सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

वचन देह में प्रकट होता है

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

अध्याय 24

समय बहुत नज़दीक आता जा रहा है। जागो! सभी संतो! मैं तुम लोगों से कहूँगा। जो लोग सुनेंगे वे जाग जाएँगे। मैं ही वह परमेश्वर हूँ जिस पर तुम लोगों ने इन वर्षों में विश्वास किया है। आज मैं देह बन गया हूँ और तुम लोगों की आँखों के सामने आ गया हूँ, और इससे यह प्रकट होता है कि कौन है जो वास्तव में मुझे चाहता है, कौन है जो मेरे लिए कोई भी कीमत चुकाने का इच्छुक है, कौन है जो वास्तव में मेरे वचन को सुनता है, और कौन है जो सत्य को अभ्यास में लाने का इच्छुक है। क्योंकि मैं सर्वशक्तिमान परमेश्वर हूँ, इसलिए मैं मनुष्य के अँधेरे में छुपे हुए सभी रहस्यों को देख सकता हूँ, मैं जानता हूँ कि कौन वास्तव में मुझे चाहता है और मैं जानता हूँ कि कौन मेरा विरोध करता है; मैं सभी चीज़ों को देख सकता हूँ।

अब मैं यथासंभव शीघ्र उन लोगों का एक समूह बनाना चाहता हूँ जो मेरे समान रुचि वाले हैं, ऐसे लोगों का जो मेरी ज़िम्मेदारी के बारे में विचारशील होने में सक्षम हैं। हालाँकि, मैं अपनी कलीसिया की शुद्धि करने और सफ़ाई करने से नहीं रुक सकता हूँ; कलीसिया मेरा हृदय है। मैं उन सभी दुष्ट लोगों से घृणा करता हूँ जो तुम लोगों को मेरे वचन खाने और पीने से रोकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि कुछ ऐसे लोग हैं जो वास्तव में मुझे नहीं चाहते हैं। वे लोग छल से भरे हुए हैं, वे अपने सच्चे हृदय से मेरे पास नहीं आते हैं, वे दुष्ट हैं, और वे ऐसे लोग हैं जो मेरी इच्छा को पूरा करने में बाधा डालते हैं; वे ऐसे लोग नहीं हैं जो सत्‍य को अमल में लाते हैं। वे लोग आत्‍म-दंभ और अहंकार से भरे हुए हैं, वे बेतहाशा महत्वाकांक्षी हैं, वे दूसरों को नीचा दिखाना पसंद करते हैं, और वे जो वचन बोलते हैं वे सुनने में भले सुखद होते हैं, लेकिन गुप्त रूप से वे सत्य का अभ्यास नहीं करते हैं। इन सभी दुष्ट लोगों की छंटनी कर उन्‍हें मिटा कर साफ़ कर दिया जाएगा; वे आपदाओं में दिन काटेंगे। ये वचन तुम लोगों को याद दिलाने और तुम लोगों को चेतावनी देने के लिए हैं ताकि तुम अपने पैरों को उस मार्ग पर रखो जो मेरे हृदय के अनुसार है। सदैव अपनी आत्मा पर लौटो, क्योंकि मैं उन लोगों से प्रेम करता हूँ जो अपने पूरे हृदय से मुझसे प्रेम करते हैं। क्योंकि तुम लोग मेरे करीब आते हो, इसलिए मैं तुम लोगों की रक्षा करूँगा और तुम लोगों को उन दुष्टों से दूर रखूँगा, मैं तुम लोगों को अपने घर में स्थिर करूंगा और अंत तक तुम लोगों की रक्षा करूँगा।

पिछला:अध्याय 23

अगला:अध्याय 25

सम्बंधित मीडिया