सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

परमेश्वर के वचनों का अभ्यास और परमेश्वर को संतुष्ट करना सबसे पहले आता है

I

आज, तुम लोगों से जो प्राप्त, करने की उम्मीद की जाती है,

वे अतिरिक्त मांगें नहीं है, बल्कि इंसान का कर्तव्य है,

जिसे हर किसी को पूरा करना चाहिए।

अगर तुम लोग नहीं अपना कर्तव्य, ठीक से पूरा कर सकते,

क्या तुम लोग नहीं दे रहे हो परेशानियों को आमंत्रण?

क्या तुम लोग नहीं दे रहे, मौत को दावत?

कैसे तुम लोग अभी भी भविष्य की कामना कर सकते?

परमेश्वर के काम में, इंसान को नहीं छोड़ना चाहिए कोई भी प्रयास,

परमेश्वर के काम में, इंसान को नहीं छोड़ना चाहिए कोई भी प्रयास।

II

परमेश्वर का काम है इंसानों के लिए।

इंसान का सहयोग किया जाता है

परमेश्वर की प्रबंधन योजना के लिए।

एक बार जब परमेश्वर कर लेता है अपना काम

इंसान को परिश्रमपूर्वक करना होता अभ्यास,

परमेश्वर के साथ करना होता सहयोग।

परमेश्वर के काम में, इंसान को नहीं छोड़ना चाहिए कोई भी प्रयास,

पेश करनी चाहिए अपनी वफ़ादारी,

धारणाओं में नहीं होना चाहिए लिप्त,

निष्क्रियता से नहीं करना चाहिए मौत का इंतज़ार।

III

क्यों नहीं हो सकता है परमेश्वर से इंसान वफ़ादार,

जिसने त्याग दिया ख़ुद को उनके लिए?

क्यों नहीं कर सकता है उस परमेश्वर से सहयोग इंसान,

जो उसके लिए है समर्पित अपने दिल और दिमाग़ से?

क्यों नहीं इंसान कर सकता है,

अपने कर्तव्य पूरे परमेश्वर के प्रबंधन के लिए,

जबकि परमेश्वर करता है अपना काम मानव जाति के लिए?

परमेश्वर का काम इतना आगे बढ़ चुका है,

तुम लोग देखते हो, फिर भी कार्य नहीं करते,

सुनते हो, फिर भी हिलते नहीं हो।

क्या ऐसे लोग विनाश की वस्तु नहीं हैं?

परमेश्वर ने इंसान को अपना, सब कुछ समर्पित कर दिया,

तो क्यों ईमानदारी से इंसान अपना कर्तव्य पूरा नहीं कर सकता?

परमेश्वर का काम है, उसकी पहली प्राथमिकता,

उसका प्रबंधन कार्य है सबसे ज़्यादा ज़रूरी।

इंसान के लिए, उसकी पहली प्राथमिकता है

परमेश्वर के वचनों का अभ्यास,

परमेश्वर की आवश्यकताओं को पूरा करना।

यही है बात जो तुम सबको समझनी।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:इंसान के लिये परमेश्वर की इच्छा कभी नहीं बदलेगी

अगला:ख़ामोशी से आता है हमारे मध्य परमेश्वर

शायद आपको पसंद आये