सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

"एक बार बचाया जाना, अर्थात सदैव के लिए बचाया जाना", क्या इस वक्तव्य का कोई बाइबल सम्बन्धी आधार है

157

यांग शिन, शानडोंग प्रान्त

बैठक के बाद घर वापस लौटते वक्त, सूरज पश्चिम में डूब गया, और डूबते सूरज की आखिरी किरण दुनिया भर में फैल गई। मैं, पादरी ने जो कहा था उसके बारे में सोच रहा था: "एक बार बचाये गये, तो हम हमेशा के लिए बचाये जाते हैं, क्योंकि बाइबल कहती है, 'कि यदि तू अपने मुँह से यीशु को प्रभु जानकर अंगीकार करे, और अपने मन से विश्‍वास करे कि परमेश्‍वर ने उसे मरे हुओं में से जिलाया, तो तू निश्‍चय उद्धार पाएगा। क्योंकि धार्मिकता के लिये मन से विश्‍वास किया जाता है, और उद्धार के लिये मुँह से अंगीकार किया जाता है' (रोमियों 10:9-10)। चूँकि हम प्रभु यीशु पर विश्वास करते हैं, जब तक हम अपने दिलों में विश्वास करते हैं और उन्हें अपने मुँह से स्वीकार करते हैं, तब तक हम बचाये जाते हैं, और यदि हम एक बार बचाए जाते हैं तो हम हमेशा के लिए बचाए जाते हैं। जब तक हम काम करते रहते हैं और स्वयं को प्रभु के लिए व्यय करते हैं और बिल्कुल अंत तक सहन करते हैं, तो जब प्रभु वापस लौटेंगे, तो हम तुरंत स्वर्ग के राज्य में आरोहित किये जाएंगे!" मैंने पादरी की बातों पर आमीन कहा: "हाँ! प्रभु यीशु को क्रूस पर चढ़ाया गया था ताकि हमें छुटकारा दिलाया जा सके, इसलिए अगर जब तक हम प्रभु के नाम को पुकारते हैं, अपने पापों को स्वीकार करते हैं और प्रभु से पश्चात्ताप करते हैं, तब तक हमें पाप से मुक्त किया जायेगा और हम उनकी कृपा से बच जाएंगे—एक बार बचाये गये, हमेशा के लिए बचाये गये, और बाद में हम निश्चित रूप से स्वर्ग के राज्य में आरोहित किये जायेंगे।" प्रभु पर अपने विश्वास के इतने वर्षों में, मैंने हमेशा दृढ़ता से माना था कि यह दृष्टिकोण सही था, और मैंने कभी भी इस पर संदेह नहीं किया।

हालाँकि, एक दिन, मैंने शास्त्रों पर विचार करते हुए, प्रभु यीशु द्वारा बोले गए इन वचनों को पढ़ा: "जो मुझ से, 'हे प्रभु! हे प्रभु!' कहता है, उनमें से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश न करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है" (मत्ती 7:21)। "यदि तुम मेरे वचन में बने रहोगे, तो सचमुच मेरे चेले ठहरोगे" (यूहन्ना 8:31)। मैंने इन वचनों पर ध्यान से विचार किया, और मैंने पाया कि प्रभु यीशु कह रहे थे कि केवल वे लोग जो परमेश्वर की इच्छा को पूरा करते हैं और जो प्रभु के वचनों का अभ्यास करते हैं, वे ही स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के योग्य हैं; वह यह नहीं कह रहे थे कि लोगों को केवल विश्वास रखने द्वारा बचाया जा सकता है, या सिर्फ इसलिए कि लोगों को एक बार बचाया गया था, इसलिए वे हमेशा के लिए बचाये गये हैं, या यह कि प्रभु के वापस लौटने पर लोग तुरंत स्वर्ग के राज्य में आरोहित किये जाएंगे। ऐसा लगने लगा, जैसे मेरे विचार प्रभु के वचनों के अनुरूप नहीं हैं! क्या ऐसा हो सकता था कि इतने सालों से मैं जिन विचारों पर भरोसा करता रहा हूँ, वे गलत थे? हालाँकि प्रभु पर विश्वास करने के इतने सालों में, मैंने बिना शक किये विश्वास किया है कि प्रभु यीशु ने हमें छुटकारा दिलाया था, लेकिन अपने जीवन में मैंने अक्सर प्रभु की शिक्षाओं का अभ्यास नहीं किया; चूँकि मैं परमेश्वर की इच्छा को पूरा करने वाला व्यक्ति नहीं हूँ, तो फिर मैं स्वर्ग के राज्य में कैसे प्रवेश कर सकता हूँ? यह सोचकर, मैं चिंतित हुए बिना नहीं रह सका, लेकिन फिर मैंने सोचा: "चूँकि प्रभु यीशु हमारे लिए पापबलि बन गए और हमें सभी पापों से मुक्त कर दिया, तो हम उनकी कृपा से पहले ही बच गए हैं, तो हम स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने में सक्षम क्यों नहीं होंगे? क्या उनके अनुग्रह द्वारा बचाए जाने का अर्थ अनंत उद्धार नहीं है?" मैं बिल्कुल उलझ गया था इसलिए मैंने इस उलझन को ध्यान में रखा और प्रभु से अक्सर प्रार्थना की और खोजा, मैंने कई आध्यात्मिक पुस्तकें भी पढ़ीं, लेकिन जवाब नहीं मिला।

बाद में, एक सह-सहायककर्ता सभा में, मैं भाई झांग से टकरा गया, जिनसे मैं सालों से नहीं मिला था। वे एक प्रचारक हैं और बाइबल की बहुत शुद्ध समझ रखते हैं। हर बैठक में, वे कुछ नई रोशनी पर संगति करने में सक्षम रहते हैं, और मुझे इससे बहुत फायदा होता है। जब मैंने उन्हें इस बार देखा, तो मैंने खुशी से उनका अभिवादन किया, और बात करते हुए, उस समस्या का उल्लेख किया जो मुझे काफी समय से परेशान कर रही थी। मुस्कुराते हुए, भाई झांग ने कहा, "भाई यांग, आप जिस समस्या का उल्लेख कर रहे हैं वह इस महत्वपूर्ण बात से संबंधित है कि हम स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं या नहीं। मैं भी अतीत में इससे काफी परेशान रहा था, लेकिन प्रभु के मार्गदर्शन और काफी समय तक खोज करने के कारण इस बात की मुझे अब थोड़ी सरल समझ है कि सच्चा उद्धार क्या है।" मैंने तत्परता से उनसे कहा, "तो जल्दी करें और मुझे बताएं!" वे हँसे, और उन्होंने कहा, "जैसा कि हम सभी जानते हैं, बाइबल में योएल की पुस्तक अध्याय 2 पद संख्या 32 में लिखा है: 'जो कोई भी यहोवा से प्रार्थना करेगा वह छुटकारा पायेगा।' उन शुरुआती दिनों में, यहोवा परमेश्वर ने अपनी व्यवस्थाओं की घोषणा की और आज्ञा दी कि इस्राएल के लोग उनका अनुसरण करें। लोगों का मानना था कि जब तक वे व्यवस्था बनाए रखेंगे और दोषी नहीं ठहराये जायेंगे, तब तक वे बचा लिये जाएंगे। लेकिन व्यवस्था के युग के अंत में, चूँकि मानवजाति शैतान के द्वारा अधिकाधिक गहराई से भ्रष्ट हो रही थी, इस्राएल के लोग व्यवस्था बनाये रखने में असमर्थ रहे और उन्होंने अधिकाधिक पाप किए; ऐसी कोई पापबलि नहीं रह गयी थी जिसका चढ़ावा, उनके पापों से छुटकारा दिलाने के लिए पर्याप्त हो, इसलिए उन्हें उन व्यवस्थाओं द्वारा दोषी ठहराए जाने और मौत की सजा पाने के खतरे का सामना करना पड़ा। लेकिन, परमेश्वर को मानवजाति पर दया आयी, इसलिए मानवजाति को बचाने और व्यवस्थाओं द्वारा दोषी ठहराए जाने से बचाने के लिये, परमेश्वर यीशु के नाम के साथ देह बन गये और उन्होंने छुटकारे का कार्य किया। वे पाप-मुक्त देह के रूप में क्रूस पर चढ़ाये गये, और इस तरह उन्होंने मुक्त रूप से हम इंसानों को व्यवस्थाओं से छुटकारा दिलाया। उस समय से, जब तक हम यीशु के नाम को स्वीकार करते हैं और उसे पुकारते हैं, उसके आगे पश्चाताप करते हैं और अपने पापों को स्वीकार करते हैं, तब तक हमें हमारे पापों से मुक्त किया जाएगा, और हम उन व्यवस्थाओं द्वारा और दोषी नहीं ठहरेंगे या दंडित नहीं होंगे—हमने उद्धार प्राप्त किया क्योंकि प्रभु यीशु ने हमें छुटकारा दिलाया।"

भाई झांग की इन बातों को सुनकर, मुझे अचानक प्रबोधन का अनुभव हुआ, और मैंने विस्मय से कहा: "तो आप का मतलब है, व्यवस्था के युग में जब तक लोग यहोवा परमेश्वर की व्यवस्थाओं को बनाये रखते, तब तक वे बचाए जाते थे, और अनुग्रह के युग में, जब तक लोग प्रभु यीशु पर भरोसा करते, अपने पापों को स्वीकार करते और प्रभु के आगे पश्चाताप करते, तब वे भी बचाए जाते थे।"

भाई झांग ने कहा, "हाँ। जब भी परमेश्वर कार्य के के एक नये चरण को करते हैं, हम परमेश्वर के कार्यों के साथ गति बनाए रखने में सक्षम होते हैं, नए युग में परमेश्वर की अपेक्षाओं के अनुसार चलते हैं, परमेश्वर के वचनों के अनुसार अभ्यास करते हैं, इसलिए हम बचाये जाते हैं और फिर परमेश्वर द्वारा दोषी नहीं ठहराए जाते। वास्तव में, प्रभु यीशु में हमारे विश्वास में उनके अनुग्रह के द्वारा बचाए जाने का अर्थ केवल यह है कि हमारे पाप क्षमा कर दिए गये हैं, और हमें व्यवस्थाओं द्वारा दोषी नहीं ठहराया जायेगा या मृत्युदंड नहीं दिया जाएगा; लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि हम परमेश्वर के रास्ते का अनुसरण कर रहे हैं या हमने सभी पापों को दूर कर दिया है, इसका मतलब यह तो बिल्कुल नहीं है कि एक बार बचाए जाने के बाद हम हमेशा के लिए बचाये गए हैं। हालाँकि हम प्रभु यीशु पर विश्वास करते हैं, हमें उनके द्वारा छुटकारा दिलाया गया है और हमारे पापों को क्षमा किया गया है, फिर भी हम अब भी अक्सर पाप करने और परमेश्वर की अवहेलना करने में सक्षम हैं, और पाप के बंधन और बाधाओं से स्वयं को मुक्त कराने में असमर्थ, हम दिन में पाप करने और शाम को उसे स्वीकार करने के एक क्रूरतापूर्ण चक्र में जीते हैं। उदाहरण के लिए, जब हम किसी समस्या का सामना करते हैं, तो अपने बाहरी रूप और हैसियत को बचाने की खातिर, ताकि लोग हमें ऊँची नज़र से देखें, हमारा आदर करें, हम अक्सर भेस बदलते हैं, झूठ बोलते हैं और धोखे में लिप्त रहते हैं, जब हम कोई काम करते हैं तो हम दिखावा करना पसंद करते हैं, और हम दूसरों के खिलाफ षड्यंत्र भी रच सकते हैं और पद के लिए उनके साथ होड़ लगा सकते हैं; जब हम अपने भाइयों और बहनों को नकारात्मक, कमजोर और अपना विश्वास खोते हुए देखते हैं, तो कई बार हम उनकी मदद करने और उन्हें सहारा देने के लिए जाते हैं, लेकिन हम देखते हैं कि इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता है, तो हम खुद अपनी करुणा और धैर्य खो देते हैं, इस कारण हम अपने भाइयों और बहनों से बचने का प्रयास करने लगते हैं, और हम दूसरों से उस तरह प्यार करने में असमर्थ हो जाते हैं जैसे हम खुद से प्यार करते हैं। खासकर जब हम पर परीक्षण आते हैं, तो हम शिकायत करते हैं और हम प्रभु को दोष दे सकते हैं और उनकी आलोचना कर सकते हैं, इस हद तक कि हम प्रभु को धोखा देने के विचारों और सोच को मन में रखना शुरू कर देते हैं; हम परमेश्वर के वचनों का अभ्यास करने में समर्थ ही नहीं होते, और हमें प्रभु में कोई सच्चा विश्वास नहीं होता और हम वास्तव में उनके प्रति आज्ञाकारी नहीं होते। ऐसे भी बहुत से भाई-बहन हैं जो सांसारिक प्रवृत्तियों में लगे रहते हैं, जो पापमय सुखों का लालच करते हैं, बिल्कुल अविश्वासियों की तरह ही खाते-पीते और शोरगुल मचाते हुए जीवन जीते हैं। परमेश्वर ने कहा: 'मैं तुम से सच सच कहता हूँ कि जो कोई पाप करता है वह पाप का दास है। दास सदा घर में नहीं रहता; पुत्र सदा रहता है' (यूहन्ना 8:34-35)। 'इसलिये तुम पवित्र बनो, क्योंकि मैं पवित्र हूँ' (लैव्यव्यवस्था 11:45)। परमेश्वर के वचन बहुत स्पष्ट हैं: परमेश्वर पवित्र है और परमेश्वर का स्वभाव धार्मिक और अलंघनीय है, और यदि कोई स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करना चाहता है, तो उसे अपने पापी स्वभाव से छुटकारा पाना चाहिए और शुद्ध होना चाहिए, और अधिक पाप या परमेश्वर की अवज्ञा नहीं करनी चाहिए; केवल इस तरह के लोग ही परमेश्वर के वादे को प्राप्त करने के योग्य हैं। किस प्रकार हम, जो दिन में पाप करते हैं और शाम को अपने पापों को स्वीकारते हैं, और जो अपरिहार्य पाप में रहते हैं, कभी भी स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के योग्य हो सकते हैं? यदि हम स्रोत पर अपने पापों का समाधान नहीं करते हैं, तो भले ही हमारे पापों को एक हजार बार, दस हजार बार क्षमा कर दिया जाये, हम फिर भी शैतान के ही रहेंगे और परमेश्वर के विरोधी होंगे। ज़रा सोचिए—अगर परमेश्वर ने हम जैसे शैतानी, भ्रष्ट स्वभावों से भरे, परमेश्वर की अवज्ञा करने और उनसे विश्वासघात करने में सक्षम लोगों को स्वर्ग के राज्य में प्रवेश की अनुमति दे दी, तो फिर परमेश्वर के राज्य को पवित्र राज्य कैसे कहा जा सकता है? यह असंभव होगा!"

मैं भाई झांग की संगति से काफी सहमत था। हाँ, हम, जो हर दिन पाप में रहते हैं और जो स्पष्ट रूप से जानते हैं कि हम पाप करते हैं लेकिन फिर भी पाप किये बिना नहीं रह पाते, स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के योग्य कैसे हो सकते हैं? उस पल, मैंने महसूस किया कि परमेश्वर में मेरा अपना विश्वास अत्यंत भ्रमयुक्त विश्वास था; प्रभु के वचन बहुत स्पष्ट रूप से कहे गये थे, और फिर भी मैंने उनके वचनों में तलाशने का कोई प्रयास नहीं किया। इसके विपरीत, मैं अपनी ही धारणाओं और कल्पनाओं के भीतर रहता था, पूरी तरह से परमेश्वर की इच्छा को गलत समझता था, इस बेतुके विश्वास को मन में रखता था कि जब तक मैं प्रभु को अपने दिल से मानता और अपने मुँह से स्वीकार करता हूँ, तब तक मैं बचाया जाऊँगा, और प्रभु की वापसी पर स्वर्गराज्य में सहर्ष स्वीकार किया जाऊँगा। मैं कितना मूर्ख था! मैं दिन में सपने देख रहा था! यदि मैंने इस बेतुके दृष्टिकोण का समाधान नहीं किया और अपनी ही धारणाओं और कल्पनाओं पर भरोसा करते हुए परमेश्वर पर विश्वास करना जारी रखा, तो अंततः निश्चित रूप से प्रभु मुझसे घृणा करेंगे, मुझे अस्वीकार करेंगे और हटा देंगे। इसलिए, मैंने भाई झांग से पूछा: "वास्तव में सच्चा उद्धार क्या है?"

भाई झांग ने अपने झोले में से एक किताब निकाली और कहा कि इस पुस्तक में लिखे वचन मेरी समस्या को हल कर सकते हैं। फिर उन्होंने पढ़ा: "जब लोग शैतान की अशुद्ध और भ्रष्ट बातों को पीछे छोड़ देते हैं, वे परमेश्वर के उद्धार को प्राप्त करते हैं। परन्तु यदि वे स्वयं से अशुद्धता और भ्रष्ट होने को उतार फेंकने में असमर्थ बने रहते हैं, तो वे अभी भी शैतान के अधिकार-क्षेत्र के अधीन ही रहेंगे। लोगों द्वारा धूर्तता करना, धोखेबाज़ी, और कुटिलता शैतान की बातें हैं; तुम्हें बचाने के द्वारा, परमेश्वर तुम्हें इन बातों से अलग करता है और परमेश्वर का कार्य गलत नहीं हो सकता और लोगों को अन्धकार से बचाने के लिए होता है। जब तुम ने एक बिन्दु तक विश्वास कर लिया है, और तुम स्वयं से शरीर की भ्रष्टता उतार कर फेंक सकते हो, और तुम्हें इस भ्रष्टता के द्वारा और अधिक बेड़ियों में नहीं रखा जा सकता है, तो क्या तुम बचाए नहीं गए हो? जब तुम शैतान के अधिकार-क्षेत्र में रहते हो, तो तुम परमेश्वर के प्रकटीकरण में असमर्थ होते हो, तुम एक अशुद्ध व्यक्ति होते हो, और तुम परमेश्वर की मीरास प्राप्त नहीं करोगे। जब तुम्हें एक बार शुद्ध और सिद्ध बना दिया गया है, तो तुम पवित्र हो जाओगे, और तुम सामान्य हो जाओगे, और तुम परमेश्वर के द्वारा आशीषित किए जाओगे और परमेश्वर के लिए प्रसन्नता बन जाओगे" ("अभ्यास (2)")। "पाप बलि के माध्यम से मनुष्य के पापों को क्षमा किया जा सकता है, परन्तु मनुष्य इस मसले को हल करने में असमर्थ रहा है कि वह कैसे आगे और पाप नहीं कर सकता है और कैसे उसके पापी स्वभाव को पूरी तरह से दूर किया जा सकता है और उसे रूपान्तरित किया जा सकता है। परमेश्वर के सलीब पर चढ़ने के कार्य की वजह से मनुष्य के पापों को क्षमा किया गया था, परन्तु मनुष्य पुराने, भ्रष्ट शैतानी स्वभाव में जीवन बिताता रहा। वैसे तो, मनुष्य को भ्रष्ट शैतानी स्वभाव से अवश्य पूरी तरह से बचाया जाना चाहिए ताकि मनुष्य का पापी स्वभाव पूरी तरह से दूर किया जाए और फिर कभी विकसित न हो, इस प्रकार मनुष्य के स्वभाव को बदले जाने की अनुमति दी जाए। इसके लिए मनुष्य से अपेक्षा की जाती है कि वह जीवन में उन्नति के पथ को, जीवन के मार्ग को, और अपने स्वभाव को परिवर्तित करने के मार्ग को समझे। साथ ही इसके लिए मनुष्य को इस मार्ग के अनुरूप कार्य करने की आवश्यकता है ताकि मनुष्य के स्वभाव को धीरे-धीरे बदला जा सके और वह प्रकाश की चमक में जीवन जी सके, और यह कि वह परमेश्वर की इच्छा के अनुसार सभी चीज़ों को कर सके, और भ्रष्ट शैतानी स्वभाव को दूर कर सके, और शैतान के अंधकार के प्रभाव को तोड़कर आज़ाद हो सके, उसके परिणामस्वरूप पाप से पूरी तरह से ऊपर उठ सके। केवल तभी मनुष्य पूर्ण उद्धार प्राप्त करेगा" ("देहधारण का रहस्य (4)")।

तब भाई झांग ने यह कहते हुए संगति की: "प्रभु का धन्यवाद, इन वचनों ने यह स्पष्ट कर दिया है कि सच्चा उद्धार क्या होता है! सच्चे उद्धार का अर्थ है, एक बार किसी ने सत्य प्राप्त कर लिया और उसे परमेश्वर द्वारा शुद्ध और पूर्ण कर दिया गया, उसके बाद वह पाप को पूरी तरह से त्याग देता है और शैतान के अंधेरे प्रभाव को दूर कर देताहै, वह फिर और पाप या परमेश्वर की अवहेलना नहीं करता है। प्रभु यीशु ने जो कार्य किया था वह वास्तव में छुटकारे का कार्य था, हम बस अब और पाप से संबंधित नहीं थे। लेकिन हमारे भीतर की शैतानी प्रकृति गहराई से जमी थी, और भले ही हमारे पापों को प्रभु का क्षमादान प्राप्त हुआ, लेकिन जब हम समस्याओं का सामना करते हैं, तो हम अभी भी अहंकार. दंभ, कुटिलता, धोखा, स्वार्थ, क्षुद्रता, कपटीपन और दुर्भावना जैसे शैतानी स्वभावों के प्रभुत्व में आने में सक्षम हैं; हम अक्सर पाप और परमेश्वर की अवहेलना किये बिना नहीं रह पाते, और प्रभु के वचनों को व्यवहार में नहीं ला पाते। यह ऐसा है जैसे कि एक चोर जो अन्य लोगों की चीजों को चुराने के कारण पुलिस द्वारा पकड़ा जाता है। उसके माता-पिता अपने बेटे के हिरासत में दिन काटने के बारे सोच भी नहीं सकते, इसलिए वे अपने बेटे को जेल से बाहर निकालने के लिए राजा को फिरौती देते हैं। लेकिन चोर की प्रकृति अभी भी उसके भीतर है, और एक उपयुक्त अवसर आने पर, वह फिर से अपने स्वभाव के अधीन हो जाएगा और चीज़ें चुराना जारी रखेगा। इसलिए, अगर हम सत्य के सभी पहलुओं को समझते हैं, शैतान के प्रभुत्व से पूरी तरह से मुक्त होने के कारण, अपने शैतानी, भ्रष्ट स्वभावों के शुद्ध किये जाने से, पाप के बन्धनों को हटाते हैं, परमेश्वर की इच्छा की तलाश करते हैं, परमेश्वर के वचनों का अभ्यास करते और वास्तव में परिस्थितियों की परवाह किये बिना परमेश्वर के प्रति श्रद्धा रखते हैं, उनकी आज्ञा मानते हैं, तब हम हमेशा बचाए जाते हैं, और केवल तभी हम ऐसे लोग होते हैं जो पूरी तरह से परमेश्वर के द्वारा प्राप्त किये जाते हैं।"

मैंने खुशी से कहा, "परमेश्वर की प्रबुद्धता और मार्गदर्शन का धन्यवाद कि उन्होंने मुझे यह समझने में सक्षम किया कि 'एक बार बचाया गया, मतलब हमेशा के लिए बचाया गया, और फिर एक व्यक्ति स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकता है' यह दृष्टिकोण गलत है। मैं यह भी समझ गया कि शाश्वत उद्धार का मतलब है अपनी पापी प्रकृति से खुद को छुड़ाना और शुद्ध होना, और यह एक बार बचाए जाने और अपने पापों से मुक्त होने से पूरी तरह से अलग है। यह पुस्तक वास्तव में यह स्पष्ट करती है कि सच्चा उद्धार क्या है, तो क्या इसके पन्नों के भीतर कोई ऐसा तरीका है जिससे हम खुद को पाप से छुड़ा सकें और बचा सकें? अगर हम अपने आप को पाप से छुड़ाने का मार्ग पा सकें, और उस मार्ग के अनुसार अभ्यास कर सकें, तो क्या हम सच्चा उद्धार प्राप्त करने और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने में सक्षम नहीं होंगे?"

भाई झांग ने आनंद से कहा, "भाई यांग, आप बिल्कुल सही हैं! प्रभु का धन्यवाद, बस अगर हम खुद को पाप से छुड़ाने और अपनी पापमय प्रकृति का हल ढूँढने का रास्ता पा सकें, तो हम सच्चा उद्धार प्राप्त करने और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने में सक्षम हों सकेंगे यह किताब सत्य के इस पहलू के बारे में बहुत स्पष्टता से बात करती है, इसलिए आइये हम इसे पढ़ना जारी रखें..."

सम्पादक की टिप्पणी: परमेश्वर की प्रबुद्धता और मार्गदर्शन के लिए उनका धन्यवाद। प्रभु में विश्वास करने वाले हम लोगों में से प्रत्येक जन की स्थिति वैसी ही है जैसा कि इस लेख में वर्णन किया गया है: दिन में पाप करते और शाम को उन्हें स्वीकार करते हैं, और पाप में इस तरह धंस जाते हैं कि हम उससे मुक्त होने में असमर्थ हो जाते हैं। अगर प्रभु में हमारा विश्वास, आस्था के द्वारा न्यायोचित है और हम यह विश्वास करते हैं कि चूँकि हमें एक बार बचाया गया था, तो हम सदा के लिए बचाए गये हैं, तो फिर परमेश्वर का धार्मिक, पवित्र, अलंघनीय स्वभाव कैसे अभिव्यक्त हो सकता है? अगर हम परमेश्वर की प्रशंसा और स्वर्गराज्य में प्रवेश चाहते हैं, तो फिर हमें सक्रियता से वह मार्ग तलाशना होगा जिससे हम खुद को पाप से छुड़ा सकें—केवल यही बुद्धिमान कुवांरियों का चतुर चुनाव है! यह सम्पादक आपको मर्मभेदी यादें नामक फ़िल्म की क्लिप देखने की सलाह देता है ताकि हम साथ मिलकर स्वर्गराज्य में प्रवेश करने का मार्ग खोजें!

सम्बंधित मीडिया