में हमने परमेश्वर के अधिकार के बारे में कुछ और संगति की थी। फिलहाल हम परमेश्वर की धार्मिकता के विषय...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें