सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

मेरे प्रिय, इंतज़ार करो मेरा

I

पेड़ों पर चढ़ रहा है ख़ामोश चाँद, मेरे उजले और सुंदर प्रिय की तरह।

हे मेरे प्रिय, कहाँ हो तुम?

आँसुओं में डूबी हूँ मैं, क्या सुन रहे हो मेरी पुकार?

तुम्हीं से मिलता है प्यार मुझे, तुम्हीं से मिलती है देख-भाल मुझे।

तुम्हीं सोचते हो मेरे बारे में, तुम्हीं संजोते हो जीवन मेरा।

ओ चाँद, तुम जाओ आसमाँ के उस ओर,

मत कराओ मेरे प्रिय को इंतज़ार और।

कह दो उनसे याद आती मुझे उनकी।

मत भूलना मेरा प्यार साथ ले जाना, साथ ले जाना।

II

हँसों के जोड़े उड़ रहे हैं दूर आसमाँ में।

क्या वो लाएंगे मेरे प्रिय का संदेसा मेरे लिये?

दे दो मुझे पँख अपने, मैं उड़ कर जा सकूँ वापस घर अपने।

अदा कर दूँगी कीमत अपने प्रिय की परवाह की।

कहना चाहती हूँ मत होना उदास प्रिये!

मैं दूँगी वो जवाब जो तुम्हें ख़ुश करे।

इसलिये ज़ाया न जाएगी तुम्हारी कोशिशें।

काश, मैं हो जाती जल्दी बड़ी,

ताकि भटकती, दुखभरी ज़िंदगी से मिलती आज़ादी मुझे।

हे प्रिये, करना इंतज़ार मेरा,

दुनिया के सारे सुखों से मुंह मोड़कर आ जाऊँगी।

अदा कर दूँगी कीमत अपने प्रिय की परवाह की।

कहना चाहती हूँ मत होना उदास प्रिये!

मैं दूँगी वो जवाब जो तुम्हें ख़ुश करे।

इसलिये ज़ाया न जाएगी तुम्हारी कोशिशें।

इसलिये ज़ाया न जाएगी तुम्हारी कोशिशें, तुम्हारी कोशिशें।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

पिछला:पूरे सफ़र में साथ तुम्हारे

अगला:तड़प

शायद आपको पसंद आये

केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है प्रश्न 26: बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। कृपया बताओ, क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं? बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है