सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

अंत के दिनों के मसीह को त्यागना पवित्र आत्मा की ईश-निंदा है

I

अंत के दिनों में प्रकट हुआ है मसीह,

ताकि सच्चा विश्वास है उसमें जिन्हें,

दिया जा सके जीवन उन्हें, दिया जा सके जीवन उन्हें।

मसीह ने कार्य किया है जो,

पुराने युग को समाप्त कर, नए युग को लाने के लिये है वो।

नए युग में प्रवेश करना है जिन्हें,

ये मार्ग अपनाना होगा उन्हें।

तुम अगर मसीह को स्वीकारने में नाकाम रहे,

तिरस्कार किया, ईश-निंदा की, यातना दी उसे,

तो जलना तय है तुम्हारा अनंत तक,

और परमेश्वर के राज्य में कभी प्रवेश न कर पाओगे तुम।

मसीह स्वयं अभिव्यक्ति है

पवित्र आत्मा और परमेश्वर की,

सौंपा है कार्य जिसे अपना परमेश्वर ने धरती पर।

तो कहता है परमेश्वर, अंत के दिनों के मसीह का कार्य,

स्वीकार नहीं सकते तुम अगर,

तो ईश-निंदा करते हो तुम पवित्र आत्मा की।

और ज़ाहिर है सबको प्रतिकार इसका जो भोगना होगा।

II

कहता है परमेश्वर, अंत के दिनों के मसीह का

अगर विरोध करोगे, नकारोगे उसे,

तो कोई नहीं है जो भुगतेगा,

सहेगा नतीजे तुम्हारे लिये।

नहीं मिलेंगे और अवसर तुम्हें

इस दिन से परमेश्वर का अनुमोदन पाने के।

प्रयास कर सकते हो तुम छुड़ाने का ख़ुद को,

पर देख नहीं सकते परमेश्वर को रूबरू फिर।

क्योंकि जिसका विरोध कर रहे हो तुम,

वो अदना प्राणी नहीं है जिसे नकार रहे हो तुम,

नकार रहे हो मसीह को तुम।

क्या नतीजों से वाकिफ हो तुम?

मसीह स्वयं अभिव्यक्ति है

पवित्र आत्मा और परमेश्वर की,

सौंपा है कार्य जिसे अपना परमेश्वर ने धरती पर।

तो कहता है परमेश्वर, अंत के दिनों के मसीह का कार्य,

स्वीकार नहीं सकते तुम अगर,

तो ईश-निंदा करते हो तुम पवित्र आत्मा की।

और ज़ाहिर है सबको प्रतिकार इसका जो भोगना होगा।

III

कोई छोटी गलती नहीं है, संगीन जुर्म है, जो किया है तुमने।

इसलिये अपने ज़हरीले दाँत सत्य के सामने मत दिखाओ,

या आलोचना लापरवाही से मत करो।

क्योंकि सत्य ही दिला सकता है जीवन तुम्हें,

और सत्य के ज़रिये ही नवजीवन पा सकते हो,

और चेहरा परमेश्वर का देख सकते हो।

मसीह स्वयं अभिव्यक्ति है

पवित्र आत्मा और परमेश्वर की,

सौंपा है कार्य जिसे अपना परमेश्वर ने धरती पर।

तो कहता है परमेश्वर, अंत के दिनों के मसीह का कार्य,

स्वीकार नहीं सकते तुम अगर,

तो ईश-निंदा करते हो तुम पवित्र आत्मा की।

और ज़ाहिर है सबको प्रतिकार इसका जो भोगना होगा।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:न्याय से बचने के परिणाम

अगला:जो परमेश्वर के सामने शांत रहते हैं, केवल वही जीवन पर ध्यान केंद्रित करते हैं

शायद आपको पसंद आये