सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

चमकती पूर्वी बिजली कहां से आती है?

175

प्रभु यीशु के ज्यादातर अनुयायी अपने पादरियों, एल्डर्स, या प्रचारकों से चमकती पूर्वी बिजली के बारे में सुनते हैं, लेकिन असलियत में कोई नहीं जानता है कि चमकती पूर्वी बिजली आई कहां से। जब चमकती पूर्वी बिजली के अस्तित्व की बात हो, तो हर किसी का स्‍वयं ही का मत है: कुछ लोग मानते हैं कि यह ईसाई धर्म के नए संप्रदाय से अधिक और कुछ नहीं, तो दूसरे इसे 'विधर्म' या 'एक दुष्‍ट कुपंथ' कहकर इसकी निंदा करते हैं। लोगों की एक बेतुकी धारणाएं इसलिए है क्योंकि वे परमेश्वर को कार्य को नहीं जानते हैं।

परमेश्वर का कार्य हमेशा आगे बढ़ता रहता है। मानव इस सिद्धांत को नहीं पहचानता है कि परमेश्वर का कार्य हमेशा नया रहता है और कभी पुराना नहीं होता है या कि परमेश्वर के कार्य का उद्देश्य मानव को बचाना है, और साथ ही, मानव की एक अहंकारी व जिद्दी शैतानी प्रवृत्ति है। इस कारण परमेश्वर को, हर बार नया कार्य शुरू करने पर पुराने तरीके से पूरी जिद के साथ चिपकी हुई इस धार्मिक दुनिया की निंदा, उत्पीड़न, और आरोपों का सामना करना पड़ेगा। और परमेश्वर के नए कार्य को स्वीकार करने और सत्य के मार्ग का प्रसार करने वाले सभी लोगों पर ढेर सारे आधारहीन आरोपों को मढ़ कर उन्‍हें कलुषित किया जाता है। बाइबल के नए विधान ने इस सत्य को दर्ज किया है: मनुष्‍य को व्यवस्था न बनाए रखने के कारण दंडित होने के खतरे से बचाने के लिए, परमेश्वर देह में आए और अनुग्रह के युग में छुटकारे के कार्य को शुरू किया। उस समय, जब प्रभु यीशु यहूदिया में कई चमत्कार करके अपना कार्य कर रहे थे, बीमारों को ठीक कर रहे थे और बुरी आत्माओं को बाहर निकाल रहे थे, उन्होंने लोगों को प्रचुरता से अनुग्रह प्रदान किया और कई सत्य व्यक्त किए, यह साबित करने के लिए सब कुछ किया कि वे खुद ही सत्य में और पूर्ण रूप से परमेश्वर थे, यह ​कि वे वे ही मसीहा थे जिसकी भविष्यवाणी की गई थी। लेकिन यहूदी मुख्य पुजारियों व धर्मशास्त्रियों व पाखंडियों ने इस बात पर विश्वास नहीं किया कि वे ही बहुप्रतीक्षित मसीहा थे, और बल्कि उन पर कलंक लगाया, उनका आकलन किया, और प्रभु यीशु के कार्य पर 'विधर्म' और 'एक कुपंथ' होने का आरोप लगाया। नासरत में प्रभु यीशु की परवरिश व उनके कार्य की शुरुआत हुई थी, और इसीलिए उन्हें व उनके अनुयायियों को 'नासरियों के कुपंथ' का उपनाम दिया गया और प्रचारक पौलुस पर उनका मुखिया होने का आरोप लगाया गया (प्रेरितों के काम 24:5 देखें)। यह हमें क्या बताता है? हमारे सभी भाई बहन जो परमेश्वर में विश्वास रखते हैं, वे यह जानते हैं कि यहूदिया में प्रभु यीशु का कार्य अनुग्रह के युग की शुरुआत करने और लोगों को छुटकारा दिलाने का नया कार्य शुरू करने के लिए स्‍वयं परमेश्वर की प्रबंधन योजना के अनुसार ही पूरी तरह से किया गया था। वे चाहे यहूदी हो या अन्‍यजाति, जेलोतेस (कनानी) या सदूकी, हर कोई जो सच में सत्य के मार्ग की चाह रखता है और उसे खोज रहा है, वह सच्चे परमेश्वर प्रभु यीशु का अनुसरण करके उद्धार पा सकता है। परमेश्वर को कभी किसी जाति, संस्था या संप्रदाय को स्थापित करने की न तो जरूरत पड़ी न ही उन्होंने ऐसा कुछ किया, इस 'नासरियों के पंथ' को भी नहीं। तो, यह विरूद्ध मत, कि यह 'नासरियों का पंथ' है, असल में एक अफवाह है जो मंदिर में यहोवा परमेश्वर की 'सेवा' कर रहे प्रमुख पुजारियों, धर्मशास्त्रियों और पाखंडियों द्वारा प्रभु यीशु पर हमला करने और उन्हें फंसाने के लिए उड़ाई गई थी। अंतत:, इन "परमेश्वर की सेवा करने वाले लोगों" के कपट और नियंत्रण की वजह से ही यहूदी समाज ने प्रभु यीशु को सलीब पर लटकाने में उनका अनुसरण किया, जिसने परमेश्वर के स्‍वभाव को अपमानित किया, जिससे वे परमेश्‍वर के दंड के भागी बने और इसराइल के विध्वंस के लगभग 2000 साल आए।

इसी प्रकार से, पाप करके उन्हें स्वीकार करने और फिर से पाप करना जारी रखने के चक्र से बचने और शैतान की भ्रष्ट प्रवृत्ति को पूरी तरह त्‍याग देने में मानव को सक्षम करने, उसकी पापी प्रकृति को दूर करने और पवित्रता तक पहुंचने, और अं​त के दिनों में सच्चे मायने में परमेश्वर का उद्धार पाने में उसकी मदद करने के लिए, परमेश्वर ने पुन: देहधारण की है और भ्रष्ट मानवता का फैसला करने और उन्हें दंडित करने के लिए सत्य को व्यक्त किया है। अपने नए कार्य से, वह पूर्ण रूप से मानव को शुद्ध कर उसे बचा रहे हैं। न्‍याय करने, ताड़ना करने, परीक्षा लेने, और परमेश्वर के वचनों के शुद्धिकरण से, अंत के दिनों के परमेश्वर का सुसमाचार स्वीकार करने वाले और उनके नए कार्य से जुड़े सभी भाई बहन साफ तौर पर यह देखते हैं कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर, जो अंत के दिनों में ये सत्य देते हैं, वे प्रभु यीशु की वापसी है और अपने दिल की गहराई से वे प्रसन्‍न होते और गुणगान करते हैं, उनके पुनरूत्‍थान और उनके उद्धार की अद्भुत महानता का गहराई से अनुभव करते हैं। तो, परमेश्वर के प्रेम को लौटाने, और अधिक लोगों को परमेश्वर के प‍दचिन्‍हों पर चलने व परमेश्वर के आवास तक वापस आने को प्रोत्‍साहित करने, वे बाहर जाते हैं और उन सभी लोगों को यह सुसमाचार देते हैं जो उत्सुकता के साथ प्रभु यीशु के पुनरागमन की प्रतीक्षा करते आए हैं। वे उन्हें बताते हैं कि प्रभु यीशु ने पुन: देहधारण कर ली है और अनुग्रह के युग का अंत और राज्य के युग की उत्‍पत्ति करते हुए, वे इस दुनिया में, चीन के पूर्व में वापस आ गए हैं, उन्होंने मानव का फैसला करने और उसे शुद्ध करने के नए, बड़े कार्य को शुरू कर दिया है। वे उन्हें बताते हैं कि परमेश्वर ने मत्ती के सुसमाचार के अध्याय 24 पद 27 अब संपादित‍ किया है: "क्योंकि जैसे बिजली पूर्व से निकलकर पश्चिम तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य के पुत्र का भी आना होगा।" परमेश्वर इस बार जो सत्य लाए हैं वे पहले से भी अधिक उच्च है, जिसमें सृष्टि से लेकर अंत के दिनों तक के उनके कार्य के रहस्यों को उजागर किया गया है, मानवता का शुद्धिकरण व उद्धार करने के सभी सत्यों का समावेश कर उन्‍हें मनुष्‍य व परमेश्वर पर सच्चाई से विश्वास करने वाले सभी भाई बहनों को प्रदान किया गया है, ताकि उन्हें प्रकाश में लाया जा सके। और अंत के दिनों में, परमेश्वर की उत्पत्ति का कार्य कम है, गति तेज, और वज्रपात की तरह है, केवल दस साल से ज्यादा के समय में, परमेश्वर के राज्य का सुसमाचार चीन की मुख्‍य भूमि में व्यापक रूप से फैल गया है और यह दुनिया के सभी देशों व हिस्सों में फैल रहा है। और फिर भी, परमेश्वर के नए कार्य के समक्ष जो मानव के विचार के अनुसार नहीं होता है, ये घमंडी और पाखंडी धार्मिक संप्रदाय जिद के साथ पुराने तरीकों में चिपके रहते हैं। वे लोग जो परमेश्वर के नए कार्य से नहीं जुड़ते हैं, वे न केवल सत्य के मार्ग को नहीं देख या जांच पाते हैं, बल्कि अंत के दिनों के परमेश्वर के कार्य के गवाह बनने वाले भाइयों व बहनों द्वारा बताई गई बाइबल की भविष्यवाणियों से परेशान भी हो जाते हैं। वे 'चमकती पूर्वी बिजली के पंथ' के रूप में सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कलीसिया पर आरोप लगाते हैं, फैसला करते हैं और इसका अपयश करते हैं। और हर तरह से वे वही करते हैं जो यहूदी धार्मिक गुट ने पहले किया था, प्रभु यीशु के अनुयायियों व प्रचारकों को 'नासरियों का पंथ' कहकर उन पर हमला, बदनामी और विरोध करके किया था। यह कि वे अंत के दिनों के परमेश्वर के कार्य का इस प्रकार से विरोध व हमला कर सकते हैं, यह कि वे परमेश्वर के पदचिन्‍हों पर चलने से और उनके कार्य का पालन करने से लोगों को रोक सकते हैं, क्या यह बिल्कुल वैसा नहीं है जैसे फरीसियों ने पहले यीशु का विरोध किया था और उनकी निंदा की थी? क्या इन कार्यों का सार सत्य से नफरत करना और पवित्र आत्मा की निंदा करना नहीं है?

यदि सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने अपना वचन न कहा होता और रहस्यों को उजागर न किया होता, तो हम "क्योंकि जैसे बिजली पूर्व से निकलकर पश्चिम तक चमकती है।" भविष्यवाणी से उनका क्या अर्थ है यह हम सच में कभी भी नहीं समझ पाते। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं: "जब सभी लोग सुनते हैं, जब सब कुछ नवीकृत और पुनर्जीवित हो जाता है, जब हर व्यक्ति बिना आशंका के परमेश्वर को समर्पित हो जाता है, और परमेश्वर के बोझ की भारी ज़िम्मेदारी को अपने कंधे पर उठाने के लिए तैयार होता है—तभी ऐसा होता है कि पूर्वी बिजली आगे बढ़ती है, पूर्व से पश्चिम तक सभी को रोशन करते हुए, इस प्रकाश के आगमन के साथ पृथ्वी पर सभी को भयभीत करते हुए; और इस समय, परमेश्वर एक बार फिर अपना नया जीवन शुरू करता है। … जिसका अर्थ है कि दुनिया के पूर्व में, उस समय से लेकर जब खुद परमेश्वर के प्रति गवाही शुरू होती है, और उस समय तक जब वह कार्य करना शुरू करता है, याने कि उस समय तक जब देवत्व समग्र पृथ्वी पर अपनी सार्वभौमिक सत्ता का संचालन करने लगता है—यह पूर्वी बिजली की चमचमाती किरणें ही हैं, जो पूरे ब्रह्मांड के लिए सदैव जगमगाती रही हैं। जब धरती के सारे देश मसीह का राज्य बन जाते हैं, तभी पूरा ब्रह्मांड प्रकाशित होता है। अब वह समय है जब पूर्वी बिजली आगे बढ़ती है: देहधारी परमेश्वर कार्य करना शुरू कर देता है, और साथ ही साथ, सीधे दिव्यता में बात करता है। यह कहा जा सकता है कि जब परमेश्वर पृथ्वी पर बात करना शुरू करता है, तभी पूर्वी बिजली प्रकट होती है। अधिक सटीकता से कहें तो, जब सिंहासन से जीवन का जल बहता है—जब सिंहासन से आने वाली उक्तियाँ शुरू होती हैं—ठीक वही समय होता है जब सातगुना आत्मा की उक्तियाँ औपचारिक रूप से शुरू होती हैं।" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "12वीं उक्ति की विवेचना" से )। "पूरे विश्व में मैं अपना कार्य कर रहा हूं, और पूर्व में गर्जना करते हुए धमाके निरंतर होते हैं और सभी सम्प्रदायों और पंथों को हिला देते हैं। मेरी वाणी ने सभी लोगों को वर्तमान में लाने में अगुवाई की है। मैं अपनी वाणी से सभी लोगों को जीत लूंगा, ताकि वे इस धारा में आएं, मेरे सामने नतमस्तक हों, क्योंकि मैंने बहुत पहले अपनी महिमा सारी धरती से वापस ले ली है और इसे नए रूप में पूर्व में जारी कर दिया है। ऐसा कौन है जो मेरी महिमा नहीं देखना चाहता? कौन है जिसे उत्सुकता से मेरी वापसी की प्रतीक्षा नहीं है? कौन है जिसे मेरे पुन: प्रकटन की प्यास नहीं है? कौन है जिसे मेरी मनोरमता की अभिलाषा नहीं है? कौन है जो रोशनी में नहीं आना चाहेगा? कौन है जो कनान की समृद्धि नहीं देखना चाहेगा? कौन है जो उद्धारक के लौटने की इच्छा नहीं रखता? कौन है जो महान सर्वशक्तिमान की आराधना नहीं करता? मेरी वाणी समस्त धरती पर फैल जाएगी; मैं चाहता हूं कि मैं अपने पसंदीदा लोगों के सामने अपने अधिक वचन व्यक्त करूं। भयंकर गर्जना की तरह जो पर्वतों और नदियों को हिलाकर रख देती है, मैं अपने वचन पूरे विश्व और मानवता के सामने बोलूं। अत: मेरे मुख के वचन इंसान के लिए खज़ाना बन गए हैं, और सभी लोग मेरे वचनों को संजोकर रखते हैं। बिजली पूर्व से लेकर पश्चिम तक चमकती है। मेरे वचन ऐसे हैं कि इंसान इन्हें त्यागना नहीं चाहता और साथ ही उन्हें कल्पना से परे पाता है, लेकिन उसमें भरपूर आनंद लेता है। किसी नवजात शिशु की तरह, लोग मेरे आगमन की खुशियां और आनंद मना रहे हैं। अपनी वाणी के ज़रिए मैं सभी लोगों को अपने सामने लाऊंगा। उसके बाद, मैं औपचारिक रूप से इंसानी नस्ल में प्रवेश करूंगा ताकि वे आकर मेरी आराधना करें। उस महिमा के साथ जो मुझसे प्रसारित होती है और उन वचनों के साथ जो मेरे मुख में हैं, मैं इसे ऐसा बनाऊंगा कि सभी लोग मेरे सामने आएं और देखें कि बिजली पूर्व से चमकती है ... क्योंकि मैं बहुत पहले ही पुनर्जीवित हो चुका हूं, और लोगों के बीच से जा चुका हूं, और लोगों के बीच पुन: अपनी महिमा के साथ प्रकट हुआ हूं। मैं वो हूं जिसे अनंत युगों पहले पूजा जाता था, और मैं वो शिशु भी हूं जिसे अनंत युगों पहले इस्राएलियों द्वारा त्याग दिया गया था। इसके अलावा, मैं आज के युग का सर्व-महिमामय सर्वशक्तिमान परमेश्वर हूं! सभी मेरे सिंहासन के समक्ष आओ और मेरी महिमामयी मुखाकृति का अवलोकन करो, मेरी वाणी सुनो, और मेरे कर्मों को देखो। यही मेरी इच्छा की समग्रता है; यही मेरी योजना का अंत और चरम है, तथा मेरे प्रबंधन का प्रयोजन है। सभी देश मेरी आराधना करें, सभी जिह्वा मुझे स्वीकृति दें, हर व्यक्ति मुझमें निष्ठा रखे, और प्रत्येक व्यक्ति मेरी प्रजा बने!" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "सात गर्जनाएँ – भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य के सुसमाचार पूरे ब्रह्माण्ड में फैल जाएंगे" से)। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों से हम यह देख सकते हैं कि अंत के दिनों का परमेश्वर का कार्य और वचन वह चमकता प्रकाश है जो पूर्व से निकलता है। यह "प्रकाश" महान प्रकाश है, यानि अंत के दिनों में परमेश्वर का वचन, फैसला करने व दंड देने का परमेश्वर का तरीका। यह वचन "पूर्व से निकलकर" का अर्थ है चीन से निकला, और "पश्चिम तक चमकती है" का अर्थ है पश्चिम में आना। अंत में, "वैसे ही मनुष्य के पुत्र का भी आना होगा।" का मतलब है परमेश्वर का देह धरना और सबसे पहले खुद को प्रकट करना और फिर पूर्व में चीन में अपना कार्य शुरू करना। यहां वे लोगों का एक समूह बनाते हैं जो परमेश्वर को वाकई जानते हैं, और वे प्रकाशितवाक्‍य की पुस्तक में की गई भविष्यवाणी के विजेता हैं। फिर इन लोगों के माध्यम से, अंत के दिनों का सुसमाचार पश्चिम में फैलाया जाएगा, ताकि अंत के दिनों में सबको परमेश्वर का उद्धार हासिल हो सके। यह अब पा लिया गया है और यह व‍ह सत्य है जिसे हर कोई देख सकता है! पूर्व की चमकती बिजली (जो कि, चीन में अंत के दिनों के दौरान परमेश्वर का न्‍याय का कार्य है) हमें परमेश्‍वर के सच्‍चे प्रेम व उद्धार पाने की और उनका सच्‍चा चेहरा देखने की अनुमति दे सकती है और हमारे भीतर परमेश्‍वर के प्रति सच्‍ची श्रद्धा और पूजा की भावना उभारती है। बिजली की तरह, परमेश्वर के वचन मानव को प्रकाश व उम्मीद देते हैं। वे सभी जो चमकती पूर्वी बिजली यानि अंत के दिनों में परमेश्वर के कार्य को स्वीकार करते हैं, वे सभी इसके गवाह बन सकते हैं।

अब इसे पढ़कर, मैं मानता हूं आप सबको इस सवाल का जवाब अच्छी तरह से मिल गया होगा कि चमकती पूर्वी बिजली का अस्तित्व क्या है। परमेश्वर स्वर्ग व पृथ्वी व सभी चीजों को बनाने वाले हैं। चूंकि मनुष्‍यों को शैतान ने भ्रष्ट कर दिया था, परमेश्वर ने मानवों को बचाने का अपना कार्य शुरू कर दिया। परमेश्वर की इच्छा है कि ब्रम्हांड के सभी लोग उनके कार्य को देखें, कि सभी धार्मिक निष्‍ठायें एक होकर सृजनकर्ता की पूजा करें। फिर उन सभी को जो परमेश्वर के प्रकटन की सच्‍चाई से खोज करते हैं और उनके पदचिन्‍हों पर चलते हैं, शुद्धता पाने और उद्धार हासिल करने देते हैं। ये सभी लोग जो परमेश्वर के हृदय के अभिलाषी हैं, उनको वे अपने राज्‍य में ले जाकर विश्राम प्रदान करेंगे। तो, हमारे सभी भाई बहन जो सच्चे मायनों में परमेश्वर पर विश्वास करते हैं और प्रभु यीशु की वापसी का उत्सुकता से इंतजार करते हैं, उन्‍हें अपने धार्मिक विचारों को त्याग देना चाहिए और सच्चे मार्ग का अध्ययन करना चाहिए। सत्‍य के मार्ग की विरोध करने वाली अफवाहों पर विश्वास न करें, क्योंकि इसका परिणाम अंत के​ दिनों में परमेश्वर के उद्धार की हानि में होगा। हमें परमेश्वर के कार्य की गति और उनके पदचिन्‍हों का ध्‍यानपूर्वक अनुसरण करना चाहिए। यही एकमात्र तरीका है जिससे हम अंत के दिनों में उनका उद्धार पा सकते हैं और परमेश्वर द्वारा उनके राज्य में ले जाए जा सकते हैं।