सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

अय्यूब की गवाही के द्वारा आनेवाली पीढ़ियों को चेतावनी एवं अद्भुत प्रकाशन प्रदान करना

6

ठीक उसी समय उस प्रक्रिया को समझते हुए जिसके द्वारा परमेश्वर किसी व्यक्ति को पूरी तरह से हासिल करता है, लोग परमेश्वर के द्वारा अय्यूब को शैतान को सौंपे जाने के लक्ष्यों एवं महत्व को भी समझेंगे। लोग अब आगे से अय्यूब की पीड़ा के द्वारा परेशान नहीं होते हैं, और उनके पास उसके महत्व की एक नई समझ है। वे अब आगे से इस विषय में चिंता नहीं करते हैं कि उन्हें अय्यूब के समान उसी परीक्षा के अधीन किया जाएगा या नहीं, और वे परमेश्वर की आनेवाली परीक्षणों का आगे से विरोध या उन्हें अस्वीकार नहीं करते हैं। अय्यूब का विश्वास, आज्ञाकारिता, और शैतान पर विजय पाने की उसकी गवाही लोगों के लिए बड़ी सहायता एवं प्रोत्साहन का एक बड़ा स्रोत है। वे अय्यूब में अपने स्वयं के उद्धार की आशा को देखते हैं, और यह देखते हैं कि विश्वास एवं परमेश्वर के प्रति आज्ञाकारिता एवं भय के माध्यम से शैतान को हराना, और शैतान के ऊपर प्रबल होना पूरी तरह से सम्भव है। वे देखते हैं कि जब तक वे परमेश्वर की संप्रभुता एवं इंतज़ामों को चुपचाप स्वीकार करते हैं, और सब कुछ खोने के बाद भी परमेश्वर को न छोड़ने का दृढ़ संकल्प एवं विश्वास धारण करते हैं, तो वे शैतान को लज्जित और पराजित कर सकते हैं, और यह कि उन्हें अपनी गवाही में दृढ़ता से स्थिर खड़े रहने के लिए केवल दृढ़ संकल्प एवं धैर्य को धारण करने की आवश्यकता है—भले ही इसके लिए अपने प्राणों को खोना पड़े—जिससे शैतान को डराया जाए और वह एकदम से पीछे हट जाए। अय्यूब की गवाही आनेवाली पीढ़ियों के लिए चेतावनी है, और यह चेतावनी उन्हें यह बताती है कि यदि वे शैतान को नहीं हराते हैं, तो वे कभी अपने आपको शैतान के आरोपों एवं हस्तक्षेप से छुड़ाने में समर्थ नहीं होंगे, न ही वे कभी शैतान के शोषण एवं आक्रमणों से बचकर निकलने के योग्य होंगे। अय्यूब की गवाही ने आनेवाली पीढ़ियों को अद्भुत रीति से प्रकाशित किया है। यह अद्भुत प्रकाशन लोगों को यह सिखाता है कि यदि वे सीधे एवं खरे हैं केवल तभी वे परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने के योग्य हैं; यह उन्हें सिखाता है कि यदि वे परमेश्वर का भय मानते हैं और बुराई से दूर रहते हैं केवल तभी वे परमेश्वर के लिए एक मज़बूत एवं असाधारण गवाही दे सकते हैं; यदि वे परमेश्वर के लिए मज़बूत एवं असाधारण गवाही देते हैं केवल तभी उन्हें शैतान के द्वारा कभी नियन्त्रित नहीं किया जा सकता है, और वे परमेश्वर के मार्गदर्शन एवं सुरक्षा के आधीन में जीवन बिताएंगे—और केवल तभी उन्हें सचमुच में बचाया लिया गया होगा। अय्यूब के व्यक्तित्व और उसके जीवन की खोज का हर किसी के द्वारा अनुकरण किया जाना चाहिए जो उद्धार की निरन्तर खोज करता है। जिसे उसने अपने सम्पूर्ण जीवन में और अपनी परीक्षाओं के दौरान अपने आचरण में जीया था वह उन सब के लिए एक अनमोल ख़ज़ाना है जो परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने के मार्ग का अनुसरण करते हैं।

अय्यूब की गवाही परमेश्वर के लिए सुकून लेकर आती है

यदि अब मैं तुम लोगों को कहूँ कि अय्यूब बहुत ही प्यारा इंसान था, तो तुम लोग इन शब्दों के भीतर के अर्थ को नहीं समझ सकते हो, और मैं ने इन सभी चीज़ों को क्यों कहा है कि तुम लोग इसके पीछे की उस भावना का आभास नहीं कर सकते हो; परन्तु उस दिन तक इंतज़ार करो जब तुम लोग वैसी ही या अय्यूब के समान ही उन परीक्षाओं का अनुभव कर चुके होगे, जब तुम लोग विपरीत परिस्थिति से होकर गुज़र चुके होगे, जब तुम लोगों ने उन परीक्षाओं का अनुभव कर लिया होगा जिन्हें परमेश्वर के द्वारा व्यक्तिगत रूप से तुम लोगों के लिए नियोजित किया गया था, जब तू सब कुछ दे देगा, और परीक्षाओं के मध्य शैतान के ऊपर प्रबल होने और परमेश्वर के लिए गवाही देने के लिए अपमान एवं क्लेश सहेगा—तब तू इन वचनों के अर्थ को समझेगा जिन्हें मैंने कहा था। उस समय, तू महसूस करेगा कि तू अय्यूब से बहुत अधिक कमतर हैं, तू महसूस करेगा कि अय्यूब कितना प्यारा है, और यह कि वह अनुकरण करने के योग्य है; जब वह समय आता है, तब तू यह महसूस करेगा कि वे उत्कृष्ट शब्द जिन्हें अय्यूब के द्वारा कहा गया था वे ऐसे व्यक्ति के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं जो भ्रष्ट है और जो इन समयों में रहता है, और तू महसूस करेगा कि आज के दिन के लोगों के लिए उसे हासिल करना कितना कठिन है जिसे अय्यूब के द्वारा हासिल लिया गया था। जब तू महसूस करता है कि यह कठिन है, तब तू समझेगा कि परमेश्वर का हृदय कितना व्याकुल एवं चिंतित है, तब तू समझेगा कि वह कीमत कितनी बड़ी है जिसे ऐसे लोगों को हासिल करने के लिए परमेश्वर के द्वारा चुकाई गई थी, और यह कि वह कार्य कितना बहुमूल्य है जिसे परमेश्वर के द्वारा मानवजाति के लिए किया और फैलाया गया था। अब जबकि तुम लोगों ने इन शब्दों को सुन लिया है, तो क्या तुम लोगों के पास अय्यूब के विषय में सटीक समझ एवं सही आंकलन है? तुम लोगों की दृष्टि में, क्या अय्यूब सचमुच में एक खरा एवं सीधा पुरुष था जो परमेश्वर का भय मानता और बुराई से दूर रहता था? मैं विश्वास करता हूँ कि अधिकांश लोग निश्चित रूप से कहेंगे, हाँ। क्योंकि जो कुछ भी अय्यूब ने किया एवं प्रकाशित किया उनके तथ्य को किसी भी मनुष्य या शैतान के द्वारा नकारा नहीं जा सकता है। वे शैतान पर अय्यूब की विजय के अत्यंत सामर्थी प्रमाण हैं। यह प्रमाण अय्यूब में उत्पन्न हुआ था, और यह वह प्रथम गवाही थी जिसे परमेश्वर के द्वारा ग्रहण किया गया था। इस प्रकार, जब अय्यूब शैतान की परीक्षाओं पर विजयी हुआ और परमेश्वर के लिए गवाही दी, तो परमेश्वर ने अय्यूब में आशा देखी, और उसके हृदय को अय्यूब से सुकून मिला था। उत्पत्ति के समय से लेकर अय्यूब तक, यह पहला अवसर था जिसमें परमेश्वर ने अनुभव किया कि सुकून क्या था, और मनुष्य के द्वारा सुकून पाने का क्या अर्थ था, और यह पहली बार था जब उसने सच्ची गवाही को देखा, और उसे हासिल किया जो उसके लिए दी गई थी।

मैं भरोसा करता हूँ कि, अय्यूब की गवाही और अय्यूब के विभिन्न पहलुओं के लेखों को सुनने के बाद, अधिकांश लोगों के पास उस मार्ग के लिए जो उनके सामने है योजनाएं होंगी। इस प्रकार मैं यह भी विश्वास करता हूँ कि अधिकांश लोग जो चिंता एवं भय से भरे हुए हैं वे धीरे धीरे शरीर एवं दिमाग दोनों में राहत महसूस करेंगे, और थोड़ा थोड़ा करके आराम का एहसास करना शुरू करेंगे।

"वचन देह में प्रकट होता है से आगे जारी" से