सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

लोगों के इस समूह को पूरा करने का संकल्प लिया है परमेश्वर ने

I

शायद ही कोई इन्सान है ऐसा

जो समझ सके परमेश्वर के दिल की तीव्र इच्छा,

क्योंकि इन्सान की क्षमता बहुत कम है,

उसकी आध्यात्मिक अनुभूति भी मंद है,

इन्सान कभी ध्यान नहीं देता परमेश्वर के कार्य पर।

इसलिए उसकी चिंता करता रहता है परमेश्वर।

इन्सान की जंगली प्रकृति,

सामने आ सकती है कभी भी।

इसलिए धरती पर परमेश्वर का आगमन

सामने पाता है इंसानों का बड़ा प्रलोभन।

लेकिन इंसान पर परमेश्वर ने उजागर की अपनी इच्छा

क्योंकि चाहता है वो लोगों के एक समूह को पूरा करना।

आम लोगों के इस समूह को पूरा करना, है संकल्प परमेश्वर का।

इसलिए, चाहे आये मुसीबत या कोई प्रलोभन,

नज़र फेर, वो करता सबको अनदेखा।

आम लोगों के इस समूह को पूरा करना, है संकल्प परमेश्वर का।

इसलिए, चाहे आये मुसीबत या कोई प्रलोभन,

नज़र फेर, वो करता सबको अनदेखा।

II

परमेश्वर पर दोष लगाने वाले, उसे लालच देने वाले,

गलत समझने वाले हो सकते हैं लोग कई,

लेकिन दिल पर वो कोई बात लेता नहीं।

जब महिमा में उतरेगा परमेश्वर,

इन्सान देखेगा कि वो करता है जो भी

उसमें है इन्सान की भलाई।

परमेश्वर ने इन्सान पर उजागर की है अपनी इच्छा।

आम लोगों के इस समूह को पूरा करना, संकल्प परमेश्वर का।

इसलिए, चाहे आये मुसीबत या कोई प्रलोभन,

नज़र फेर, वो करता सबको अनदेखा।

परमेश्वर अपना काम करता है और मानता है

कि उसके द्वारा पूर्ण किये जाने के बाद,

इन्सान उसे उसकी महिमा में जानेगा और उसके दिल को समझेगा।

III

अपनी पूरी महिमा में यहाँ प्रकट होकर,

इन लोगों से कुछ नहीं छिपाता परमेश्वर।

अपनी पूरी महिमा में यहाँ प्रकट होकर,

इन लोगों से कुछ नहीं छिपाता परमेश्वर।

अपनी पूरी महिमा में यहाँ प्रकट होकर,

इन लोगों से कुछ नहीं छिपाता परमेश्वर।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:अपने हृदय को परमेश्वर के आगे शांत करने के तरीके

अगला:इंसान को बचाने के लिये ख़ामोशी से कार्य करता है देहधारी परमेश्वर

शायद आपको पसंद आये

  • देहधारी परमेश्वर को किसने जाना है

    I चूँकि हो तुम एक नागरिक परमेश्वर के घराने के, चूँकि हो तुम निष्ठावान परमेश्वर के राज्य में, फिर जो कुछ भी तुम करते हो उसे जरूर खरा उतरना चाहिए परमेश्…

  • प्रभु यीशु का अनुकरण करो

    I पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को, क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की, इसमें न उसका स्वार्थ था, न योजन…

  • स्वयं परमेश्वर की पहचान और पदवी

    I हर चीज़ पर जो राज करे वो परमेश्वर है, हर चीज़ का जो संचालन करे वो परमेश्वर है। हर चीज़ बनाई उसने, हर चीज़ का वो संचालन करता है। हर चीज़ पर वो राज करता…

  • इंसान से परमेश्वर की उम्मीदें बदली नहीं हैं

    I जब से उसने आदि में मानव की सृष्टि की, ईश्वर ने विजयी लोगों के समूह की लालसा की है, समूह जो चलेगा उसके साथ और जो समझ सकता है, बूझ और जान सकता है उस…