सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

बचाए जाने और पूर्ण उद्धार पाने के बीच सारभूत अंतर क्या है?

44

2. बचाए जाने और पूर्ण उद्धार पाने के बीच सारभूत अंतर क्या है?

संदर्भ के लिए बाइबल के पद:

"मैं तुम से सच सच कहता हूँ कि जो कोई पाप करता है वह पाप का दास है। दास सदा घर में नहीं रहता; पुत्र सदा रहता है" (यूहन्ना 8:34-35)।

"जो मुझ से, 'हे प्रभु! हे प्रभु!' कहता है, उनमें से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश न करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है" (मत्ती 7:21)।

"वे सिंहासन के सामने और चारों प्राणियों और प्राचीनों के सामने एक नया गीत गा रहे थे। उन एक लाख चौवालीस हज़ार जनों को छोड़, जो पृथ्वी पर से मोल लिये गए थे, कोई वह गीत न सीख सकता था। ये वे हैं जो स्त्रियों के साथ अशुद्ध नहीं हुए, पर कुँवारे हैं; ये वे ही हैं कि जहाँ कहीं मेम्ना जाता है, वे उसके पीछे हो लेते हैं; ये तो परमेश्‍वर के निमित्त पहले फल होने के लिये मनुष्यों में से मोल लिए गए हैं। उनके मुँह से कभी झूठ न निकला था, वे निर्दोष हैं" (प्रकाशितवाक्य 14:3-5)।

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:

यद्यपि यीशु ने मनुष्यों के बीच अधिक कार्य किया है, उसने केवल समस्त मानवजाति के छुटकारे के कार्य को पूरा किया और वह मनुष्य की पाप-बलि बना, और मनुष्य को उसके भ्रष्ट स्वभाव से छुटकारा नहीं दिलाया। शैतान के प्रभाव से मनुष्य को पूरी तरह बचाने के लिये यीशु को न केवल पाप-बलि के रूप में मनुष्यों के पापों को लेना आवश्यक था, बल्कि मनुष्य को उसके स्वभाव, जिसे शैतान द्वारा भ्रष्ट कर दिया गया था, से पूरी तरह मुक्त करने के लिए परमेश्वर को और भी बड़े कार्य करने की आवश्यकता थी। और इसलिए, मनुष्य को उसके पापों के लिए क्षमा कर दिए जाने के बाद, एक नये युग में मनुष्य की अगुवाई करने के लिए परमेश्वर वापस देह में लौटा, और उसने ताड़ना एवं न्याय के कार्य को आरंभ किया, और इस कार्य ने मनुष्य को एक उच्चतर क्षेत्र में पहुँचा दिया। वे सब जो परमेश्वर के प्रभुत्व के अधीन समर्पण करेंगे उच्चतर सत्य का आनंद लेंगे और अधिक बड़ी आशीषें प्राप्त करेंगे। वे वास्तव में ज्योति में निवास करेंगे, और सत्य, मार्ग और जीवन को प्राप्त करेंगे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" के लिए प्रस्तावना से उद्धृत

प्रथम देहधारण यीशु की देह के माध्यम से मनुष्य को पाप से छुटकारा देने के लिए था, अर्थात्, उसने मनुष्य को सलीब से बचाया, परन्तु भ्रष्ट शैतानी स्वभाव तब भी मनुष्य के भीतर रह गया था। दूसरा देहधारण अब और पापबलि के रूप में कार्य करने के लिए नहीं है परन्तु उन्हें पूरी तरह से बचाने के लिए है जिन्हें पाप से छुटकारा दिया गया था। इसे इसलिए किया जाता है ताकि जिन्हें क्षमा किया गया उन्हें उनके पापों से दूर किया जा सके और पूरी तरह से शुद्ध किया जा सके, और वे स्वभाव में परिवर्तन प्राप्त कर शैतान के अंधकार के प्रभाव को तोड़कर आज़ाद हो जाएँ और परमेश्वर के सिंहासन के सामने लौट आएँ। केवल इसी तरीके से ही मनुष्य को पूरी तरह से पवित्र किया जा सकता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "देहधारण का रहस्य (4)" से उद्धृत

कुछ लोग हमेशा सोचते हैं: "क्या परमेश्वर पर विश्वास करना सिर्फ बैठकों में शामिल होना, गाने गाना, परमेश्वर के वचन को सुनना, प्रार्थना करना, और कुछ कर्तव्य निभाना नहीं है? क्या यह इसी बारे में नहीं है?" चाहे तुम लोगों ने कितने ही समय से परमेश्वर में विश्वास क्यों न किया हो, तुम लोगों ने अभी भी परमेश्वर में विश्वास के महत्व की सम्पूर्ण समझ को प्राप्त नहीं किया है। वास्तव में, परमेश्वर में विश्वास का महत्व इतना गहन है कि लोग इसकी थाह नहीं पा सकने में असमर्थ हैं। अंत में, लोगों के भीतर की चीज़ें जो शैतान की हैं और उनकी प्रकृति की चीज़ें अवश्य बदलनी चाहिए और सत्य की आवश्यकताओं के अनुरूप अवश्य बननी चाहिए; केवल इसी तरह कोई व्यक्ति वास्तव में उद्धार प्राप्त कर सकता है। यदि, जैसा कि जब तू धर्म के भीतर था तू किया करता था, तू कुछ सिद्धांतों के वचन झाड़ता या नारे लगाता है, और फिर थोड़े-बहुत अच्छे कर्म करता, थोड़ा और अच्छा व्यवहार करता है और स्पष्ट पापों को करने से दूर रहता है, तब भी इसका मतलब यह नहीं है कि तूने परमेश्वर पर विश्वास करने के सही मार्ग पर कदम रख दिया है। क्या नियमों का पालन कर पाना यह बताता है कि तू सही राह पर चल रहा है? क्या इसका मतलब है कि तूने सही चुना है? यदि तेरी प्रकृति के भीतर की चीज़ें नहीं बदली हैं, और अंत में तू अभी भी परमेश्वर का विरोध कर रहा है और अपमान कर रहा है, तो यह तेरी सबसे बड़ी समस्या है। यदि परमेश्वर में तेरे विश्वास में, तू इस समस्या का समाधान नहीं करता है, तो क्या तुझे बचाया हुआ माना जा सकता है? ऐसा कहने का मेरा क्या अर्थ है? मेरा अभिप्राय तुम सभी लोगों को तुम्हारे हृदयों में यह समझाना है कि परमेश्वर में विश्वास को परमेश्वर के वचनों से, परमेश्वर से या सत्य से पृथक नहीं किया जा सकता है। तुझे अपने मार्ग को अच्छी तरह से चुनना चाहिए, सत्य में प्रयास लगाना चाहिए, और परमेश्वर के वचनों में प्रयास लगाना चाहिए। केवल अध-पका ज्ञान, या थोड़ी-बहुत समझ प्राप्त मत कर और फिर यह मत सोच कि तेरा काम हो गया; यदि तू स्वयं को धोखा देता है, तो तू केवल अपने आप को ही चोट पहुँचाएगा। लोगों को परमेश्वर के अपने विश्वास से भटकना नहीं चाहिये; अंत में, अगर उनके दिल में परमेश्वर का वास नहीं है, मात्र किताब को हाथ में थामे, पल भर के लिये उस पर सरसरी नज़र डालते हैं, मगर वे परमेश्वर के लिये अपने दिल में कोई जगह नहीं छोड़ते, तो वे नष्ट हो जाते हैं। इन शब्दों का क्या अभिप्राय है, "परमेश्वर में इंसान की आस्था को परमेश्वर के वचनों से अलग नहीं किया जा सकता"? क्या इन वचनों से आगे दिए गए वचनों का कोई विरोधाभास है, "परमेश्वर में आस्था को परमेश्वर से अलग नहीं किया जा सकता"? अगर आपके दिल में परमेश्वर के वचन नहीं हैं, तो परमेश्वर आपके दिल में कैसे हो सकते हैं? अगर आप परमेश्वर में आस्था रखते हैं, मगर आपके दिल में न तो परमेश्वर का वास है, न उनके वचनों का और न ही आपके हृदय में उनका मार्गदर्शन है, तो समझो आप पूरी तरह से नष्ट हो गये।

— "मसीह की बातचीतों के अभिलेख" में "पवित्र आत्मा के कार्य को गँवा चुके अधिकांश लोग जोखिम में हैं" से उद्धृत

परमेश्वर में आस्था का अर्थ बचाया जाना है, तो बचाये जाने के क्या मायने हैं? "बचाया जाना," "शैतान के अंधकारपूर्ण प्रभाव से मुक्त होना"—लोग अक्सर इन विषयों के बारे में बात करते हैं, लेकिन वे बचाये जाने का अर्थ नहीं जानते। जब इंसान को बचा लिया जाएगा, तो वो यथार्थ में कैसा होगा? इसका संबंध परमेश्वर की इच्छा से है। देशी भाषा में बोलें तो, बचाए जाने का अर्थ है कि तू जीवित रह सकता है, और तुझे परमेश्वर के द्वारा जीवन में वापस लाया जाता है। तो इससे पहले, तू बोल सकता है, तू साँस ले सकता है, क्या तू मर चुका है? (प्राण मर चुका है।) ऐसा क्यों कहा जाता है कि यदि लोगों के प्राण मर गए हैं तो वे मर गए हैं? इस कहावत का आधार क्या है? बचाये जाने से पहले, लोग शैतान के प्रभाव में रहते हैं, और वे अपने शैतानी स्वभाव के अनुसार जीते हैं और भ्रष्ट शैतानी स्वभाव से भरे होते हैं। परमेश्वर के दृष्टिकोण से, लोगों का संपूर्ण अस्तित्व मृत है, जिसमें उनकी देह और उनका प्राण और उनके विचार जैसे अन्य सभी पहलू शामिल हैं। ऊपर से, तू साँस लेते हुए, अपनी आँखों को झपकाते हुए और सोचते हुए दिखाई देता है, लेकिन तू लगातार जिस बारे में सोच रहा है वह दुष्टता है; तू उन चीज़ों के बारे में सोचता है जो परमेश्वर की अवहेलना करती हैं और परमेश्वर के खिलाफ विद्रोह करती हैं, ऐसी चीजें जिनसे परमेश्वर नफ़रत करता है, घृणा करता है और जिनकी निंदा करता है। परमेश्वर की नजर में, ये सभी चीज़ें न केवल देह से संबंधित हैं, बल्कि पूरी तरह शैतान और दुष्टात्माओं से संबंधित हैं। तो परमेश्वर की नज़र में लोग क्या हैं? क्या वे इंसान हैं? परमेश्वर उन्हें हैवानों के रूप में, जानवरों के रूप में, और जीवित शैतानों के रूप में देखता है! लोग शैतान के सार के अनुसार जीते हैं, और परमेश्वर की नज़र में, वे मानव देह धारण किए हुए जीवित शैतान हैं। परमेश्वर ऐसे लोगों को चलती-फिरती लाशों के रूप में; मरे हुए लोगों के रूप में परिभाषित करता है। परमेश्वर ऐसे लोगों को—इन चलती-फिरती लाशों को जो अपने भ्रष्ट शैतानी स्वभाव और अपने भ्रष्ट शैतानी सार के अनुसार जीती हैं—ऐसे कथित मृत लोगों को ले कर उन्हें जीवित में बदल देने के लिए अपना उद्धार का वर्तमान कार्य करता है। बचाए जाने का यही अर्थ है।

परमेश्वर पर विश्वास करने का मकसद उद्धार प्राप्त करना है। बचाए जाने का तात्पर्य है कि तू मृत व्यक्ति से जीवित व्यक्ति में बदल जाता है। अर्थात्, तेरी साँस पुनर्जीवित हो जाती है, और तू जीवित हो जाता है; तू परमेश्‍वर को पहचान सकता है, और तू उसकी आराधना करने के लिए सिर झुकाने में सक्षम है। तेरे हृदय में परमेश्वर के विरुद्ध कोई और प्रतिरोध नहीं होता है; तू अब और उसकी अवहेलना नहीं करता है, उस पर हमला नहीं करता है, या उसके विरुद्ध विद्रोह नहीं करता है। केवल ऐसे लोग ही परमेश्वर की नज़र में असलियत में जीवित हैं। यदि कोई केवल कहता है कि वह परमेश्वर को स्वीकार करता है और अपने हृदय में विश्वास करता है कि एक परमेश्वर है, परमेश्वर ही सभी चीज़ों पर शासन करता है और मनुष्यजाति के भाग्य पर वर्चस्व रखता है, यदि वह मानता है कि लोग अपने जीवन भर परमेश्वर द्वारा निर्देशित होते हैं, कि वह लोगों के भाग्य को बदल सकता है और आगे के मार्ग पर उनका मार्गदर्शन कर सकता है, तो फिर इस तरह के विश्वास के साथ वे जीवितों में से हैं या नहीं? (नहीं, वे जीवित नहीं हैं।) तो किस प्रकार के लोग जीवित हैं? जीवित प्राणी किस प्रकार की वास्तविकता को धारण करता है? वह वास्तविकता यह है कि वह सब कुछ जो तू प्रकट करता है, सोचता है, और करता है, वो परमेश्वर की श्रद्धा में होता है और बुराई को दूर करता है। इसे अधिक उपयुक्त रूप से कहें तो, तेरे हर कर्म और हर विचार की परमेश्वर द्वारा निंदा नहीं की जाती है या उनसे नफ़रत नहीं की जाती है या उन्हें अस्वीकार नहीं किया जाता है; बल्कि, उनका परमेश्वर द्वारा अनुमोदन और प्रशंसा की जाती है। यही जीवित व्यक्ति करता है, और यही वह है जो जीवित व्यक्ति को करना चाहिए।

— "मसीह की बातचीतों के अभिलेख" में "केवल वास्तव में आज्ञाकारी होना ही एक यथार्थ विश्वास है" से उद्धृत

जो अंधकार के प्रभाव में रहते हैं, ये वे हैं, जो मृत्यु के मध्य रहते हैं, ये वे हैं जो शैतान द्वारा ग्रसित हैं। बिना परमेश्वर द्वारा बचाए जाने और बिना उसके द्वारा न्याय व ताड़ना पाने के, लोग मृत्यु के प्रभाव से बच नहीं पा रहे हैं, वे जीवित नहीं बन सकते हैं। ये मृतक परमेश्वर के लिए गवाही नहीं दे सकते, ना ही वे परमेश्वर के द्वारा इस्तेमाल किए जा सकते हैं, परमेश्वर के राज्य में तो प्रवेश कर ही नहीं सकते। परमेश्वर को जीवितों की गवाही चाहिए, मृतकों की नहीं, और वो चाहता है कि उसके लिए जीवित कार्य करें, न कि मृतक। "मृतक" वे हैं जो परमेश्वर का विरोध और उससे बगावत करते हैं, ये वे हैं जो आत्मा में सुन्न होकर परमेश्वर के वचन नहीं समझते, ये वे हैं जो सत्य को अपने व्यवहार में नहीं लाते और परमेश्वर के प्रति जरा भी निष्ठा नहीं रखते, ये वे हैं जो शैतान के वश में हैं और शैतान द्वारा शोषित है। मृतक सत्य के विरुद्ध खड़े होकर, परमेश्वर का विरोध कर, नीचता कर, घिनौना, दुर्भावनापूर्ण, पाशविक, धोखेबाजी और कपट का व्यवहार कर स्वयं को प्रदर्शित करते हैं। हालांकि ऐसे लोग परमेश्वर का वचन खाते और पीते हैं, परंतु वे परमेश्वर के वचनों के अनुसार जीवन नहीं व्यतीत करते हैं। वे जीवित तो हैं, परंतु वे चलती-फिरती लाशें हैं, वे सांस लेने वाली लाशें है। मृतक पूर्णतः परमेश्वर को संतुष्ट करने में असमर्थ हैं, वे उसकी आज्ञा तो बिल्कुल मान ही नहीं सकते। वे केवल उसे धोखा दे सकते हैं, उसकी निंदा कर सकते हैं, और उससे कपट कर सकते हैं, और जैसा वे जीवन जीते हैं शैतान को प्रगट करते हैं। अगर लोग जीवित प्राणी बनना चाहते हैं, और परमेश्वर के गवाह बनना चाहते हैं, और परमेश्वर का अनुमोदन प्राप्त करना चाहते हैं, तो उन्हें परमेश्वर के उद्धार को स्वीकार करना होगा, उन्हें आनंदपूर्वक उसके न्याय व ताड़ना के प्रति समर्पित होना होगा, और आनंदपूर्वक परमेश्वर की काट-छांट और बर्ताव को स्वीकार करना होगा। केवल तब ही परमेश्वर द्वारा जरूरी तमाम सत्य को अपने आचरण में ला सकेंगे, और तब ही परमेश्वर के उद्धार को पा सकेंगे, और सचमुच जीवित प्राणी बन सकेंगे। जो जीवित परमेश्वर द्वारा बचाए जाते हैं, वे परमेश्वर द्वारा न्याय व ताड़ना का सामना कर चुके हैं, वे स्वयं को समर्पित करने और आनंदपूर्वक अपने प्राणों को परमेश्वर को देने के लिए तत्पर हैं और वे प्रसन्नता से अपना सम्पूर्ण जीवन परमेश्वर को अर्पण करने में भी तत्पर हैं। जब जीवित जन परमेश्वर की गवाही देता है, तब ही शैतान शर्मिन्दा होता है, केवल जीवित ही परमेश्वर के सुसमाचार का प्रचार कर सकते हैं, केवल जीवित ही परमेश्वर के हृदय का अनुसरण करते हैं और केवल जीवित ही वास्तविक जन हैं। पहले परमेश्वर द्वारा बनाया गया मनुष्य जीवित था, परंतु शैतान की भ्रष्टता के कारण मनुष्य मृत्यु के मध्य रहता है, और शैतान के प्रभाव में रहता है, और इसलिए जो मनुष्य बिना आत्मा के हैं, वे मृत हो चुके हैं, वे परमेश्वर के शत्रु बन गए हैं जो उसका विरोध करते हैं, वे शैतान के हथियार बन गए हैं, और वे शैतान के कैदी बन गए हैं, और इसलिए परमेश्वर ने अपनी गवाही खो दी है। और परमेश्वर ने मनुष्यों को खो दिया है, जिसे उसने सृजा था और जो एकमात्र सृजन थे, जिनमें उसकी सांसे थी। अगर परमेश्वर को अपनी गवाही और उन्हें जिसे उसने अपने हाथों से बनाया, जो अब शैतान द्वारा कैद कर लिए गए हैं, वापस लेना है, तो उसे उन्हें वापस नया जन्म देकर जीवित प्राणी बनाना पड़ेगा और उन्हें वापस लाना होगा ताकि वे उसकी ज्योति में जीवित रहें। मृतक वे हैं जिनमें आत्मा नहीं होती, जो चरम सीमा तक सुन्न और परमेश्वर विरोधी होते हैं। साथ ही, ये वे लोग होते हैं जो परमेश्वर को नहीं जानते। इन लोगों में परमेश्वर की आज्ञा मानने की थोड़ी-सी भी इच्छा नहीं होती, वे केवल उससे विद्रोह कर उसका सामना करते हैं और इन में थोड़ी भी निष्ठा नहीं होती है। जीवित वे हैं जिनकी आत्मा ने नया जन्म पाया है, जो परमेश्वर कि आज्ञा मानना जानते हैं, और जो परमेश्वर के प्रति निष्ठावान हैं। ये लोग सत्य और गवाही धारण करते हैं और केवल यही हैं जो परमेश्वर के घर में उसे अच्छे लगते हैं।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "क्या आप जाग उठे हैं?" से उद्धृत

इस बात पर ध्यान दिए बिना कि परमेश्वर क्या करता है या किन उपायों के द्वारा वह इसे करता है, भले ही उसकी कीमत, या उसका कुछ भी क्यों न हो, उसके कार्यों का उद्देश्य बदलता नहीं है। उसका उद्देश्य है कि वह मनुष्य में परमेश्वर के वचनों, परमेश्वर की अपेक्षाओं, और मनुष्य के लिए परमेश्वर की इच्छा का काम करे; दूसरे शब्दों में, यह मनुष्य के भीतर वह सब कुछ करने के लिए है जिसे परमेश्वर मानता है कि ये उसके कदमों के अनुसार सकारात्मक हैं, जो मनुष्य को सक्षम बनाता है ताकि वह परमेश्वर के हृदय को समझे और परमेश्वर के सार को बूझे, और उसे परमेश्वर की संप्रभुता और व्यवस्थाओं को मानने देता है, और इस प्रकार मनुष्य को परमेश्वर का भय मानना और दुष्टता का परित्याग करना प्राप्त करने देता है—जो भी वह करता है उसमें यह सब परमेश्वर के उद्देश्य का एक पहलू है। अन्य पहलू है कि, क्योंकि शैतान एक विषमता और परमेश्वर के कार्य में काम आने वाली एक वस्तु है, इसलिए मनुष्य प्रायः शैतान को दे दिया जाता है; यही वह साधन है जिसे परमेश्वर लोगों को शैतान के प्रलोभनों और हमलों के बीच लोगों को शैतान की दुष्टता, कुरूपता और घिनौनेपन को देखने देने के लिए उपयोग करता है, इस प्रकार लोग को शैतान से घृणा करवाता है और उन्हें वह जानने में समर्थ बनाता जो नकारात्मक है। यह प्रक्रिया उन्हें धीरे-धीरे स्वयं को शैतान के नियन्त्रण से, और शैतान के आरोपों, हस्तक्षेप और हमलों से स्वतन्त्र होने देती है—जब तक कि, परमेश्वर के वचनों, परमेश्वर के बारे में उनके ज्ञान और आज्ञाकारिता, और परमेश्वर में उनके विश्वास और भय के कारण, वे शैतान के हमलों के ऊपर विजय नहीं पा लेते हैं, और शैतान के आरोपों के ऊपर विजय नहीं पा लेते हैं; केवल तभी वे पूरी तरह से शैतान के अधिकार क्षेत्र से मुक्त कर गए होंगे। लोगों की मुक्ति का अर्थ है कि शैतान को हरा दिया गया है; इसका अर्थ है कि वे अब और शैतान के मुँह का भोजन नहीं हैं—कि उन्हें निगलने के बजाय, शैतान ने उन्हें छोड़ दिया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ऐसे लोग खरे हैं, क्योंकि उन्हें परमेश्वर के प्रति विश्वास, आज्ञाकारिता और भय है, और क्योंकि उन्होंने शैतान के साथ पूरी तरह से नाता तोड़ लिया है। वे शैतान को लज्जित करते हैं, वे शैतान को कायर बना देते हैं, और वे पूरी तरह से शैतान को हरा देते हैं। परमेश्वर का अनुसरण करने में उनका दृढ़ विश्वास, और परमेश्वर का भय और उसकी आज्ञाकारिता शैतान को हरा देता है, और उन्हें शैतान से पूरी तरह से छुड़वा देता है। केवल ऐसे लोग ही सचमुच में परमेश्वर के द्वारा हासिल किए गए हैं, और मनुष्य को बचाने में यही परमेश्वर का चरम उद्देश्य है। यदि वे बचाए जाने की इच्छा करते हैं, और पूरी तरह से परमेश्वर द्वारा प्राप्त किए जाने की कामना करते हैं, तो उन सभी को जो परमेश्वर का अनुसरण करते हैं शैतान के बड़े और छोटे प्रलोभनों और हमलों का सामना अवश्य करना चाहिए। जो लोग इन प्रलोभनों और हमलों से उभरकर निकलते हैं और शैतान को पूरी तरह से हराने में समर्थ हैं ये वे लोग हैं जिन्हें परमेश्वर के द्वारा बचाया जा चुका है। कहने का तात्पर्य है कि, वे लोग जिन्हें परमेश्वर के लिए बचाया गया है ये वे लोग हैं जो परमेश्वर की परीक्षाओं से होकर गुज़र चुके हैं, और जिन पर शैतान के द्वारा अनगिनत बार परीक्षण और हमला किया जा चुका है। ऐसे लोग जिन्हें परमेश्वर द्वारा बचा लिया गया है वे परमेश्वर की इच्छा और अपेक्षाओं को समझते हैं, और परमेश्वर की संप्रभुता और व्यवस्थाओं को चुपचाप स्वीकार करने में समर्थ हैं, और वे शैतान के प्रलोभनों के बीच परमेश्वर का भय मानने और दुष्टता से दूर रहने के मार्ग को नहीं छोड़ते हैं। जिन्हें परमेश्वर के द्वारा बचाया गया है वे ईमानदारी को धारण करते हैं, वे उदारहृदय के हैं, वे प्रेम और घृणा के बीच अन्तर करते हैं, उनमें न्याय की समझ है और वे न्यायसंगत हैं, और वे परमेश्वर की परवाह करने और सब सँजोकर रखने में समर्थ हैं जो परमेश्वर का है। शैतान के द्वारा ऐसे लोगों को बाध्य नहीं किया जाता है, उनकी जासूसी नहीं की जाती है, उन पर दोष नहीं लगाया जाता है, या दुर्व्यवहार नहीं किया जाता है, वे पूरी तरह से स्वतन्त्र हैं, उन्हें पूरी तरह से मुक्त किया और छुड़ाया जा चुका है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" से उद्धृत

सम्बंधित मीडिया