अध्याय 25

सर्वशक्तिमान परमेश्वर, शाश्वत पिता, शांति का राजकुमार, हमारा परमेश्वर राजा है! सर्वशक्तिमान परमेश्वर अपने चरण जैतून के पर्वत पर रखता है। यह कितना खूबसूरत है! सुनो! हम प्रहरी पुकार रहे हैं; एक साथ गा रहे हैं, क्योंकि परमेश्वर सिय्योन में लौट आया है। हम अपनी आँखों से यरूशलेम की वीरानी देख रहे हैं। तेज़ स्वर में उमंग से एक साथ गाओ, क्योंकि परमेश्वर ने हमें शान्ति दी है और यरूशलेम को छुड़ा लिया है। परमेश्वर ने सारे राष्ट्रों के सामने अपनी पवित्र भुजा प्रकट की है, परमेश्वर का वास्तविक स्‍वरूप प्रकट हुआ है! पृथ्वी के सभी छोरों ने हमारे परमेश्‍वर के उद्धार को देखा है।

हे, सर्वशक्तिमान परमेश्वर! तेरे समस्त रहस्यों को उजागर करने के लिए, तेरे सिंहासन से सात आत्माओं को प्रत्येक कलीसिया में भेजा गया है। अपने महिमा के सिंहासन पर बैठकर, तूने अपने राज्य का संचालन किया है और इसे न्‍याय और धार्मिकता द्वारा मजबूत और स्थिर बनाया है, और तूने सभी राष्ट्रों को अपने अधीन कर लिया है। हे, सर्वशक्तिमान परमेश्वर! तूने राजाओं के कमरबंद को ढीला कर दिया है, अपने सामने फाटकों को फिर कभी न बंद होने के लिए खोल दिया है। क्योंकि तेरा प्रकाश आ गया है और तेरी महिमा उदित हो गई है, और अपनी चमक फैला रही है। पृथ्‍वी पर अन्धियारा और लोगों पर घोर अन्‍धकार छाया हुआ है। हे परमेश्वर! परन्तु तू हम पर प्रकट हुआ है, और तूने अपना प्रकाश हम पर चमकाया है और तेरी महिमा हम पर प्रगट होगी; सारे राष्ट्र तेरी रोशनी में और सारे राजा तेरी चमक में आएँगे। तू अपनी आँखें उठाकर चारों ओर देखता है : तेरे पुत्र तेरे सामने इकट्ठे होते हैं और वे बहुत दूर से आए हैं और तेरी पुत्रियाँ हाथों-हाथ पहुँचाई जा रही हैं। हे सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर, तेरे महान प्रेम ने हमें अपनी गिरफ्त में ले लिया है; यह तू ही है, जो हमें तेरे राज्य की ओर जाने वाले मार्ग पर चलने के लिए आगे बढ़ाता है और ये तेरे पवित्र वचन ही हैं जो हमें भिगोते हैं।

हे, सर्वशक्तिमान परमेश्वर! हम तुझे धन्यवाद देते हैं और हम तेरी प्रशंसा करते हैं! हमें तेरा सम्मान करने दे, तेरी गवाही देने दे, तुझे ऊँचा उठाने दे, और ऐसे हृदय से तेरे लिए गाने दे जो निष्कपट है, शांत है और अविभाजित है। हमें एक मन हो जाने दे और हमें एक ही गठन बन जाने दे, और काश! तू जल्द ही, हमें उनके जैसा बना दे जो तेरे हृदय के अनुसार हैं, ताकि हम तेरे द्वारा काम में लाए जाएँ। तेरी इच्छा बिना किसी बाधा के पृथ्‍वी पर पूरी हो।

पिछला: अध्याय 24

अगला: अध्याय 26

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

प्रार्थना के अभ्यास के बारे में

तुम लोग अपने दैनिक जीवन में प्रार्थना को कोई महत्व नहीं देते। मनुष्य प्रार्थना की उपेक्षा करता है। मनुष्य बेमन से परमेश्वर के सामने...

स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX

परमेश्वर सभी चीज़ों के लिए जीवन का स्रोत है (III)इस अवधि के दौरान, हमने परमेश्वर को जानने से संबंधित बहुत सारी चीज़ों के बारे में बात की है,...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें