सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

इतनी मलिन धरती पर रहते हैं लोग

I

परमेश्वर से ज़्यादा दूर है, उसका ज़्यादा विरोधी है इंसान

क्योंकि मलिन धरती पर जन्मा है वो,

समाज से बर्बाद हुआ है इंसान।

सामंती नैतिकता के प्रभाव में है इंसान,

"ऊँची तालीम के स्कूलों" में पढ़ा है इंसान;

इंसान के दिल और ज़मीर पर हमला हुआ है

पिछड़े ख़्यालात का, भ्रष्ट नैतिकता का,

नीच फ़लसफ़े का, नाकारा वजूद का,

ख़राब रस्मों, जीवन-शैली का, जीवन पर तुच्छ विचारों का।

II

दिन-ब-दिन दुष्ट होता जाता है उसका स्वभाव।

कोई नहीं है जो परमेश्वर की ख़ातिर,

कुछ-भी त्याग करना चाहता हो स्वेच्छा से,

या आज्ञापालन करना चाहता हो,

उसका प्रकटन खोजना चाहता हो स्वेच्छा से।

इनके बजाय शैतान की प्रभुता के अधीन,

भागते हैं सब भोगों के पीछे,

मलिनता की धरती पर

देह की भ्रष्टता के हवाले कर देते हैं ख़ुद को, कर देते हैं ख़ुद को।

अंधेरे में रहने वाले,

सुनकर भी सत्य पर अमल नहीं करते,

परमेश्वर का प्रकटन देखकर भी खोज उसकी नहीं करते।

कैसे पा सकता है उद्धार,

कैसे जी सकता है रोशनी में

इतना दूषित और पतित इंसान?

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:अंत के दिनों में हासिल करता है सब परमेश्वर मुख्यत: वचनों से

अगला:ये वही इंसान है बनाया था परमेश्वर ने जिसे

शायद आपको पसंद आये