सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

सभी चीज़ें परमेश्वर के अधिकार-क्षेत्र के अधीन होंगी

I

सारे बदलाव उसके काम के तीन-चरण के भीतर।

मानवता ख़ुद ही नहीं बढ़ती, न ये वक़्त न ये कुदरत, या दुनिया।

परमेश्वर के कामो से चीज़ें बदलती हैं।

और उसने बनाए जो प्राणी,

सारे धर्मों के इंसां, आएँगे उसकी हुकूमत के तले।

केवल परमेश्वर कर सकता, ये काम, मज़हबी नुमाइंदों के बस का नहीं।

सबका वजूद परमेश्वर तले, वो रहनुमा है लोगों का।

मज़हबी आका महज़ इंसां हैं, परमेश्वरके आगे ये इंसां क्या।

सारी चीज़ें हैं उसके हाथों में, अंत में लौट जाएँगी वहीं।

फ़र्क पड़ता नहीं क्या है तेरा धर्म, सब झुक जाएँगे उसके आगे।

परमेश्वर ही है सबसे ऊंचा।

राजा हो या रानी, करेंगे नमन उसको।

"कोई राह दिखा नहीं सकता मानवता की मंज़िल को,

न चीज़ों को वर्गों के मुताबिक़ दर्ज़ा दे सकता।"

II

जिस ने बनाई नहीं दुनिया, कैसे मिटा सकता है?

जिसने रची है ये दुनिया वही युग को अंजाम देगा।

जिनमें ये ताकत नहीं है, वो न परमेश्वर, न प्रभु।

ये महान काम है उनकी पहुंच से दूर।

केवल परमेश्वर कर सकता है ये काम; जो कोशिश करते हैं वो दुश्मन हैं।

पंथों से नहीं बनती परमेश्वर की, वो दुश्मन हैं परमेश्वर के!

सारी चीज़ें हैं उसके हाथों में, अंत में लौट जाएँगी वहीं।

फ़र्क पड़ता नहीं क्या है तेरा धर्म, सब झुक जाएँगे उसके आगे।

परमेश्वर ही है सबसे ऊंचा।

राजा हो या रानी, करेंगे नमन उसको।

"कोई राह दिखा नहीं सकता मानवता की मंज़िल को,

न चीज़ों को वर्गों के मुताबिक़ दर्ज़ा दे सकता।"

III

पूरी दुनिया का काम करता है परमेश्वर; उसका ही है काम, आत्मा या देह में।

मानवता का परमेश्वर,

उसे काम की आज़ादी, असीमित है चीज़ों से!

सारी चीज़ें हैं उसके हाथों में, अंत में लौट जाएँगी वहीं।

फ़र्क पड़ता नहीं क्या है तेरा धर्म, सब झुक जाएँगे उसके आगे।

परमेश्वर ही है सबसे ऊंचा।

राजा हो या रानी, करेंगे नमन उसको।

कोई राह दिखा नहीं सकता मानवता की मंज़िल को,

न चीज़ों को वर्गों के मुताबिक़ दर्ज़ा दे सकता।

दूजा नहीं बस यहोवा ये कर सकता है, वो परमेश्वर है मानवता का।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:देहधारी परमेश्वर मानव जाति को नये युग में ले जाते हैं

अगला:प्रकट हुए परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर

शायद आपको पसंद आये

प्रश्न 26: बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। कृपया बताओ, क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं? बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है