सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

परमेश्वर चाहे ज़्यादा लोग उससे उद्धार पाएँ

I

परमेश्वर चाहे जब सामना हो परमेश्वर के वचन से और काम से,

तो ज़्यादा लोग पड़ताल करें उसकी पूरे ध्यान से,

और इन अहम वचनों को देखें पवित्र हृदय से।

न चलें उनके कदमोंनिशाँ पर जो सज़ा पा चुके हैं।

न बनें पौलुस जैसे जो जानता था मार्ग सच्चा,

मगर जानबूझकर जिसने अवहेलना की

और जो गँवा बैठा पापबलि।

नया कार्य उसका स्वीकार कर लो,

सत्य को उसके तुम ग्रहण कर लो।

तब पा सकते हो तुम परमेश्वर के उद्धार को!

II

नहीं चाहता परमेश्वर और लोग सज़ा पाएँ,

बल्कि वो चाहता है ज़्यादा लोगों को बचाना,

ज़्यादा लोग अनुसरण करें, उसके पदचिन्हों पर चलें,

ज़्यादा लोग प्रवेश करें परमेश्वर के राज्य में।

नया कार्य उसका स्वीकार कर लो,

सत्य को उसके तुम ग्रहण कर लो।

तब पा सकते हो तुम परमेश्वर के उद्धार को!

III

तुम्हारी उम्र हो कितनी भी, कितने भी बड़े हो,

या दुख कितने भी सहे हों,

होता है धार्मिक बर्ताव परमेश्वर का सबके साथ।

धार्मिक रहता है, उसका स्वभाव

नहीं बदलता इन बातों से कभी।

वो करता नहीं पक्षपात किसी के संग,

मगर रखता है नज़र कि इंसान छोड़कर सबकुछ,

स्वीकार करता है या नहीं उसके सत्य को, नए काम को।

नया कार्य उसका स्वीकार कर लो,

सत्य को उसके तुम ग्रहण कर लो।

तब पा सकते हो तुम परमेश्वर के उद्धार को!

नया कार्य उसका स्वीकार कर लो,

सत्य को उसके तुम ग्रहण कर लो।

तब पा सकते हो तुम परमेश्वर के उद्धार को!

"सर्वशक्तिमान परमेश्वर का विरोध करने के लिए दण्ड के उत्कृष्ट उदाहरणों का अनुलेख" से

पिछला:स्तुति करो परमेश्वर की वह विजेता बनकर लौटा है

अगला:देहधारी परमेश्वर को किसने जाना है

शायद आपको पसंद आये

बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है प्रश्न 24: तुम यह प्रमाण देते हो कि प्रभु यीशु पहले से ही सर्वशक्तिमान परमेश्वर के रूप में वापस आ चुका है, कि वह पूरी सच्चाई को अभिव्यक्त करता है जिससे कि लोग शुद्धिकरण प्राप्त कर सकें और बचाए जा सकें, और वर्तमान में वह परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य को कर रहा है, लेकिन हम इसे स्वीकार करने की हिम्मत नहीं करते। यह इसलिए है क्योंकि धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों का हमें बहुधा यह निर्देश है कि परमेश्वर के सभी वचन और कार्य बाइबल में अभिलेखित हैं और बाइबल के बाहर परमेश्वर का कोई और वचन या कार्य नहीं हो सकता है, और यह कि बाइबल के विरुद्ध या उससे परे जाने वाली हर बात विधर्म है। हम इस समस्या को समझ नहीं सकते हैं, तो तुम कृपया इसे हमें समझा दो।