सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

409 परमेश्वर जब आता है तब उसे जानने में कौन समर्थ है?

परमेश्वर की नज़रों में, इन्सान का राज है सब चीज़ों पर।

परमेश्वर ने दिए हैं उसे बहुत से अधिकार,

पर्वतों की घास, जंगल के जीव, समुन्दर की मछलियाँ,

सबका प्रबन्धन दिया है इन्सान के हाथों में।

लेकिन इन सबसे इन्सान खुश नहीं होता,

बल्कि सताती है उसे चिंता।

उसके पूरे जीवन में भरी है, दौड़-धूप और व्यथा।

खालीपन में भरी है मौजमस्ती, कुछ भी नया है नहीं।

कोई भी छुड़ा न सका है,

छुड़ा न सका है इस खोखले जीवन से खुद को।

अर्थ भरा जीवन कोई खोज न सका है,

असल जीवन का अनुभव ले न सका है।

सभी धर्म, समाज, देश के लोग,

जानते हैं संसार के खालीपन को।

राह ताकते परमेश्वर की वापसी की, सभी ढूंढते उसको।

लेकिन परमेश्वर की वापसी पर,

कौन जान सकता है उसको?

इन्सान जी रहा परमेश्वर की रोशनी तले,

पर स्वर्ग के जीवन को जानता नहीं।

परमेश्वर जो न हो दयालु, जो न बचाए वो इन्सान को,

तो इन्सान का संसार में आना व्यर्थ है,

जीवन का कोई अर्थ नहीं है।

नहीं है पास कुछ भी गर्व करने को, खाली हाथ लौटना है।

सभी धर्म, समाज, देश के लोग,

जानते हैं संसार के खालीपन को।

राह ताकते परमेश्वर की वापसी की,

सभी ढूंढते उसको।

लेकिन परमेश्वर की वापसी पर,

कौन जान सकता है उसको?

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:तुम्हारे दिल का रहस्य

अगला:पूरा राज्य उल्लास मनाता है

सम्बंधित मीडिया

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) मेमने ने पुस्तक को खोला न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंतिम दिनों के मसीह, के उत्कृष्ट वचन राज्य के सुसमाचार पर सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उत्कृष्ट वचन -संकलन मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ राज्य के सुसमाचार पर उत्कृष्ट प्रश्न और उत्तर (संकलन) परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) विजेताओं की गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप